6 लक्षण जो पेट में कीड़े होने के संकेत हैं

जुलाई 18, 2018
इनमें से कुछ लक्षण दूसरी समस्याओं से भी जुड़े हो सकते हैं। अगर आपको दो से अधिक लक्षण दिखाई देते हैं, तो पेट में कीड़े ही हैं, इसकी पुष्टि के लिए स्पेशलिस्ट के पास जाना चाहिए।

पेट में कीड़े की समस्या बहुत से लोगों को परेशान करती है, और कुछ लोगों को डराती भी है। अगर आपको भी ऐसे लक्षण महसूस होते हैं तो इसमें शर्मिंदा होने वाली कोई बात नहीं है।

पेट के कीड़े बहुत आम बीमारी हैं, और ये सिर्फ अल्प विकसित देशों की ही प्रभावित नहीं करते हैं।

ऐसे में अपने डॉक्टर से सलाह लें और स्वास्थ्य को जल्दी ठीक करने के लिए उनके सुझाये निर्देशों का पालन करें। यहां कुछ लक्षण बताये गए हैं जिन्हें पेट में पैरासाइट होने का संकेत माना जा सकता है।

पेट में कीड़े क्या होते हैं?

आँतों के कीड़े या पैरासाइट वे जीव हैं जो दूसरे जीवों पर निर्भर होते हैं और उनसे अपना भोजन पाते हैं। इस तरह, पेट के कीड़े वे परजीवी हैं जिनका अस्तित्व पूरी तरह से मानव शरीर के पोषण और उसके स्वास्थ्य पर निर्भर करता है।

आंतों के कीड़े कई तरीकों से आपके शरीर में घुस सकते हैं। इनमें सबसे आम तरीका सीधे अन्दर प्रवेश करना है।

इन कीड़ों के लार्वा कच्चे चिकन और सूअर के मांस के साथ बड़ी आसानी से शरीर के अन्दर जा सकते हैं। ये गंदे पानी, कच्चे फल या सब्जियों के साथ भी हमारे शरीर में घुस सकते है।

इसके अलावा, जानवरों ( जैसे पालतू बिल्ली, कुत्ते और पक्षियों) को छूने से भी ये पैरासाइट आसानी से आपको संक्रमित कर सकते हैं।

पेट के कीड़े कई तरह के होते हैं। इन्हें अलग-अलग स्थानीय नामों और वैज्ञानिक नामों से जाना जाता है। इस तरह ये अलग-अलग आकृति और आकार में हो सकते हैं और इनके लक्षण भी अलग-अलग होंगे।

सिर्फ़ फलों से करें कब्ज़ का इलाज़:

9 फल जो कब्ज़ से लड़ने में आपके लिए वरदान हैं

वे लक्षण जिनसे पता चलता है कि पेट में कीड़े हो सकते हैं

दस्त (Diarrhea)

पेट में कीड़े: दस्त

दस्त लगना केवल पेट के कीड़े का ही नहीं, बल्कि कई बीमारियों की आम लक्षण है।

दस्त कई वजहों से हो सकती है, जैसे कमजोरी में भारी खाना खा लेने, दिल या साँसों से जुड़े रोग आदि। आँतों में एक कोशिका वाले कीड़ों के मौजूद होने की स्थिति में दस्त लगना एक आम लक्षण है।

  • इस प्रकार के कीड़ों को एंगलवर्म भी कहा जाता है, इन्हें बिना लैंस या चश्मे के देख पाना बहुत मुश्किल है।
  • एक इंच या उससे बड़े आकार वाले कीड़े होने की स्थिति में, दस्त केवल तभी होती है जब आँतों में इनकी संख्या बहुत ज्यादा बढ़ जाये।
  • इस मामले में मरीज अपने मल में इन कीड़ों को देख सकता है।

 

इसे भी पढ़ें:

8 खाद्य पदार्थ जो 30 दिन में लीवर को देंगे नया जीवन, घटाएंगे वज़न

पेट में दर्द होना (Abdominal pain)

कई लोग पेट के कीड़ों की वजह से होने वाले दर्द और पेट की मरोड़ के बीच फर्क नहीं कर पाते हैं, क्योंकि पेट में कीड़ों की वजह से होने वाला दर्द भी रुक-रुक कर और बहुत तेज हो सकता है।

कई महिलाएं ऐसी हैं जो पेट में कीड़े होने के इस लक्षण को अनदेखा करती हैं क्योंकि उन्हें ये दर्द मासिक धर्म के दौरान होने वाले दर्द की तरह लगता है।

  • कीड़े की वजह से होने वाला दर्द पेट में जाँघों से सबसे नजदीकी हिस्से को प्रभावित करता है।
  • यह लक्षण उन कीड़ों की मौजूदगी को बताता है जो सीधे आँतों की दीवारों से अपना खाना लेते हैं और नर्व में चुभन पैदा करते हैं। इससे पेट में बहुत तेज दर्द महसूस होता है।

धीमा विकास (Slow growth)

पेट में कीड़े: बच्चों में कब्ज

यह लक्षण आम-तौर पर बच्चों और किशोरों में सबसे ज्यादा पाया जाता है। जैसा कि हम पहले ही बता चुके हैं, पैरासाइट होने के कारण ये कीड़े होस्ट (मेजबान) के शरीर में मौजूद पोषक तत्वों से अपना पेट भरते हैं। यहाँ पर होस्ट इंसानी शरीर है।

पेट में मौजूद कीड़े हमारे शरीर के विकास के लिए ज़रूरी विटामिन और मिनरल्स को खा जाते हैं।

वे बच्चे जिनके पेट में कीड़े होते हैं आमतौर पर लम्बाई में छोटे और पतले होते हैं। उनके शरीर में पूरे दिन भर के लिए बहुत कम ऊर्जा होती है।

अगरआपका बच्चा बहुत ज्यादा सोता है, जागने पर थका हुआ रहता है, तो उसके पेट में कीड़े हो सकते हैं। ऐसे में, उसका इलाज शुरू करने के लिए जल्द से जल्द अपने डॉक्टर से सलाह लें।

थकान लगना (Fatigue)

थकान लगने का मतलब है कि शरीर में पोषक तत्वों की कमी हो रही है। जब आँतों के कीड़े शरीर से बहुत ज्यादा पोषक तत्व ले लेते हैं, तो आदमी को कमजोरी और नींद महसूस होने लगती है।

यदि आप अपने एनर्जी लेवल में कोई बदलाव देखें, तो पेट में कीड़े होने के दूसरे लक्षणों की मौजूदगी की जांच शुरू कर दें।

इसे भी पढ़ें:

थाइराइड की समस्या: 7 लक्षण जिनसे शरीर आपको आगाह करता है

 

सूखी खाँसी (Dry cough)

पेट में कीड़े: सूखी खाँसी

ऐसे कई प्रकार के कीड़े हैं जो आदमी के पेट में लम्बे समय तक रहते हैं। हालांकि, पहले स्टेज में, जब वे केवल लार्वा होते हैं, वे शरीर के दूसरे हिस्सों में रहकर भी ग्रोथ कर सकते हैं।

  • कुछ पैरासाइट अपने विकास के शुरुआती दिनों में आदमी के फेफड़ों और भोजन नली में चले जाते हैं। इससे संवेदनशील अंगों में सूजन हो सकती है।
  • सूखी खांसी जो एंटी-फ्लू या खराब गले का ईलाज करने के बाद भी ठीक न हो, पैरासाइट के होने का लक्षण हो सकती है।
  • यह लक्षण बहुत ज्यादा दर्द देने वाला और परेशान करने वाला हो सकता है।

भूख में बदलाव

पेट में ये कीड़े शरीर में किसी बाहरी चीज की तरह बने रहते हैं। हालाँकि आपको शारीरिक रूप से इनकी मौजूदगी का आभास नहीं होता, लेकिन आपका शरीर आंतों से लगातार संकेत पाता रहता है।

ये संकेत दिमाग को बताते हैं कि आंते भरी हुई हैं, पर यह साफ-साफ पहचान नहीं पाता कि ये खाना है या कीड़े हैं।

इस तरह, आपको अचानक से अपनी भूख में बदलाव की समस्या का सामना करना पड़ सकता है। हो सकता है कि आप कम से कम खाना खाते हों और थोड़ा  खाना खाने पर ही आपको पेट भरा हुआ महसूस होने लगे।

दूसरी ओर, पेट में कुछ इस तरह के कीड़े भी होते हैं जो आपके शरीर से बहुत सारे पोषक तत्वों को खींच लेते हैं। इससे शरीर को पौष्टिक तत्वों की कमी का सामना करना पड़ता है। ऐसे में, आपको ज्यादातर समय भूख लगी रह सकती है। इससे आपको खाने की मात्रा बढ़ानी पड़ सकती है।

अगर, इन लक्षणों में से कोई भी दिखाई दे तो आपको तुरंत सावधान हो जाना चाहिए। ऐसा बहुत कम होता है कि इनमें से कोई भी लक्षण सीधे आपके पेट में कीड़े की मौजूदगी के बारे में बतायें।

फिर भी, यदि आपको एक बार में ही दो या दो से अधिक लक्षण दिखाई दें, तो अपने डॉक्टर से मिलें और सलाह लें।

  • Aparicio Rodrigo, M., & Tajada Alegre, P. (2007). Parasitosis intestinales. Pediatria Integral. https://doi.org/10.1016/S1696-2818(11)70035-X
  • Agirrezabala, J., Iñigo, P., Miren, A., Iciar, A., Armendáriz, M., Barrondo, S., … Valverde, E. (2009). Parasitosis intestinales. Información Farmacoterapéutica de La Comarca.
  • Fumadó, V. (2015). Parásitos intestinales. Pediatria Integral.
  • Haque Rashidul. Human Intestinal Parasites. Scientist and Head of Parasitology Laboratory. J Health Popul Nutr. 2007 Dec; 25(4): 387–391. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2754014/
  • Miguel, E., & Kremer, M. (2004). Worms: Identifying impacts on education and health in the presence of treatment externalities. Econometrica. https://doi.org/10.1111/j.1468-0262.2004.00481.x
  • Morhouse, C. H. (1952). Intestinal Worms. British Medical Journal. https://doi.org/10.1136/bmj.2.4794.1152-a
  • Tabares, L. F., & González, L. (2008). Prevalencia de parasitosis intestinales en niños menores de 12 años, hábitos higiénicos, características de las viviendas y presencia de bacterias en el agua en una vereda de Sabaneta, Antioquia, Colombia. Iatreia.
  • Webster, P., & Kapel, C. M. O. (2005). Intestinal establishment and reproduction of adult Trichinella spp. in single and mixed species infections in foxes (Vulpes vulpes). Veterinary Parasitology. https://doi.org/10.1016/j.vetpar.2005.03.030