6 सर्वश्रेष्ठ सेल्फ कंट्रोल टेकनीक

23 दिसम्बर, 2019
क्या आप जानते हैं, फिजिकल एक्सरसाइज तनाव मुक्त करने और अपनी सेल्फ कंट्रोल को बेहतर बनाने के लिए बहुत अच्छा है। अगर आपके लिए शांत रहना कठिन है, तो इन टेकनीक में से कुछ की प्रैक्टिस करने से मदद मिलेगी।
 

शायद आप स्मोकिंग छोड़ने की कोशिश कर रहे हैं, या भोजन से जुड़ी अपनी एंग्जायटी को घटाना चाहते है, या आपको कम्पलसिव शॉपिंग प्रॉब्लम की समस्या है। इस स्थिति से सामना करने के लिए अपनी भावनाओं पर काबू रखने के लिए सेल्फ कंट्रोल टेकनीक सीखना जरूरी है, वरना नतीजे डरावने हो सकते हैं

मौजूदा आर्टिकल आपको अपने आत्म-नियंत्रण में सुधार करने का सर्वोत्तम तरीके बताएगा।

खुद को जानना: सेल्फ कंट्रोल का आधार

एक भरी-पूरी जिंदगी जीते हुए अपनी भावनाओं, प्रलोभनों और बुनियादी प्रवृत्ति पर नियंत्रण होना बेहद जरूरी है। आत्म-नियंत्रण एक ऐसी क्षमता है जिसे सीखकर अर्जित किया जा सकता है। साथ ही आप क्रोध, लोलुपता और ईर्ष्या जैसी नेगेटिव भावनाओं से बचने के लिए रोजाना इस पर कड़ी मेहनत कर सकते हैं

आत्म-अनुशासन जिंदगी के हर पक्ष में मदद कर सकता है। ड्रग्स को न कहने से लेकर कर्ज से बचने तक के मामले में यह बहुत उपयोगी हो सकता है। इस सेल्फ कंट्रोल को हासिल करने के लिए सबसे पहली और अहम बात जो करनी है वह है खुद को जानना। इसका मतलब है, आपको अपनी ताकत और कमजोरियों को समझना चाहिए। इन सबसे ऊपर, आपको अपनी कमजोरियों को दुरुस्त करना चाहिए।

एक सही डाइट का पालन करना, स्मोकिंग छोड़ना या अगर आप ट्रैफ़िक में फंसे हों तो गुस्सा न करना, ये सब आपके मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छे हैं। हालाँकि यह सब करने के लिए ज़रूरी है कि आप खुद को समझने की दिशा में काम करें।

तर्कहीनता के खतरे

चूँकि तर्कहीनता को आमतौर पर आत्म-नियंत्रण से उलट देखा जाता है, हमें हर समय इसके प्रति सचेत रहने की कोशिश करनी होगी। हालांकि यह विशेष रूप से जरूरी है जब हमें कोई फैसला लेना हो या एक निश्चित व्यवहार करना हो।

चॉकलेट खाना, सिगरेट पीना या नए जूते खरीदना हमें थोड़े समय तक संतुष्टि तो देता है, लेकिन यह हमारे भविष्य के लिए अच्छा नहीं है। सबसे बुरी बात यह है कि बाद में हमें अफसोस, निराशा और कई मामलों में डिप्रेशन का सामना करना पड़ा। यही कारण है कि आपके शरीर को विभिन्न हालात में आपके द्वारा दिए जा रहे संकेतों के लिए सुनना और देखना अहम होता है। फिर हालात का विश्लेषण करने के लिए कुछ समय लें।

अगर आप स्टोर विंडो में खूबसूरत पर्स देख रहे हैं, तो इसे खरीदने के लिए तुरंत स्टोर में न घुसें। उससे पहले यह सोचें कि क्या आप इसे अफोर्ड कर सकते हैं और पहले से आप पर कितना कर्ज है।

यदि आप सिगरेट जलाने जा रहे हैं, तो याद रखें कि स्मोकिंग का आपकी सेहत पर क्या बेगटिव असर पड़ता है। इसी तरह अगर आप मिठाई खाना या कोई ड्रिंक पीना चाहते हैं तो एक कदम पीछे हटकर थोड़ा सोचने का प्रयास करें।

 

 इसे भी पढ़ें: कैसे बताएं कि यह हार्ट अटैक है या एंग्जायटी अटैक?

आत्म नियंत्रण टेकनीक की कुंजी

बेशक यह आसान नहीं है। आखिरकार सेल्फ कंट्रोल एक नाजुक चीज है और यह लंबे समय तक नहीं चलती है। कुछ ही सेकंड में यह गायब हो सकता है और हम तर्कहीन रूप से काम करना शुरू कर सकते हैं। अपनी मसल्स के साथ इच्छाशक्ति को भी ट्रेन किया जा सकता है।

कैसे? प्रैक्टिस, निरंतरता और समझौते के माध्यम से।

हमेशा एलर्ट रहना और याद रखना कि किन परिस्थितियों में सेल्फ कंट्रोल का स्वागत होना चाहिए। आपकी भावनाओं के लिए सबसे अच्छी सेल्फ कंट्रोल टेकनीक नीचे बतायी गयी हैं।

1. अपने व्यवहार पर ध्यान दें

जो लोग अपनी आदतों और रूटीन के प्रति सजग नहीं हैं, उनके लिए अपने फैसलों और दृष्टिकोण पर कंट्रोल करना बहुत मुश्किल है।

  • अगर आप वजन घटाना चाहते हैं, तो आपको प्लान बनाना चाहिए कि आप रोजाना क्या खा रहे हैं।
  • अगर आपको अपने बैंक अकाउंट पर कंट्रोल रखने की जरूरत है, तो आपको अपनी खर्चीली आदतों को समझना होगा

2. उन चीजों के बारे में न सोचें जो आपको फिक्रमंद करती हैं

जहां आपको अपने कामों में तर्कसंगत होना चाहिए, वहीं उनके प्रति ऑब्सेस या मोहाछ्न्न होना भी अच्छा नहीं है। आपका मन आमतौर पर “टेंपरामेंटल” है। इन मामलों में जितना  भी ज्यादा आप किसी विचार से बचने की कोशिश करते हैं, उतना ही यह आपकी कल्पना में उभर आता है।

 

इसलिए जरूरी होने पर ही इन सेल्फ कंट्रोल टेकनीक की प्रैक्टिस करें। अपना बाकी वक्त दूसरी एक्टिविटी के लिए दें।

3. स्वस्थ आदतें अपनाएँ

अपने सभी रवैये और आदतों में बदलाव के लिए सेल्फ कंट्रोल होना और कोम्प्रोमाईज़ कर पाने की क्षमता जरूरी होती है। यह उन सभी मामलों में सच है जहां डाइट को बदलने के लिए जिम जाने की बात हो, धूम्रपान छोड़ने और पैसे खर्च करने वाली खर्चीली आदतों को छोड़ने की बात हो।

वे बताते हैं कि किसी चीज को हैबिट या आदत बनाने के लिए मस्तिष्क को 21 दिन तक उसकी प्रैक्टिस करनी होती है

अपने लक्ष्य को पाने के लिए आपको इस समय को झेलना होगा। तीसरे हफ्ते के बाद इन हेल्दी हैबिट को आप रोबोट की तरह मशीनी या मजबूरी में किया गया महसूस नहीं करेंगे। इसके बजाय वे आटोमेटिक हो जाएंगे। सवाल यही है कि क्या आप इस पीरियड में इसे कर पाएंगे या नहीं।

4. रिलैक्स करें

डीप ब्रीदिंग, 10 तक गिनना (या जितनी देर हो सके) और अपनी आँखें बंद करना अपने आप को शांत करने और सेल्फ कंट्रोल को बढ़ाने के लिए सबसे अच्छी टेकनीक में से एक हो सकता है। जब आप चिंतित, क्रोधित महसूस करते हैं या कुछ गलती करने वाले हों, तो रिलैक्स करने का प्रयास करें। उदाहरण के लिए आप मेडिटेशन या कैमोमाइल टी पीने जैसे दूसरे तरीके भी अपना सकते हैं।

इसके पीछे विचार यह है कि आप दबाव या तर्कहीनता की स्थिति में निर्णय न लें।

और पढ़ें: स्ट्रेस, एंग्जायटी और डर से उबरने की 14 ट्रिक्स

5. अपने एनवायरनमेंट पर ध्यान दें

अगर आपके दोस्त काम के बाद रोज बार जाते हैं और आप शराब पीने से खुद को रोकने की कोशिश कर रहे हैं, तो आपको दोस्तों से थोड़ी दूरी बनानई चाहिए। आप इसके बजाय कुछ और करने की उन्हें सलाह भी दे सकते हैं। इसी तरह अगर आप जानते हैं कि आप एक कम्पलसिव शॉपर हैं, तो आप मॉल में नहीं जाएँ।

अगर आप वजन घटाना चाहते हैं, तो लंच के बाद ग्रॉसरी  शॉप पर जाएं। इसी तरह अगर आप अपने काम पर ज्यादा फोकस करना चाहते हैं, तो अपने फोन को अपनी पहुंच से बाहर रखें। आप जिस एनवायरनमेंट से आप घिरे होते हैं वह आपको एक निश्चित तरीके से काम करने के लिए मजबूर करता है। उन स्थितियों को बदलें, जो आपको अपने सेल्फ कंट्रोल की प्रैक्टिस करने नहीं देती हैं।

 

6. अपनी टेंशन से पीछा छुड़ाएं

ऐसी कई एक्टिविटी और सेल्फ कंट्रोल तकनीकें हैं जो आपको पानी उन भावनाओं को चैनल करने में मदद कर सकती हैं जो आप पर असर डाल रही हैं। एक्सरसाइज, स्पोर्ट्स, घूमना या बबल बाथ लेना आपके स्ट्रेस को छोड़ने और नेगेटिव व्यवहार से बचने के शानदार तरीके हैं।

  • Allemand, M., Job, V., & Mroczek, D. K. (2019). Self-control development in adolescence predicts love and work in adulthood. Journal of Personality and Social Psychology, 117(3), 621–634. https://doi.org/10.1037/pspp0000229
  • Duckworth, A. L., Gendler, T. S., & Gross, J. J. (2016). Situational Strategies for Self-Control. Perspectives on Psychological Science, 11(1), 35–55. https://doi.org/10.1177/1745691615623247
  • Grass, J., Krieger, F., Paulus, P., Greiff, S., Strobel, A., & Strobel, A. (2019). Thinking in action: Need for Cognition predicts Self-Control together with Action Orientation. PLoS One, 14(8), e0220282. https://doi.org/10.1371/journal.pone.0220282
  • Galla, B. M., & Duckworth, A. L. (2015). More than resisting temptation: Beneficial habits mediate the relationship between self-control and positive life outcomes. Journal of Personality and Social Psychology, 109(3), 508–525. https://doi.org/10.1037/pspp0000026