कैसे जानें कि आपका बच्चा ड्रग्स का शिकार है या नहीं

माता-पिता होने के नाते, हमें यह समझना आना चाहिए कि क्या हमारे बच्चों के व्यवहार में बदलाव की वजह उनका शारीरिक और मानसिक विकास ही है या फिर कुछ और। उदाहरण के लिए ड्रग्स का इस्तेमाल। आइये जानते हैं कि इन पैटर्न की पहचान कैसे करें।
कैसे जानें कि आपका बच्चा ड्रग्स का शिकार है या नहीं

आखिरी अपडेट: 20 जून, 2019

आजकल ड्रग्स उन सबसे बड़ी परेशान करने वाली चीजों में से है जिन्हें लेकर माता-पिता अक्सर चिंतित रहते हैं। अगर आपका बच्चा ड्रग्स का सेवन कर रहा है तो इसके बारे में जानना बहुत जरूरी है ताकि समय रहते उनकी मदद की जा सके।

हर साल जो आंकड़े सामने आते हैं उनमें एक चेतावनी है। हालाँकि “आम-तौर पर” यह देखा जाता है कि किशोर हर चीज के साथ “एक्सपेरिमेंट” करते हैं, उन्हें लत लगना बहुत आसान है।

किशोरावस्था विद्रोह का एक दौर है जिसमें कोई भी किशोर अजीब तरीके के व्यवहार कर सकता है, लेकिन इसका कारण ड्रग्स नहीं होना चाहिए।

अक्सर देखा जाता है कि 11 से 21 वर्ष की उम्र के लोगों में जोखिम के बारे गलत अवधारणा होती है। यह इस बात की व्याख्या करता है कि क्यों वे खुद को ऐसे रास्ते पर ले जाते हैं जहाँ उन्हें बहुत देर हो चुकी होती है, और जिसके लिए उन्हें पछताना पड़ता है।

कुछ किस्म की लत के शिकार कई बच्चों के माता-पिता का कहना है कि समय रहे इस समस्या को पहचान पाना इतना आसान भी नहीं है … इसके लक्षण साफ-साफ नहीं दिखाई देते।

इस आर्टिकल में, हम इसकी पहचान करने के लिये कुछ लक्षणों के बारे में बताएँगे।

बेकाबू किशोरावस्था और ड्रग्स

किशोर और ड्रग्स

अपनी परिभाषा के अनुसार, किशोर साहसी और विद्रोही होते हैं। वे बदलावों से भरे उस दौर का अनुभव करते हैं जिनसे निपटना काफी मुश्किल होता है। यौन आकर्षण का विकास और खुद के अपने साथियों का हो जाने, उनके साथ एकीकृत रूप से पहचानने जाने की जरूरतें पैदा हो जाती हैं।

इस दौर की एक खासियत यह भी है कि इसमें हर कोई नये एक्सपेरिमेंट करता है और उस तरह से रहने की कोशिश करता है जैसे उसके दोस्त होते हैं। प्रत्येक किशोर पर उसके दोस्तों का असर ही उसका पूरा प्रभाव क्षेत्र होता है।

अगर उनके पास अपने परिवार से बातचीत का खुला माध्यम नहीं है, जिसके जरिये वे खुलकर बता सकें कि उन्हें क्या चाहिये, तो वक्त रहते कदम उठाने और बच्चे को इस खतरनाक दलदल से बचा पाने में ज्यादा मुश्किल हो सकती है।

ड्रग्स: एक कम आका गया शत्रु

ड्रग्स: एक कम आका गया शत्रु

कई किशोर और उनके माता-पिता नशे को एक मामूली काम की तरह लेते हैं जिसे मानो वे बाद में छोड़ देंगे। वे इस जोखिम को मानते ही नहीं हैं कि यह जिंदगी भर के लिये उनके साथ रह सकता है, और उनके स्वास्थ्य के साथ-साथ उनकी पर्सनल और प्रोफेशनल जिंदगी में भयंकर तूफानों का कारण बन सकता है।

किशोर जब ड्रग्स को अजमा रहे होते हैं तो उस समय तक उन्हें वास्तव में एहसास नहीं होता है कि यह आसानी से गंभीर समस्या बन सकती है। दूसरी तरफ, माता-पिता होने के नाते, हम मानने को तैयार नहीं हैं कि हमारे बच्चे इस तरह की चीजों से आजाद नहीं हुए हैं। यही कारण है कि, हम इसके लिये तैयार ही नहीं रहते हैं। हमें पता ही नहीं होता कि उस समय क्या करें जब यह हमारे साथ हो रहा होता है।

पहली बात तो यह है, हमें निश्चित करना चाहिए कि हमारे बच्चे की यह अपमानजनक प्रवृत्ति हार्मोनल बदलावों की वजह से है या नहीं।

वे जिस मुश्किल दौर से गुजर रहे हैं उसमें थोड़ा आगे बढ़कर यह देखना और  सुनिश्चित करना जरूरी है कि उनका अजीब व्यवहार क्या वाकई ड्रग के इस्तेमाल की वजह से है।

व्यवहार जिन पर ध्यान देना चाहिये

ड्रग्स का इस्तेमाल करने वाले किशोर, स्वाभाविक रूप से इसे छिपाने की कोशिश करेंगे। इसीलिए, जरूरी है कि आप उनके व्यवहार में होने वाले बदलावों पर ध्यान दें।

1. गंध पर ध्यान दें (Pay Attention to the Smells)

ड्रग्स: गंध पर ध्यान दें

नशीली चीजें जैसे सिगरेट या तंबाकू की बहुत तेज गंध चलती है जो इनका इस्तेमाल करने वाले लोगों तथा उनके कपड़ों से चिपक जाती है।

इनका इस्तेमाल करने वाले लोग पकड़े जाने के जोखिम को कम करने के लिए बार-बार परफ्यूम लगाना, च्विंगम चबाना और बार-बार अपने हाथों को धोने जैसे तरीको का इस्तेमाल करते हैं।

2. उनकी आंखों में देखें

नशा करने वाले की आंखें एक इंडिकेटर की तरह होती हैं।

हर ड्रग्स के अपने खास साइड इफेक्ट होते हैं। उदाहरण के लिए, कैनाबीस आँखों में लालिमा और सुस्ती का कारण बनती है। इसके ठीक उल्टा, कोकीन और एक्स्टसी आँखों की पुतलियों को फैला देती है। इससे आंखें बहुत बड़ी और गोल दिखाई देती हैं।

3. ज्यादा चिड़चिड़ापन

ड्रग्स: चिड़चिड़ापन

आम तौर पर, देखा जाता है कि किशोरों में होने वाले हार्मोनल बदलाव उनके हाव-भाव में होने वाले बदलावों की वजह होते हैं। ड्रग्स के कारण होने वाले बदलाव सामान्य बदलावों की तुलना में कुछ अलग होते हैं। लड़कों में, जब वे ड्रग्स छोड़ने की कोशिश कर रहे होते हैं तो उनमें चिड़चिड़ापन और गुस्सा बढ़ जाता है। ऐसा इसलिये है, कि उनका शरीर इसके लिये तरस रहा होता है।

ऐसे में, वे खुद को बाकी लोगों से दूर कर लेते हैं, खासकर अपने पिता से, क्योंकि इससे वे बिना किसी रोक-टोक के ड्रग्स ले सकते हैं।

4. घर में रखी दवाइयां चुराना

जब कोई ड्रग्स का गलत इस्तेमाल करना शुरू करता है, तो आम तौर पर वे तरह-तरह की दवाओं के साथ एक्सपेरिमेंट करते हैं और कहते हैं कि मैं इसे “केवल अजमा रहा हूँ”।

घर में रखी दवाइयां उनके लिये ड्रग्स का एक ऐसा स्रोत हैं जिसके लिये कुछ भी खर्च करने की जरूरत नहीं होती है। पेन किलर या जानी-मानी कफ सिरप उन लोगों द्वारा सुझायी जाने वाली सबसे आम ड्रग्स है जो पहले ही इसे इस्तेमाल कर चुके हैं और अब दूसरों को इसके लिये उकसाते हैं।

इसीलिए, अगर आपके घर से आपकी कोई भी दवा गायब होती है, तो यह बातचीत करने का समय है।

5. वे गैर-जिम्मेदार हो जाते हैं

ड्रग्स के शिकार गैर-जिम्मेदार हो जाते हैं

व्यसन के सबसे नुकसानदायक प्रभावों में से एक सबकुछ नजरअंदाज करने और ज्यादा से ज्यादा खाली समय निकालने की बुरी आदत है। ड्रग्स इस्तेमाल करने वाला नौजवान अपनी पढ़ाई और हर वह चीज छोड़ देता है जिसके लिए कमिटमेंट की जरूरत होती है।

पढ़ाई का स्तर नीचे चला जाता है और वे अपने खाली समय का मज़ा लेने से पहले होमवर्क करना जरूरी नहीं समझते हैं।

सामान्य मूल्यांकन

ड्रग्स लेने वाले बच्चे में दिखने वाले व्यवहारिक परिवर्तन, माता-पिता के लिए अक्सर बहुत ही साफ होते हैं जो जानते हैं कि वे क्या देख रहे हैं। ड्रग्स के प्रकार (उत्तेजित करने वाले या अवसादग्रस्त करने वाले) के आधार पर, लगभग हमेशा उनकी एक खास पहचान होती है।

अगर वे जल्दी-जल्दी चल रहे हैं और तेजी से बात कर रहे हैं, तो हो सकता है कि वे ऐम्फेटमीन (amphetamines) का इस्तेमाल कर रहें हैं। अगर वे दो दिन बिना सोये रहते हैं; यह हो सकता है कि वे कोकीन ले रहे हैं। अगर इसका उल्टा, वे थके हुए और सुस्त लगते हैं, हो सकता है कि वे भांग या गांजा पी रहे हैं।

हम ये स्पष्ट कर देना चाहते हैं कि अगर ऊपर बताये गये लक्षण अलग-अलग हैं, तो इससे यह निर्धारित नहीं होता कि किशोर नशे की लत में है। हालांकि, जितने ज्यादा बदलाव आप देखते हैं, उतनी ही ज्यादा संभावना है कि वे ड्रग्स का इस्तेमाल कर रहे हैं।

महत्वपूर्ण बात यह है कि आप सावधान रहें, अपने बच्चों के बारे में जानकारी रखें, उन पर नजर रखें कि वे कहाँ जाते हैं, किसके साथ घूमते हैं, और उनके दोस्त कौन-कौन हैं।

रोजाना की बातचीत आपके बच्चों के साथ नजदीकी रिश्ता बनाए रखने और नशे की लत जैसी भयानक स्थितियों को रोकने के लिए जरूरी है।

यह आपकी रुचि हो सकती है ...
भावनात्मक शोषण के 5 परिणाम जिनकी ओर आपको ध्यान देना चाहिये
स्वास्थ्य की ओर
इसमें पढ़ें स्वास्थ्य की ओर
भावनात्मक शोषण के 5 परिणाम जिनकी ओर आपको ध्यान देना चाहिये

भावनात्मक शोषण या इमोशनल एब्यूज एक तरह की हिंसा है जिसका पीड़ित व्यक्ति की इमोशनल स्टेबिलिटी पर असर होता है। इसकी वजह से व्यक्ति डर जाता है।