साइटिका के लक्षणों से राहत पाने के 5 तरीके

09 अक्टूबर, 2020
प्रभावित अंग में हीट, बर्फ और दूसरी चीजें लगाने से आप मांसपेशियों को आराम देकर साइटिका के लक्षणों का इलाज कर सकते हैं। आप अपनी जरूरतों के हिसाब से इन्हें आजमा सकते हैं।

साइटिका एक दर्दनाक स्थिति है जो किसी भी व्यक्ति को प्रभावित कर सकती है। दर्द काफी असुविधाजनक और लगातार हो सकता है, इसलिए साइटिका से छुटकारा पाने के लिए कुछ घरेलू इलाज के बारे में जानना उपयोगी है।

ज्यादा विशिष्ट इलाज का इंतजार करते हुए दर्द का इलाज करने के लिए आप घर पर कई आसान क चीजों को इकट्ठा कर सकते हैं। आज के लेख में हम आपको साइटिका के लक्षणों के इलाज के लिए हॉट या कोल्ड पैक तैयार करने के 5 आसान तरीके दिखाएंगे।

साइटिका नर्व (Sciatic nerve) क्या है?

साइटिक नर्व मानव शरीर में एक बहुत महत्वपूर्ण नर्व है। यह सेक्रेल प्लेक्सस (sacral plexus) से शाखाओं में बंट जाती है, जो नसों का एक नेटवर्क है जो लुंबोसैक्रल स्पाइन (lumbosacral spine) या पीठ के निचले क्षेत्र में स्थित है।

यह नर्व शरीर को स्थानांतरित करने और निम्नलिखित क्षेत्रों में संवेदनाओं को महसूस करने की सहूलियत देता है:

  • जांघों
  • घुटने
  • पिंडलियों
  • एड़ियों
  • पंजे
  • उंगलियाँ

इसे भी पढ़े: साइटिक नर्व के दर्द को ठीक करने के लिए आसान एक्सरसाइज

साइटिका क्या है और इसके लक्षण क्या हैं?

साइटिका का नामकरण उस नर्व के नाम पर पड़ा है जो दर्द से प्रभावित होती है।

स्थिति बहुत दर्दनाक हो सकती है और कई दिनों तक रह सकती है। अधिकांश मामलों में यह सिर्फ शरीर के एक क्षेत्र को प्रभावित करती है। यह निचली जांघ के क्षेत्र को पीछे की ओर से ढंकती है, और फिर हमारे पैर और पैरों की नीचे की ओर दौड़ जाती है।

ज्यादातर मामलों में साइटिका के रोगी निम्न लक्षणों का अनुभव करते हैं:

  • जलन (Burning)
  • झुनझुनी (Tingling)
  • छुरा भोंकने जैसा दर्द
  • सुन्न होना
  • पैरों में कमजोरी

ये लक्षण अक्सर निचले आधे शरीर में दिखाई देते हैं।

साइटिका का कारण क्या है?

लम्बर कैनाल स्टेनोसिस या जब साईटिक नर्व को ढंकने वाली हड्डियों में फ्रैक्चर होता है तो यह लुम्बोसाइटिका (lumbosciatica) का कारण बनता है। ट्यूमर भी एक संभावित कारण हो सकता है क्योंकि वे नर्व को सिकोड़ देते हैं, जिससे दर्द होता है।

गर्भावस्था में भी साइटिका हो सकता है। इस मामले में युटेरस अंदरूनी अंगों पर दबाव डालता है और मसल्स में संकुचन होता है।

दर्द से राहत के 5 घरेलू तरीके

साइटिका के कारण होने वाला दर्द भयानक हो सकता है, यही वजह है कि आज विभिन्न केमिकल ट्रीटमेंट उपलब्ध हैं। हालांकि प्राकृतिक तरीके कुछ सर्वोत्तम ट्रीटमेंट विकल्प हैं।

इसके बाद हम दर्द से राहत के लिए पांच अलग-अलग हॉट या कोल्ड पैक तैयार करने का तरीका देखेंगे।

1. बारी-बरी से हॉट और कोल्ड पैक

साइटिका से राहत पाने के लिए हीट से सिंकाई करना बहुत असरदार होता है। हॉट पैक मांसपेशियों को आराम देने के रूप में कार्य करता है। इस बीच कोल्ड पैक भी राहत देते हैं और इस अंग को सुन्न करते समय नर्व के आसपास की सूजन को कम करते हैं।

साइटिका के लक्षणों से राहत पाने के लिए हॉट और कोल्ड पैक के बीच स्विच करना उन क्षणों के लिए एक बढ़िया घरेलू उपाय है, जब दर्द असहनीय हो जाता है।

आपको क्या चाहिए?

  • 2 तौलिए
  • ठंडा पानी
  • गर्म पानी

क्या करें

  • तौलिए को गर्म पानी में भिगोकर 20 मिनट के लिए प्रभावित जगह पर रखें।
  • दूसरे तौलिए को ठंडे पानी में भिगोएँ।
  • गर्म तौलिया निकालें और ठंड तौलिये को 20 मिनट के लिए लगाएं।
  • एक घंटे के लिए इसे बारी-बारी से दोहराएं।
साइटिका का कारण क्या है?

2. पोटैटो पैक

आलू में असरदार एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण होते हैं। आप कॉस्मेटिक और औषधीय प्रोडक्ट के लिए आलू से सभी गूदे, त्वचा और रस का उपयोग कर सकते हैं। थोड़ी सी गर्मी के साथ साइटिका के लक्षण दिखाई देने पर दर्द को दूर करने और पैरों में सूजन को कम करने के लिए आलू बड़ी मदद हो सकता है।

आपको क्या चाहिए?

  • 4 आलू
  • एक छोटा तौलिया

क्या करें

  • 4 आलू उबालें। छील लें और उन्हें एक प्यूरी में काट लें।
  • प्यूरी में तौलिया को ढंके और प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं।
  • जब तौलिया ठंडा हो जाता है, तो दूसरा लगाएं ।
  • एक घंटे के लिए इसे दोहराएं।

3. अदरक और तिल का पैक

अपने गुणों की बदौलत अदरक सूजन के लिए सबसे अधिक उपयोग किया जाने वाला प्राकृतिक पौधा है।

इसके अलावा तिल में एंटीऑक्सिडेंट, हाइड्रेटिंग, दर्द से राहत देने वाले और एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण होते हैं जो अदरक के साथ अद्भुत रूप से काम करते हैं और साइटिका से होने वाले दर्द से लड़ते हैं।

आपको क्या चाहिए?

  • 1/2 कप तिल का तेल (125 मिली)
  • 1 अदरक की जड़
  • 1 छोटा तौलिया

क्या करें

  • एक माइक्रोवेव में या एक डबल-बॉयलर पर तिल का तेल गर्म करें।
  • अदरक को पिसें और तेल डालें।
  • तौलिया को तेल के मिश्रण में डुबोएं और इसे प्रभावित क्षेत्रों पर 20 मिनट के लिए लगाएं।

4. कैमोमाइल पैक (Chamomile pack)

कैमोमाइल ऐसा पौधा है जिसमें एंटी इन्फ्लेमेटरी और एंटीसेप्टिक घटक होते हैं। इनकी बदौलत इसे जोड़ों और मांसपेशियों में दर्द के लिए टॉनिक के रूप में उपयोग कर सकते हैं।

इसके अलावा कैमोमाइल चाय पीने से इसके गुणों को बेहतर अवशोषित करने का एक शानदार तरीका है। यह केवल साइटिक दर्द तक ही सीमित नहीं है, बल्कि गठिया, सूजन वाले अंगों या माउथवॉश के रूप में भी काम करता है।

आपको क्या चाहिए?

  • 2 कप पानी (500 मिली)
  • 2 बड़े चम्मच कैमोमाइल चाय (30 ग्राम)
  • एक तौलिया

क्या करें

  • पानी गरम करें और कैमोमाइल डालें।
  • इसे अर्क बनने दें।
  • चाय छानें और पानी में तौलिया भिगोएँ।
  • तौलिया को प्रभावित क्षेत्र पर तब तक लगाएं जब तक कि तौलिया गर्म न हो।
  • 2 घंटे के लिए दोहराएं।

इसे भी देखें: एक्सरसाइज के जरिये साइटिक नर्व पेन से राहत पायें

5. कोल्ड पैक

पहले बताए गए पैक आमतौर पर हॉट पैक के रूप में लगाए जाते हैं। हालांकि कुछ लोग कोल्ड पैक पसंद करते हैं। इसके अलावा कोल्ड पैक दर्द और सूजन के इलाज के लिए एक नेचुरल ट्रीटमेंट है।

आपको किसी विशेष अर्क का उपयोग करने की जरूरत नहीं है; ठंडा पानी और बर्फ पर्याप्त होगा।

आपको क्या चाहिए?

  • एक तौलिया
  • 8 बर्फ के टुकड़े
  • पानी

क्या करें

  • एक कटोरे में पानी और बर्फ डालें।
  • पानी में तौलिया भिगोएँ और प्रभावित क्षेत्र पर 20 मिनट के लिए लगाएं।
  • हर 3 घंटे में दोहराएं।

अपनी प्राथमिकताओं के आधार पर आप आज के पोस्ट में सूचीबद्ध किसी भी पैक का उपयोग कर सकते हैं। सामग्री आसानी से मिल जाती है, जिसका अर्थ है कि दर्द से राहत पाने में समस्या नहीं होगी।

याद रखें कि घरेलू इलाज दर्द से राहत दे सकते हैं, लेकिन साइटिक से राहत नहीं दे सकते। इसके अलावा अपने केस के बारे में हेल्थ प्रोफेशनल से सलाह लेना अहम है।

  • Diaz-Herrera, J., Salvador-Pichilingue, J., & Maguiña-Vargas, C. (2017). Revista médica herediana : órgano oficial de la Facultad de Medicina “Alberto Hurtado”, Universidad Peruana Cayetano Heredia, Lima, Peru. Revista Médica Herediana. https://doi.org/10.20453/rmh.v27i4.2992
  • Navarro, E., Cano, P., & Garcia, R. (2005). Hernia discal lumbar. Jano.
  • PIERA FERNÁNDEZ, M. (2001). Lumbalgia y ciática. Revisión. Farmacia Profesional.
  • Mayor, D. F. (2009). Electroacupuntura para la ciática. Revista Internacional de Acupuntura. https://doi.org/10.1016/S1887-8369(09)71578-9