सब्मिसिव व्यक्ति के 5 मनोवैज्ञानिक लक्षण

सब्मिसिव व्यक्ति अपने साथं एक दर्दनाक अतीत ढोते चलते हैं जिसके कारण वे आज ऐसे हैं, खुद को दूसरों से अलग और श्रेष्ठ दिखने की चाहत का अभाव जिससे वे और ज्यादा तकलीफों से बच सकें।
सब्मिसिव व्यक्ति के 5 मनोवैज्ञानिक लक्षण

आखिरी अपडेट: 11 जुलाई, 2018

सब्मिसिव व्यक्ति आम तौर पर अपनी आवाज़ नहीं उठाते हैं, दूसरों को खुद से पहले रखते हैं और अधिक अधिकार जताने वाले लोगों की मांग का पालन करते हैं।
हालांकि, इस प्रकार का रवैया कभी-कभी किसी व्यक्ति को हानिकारक और अस्वास्थ्यकर संबंधों की ओर ले जा सकता है।
जिससे आखिरकार, वे शिकार हो सकते हैं। हालांकि, इस तरह से रहने के तरीके को बदलना जटिल है।
ऐसा नहीं है कि इस प्रकार के लोग सब्मिसिव होने की अदात को छोड़ना नहीं चाहतें हैं। दरअसल पिछले अनुभवों के कारण उन्होंने कुछ मनोवैज्ञानिक लक्षण प्राप्त किये हैं, जिससे वे आसानी से छुटकारा नहीं पा सकते हैं।

1. सब्मिसिव व्यक्ति वाकई में सब्मिसिव नहीं होते हैं

सब्मिसिव व्यक्ति के लक्षण

सब्मिसिव व्यक्ति अपनी जरूरतों या इच्छाओं को प्राथमिकता नहीं देते हैं। इसके बजाय, वे हमेशा दूसरों की जरूरतों और इच्छाओं को पहले रखते हैं।
उदाहरण के लिए, उनमें दृढ़ता की कमी उन्हें किसी भी सामूहिक काम में हमेशा दूसरा स्थान अपनाने के लिए प्रेरित करती है। ऐसा उनके दृष्टिकोण या राय व्यक्त करने में अत्यधिक संघर्ष के कारण है।
हालांकि वे ऐसा करने की इच्छा रखते हैं, वे आत्म-जागरूक महसूस करते हैं, और खुद को पीछे खींच लेते हैं। उनका मानना है कि वे जो सोचते हैं उसे ध्यान में नहीं रखा जाएगा और यहां तक कि वह अपनी राय पर भी संदेह करना शुरू कर देते हैं।
इसे भी पढ़ें:

2. उनका अतीत दर्द से भरा हुआ है

सब्मिसिव व्यक्ति जरूरी नहीं हैं कि इसी तरह से पैदा हुए हों, बल्कि वे ऐसे अनुभवों से गुज़र चुके हैं जो उन्हें धीरे-धीरे खुद को सबसे अलग और पीछे खींचने और वे जो हैं, उसका कारण बन चुका है।
बचपन जहां माता-पिता के बीच एक पेचीदा संबंध होता है, या निरंतर डर से भरी हुई किशोरवस्था किसी को पूरी तरह से सब्मिसिव भूमिका निभाने का पर्याप्त कारण बन सकती है।
आत्मविश्वास और असुरक्षा उन्हें खुद को बेकार महसूस करने का कारण बन जाती है और वे खुद को दूसरों के लिए पेश कर देते हैं।
यह उनके लिए स्वस्थ नहीं है, क्योंकि लंबे समय में, वे कष्ट का शिकार होने के लिए एक आसान शिकार बन जाते हैं।
इसे भी पढ़ें:

3. सब्मिसिव व्यक्ति किसी भी तरह के टकराव से बचना चाहते हैं

सब्मिसिव व्यक्ति टकराव से बचना चाहते हैं

हम कभी भी सब्मिसिव व्यक्ति को टकराव करने के लिए उत्सुक नहीं पाएंगे। इसके विपरीत वे हर कीमत पर इससे बचना चाहेंगे।
टकराव उन्हें बहुत परेशान करती है, क्योंकि यह उन्हें पिछले अनुभव की याद दिलाता है।
समस्या यह है कि टकराव से बचने के लिए, वे खुद झुक जाएंगे, जो वे नहीं करना चाहते उसे स्वीकार कर लेंगे, और खुद को वह स्थान नहीं देंगे जिसके वे लायक हैं।
किसी भी प्रकार के टकराव या चर्चा से बचने की यह चिंता बहुत थकावट का कारण बनती है।

4. सब्मिसिव व्यक्ति ध्यान आकर्षित करना पसंद नहीं करते

कुछ इसे शर्मिंदगी समझ कर भ्रमित हो सकते हैं, हालांकि हकीकत में यह अनजान और खुद को दूसरों से अलग न दिखने का तरीका होता है।
दूसरे उनके बारे में क्या सोचते हैं, सब्मिसिव व्यक्ति इसे लेकर बहुत घबराहट का अनुभव करते हैं। यही कारण है कि वे एक बेहद अलग तरीके से पोशाक पेहनते और वैसा ही बर्ताव करते हैं।
यह उनको किसी भी परिस्थिति से परहेज करने की गारंटी देगा जो अपमानजनक हो सकती है, या संभवतः किसी प्रकार का टकराव का कारण बन सकती है।
इसे भी पढ़ें:

5. उनमें भावनात्मक रूप से आश्रित होने की प्रवृत्ति होती है

सब्मिसिव व्यक्ति भावनात्मक रूप से आश्रित होते हैं

सब्मिसिव व्यक्ति दूसरों के बारे में बहुत कुछ सोचते हैं और इतने कमजोर होते हैं कि उन्हें किसी व्यक्ति की आवश्यकता होती है जो उनकी रक्षा कर सके।
इसलिए, उनके लिए किसी निर्भर रिश्ते में जाना पूरी तरह से नेचुरल है, जहां दूसरा व्यक्ति उनके जीवन को अर्थ देता है, और साथ ही साथ सुरक्षा प्रदान करता है।
यह उन संबंधों के लिए भी सच माना जाता है जहां उनके साथ दुर्व्यवहार मिलता है। भले ही अन्य व्यक्ति उनसे अच्छा बर्ताव नहीं करता, उनके दिमाग में यह बात रहती है कि, “… कम से कम मेरे पास कोई तो है।”
यह वास्तव में एक ऐसा दृष्टिकोण है जो उन्हें रिश्तों में भारी कष्ट झेलने की दिशा में एक्सपोज़ करता है।
क्या आप सब्मिसिव व्यक्ति के संपर्क में रहे हैं? क्या आप एकसब्मिसिव व्यक्ति हैं? अधिकतमसब्मिसिव होने की इस स्थिति से दूर होना संभव है, लेकिन इसके लिए कड़ी मेहनत और जागरूक होने की आवश्यकता है।
आखिरकार, सब्मिसिव व्यक्ति भारी दर्द का शिकार होते हैं।
उनका रवैया हिंसक और आक्रामक लोगों को आकर्षित करता है, इतना कि कुछ समय बीत जाने के बाद और कुछ नुकसान सहने के साथ, उन्हें अंततः ये एहसास हो जाता है कि उन्हें खुद के गुणों का उचित सम्मान करना चाहिए