5 खीरा डिटॉक्स स्मूदी जिसे आपको आजमाना चाहिए

05 जुलाई, 2020
खीरे के छिलके में प्रचुर फाइबर होता है जो पाचन संबंधी समस्याओं जैसे हार्टबर्न और पेट के भारीपन को दूर करने में मदद करता है। इसलिए इसे नियमित खाना बहुत अच्छा है।
 

खीरा डिटॉक्स स्मूदी शरीर के लिए प्रचुर फायदे देता है। उनमें बहुत फायदेमंद पोषक तत्व शामिल हैं, जैसे:

  • विटामिन (A, B कॉम्प्लेक्स, C)
  • एंटीऑक्सीडेंट
  • मिनरल (मैग्नीशियम, फास्फोरस, आयरन, कैल्शियम)

इसेक साथ ही खीरे में बहुत कम कैलोरी होती है। उनमें प्रति 100 ग्राम 13 कैलोरी ही है!

इसके अलावा, वे हाइड्रेशन का उत्कृष्ट स्रोत हैं, क्योंकि उनकी बनावट का 95% हिस्सा पानी है। इनके छिलके का सेवन करने से भी आपको बड़ी मात्रा में फाइबर मिलेगा।

जब डाइट का पालन करने और शरीर को साफ करने की बात आती है, तो ये विशेषताएं खीरे को सबसे उपयोगी खाद्य पदार्थों में से एक बनाती हैं।

अगर आप जानना चाहते हैं कि खीरा डिटॉक्स स्मूदी कैसे बनाई जाए जो वजन कम करने और आपके शरीर को शुद्ध करने में मदद करेगी, तो हम इस लेख में उन्हें बनाने का तरीका बताएंगे।

1. अनानास और खीरा डिटॉक्स स्मूदी

अनानास और खीरा डिटॉक्स स्मूदी

खीरे की तरह अनानास बहुत सारे एंटीऑक्सिडेंट, मिनरल और विटामिन A और B कॉम्प्लेक्स से भरा फल है।

खीरे के गुणों के साथ-साथ अनानास के गुण इसे एक उत्कृष्ट मूत्रवर्धक स्मूदी बनाते हैं। यह शरीर में विषाक्त पदार्थों को खत्म करने में मदद करेगा और वजन कम करने में आपकी मदद करेगा।

सामग्री

  • 1 खीरा
  • 1 कप अनानास (150 ग्राम)
  • 2 बड़े चम्मच शहद (50 ग्राम)
  • 3 कप ठंडा पानी (600 मिली)

तैयारी

  • खीरे को धो लें। इसे छीले बिना इसे छोटे टुकड़ों में काट लें।
  • फिर छिलके को अनानास से हटा दें और इसे काट लें।
  • दोनों को ब्लेंडर में डालें, पानी डालें और एक मिनट के लिए प्रोसेस करें।
  • एक गिलास में शहद डालकर सर्व करें।

इसे कैसे पीना है

  • इस स्मूदी का एक गिलास नाश्ते के साथ एक सप्ताह तक पियें।
  • सर्वोत्तम परिणाम के लिए इसे बिना छानें पियें। ऐसा करने से आपको सभी फाइबर मिलेंगे और तुरंत असर होगा।

2. सेब और खीरा डिटॉक्स स्मूदी

सेब कोलेस्ट्रॉल को कम करने, ब्लड शुगर को रेगुलेट करने, गैस्ट्रोएंट्रोटिनल समस्याओं से लड़ने और विषाक्त पदार्थों को खत्म करने में मदद करता है।

 

सेब और खीरा डिटॉक्स स्मूदी न केवल आंतों की मूवमेंट को बढ़ावा देगा, बल्कि यह शरीर को साफ और विषाक्त पदार्थों से मुक्त रखेगा।

सामग्री

  • एक सेब
  • 1 खीरा
  • 1 सेलरी का डंठल
  • 4 कप पानी (800 मिली)
  • 4 बड़े चम्मच शहद (100 ग्राम)

तैयारी

  • सबसे पहले, सेब, खीर और अजवाइन को धो लें।
  • फिर सभी सामग्री को काट लें और सेब से बीज निकाल दें।
  • टुकड़ों को ब्लेंडर में डालें, पानी डालें और मिश्रण करें जब तक कि आपके पास एक समरूप तरल न हो।
  • एक गिलास में शहद के साथ सालें।

इसे कैसे पीना है

  • दो हफ़्ते तक रोजाना 1 से 3 गिलास पियें।

आपको पता होना चाहिए कि यह स्मूदी न केवल आपके शरीर में जमा पानी को निकालने में मदद करेगी, बल्कि यह आपको फैट को आसानी से जलाने में भी मदद करेगी।

इसे भी आजमायें : ग्रीन स्मूदी के साथ हफ़्ते भर का डिटॉक्स प्लान आजमाएं

3. खीरा और टमाटर स्मूदी


टमाटर भी पोटेशियम, एंटीऑक्सिडेंट और फाइबर से भरपूर है। यह पाचन में मदद करते हुए कार्डियोवैस्कुलर समस्याओं से लड़ने के लिए इसे आदर्श बनाता है।

इस वजह से यह स्मूदी न केवल आपको दिल की बीमारियों से बचाएगी, बल्कि आपको जल्दी वजन कम करने में भी मदद करेगी।

सामग्री

  • 1 खीरा
  • 1 लाल टमाटर
  • 2 कप पानी (400 मिली)
  • शहद के 3 बड़े चम्मच (75 ग्राम)

तैयारी

  • सबसे पहले खीरे और टमाटर को धो लें।
  • फिर उन्हें छोटे टुकड़ों में काट लें और उन्हें ब्लेंडर में डालें।
  • बाकी सामग्री डालें और ब्लेंड करें जब तक कि कोई गांठ बची रहे।
  • एक जार में तरल डालो।

इसका सेवन कैसे करें

  • आप दो हफ़्ते के लिए दिन भर में इस स्मूदी के 1 और 2 गिलास के बीच पी सकते हैं।
  • परिणामों को बेहतर बनाने के लिए आप एक संतुलित आहार बनाए रख सकते हैं और पर्याप्त पानी पीना सुनिश्चित करें।

4. सेलरी और खीरा डिटॉक्स स्मूदी

सेलरी के बारे में आपको जो जानना चाहिए वह यह है कि इसके सबसे महत्वपूर्ण तत्व इसके डंठल में हैं।

खीरा की तरह यह 95% पानी से बना है। यह एक उत्कृष्ट मूत्रवर्धक है। इसके अलावा, इसमें एंटीऑक्सिडेंट, विटामिन (A और B कॉम्प्लेक्स), मिनरल (पोटेशियम और कैल्शियम) और आवश्यक तेल शामिल हैं।

 

सेलरी आमतौर पर वाटर रिटेंशन को कम करने, सूजन से बचने और लिवर के कामकाज सुधारने के लिए उपयोग किया जाता है।

इसके अलावा सेलरी कब्ज से लड़ने और आंतों की गति को बढ़ावा देने में सक्षम है।

सामग्री

  • 1 खीरा
  • सेलरी के 2 डंठल
  • 2 कप पानी (400 मिली)
  • 3 बड़े चम्मच शहद (75 ग्राम)

तैयारी

  • सबसे पहले, किसी भी अवशेष को खत्म करने के लिए सभी अवयवों को अच्छी तरह से धो लें।
  • फिर उन्हें छोटे टुकड़ों में काट लें और उन्हें ब्लेंडर में डालें।
  • पानी और शहद डालें और 1 मिनट के लिए ब्लेंड करें।

इसका सेवन कैसे करें

  • सबसे अच्छी बात यह है कि इस स्मूदी का 1 से 2 गिलास खाली पेट पियें। ऐसा करने से आप दिन शुरू करने से पहले इसके सभी पोषक तत्वों को पा जायेंगे।

इसे भी पढ़ें : वजन घटाने वाली स्वादिष्ट पियर्स, चिया और ओट की पेट भराऊ स्मूदी

5. खीरा और एलोवेरा स्मूदी

एलोवेरा में काफी मात्रा में विटामिन, मिनरल, एमिनो एसिड और एंटीऑक्सिडेंट होते हैं। खीरा के साथ मिलकर वे उत्कृष्ट प्राकृतिक शोधक भी बनाते हैं।

सामग्री

  • 1 कप अनानास (150 ग्राम)
  • 3 संतरे से रस
  • एलोवेरा का 1 डंठल
  • 1 खीरा

तैयारी

  • सबसे पहले, सभी सामग्रियों को धो लें
  • संतरे को निचोड़ें और ब्लेंडर में रस डालें।
  • खीरा, एलोवेरा और अनानास को छील लें। उन्हें छोटे टुकड़ों में काटें।
  • उन्हें ब्लेंडर में डालें और एक समरूप तरल होने तक प्रक्रिया करें।

इसे कैसे पीना है

  • 2 हफ़्ते के लिए दोपहर में एक ग्लास स्मूदी पिएं।

इन स्मूदी को पीने से आप अपने शरीर के अंदर और बाहर दोनों तरफ बदलावों को नोटिस करेंगे। साथ ही, आप अधिक एनर्जेटिक और स्वस्थ महसूस करेंगे।

हालांकि, हेल्दी डाइट और रेगुलर एक्सरसाइज के साथ इस खीरा डिटॉक्स स्मूदी को संयोजित करना याद रखें। ऐसा करने से आप सबसे अच्छे परिणाम पायेंगे।

 
  • Mukherjee, P. K., Nema, N. K., Maity, N., & Sarkar, B. K. (2013, January). Phytochemical and therapeutic potential of cucumber. Fitoterapia. https://doi.org/10.1016/j.fitote.2012.10.003
  • Dhiman, K., Gupta, A., Sharma, D. K., Gill, N. S., & Goyal, A. (2012). A review on the medicinally important plants of the family Cucurbitaceae. Asian Journal of Clinical Nutrition. https://doi.org/10.3923/ajcn.2012.16.26
  • Wijeratnam, S. W. (2015). Pineapple. In Encyclopedia of Food and Health (pp. 380–384). Elsevier Inc. https://doi.org/10.1016/B978-0-12-384947-2.00547-X
  • Farid Hossain, Md. (2015). Nutritional Value and Medicinal Benefits of Pineapple. International Journal of Nutrition and Food Sciences4(1), 84. https://doi.org/10.11648/j.ijnfs.20150401.22
  • Koutsos, A., Tuohy, K. M., & Lovegrove, J. A. (2015, May 26). Apples and cardiovascular health—is the gut microbiota a core consideration? Nutrients. MDPI AG. https://doi.org/10.3390/nu7063959
  • Bhowmik, D., Kumar, K. P. S., Paswan, S., & Srivastava, S. (2012). Tomato-A Natural Medicine and Its Health Benefits. Phytojournal1(1), 33–43.
  • Li, M. Y., Hou, X. L., Wang, F., Tan, G. F., Xu, Z. S., & Xiong, A. S. (2018, February 17). Advances in the research of celery, an important Apiaceae vegetable crop. Critical Reviews in Biotechnology. Taylor and Francis Ltd. https://doi.org/10.1080/07388551.2017.1312275
  • Rajeswari, R., , M. Umadevi, C. S. R., & , S. Selvavenkadesh, K. P. Sampath Kumar, D. B. (2012). Aloe vera: The Miracle Plant Its Medicinal and Traditional Uses in India. Journal of Pharmacognosy and Phytochemistry1(4), 118–124. Retrieved from http://www.phytojournal.com/vol1Issue4/Issue_nov_2012/17.1.pdf