क्या करें अगर आपका पार्टनर बदजुबानी करें

14 जनवरी, 2021
आपको नीचा दिखाना, आपका अपमान करना या ऐसा कुछ कहना जो अपमानजनक है, घूसा मारने जितना ही तकलीफ़देह होता है। अगर आपका पार्टनर बदजुबानी करे, अपमानजनक कुछ कहे तो आप क्या कर सकती हैं?

जितना ही आप किसी से जुड़े होते हैं,उनकी बातें उतना ही ज्यादा आपको प्रभावित करेंगी। इतना कि कई बार कोई कमेंट आपको चोट पहुँचा सकता है। इसके अलावा, कई लोग ऐसे बदजुबान पार्टनर के होने की शिकायत करते हैं जो उनका सम्मान नहीं करता है। कई लोग झिझकते हैं क्योंकि वे नहीं मालूम आखिर इस स्थिति में करें क्या जब पार्टनर बदजुबानी करे।

आपको ऐसी स्थितियों में क्या करना चाहिए? सबसे पहले इस तरह के व्यवहार को आदत नहीं बनने देना जरूरी है। आप इस बात को नजरअंदाज नहीं कर सकती कि आक्रामक या हिंसक संवाद दुर्व्यवहार का ही एक रूप है। लगातार अपमान या उत्पीड़न के महीनों (या वर्षों) में आप पर गंभीर मनोवैज्ञानिक असर पड़ता है।

एब्यूज बढ़ते जाना

दूसरी ओर नुकसानदेह या आक्रामक शब्दों से भरा व्यवहार धीरे-धीरे रिलेशन में उभर सकता है। इन शब्दों में जोक, व्यंग्यात्मक टिप्पणियाँ या तीखे वाक्य हो सकते हैं जो पहले विडंबना वाए लहजे का अहसास कराते हैं। आमतौर पर वे हँसी के साथ कहे जाते हैं और शायद इस तरह जैसे, “मैं बस मजाक कर रहा था, डियर”।

हालाँकि, यह व्यवहार वक्त के साथ और ज्यादा बढ़ता चला जाता है, और  पीड़ित की सेल्फ-इमेज को तोड़ता है, जब तक कि ये शब्द उसके आत्मसम्मान और गरिमा के लिए चोट नहीं बन जाते।

मेरा पार्टनर बदजुबान है

बदजुबानी भरा दुर्व्यवहार धीरे-धीरे बढ़ता है। दरअसल यह बाद में बहुत हिंसक एब्यूज में विकसित होता है।

मेरा पार्टनर बदजुबान है : ऐसी गाली जिसे स्वीकार नहीं किया जा सकता

आपको एक बहुत जरूरी बात को जेहन में बैठा लेना चाहिए, किसी रिलेशनशिप में महज प्रेम होना ही पर्याप्त नहीं है। इसलिए कि कुछ तरह का प्रेम आपको चोट पहुंचाता है और कुछ लोगबेहद खराब तरह से प्यार करते हैं।

दरअसल एक संतोषजनक, खुशनुमा और स्थायी रिलेशन का आनंद लेने के लिए आपस में अच्छी बातचीत बहुत जरूरी है। समझौतों तक पहुंचने में सक्षम होना और एक भावनात्मक संबंध बनाए रखना कई मामलों में सफलता की चाबी बनती है।

कुछ लोग अक्सर यह नहीं जानते हैं कि उन्हें सही इन्सान को कैसे खोजना है। इसलिए हम सलाह देंगे कि आप इस बात को जान कर रखिये कि कौन आपका वक्त, प्रयास और स्नेह चाहता है और कौन नहीं। उदाहरण के लिए कुछ लोग यह जानते ही नहीं कंटेम्अप्वट या अवमानना ​​एक तरह से दुर्व्यवहार है।

इसके अलावा दूसरे कुछ लोग यह नहीं मानना चाहते हैं कि उनका पार्टनर बदजुबान है, जिसका अर्थ है कि बहुत संभव है वे अपमानजनक रिश्ते में ही हों। नीचे इस मामले में कुछ दूसरी विशेषताओं के बारे में जानें।

इसे भी पढ़ें : 6 लक्षण जो बताते हैं, आप मौखिक दुर्व्यवहार के शिकार हैं

बदजुबानी भरे एब्यूज के संकेत क्या हैं?

अमेरिका की क्लीवलैंड स्थित वेस्टर्न रिजर्व यूनिवर्सिटी में आयोजित एक वैज्ञानिक स्टडी के अनुसार, 50 से 80% लोग भावनात्मक शोषण के शिकार हुए हैं। वर्बल एब्यूज बार-बार घूम-फिरकर आने आली विशेषता है। यह इन संकेतों के साथ उभरता है:

  • आपका पार्टनर आपका मज़ाक उड़ाता है।
  • आपको सही मायने में समझे बिना ही वह आपके बारे में फैसला लेता है।
  • आपका पार्टनर अपमानजनक और आक्रामक ढंग से रियेक्ट करता है।
  • पार्टनर और आपके बीच कोई भी बातचीत बहस और चिल्लाहट की ओर चली जाती है।
  • आपका साथी आहतकरने वाली आयरनी और कटाक्ष का उपयोग करता है। वे दूसरे लोगों के सामने आपका मजाक उड़ाने के बारे में दो बार नहीं सोचते।
  • आपका साथी सहानुभूतिपूर्वक संवाद नहीं करता है।
  • वह आपको दोषी महसूस कराता है।
  • उनकीबातचीत की शैली आप पर हावी होने की कोशिश करती है।

क्या करें अगर आपका पार्टनर बदजुबानी करें

अमेरिका में जॉर्जिया विश्वविद्यालय के मनोविज्ञान विभाग के रिसर्च पेपर के अनुसार अच्छी बातचीत रिश्ते की संतुष्टि की गारंटी देता है। अब जैसा कि हमने ऊपर उल्लेख बताया है, स्नेह और अच्छे संवाद के अलावा दूसरे फैक्टर पर ध्यान देने की जरूरत है, जैसे कि भावनात्मक।

इस तरह यदि आपका साथी बदजुबान है, तो यह जरूरी है कि उसे इसके साथ बने रहने न दिया जाए। साथ ही आपको अपने आत्मसम्मान और भावनात्मक संतुलन से जुड़ने की जरूरत है। दुर्व्यवहार अंततः दर्द, बेचैनी और नाखुशी ही पैदा करेगा। आपको इन स्थितियों में क्या करना चाहिए?

मौखिक बदजुबानी के पीछे क्या है?

यह पता लगाना एक अच्छा विचार है कि आपका साथी क्या इस अनुचित तरीके से बातचीत करता है। क्या वह बुरे वक्त से गुजर रहा है? क्या वह नहींजानता कि एंग्जायटी आयर स्ट्रेस से कैसे निपटें?

कभी-कभी काम से जुड़ा बोझ, परेशानी या अनसुलझे व्यक्तिगत आघात जैसे फैक्टर आक्रामक रूप से झूठ बोलते हैं। यह जानना महत्वपूर्ण है कि उनके व्यवहार के पीछे क्या है। हालांकि कभी-कभी यह एक विशिष्ट स्थिति या भावना के कारण नहीं हो सकता है। दरअसल आपके साथी की यह व्यक्तित्व शैली हो सकती है जो इस व्यवहार के साथ इस्तेमाल की जाती है।


आक्रामक संचार के पीछे क्या है, यह जानना महत्वपूर्ण है। आपका साथी ऐसा व्यवहार क्यों कर रहा है? किस बात से उन्हें अपनी आवाज़ उठानी पड़ी?

इसे भी पढ़ें : मनोवैज्ञानिक दुर्व्यवहार के 6 प्रभाव जिन्हें आपको जानना चाहिए

मुखर रवैया: मैं आपसे क्या उम्मीद करती हूं और मैं किसकी इजाजत नहीं दे सकती

जब आपका साथी बदजुबानी भरा अपमानजनक व्यवहार करता है, तो आप इसे ऐसे छोड़ नहीं सकते। यदि आप इस पर रियेक्ट नहीं करेंगी या उसके मनचाहे ढंग से काम करेंगी तो एब्यूज जारी रहेगा और यहां तक ​​कि बिगड़ जाएगा। इसलिए आपको चीजों के बारे में मुखर और बहुत स्पष्ट होने की जरूरत है।

आपको ठीक-ठीक बताना चाहिए कि किस शब्द, अभिव्यक्ति, कमेन्टिट या बातचीत ने आपको चोट पहुंचाई है। अपने साथी से इस तरह का व्यवहार न करने के लिए कहें। इसके अलावा आपको उन्हें इस बात का उदाहरण देना चाहिए कि आप क्या उम्मीद करती हैं: सम्मान, समझ, सहानुभूति, सुना जाना और समझौते तक पहुंचने में सक्षम होना।

अगर आपका पार्टनर बदजुबानी भरे दुर्व्यवहार करे तो फैसला कर लीजिए

बदजुबानी भरे शब्द किसी घूसे से भी ज्यादा चोट पहुंचाते हैं। आक्रामक बातचीत एक साइकोलॉजिकल एब्यूज है। इसलिए आप इसे बर्दाश्त नहीं कर सकती और इसे बर्दाश्त नहीं करना चाहिए। यदि आपका साथी अपना रवैया नहीं बदलता और बदजुबान है, तो आपको एक निर्णय लेना चाहिए।

उससे रिश्ता तोड़ने से आपके आत्मविश्वास और सम्मान की रक्षा होगी। असहनीय व्यवहार को बर्दाश्त न करें। वास्तविक प्रेम चोट नहीं करता है और सबसे बढ़कर, एक स्वस्थ भावनात्मक संबंध के जरिये सम्मान के साथ बातचीत करता है। इसे ध्यान में रखें!

  • Crane, C. A., & Testa, M. (2014). Daily associations among anger experience and intimate partner aggression within aggressive and nonaggressive community couples. Emotion (Washington, D.C.)14(5), 985–994. https://doi.org/10.1037/a0036884
  • Francesca Righetti, Mariko Visserman. I Gave Too Much. Social Psychological and Personality Science, 2017; 194855061770701 DOI: 10.1177/1948550617707019
  • Lavner, J. A., Karney, B. R., & Bradbury, T. N. (2016). Does Couples’ Communication Predict Marital Satisfaction, or Does Marital Satisfaction Predict Communication? Journal of Marriage and Family78(3), 680–694. https://doi.org/10.1111/jomf.12301
  • Inda-Caro, M., et al. “Dimensiones de los trastornos de la personalidad y correlatos neurofisiológicos.” Actas Españolas de Psiquiatría 34.3 (2006).