नींबू के छिलके के 9 शानदार उपयोग

03 अक्टूबर, 2018
क्या आप जानते हैं, नींबू के छिलके में गूदे की तुलना में ज्यादा विटामिन होते हैं? यदि आप इसका सबसे ज्यादा फायदा उठाना चाहते हैं तो छिलके में मौजूद किसी भी नुकसानदेह केमिकल से बचने के लिए ऑर्गनिक रूप से उत्पादित नींबू खरीदना सुनिश्चित करें।

लेमनेड बनाते समय या कई व्यंजनों में नींबू के रस का इस्तेमाल करते समय नींबू के छिलके को फेंकना आम बात है। यदि आप भी नींबू के छिलके फेंक देते हैं, तो इस पोस्ट को पढ़ने के बाद ऐसे करने से पहले एक बार ज़रूर सोचेंगे।

हम आपके साथ इस साइट्रस छिलके के कुछ अलग-अलग उपयोगों की जानकारी शेयर करना चाहते हैं। इन्हें जानने के बाद आप इसे फिर कभी नहीं फेंकेगे।

नींबू के छिलके इसके गूदे के समान फायदेमंद हैं

बेशक आपने पढ़ा होगा, नींबू का रस आपके लिए कितना अच्छा हो सकता है। यह विटामिन और मिनरल से समृद्ध है और इसे कीटाणुनाशक के रूप में, पॉलिश और स्टेन रिमूवर, परफ्यूम वगैरह के रूप में भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

लेकिन आपको शायद यह नहीं पता कि नींबू के छिलके के रोजमर्रा की जिंदगी में दर्जनों उपयोग हैं।

मुमकिन है, आप यह जानना चाहते हैं कि इसका उपयोग कैसे कर सकते हैं। आइये जानते हैं।

नींबू के छिलके कोलेस्ट्रॉल कम करते हैं

नींबू के छिलके का उपयोग करना दरअसल इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट के ऊँचे स्तर का लाभ उठाना है।

इसमें फ्लेवोनॉइड्स भी होते हैं जो रक्त प्रवाह में ट्राइग्लिसराइड लेवल और लिपिड को संतुलित करते हैं, नेचुरल तरीके से आपके शरीर को साफ करते हैं।

सामग्री

  • 1 नींबू का छिलका
  • 1/2 कप पानी (100 मिलीलीटर)
  • 1 बड़ा चम्मच नींबू का रस (10 मिलीलीटर)

तैयारी

  • भरपूर फायदे के लिए नींबू के छिलके को कद्दूकस करें और इसे थोड़े पानी में मिलायें।
  • फिर नींबू का रस डालें और तुरंत पियें।
  • यह रोज सुबह एक सप्ताह के लिए करें।

ऑस्टियोपोरोसिस (osteoporosis) का प्रतिरोध

हर कोई जानता है, नींबू में विटामिन C की ऊँची मात्रा होती है। लेकिन यह उसका एकमात्र पोषक तत्व नहीं है। इसमें ढेर सारा कैल्शियम भी होता है जो हड्डी की ताकत और सेहत के लिए महत्वपूर्ण है।

नींबू के छिलके का सेवन न केवल ऑस्टियोपोरोसिस बल्कि रूमेटोइड आर्थराइटिस (rheumatoid arthritis) और इंफ्लेमेटरी पॉलीआर्थराइटिस (inflammatory polyarthritis) को रोकने में भी मदद करता है।

इसे भी पढ़ें: जानें नींबू के औषधीय गुण और वे नुस्ख़े जो आप इनसे बना सकते हैं

हाथों के रूप में सुधार

यदि आपकी त्वचा पर उम्र की छाप या सूर्य के धब्बे हैं तो आप उसकी नेचुरल टोन को बहाल करने के लिए समस्या वाले क्षेत्रों में नींबू के छिलके के अंदरूनी हिस्से (सफेद साइड) को रब कर  सकते हैं।

हम आपको अपने नाखूनों को चमकाने और सुंदर बनाने के लिए भी ऐसा करने की सलाह देते हैं।

पैरों को नरम बनाता है और आराम देता है

जब आप दिन भर अपने पैरों पर खड़े होकर काम करने के बाद या काम करने के लिए यहां वहां जाकर थक जाते हैं, अपने पैरों को इसके आरामदेह पानी में भिगोकर रखने से आपके पैरों का दर्द कम हो जायेगा और वे नरम हो जायेंगे।

सामग्री

  • 1 नींबू का छिलका
  • 1/2 कप पानी (125 मिलीलीटर)
  • 1/4 कप दूध (62 मिलीलीटर)
  • 2 बड़े चम्मच ऑलिव ऑयल या बादाम का तेल (32 ग्राम)
  • 3 बूंदें नींबू का एसेंशियल ऑयल

तैयारी

  • नींबू के छिलके को पानी में कई मिनट तक उबालें।
  • तरल को छानें और दूध, तेल और एसेंशियल ऑयल मिलायें।
  • जब यह आरामदेह तापमान तक पहुंच जाये तो अपने पैरों को इस घोल में 20 मिनट के लिए भिगोयें।
  • रब करे बिना सुखायें।

त्वचा को एक्सफॉलियेट करके उसके रूप को सुधारता है

उदाहरण के लिए, यदि आपकी कोहनियां या एड़ियां बहुत फटी हुई हैं तो हम सलाह देंगे, आप बिस्तर पर जाने से पहले उस क्षेत्र पर नींबू के छिलके को रगड़ें। आप इस साइट्रस फल के छिलके को एक नेचुरल एक्सफॉलियेंट की तरह भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

सामग्री

  • 1/2 कप चीनी (100 ग्राम)
  • 1 नींबू का छिलका
  • 3 बड़े चम्मच ऑलिव ऑयल (48 ग्राम)

तैयारी

  • छिलके को कद्दूकस करें और चीनी और ऑलिव ऑयल के साथ मिलायें।
  • अपने हाथ को हल्के से गोल-गोल घुमाते हुए इसे अपने शरीर पर लगायें।
  • इसे 10 मिनट के लिए छोड़ दें और गर्म या गुनगुने पानी से धोएं।

ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस कम करता है

नींबू के छिलके में मौजूद फ्लेवोनॉइड्स आपके शरीर के अंदर बनने वाले फ्री रेडिकल्स, जहरीले और कैंसरजन्य तत्वों के प्रभाव को कम करने में मदद कर सकते हैं।

पूरे फायदे के लिए हम मिठाई, चाय, या स्मूदी में कद्दूकस किये हुए नींबू के छिलके डालने की सलाह देते हैं।

कई स्टडी में पता चला है, आम तौर पर नींबू और विशेष रूप से छिलके का सेवन विभिन्न प्रकार के कैंसर (कोलन और स्तन कैंसर सहित) को रोकने में मदद कर सकता है।

यह न भूलें कि खट्टे या साइट्रस फलों का क्षारित करने वाला असर होता है और जब आपका शरीर बहुत ज्यादा अम्लीय होता है तो बीमारियां प्रकट होती हैं।

इसे भी पढ़ें: पुदीना (spearmint) के उपयोग से बने घरेलू नुस्खे

घर में नींबू के छिलके का उपयोग

सेहत और सौन्दर्य के लिए नींबू के छिलके के कई उपयोगों के अलावा, जब आपके घर की सफाई की बात आती है तब भी यह बहुत मददगार हो सकता है। कुछ अहम उपयोगों में शामिल हैं:

किचन को कीटाणुरहित करना

यह खास तौर से कच्चे खाद्य पदार्थों के संपर्क में रहने वाले काउंटरटॉप्स और बर्तनों के लिए अच्छा है। कद्दूकस किया हुआ नींबू का छिलका चाकू, लकड़ी के सब्जी काटने वाले बोर्ड और यहां तक ​​कि तौलिये और फर्नीचर को भी कीटाणुरहित कर सकता है।

यह आपके माइक्रोवेव और अन्य उपकरणों को साफ करने में भी मदद कर सकता है।

आपको केवल एक तरल कीटाणुनाशक बनाने की जरूरत है।

सामग्री

  • 1 कद्दूकस किया हुआ नींबू का छिलका
  • 1/2 लीटर उबलता हुआ पानी

तैयारी

  • इन दोनों अवयवों को एक साथ मिलाएं, उन्हें एक स्प्रे करने की बोतल में डालें और कोई भी सतह जिसे आप साफ करना चाहते हैं उस पर स्प्रे करें।

अपने घर को सुगंधित करें

अपने घर को हमेशा सुगंधित रहने में मदद करने के लिए इस लाजवाब साइट्रस फल का उपयोग करके देखें।

सामग्री

  • 1/2 लीटर पानी
  • 2 नींबू के छिलके
  • 3 टहनियां फ्रेश रोजमेरी की
  • 1 छोटा चम्मच वैनिला अर्क (5 मिलीलीटर)

तैयारी

  • पानी को गर्म करें और जब वह उबलने लगे तो कद्दूकस किया हुआ नींबू का छिलका, रोजमेरी और वैनिला अर्क डालें।
  • इसे आंच पर से हटाने से पहले 10 मिनट के लिए उबलने दें।
  • एक बार यह ठंडा हो जाये तो तरल को एक जार में डालें और आप जिस जगह को सुगंधित करना चाहते हैं वहां इसे बिना ढके रखें।

यदि आप कचरे से आने वाली गंध को कम करना चाहते हैं तो अपने कचरे के डिब्बे के नीचे के हिस्से में नींबू के छिलके के कुछ टुकड़े डालें।

कीड़ों से सुरक्षा

मौसम के अनुसार कीट निरंतर मौजूद रहते हैं। उदाहरण के लिए, गर्मियों में मच्छर और मक्खियां होती हैं, जबकि वसंत में चींटियां और पतंगे बाहर आते हैं।

सब कीड़ों को दूर रखने और एक ज्यादा शांतिपूर्ण घर बनाने के लिए आप कंटेनर्स या सैटिन बैग्स में कुछ कटे हुए नींबू के छिलके भरकर उन्हें दरवाजों और खिड़कियों के पास रख सकते हैं।

दूसरा विकल्प पानी मिलाकर एक साइट्रस स्प्रे बनाना और उसे अपने पर्दे और चादरों पर स्प्रे करना है।

  • Chanet A et al. “Citrus flavanones: what is their role in cardiovascular protection?”, J Agric Food Chem. 2012 Sep 12;60(36):8809-22.
  • Assini JM et al. “Citrus flavonoids and lipid metabolism”, Curr Opin Lipidol. 2013 Feb;24(1):34-40.
  • Liwen Wang et al. “Anticancer Activities of Citrus Peel Polymethoxyflavones Related to Angiogenesis and Others”, Biomed Res Int. 2014; 2014: 453972.