मस्से और उनका इलाज

अप्रैल 14, 2020
मस्से अक्सर हाथ-पैरों पर दिखते हैं। जननांग पर होने वाले मस्से भी हैं, जो महिलाओं में ज्यादा खतरनाक हैं क्योंकि वे सर्वाइकल कैंसर से जुड़े हैं।

मस्से बहुत ही आम समस्या हैं। आम तौर पर वे एस्थेटिक समस्या का कारण बनते हैं। हालांकि, जिन अंगों में ये उभरते हैं, वहाँ असुविधा पैदा कर सकते हैं। मस्से त्वचा के छोटे उभार हैं जो आम तौर पर दर्दनाक नहीं होते।

बहुत से लोग नहीं जानते कि मस्सों का मुख्य कारण एक वायरस है। विशेष रूप से यह ह्युमन पैपिलोमावायरस (HPV) है, जिसके 100 से ज्यादा उप प्रकार हैं। इसका मतलब है कि मस्से कई अलग-अलग तरह के होंगे और वे विभिन्न नागों में उभर सकते हैं। हालांकि वे ज्यादातर हाथों और पैरों में दीखते हैं। कभी-कभी, उनका इलाज करना ज़रूरी होता है जिसे प्रभावित व्यक्ति को असुविधा न हो।

इस लेख में, हम सबसे आम तरह के मस्सों और उनके इलाज  के बारे में बताएंगे

मस्से क्या हैं (What are warts)?

मस्से छोटे थक्के हैं जो स्किन पर उभरते हैं। आम तौर पर वे त्वचा के ही रंग के होते हैं, पर वे सफेद या गुलाबी भी हो सकते हैं। कुछ मस्सों में काले धब्बे भी होते हैं, जो उनकी सतह पर जमा ब्लड वेसेल्स हैं।

हमने ऊपर बताया है, मस्से का कारण ह्यूमन पैपिलोमावायरस है। इस वायरस के कई उप प्रकार होते हैं, जिसके कारण कई लोग इनके संपर्क में आ जाते हैं। पर मस्से आम भी नहीं हैं। दूसरे शब्दों में इस वायरस के संपर्क में आने वाले सभी लोगों में मस्सा विकसित नहीं होता। क्योंकि सेहत अच्छी हो तो कोई भी वायरस से कामयाबी से लड़ सकता है और उसमें इसके लक्षण नहीं उभरेंगे।

इस तरह मस्से बच्चों या कमजोर रोग प्रतिरोध क्षमता वाले लोगों में ज्यादा आम हैं क्योंकि वे संक्रमण से नहीं लड़ सकते हैं। मस्से इस वायरस के संपर्क में आने के बाद छह महीने बाद तक दिखाई दे सकते हैं।

अधिकांश वायरस की किस्में त्वचा से कांटेक्ट होने या तौलिए जैसी चीजों से फैलती हैं। हम यह नहीं भूल सकते हैं कि इसकी कुछ किस्में यौन संपर्क के जरिये भी फैलती हैं, जैसे कि ह्यूमन पैपिलोमावायरस 16 या 18। ये वे टाइप हैं जो सर्वाइकल कैंसर से जुड़े हैं। इसके अलावा मस्से आसानी से फैलते हैं। उदाहरण के लिए नाखून चबाते किसी बच्चे की उंगलियों पर मस्सासे दिखना आम है। उनके हाथ या चेहरे पर मस्से ज्यादा दिखाई दे सकते हैं।

आप इस लेख को पसंद कर सकते हैं: ह्यूमन पैपिलोमा वायरस : वह जो आपको जानना चाहिए

मस्से कितने तरह के होते हैं

मस्से शरीर के कई भागों में दिखाई दे सकते हैं।

मस्से कितने तरह के होते हैं (types of warts)?

आकार और स्थान के आधार पर मस्से अलग-अलग तरह के होते हैं। सबसे पहले हमें सबसे आम मस्सों की बात करनी चाहिए। वे गोल, खुरदरे और हाथों और पैरों पर दिखाई देते हैं। इनकी दूसरी टाइप हैं:

  • सपाट मस्सा (Flat wart) : ये छोटे बच्चों में सबसे आम हैं। वे छोटे होते हैं और छोटे समूह या ग्रुप बनाते हैं।
  • तन्तुरूप (Filiform) : वे छोटी उंगली की तरह लम्बे और मुलायम होते हैं। वे गर्दन या पलकों में आम हैं।
  • पदतल (Plantar) : ये पैर या पैर की उंगलियों के नीचे दिखाई देते हैं। वे बहुत परेशान करते हैं क्योंकि चलने से उन पर लगातार दबाव पड़ता है।
  • जननांग मस्सा (Genital warts): ये पुरुष और महिला दोनों के जननांगों, यहाँ तक कि कमर क्षेत्र या गुदा में भी दिखाई देते हैं। ये यौन संपर्क के माध्यम से फैलते हैं। उन्हें कॉन्डिलोमा (condylomas) भी कहा जाता है।

इन सभी प्रकारों में, जननांग मस्से सबसे अहम है, क्योंकि ह्यूमन पैपिलोमावायरस संभावित कैसरकारक है। क्योंकि यह संक्रमण बहुत आम है, आपको इन घावों की निगरानी करनी चाहिए। वास्तव में, अब कुछ तरह के पैलोमावायरस के लिए टीके मौजूद हैं। वे कई देशों में युवा महिलाओं को लगाए जाते हैं। क्योंकि यह देखा गया है कि सर्वाइकल कैंसर इस वायरस से जुड़ा है।

यह लेख आपको दिलचस्पी ले सकता है: 6 लक्षण सर्वाइकल कैंसर के जिनकी जानकारी आपको होनी चाहिए

ह्यूमन पैपिलोमावायरस के खिलाफ टीका एक रोकथाम के उपाय के रूप में युवा महिलाओं में लगाया जाता है।

इलाज (Treatment of Warts)

ज्यादातर मस्सों का इलाज सिर्फ कॉस्मेटिक कारणों या असुविधा के लिए किया जाता है। वे दबाव के कारण घर्षण या दर्द का कारण बन सकते हैं। इलाज का लक्ष्य सिर्फ मस्से को नष्ट करना नहीं बल्कि यह निश्चित करना भी है कि रोग प्रतिरोध प्रणाली वायरस से लड़ पाए।

आजकल इसके कई तरीके हैं। क्रायोथेरेपी (cryotherepy) ऐसी तकनीक है जिसमें मस्से को गिराने के लिए उस पर ठंड लगाई जाती है। इन्हें हटाने के लिए लेजर या माइनर सर्जरी का भी इस्तेमाल किया जाता है। कुछ एसिड वाली दवाएं भी जो मस्कोसों को खत्म कर देती हैं। हालांकि अपने डॉक्टर से सलाह लेना सबसे अच्छा है, क्योंकि वे मस्सों की टाइप के आधार पर सबसे अच्छा इलाज तय कर सकते हैं।

  • Allevato, M. A., and Lucila B. Donatti. “Verrugas genitales.” Act Terap Dermatol 28 (2005): 302-312.
  • Domíguez, Hugo Fernández, Abián Mosquera Fernández, and Benigno Monteagudo Sánchez. “Revisión bibliográfica de los tratamientos de la verruga plantar.” Revista española de podología 25.4 (2014): 138-141.
  • Llardén-Garcia, M., M. Pena-Arnáiz, and J. M. Casanova-Seuma. “Tratamiento actual de las verrugas.” FMC-Formación Médica Continuada en Atención Primaria 13.1 (2006): 45-54.