5 योगासन : एब्स की शानदार वर्कआउट के लिए

01 अप्रैल, 2020
फर्म और टोंड एब्स हासिल करने के लिए आपको क्रंचेज से ज्यादा कुछ करने की जरूरत होगी। यहाँ हम आपकी एब्स की शानदार वर्कआउट के लिए कुछ बेहतरीन योगासन बताएँगे। उनके बारे में जानने के लिए आगे पढ़ते रहें!
 

क्या आप जानते हैं, अपने एब्स की वर्कआउट के लिए आप कई योगासन आजमा सकते हैं?

हालाँकि योग का लक्ष्य आपके शरीर को टोन करना नहीं है, लेकिन नियमित रूप से योग करना कई मसल ग्रुप की कड़ी मशक्कत कराता है

दरअसल यह आपको फैट घटाने और आपकी मांसपेशियों को टोन करने में भी मदद करता है। इसलिए पारंपरिक एब वर्कआउट के अलावा आप आसनों (पोज़) की पूरी श्रृंखला को अपना सकते हैं जिन्हें घर पर करना आसान हो।

एब्स की शानदार वर्कआउट के लिए योगासन

अपने एब्स की शानदार वर्कआउट के लिए आपको योग एक्सपर्ट होने की ज़रूरत नहीं है। हालाँकि आपको इसे ध्यान से और धीरे-धीरे शुरू करना चाहिए। एक गलत चाल का नतीजा चोट के रूप में सामने आ सकता है

क्या आप इसे आजमाने के लिए तैयार हैं?

1. भुजंगासन या कोबरा पोज (Cobra Pose)

5 योगासन : भुजंगासन या कोबरा पोज ( Cobra Pose)

भुजंगासन को अंग्रेज़ी में कोबरा पोज भी कहते हैं, और यह एब्स बनाने के लिए सबसे अच्छे योगों में से एक है। इसलिए अगर आप एक फ्लैट और टोंड टमी की ख्वाहिश रखती हैं तो दिन में कुछ मिनट ऐसा करना न भूलें

इसे कैसे करना है

  • सबसे पहले योगा मैट पर लेट जाएं।
  • फिर अपनी कोहनी को मोड़ते हुए हाथों को अपने कंधों के नीचे जमीन पर टिकाएं।
  • शरीर को ऊपर की ओर स्लाइड करें।  फिर पेल्विस को फर्श पर दबाते हुए धड़ और सिर को आर्च की शक्ल में बनायें।
  • 5 सेकंड के लिए इस मुद्रा में रहें और फिर रिलैक्स करें।
  • अंत में 8 और 10 रेपिटेशन करें।

इसे भी पढ़ें : 5 योगासन जो सपाट पेट पाने में आपकी मदद करते हैं

2. कुंभकासन या टेबल पोज़: एब्स की वर्कआउट के लिए बेहतरीन योगासन

यह मुद्रा योग सीरीज “सूर्य नमस्कार” का ही हिस्सा है। यह सबसे पूर्ण आसनों में से एक है क्योंकि यह आपके शरीर में ढेर सारे मसल ग्रुप की वर्कआउट कराता है। दरअसल इसके कई हिस्से रेगुलर एक्सरसाइज रूटीन का हिस्सा हैं।

इसे कैसे करना है

  • सबसे पहले योगा मैट पर पेट के बल लेटें।
  • फिर अपनी बाहों को फैलाकर शरीर को ऊपर उठाएं जिसे आप अपने टो के सहारे स्थिर रह सकें। शरीर के बाकी अंग सीधे होने चाहिए।
 
  • अब अपने एब्स और हिप्स को 15 सेकंड के लिए सिकोड़ें।
  • फिर अपने शरीर को 10 सेकंड के लिए आराम दें और इसे फिर से करें।
  • इसे कम से कम 5 बार दोहराएं।

3. नवासन परिपूर्ण या पूर्ण नाव मुद्रा


इस दिलचस्प योग मुद्रा के जरिये आप अपने एब्स की वर्क आउट करते हुए अपने शारीरिक संतुलन पर काम करेंगे। शुरू में यह कठिन लग सकता है, लेकिन थोड़ी एकाग्रता और प्रैक्टिस से आप इसे कर पाएंगे।

इसे कैसे करना है

  • पीठ सीधी करके बैठें और आपके पैर सीधे आपके सामने होने चाहिए।
  • फिर पीठ को पीछे की ओर लाते हुए पैरों को इकट्ठे उठाएं।
  • बाहों को अपने सामने मैट के समानांतर सीधा रखें।
  • इस मुद्रा में एक मिनट तक रोकें फिर आराम करें।
  • इसे 3 बार दोहराएं। अगर आपको इसमें मुश्किल लगे तो 30 सेकंड करें फिर 40, और इसी तरह समय सीमा बढायें।

यह भी पढ़ें: विज्ञान के अनुसार डीप ब्रीदिंग के 7 आश्चर्यजनक फायदे

4. उष्ट्रासन या ऊंट की मुद्रा वाला योगासन

कैमल पोज जिसे संस्कृत में उस्ट्रासन के नाम से जाना जाता है, एब्स बनाने के सबसे अच्छे योगों में से एक है। अभ्यास के साथ इससे आप अपना वजन घटाएंगे, संतुलन पायेंगे और मांसपेशियों को सुडौलकूल्हों की मसल्स (ग्लूटीज़) को शानदार सुडौल कैसे बनायें बना पाएंगे।

इसे कैसे करना है

  • योगा मैट पर पीठ सीधी करके घुटनों पर खड़े हों। घुटने कूल्हों के बराबर थोड़ी दूरी पर हों।
  • फिर अपने पैरों की उंगलियों पर खड़े हों, बिना मैट को स्पर्श किए।
  • बांहों को मैट के समानांतर आगे की ओर फैलाएँ और शरीर को पीछे करें। बाहों को क्षैतिज रखें और पेट को सिकोड़ें।
  • 10 सेकंड के लिए इसमें बने रहें, मूल स्थिति में वापस लौटें और 3 और 6 रेपिटेशन के बीच करें।

5. धनुरासन

5 योगासन : धनुरासन
 

इस मुद्रा के साथ आप अपनी पेट की मांसपेशियों के साथ ही पीठ के निचले हिस्से की मांसपेशियों की वर्क आउट करायेंगे। इसलिए यह पेट घटाने और पीठ दर्द को कम करने के लिए बहुत अच्छा है।

इसे कैसे करना है

  • सबसे पहले योगा मैट पर पेट के बल लेट जाएं।
  • फिर अपने पैर उठाएं और अपनी बाहों को फैलाएं जिससे एड़ियों को पकड़ सकें।
  • उन्हें आगे बढ़ाएं और अपनी एब्स की मांसपेशियों को कस लें।
  • 5 या 10 सेकंड के लिए इस पोज में रहें और फिर आराम करें।
  • 8 या 10 रेपिटेशन करें।

नोट: इन सभी मुद्राओं को इत्मीनान से सांस लेने की एक्सरसाइज़ के साथ जोड़ना न भूलें। इस तरह आप शारीरिक और मानसिक दोनों लाभों को पाते हैं।

निष्कर्ष के तौर पर यह न भूलें कि ये आसन आपकी पेट को शेप देने में कोई जादू नहीं करते हैं। अच्छे परिणाम पाने के लिए आपको लगातार इन्बहें करने की ज़रूरत होती है। सबसे अहम स्वस्थ आहार खाना है।

  • Vivian López González; Alejandro Díaz Páez (1998). Efectos del Hatha-Yoga sobre la salud: Parte I (Cuba). https://www.researchgate.net/publication/262478450_Efectos_del_Hatha-Yoga_sobre_la_salud_Parte_I