तिब्बती भिक्षुओं के सफेद दांतों का राज़ 

14 जनवरी, 2019
मुमकिन है कि भिक्षुओं के पास स्टोर न हों लेकिन उनके पास प्राकृतिक उपचार हैं जो उन्हें अपने धर्म के मुताबिल शरीर की देखभाल करने में मदद करते हैं। उनके बेहतरीन नतीजों के आधार पर, आज हम एक पारंपरिक, होममेड टूथपेस्ट बनाने का नुस्खा शेयर करना चाहते हैं जिसकी कार्यक्षमता साबित हो चुकी है।

क्या आपने कभी तिब्बती भिक्षुओं के मजबूत और सफेद दांतों के राज़ के बारे में सोचा है?

तिब्बती भिक्षु भौतिक संसार से अपने अलगाव के लिए जाने जाते हैं ताकि वे खुद को आध्यात्मिक दुनिया में ज्यादा अच्छी तरह से लीन कर सकें।

हर कोई जानता है कि इस धर्म पालन करने वाले लोग शहरों से दूर रहते हैं जहां पैदल चलने की दूरी पर कोई सुपरमार्केट नहीं होता है। वे नियमित रूप से एक डेंटिस्ट से भी मुलाकात नहीं करते हैं।

तो आप इस बात को कैसे समझा सकते हैं कि मजबूत और सफेद दांतों के मामले में भिक्षु सबसे ज्यादा स्वस्थ होते हैं?

हम में से जो लोग पश्चिमी दुनिया में रहते हैं उनके दांत टूथपेस्ट, सफेद करने वाली क्रीम और जेल जैसे खास उपचारों पर पैसा खर्च किए बिना भिक्षुओं के दांतों की तरह कभी सफेद नहीं होंगे। इनको इस्तेमाल करने के बाद भी कुछ लोग इसे हासिल नहीं कर पाते हैं।

इस पोस्ट में हम आपको सफेद दांतों का रहस्य बताएंगे।

ज्यादा सफेद दांतों के लिए एक पौराणिक नुस्खा

भिक्षुओं के पास चाहे स्टोर न हों, उनके पास प्राकृतिक उपचार हैं जो उन्हें अपने धर्म के अनुसार शरीर की देखभाल करने में मदद करते हैं।

उनके जोरदार परिणामों के आधार पर, आज हम आपके साथ एक पारंपरिक, होममेड टूथपेस्ट बनाने का नुस्खा शेयर करना चाहते हैं।यह साबित हो चुका है कि यह बहुत कारगर है।

इसे भी आजमायें : दाँतों के टार्टर से छुटकारा पाने के प्राकृतिक तरीके

आपको इस्तेमाल करने के लिए क्या सामान चाहिए?

सबसे पहले, आपको कोशेर, या आयोडीन रहित नमक की ज़रूरत होगी।

यह एक शुद्ध प्रकार का नमक है जिसे यहूदी लोग परंपरागत रूप से अपने खाद्य पदार्थों को स्वादिष्ट बनाने और ज्यादा लंबे समय तक संरक्षित रखने के लिए इस्तेमाल करते हैं। आपको यह स्वास्थ्य खाद्य भंडार या फार्मेसियों में मिल जाएगा।

फिर, आपको केवल पानी की ज़रूरत है!

जैसा कि आप देख सकते हैं, आपको बहुत कम चीजों की ज़रूरत है। इसलिए आपको इस उपचार को तैयार करने में मुश्किल नहीं होगी। स्टेप्स को सीखने के लिए आगे पढ़ें।

मात्रा

  • 1/2 कप पानी (100 मिलीलीटर)
  • 1 बड़ा चम्मच कोशेर नमक (15 ग्राम)

तैयारी

  • आधा कप पानी उबालें और इसे ठंडा होने दें जब तक कि यह उपयुक्त तापमान तक न पहुंच जाए।
  • उसमें एक बड़ा चम्मच कोशेर नमक डालें।
  • फिर इसे कम से कम एक मिनट के लिए यूंही रहने दें।
  • सतह पर बनी हुई झाग को हटा दें।

इसे कैसे लगाएं

आपको अपने मिश्रण में नमक के क्रिस्टल दिखाई देंगे। वे इस खास टूथपेस्ट की कुंजी हैं। लेकिन आइये पहले यह पता लगाएं कि आपको इसका उपयोग कैसे करना चाहिए:

  1. क्रिस्टलों को अपने टूथब्रश पर लगाएं।
  2. आप आम तौर पर जिस तरह अपने दांतों को ब्रश करते हैं वैसे उन्हें ब्रश करें। गोल-गोल घुमाकर ब्रश का उपयोग करना न भूलें ताकि क्रिस्टल सभी दरारों तक पहुंच जाएं।
  3. पानी और नमक के इसी घोल के साथ कुल्ला करें।
  4. इसे दिन में तीन बार दोहराएं।

जैसा कि आप देख सकते हैं, यह एक सरल और सस्ती प्रक्रिया है जो एक एक्स्ट्रा मिनट से ज्यादा आपका समय नहीं लेगी।

यदि आप घर से बाहर भोजन कर रहे हैं और बहुत ज्यादा सावधानी बरतना चाहते हैं तो आप इस मिश्रण को अपने बैग में अपने साथ ले जा सकते हैं। आपको केवल थोड़ी सी मात्रा की ज़रूरत है इसलिए ऐसा करना ज्यादा मुश्किल नहीं है – और लाभ अद्भुत हैं।

इसे भी आजमायें : मुँह की समस्याएं कहेंगी अलविदा, अपनाएँ यह प्राकृतिक औषधि

स्वस्थ दांतों के लिए अन्य टिप्स

तिब्बती भिक्षुओं की अन्य आदतें हैं जो इस शानदार नुस्खे की पूरक हैं।

सबसे पहली बात, वे धूम्रपान नहीं करते हैं और शराब नहीं पीते हैं। वे इन पदार्थों को जहर मानते हैं।

आप सहमत नहीं हो सकते हैं, लेकिन सच्चाई यह है कि इन उत्पादों का परहेज दाग पड़ने और आपके दांतों को घिसने से बचाता है।

इसी तरह, वे शर्करा, वाणिज्यिक मिठाई, या फैटी खाद्य पदार्थों को खाने से दूर रहते हैं, जो सभी सफेद दांतों के मामले में उन्हें खेल में आगे रखते हैं।

आजकल हम लोग जो भी चीजें खाते हैं उनमें से लगभग सभी में आर्टिफिशियल रंगों के अलावा ये तत्व होते हैं। इनकी वजह से हमारे लिए अपने लक्ष्यों तक पहुंचना और भी कठिन हो जाता है।

इसके बजाय, वे ऐसा आहार खाते हैं जो सब्जियों और ऑर्गनिक उत्पादों में समृद्ध है। ये कम घर्षणशील होते हैं क्योंकि इनमें कम बैक्टीरिया और रोगाणु होते हैं। इसके अलावा, इनमें कोई भी केमिकल नहीं होता है जो दांत की तामचीनी पर हमला कर सकता है और कैविटी का कारण बन सकता है।

इसे आजमाकर देखें!

कुल मिलाकर यह एक प्राचीन संस्कृति, जिसके सदस्य लंबे और स्वस्थ जीवन का आनंद लेते हैं, का एक बरसों पुराना नुस्खा है।

इस घर के बने टूथपेस्ट से कोई नुकसान नहीं होता है। लेकिन अगर आपको लगता है कि यह आपके लिए काम नहीं कर रहा है तो किसी भी समय बेहिचक इसका उपयोग बंद कर सकते हैं।

फिर भी, यह आजमाने लायक है। क्या आप हमें यह बताने के लिए तैयार हैं कि यह कैसा काम करता है?

हम आपकी बात सुनकर हमेशा खुश होते हैं।