लिम्फैटिक सिस्टम : 4 दिलचस्प तथ्य जिन्हें आपको जानना चाहिए

30 जून, 2020
बस आपको थोड़ा केयर करने की ज़रूरत है। ध्यान रखें कि बैलेंस डाइट खाने और अपनी भावनाओं को ठीक तरह से मैनेज करने जैसी आसान बातें आपके स्वास्थ्य और खुशी पर सीधा असर डालती हैं।
 

आपका लिम्फैटिक सिस्टम आपके सरकुलेटरी सिस्टम का एक हिस्सा है। यह एक नेटवर्क की तरह है, अविश्वसनीय रूप से एक जटिल प्रणाली जो संचार वाहिकाओं, स्पेशल टिशू और अंगों से बनी है।

स्प्लीन की तरह ये अंग बहुत ही विशिष्ट और अद्भुत काम करते हैं: टॉक्सिक तत्वों, अपशिष्ट और अन्य अवांछित सामग्री को शरीर से बाहर निकालते हैं।

हालाँकि, यह आपकी सेहत के लिए कई दूसरी अपरिहार्य चीजें करता है जिन्हें आप निश्चित रूप से जानना चाहेंगे।

आज हम लिम्फैटिक सिस्टम के बारे में ज्यादा जानने में आपकी सहायता करना चाहते हैं। हम इस पर एक नज़र डालेंगे कि यह क्या है, यह क्या करता है और आप इसकी बेहतर देखभाल करने के लिए क्या कर सकते हैं।

1. लिम्फैटिक सिस्टम और लिम्फ

आपके शरीर का लिम्फैटिक सिस्टम बेकार तत्वों जैसे अपशिष्ट और मृत कोशिकाओं को हटा देता है। इसके अलावा इसका एक और महत्वपूर्ण काम है, आपकी रोग प्रतिरोधी क्षमता को मजबूत करना।

यह लिम्फ के जरिये करता है। यह एक तरल है जो आपके नेचुरल डिफेन्स को सक्रिय करता है और आपके वाईट ब्लड सेल्स को मजबूत करता है।

साथ ही लिम्फैटिक सिस्टम आपके शरीर में प्रोटीन की मात्रा को भी नियंत्रित करता है। यह चाइल के आपके उत्पादन को नियंत्रित करता है।  चाइल एक तरल पदार्थ जो पित्त से बनता है और कुछ एमिनो एसिड के उत्पादन को बढ़ावा देता है।

2. अंग जो लिम्फैटिक सिस्टम को बनाते हैं

अंग जो लिम्फैटिक सिस्टम को बनाते हैं

यहाँ एक दिलचस्प तथ्य है: आपका ब्रेन आपके साइनस के जरिये आपके लिम्फैटिक सिस्टम से जुड़ा होता है। इस तरह हम जिस बारे में बात कर रहे हैं वह ब्लड वेसेल का एक नेटवर्क है जो व्यावहारिक रूप से आपके पूरे शरीर का विस्तार करता है।

आइए इसके सबसे महत्वपूर्ण हिस्सों पर एक नज़र डालें।

अस्थि मज्जा (Bone marrow)

अस्थि मज्जा जैसा कि आप जानते हैं, आपके शरीर में मौजूद हर कोशिका को पैदा करता है। इन कोशिकाओं के बीच हम लिम्फ और लिम्फोसाइट्स का पता लगाते हैं जो आपके लिम्फैटिक सिस्टम को बनाते हैं।

इसे भी पढ़ें : रेनल ट्यूबरक्लोसिस : डायग्नोसिस और ट्रीटमेंट

थाइमस (thymus)

 

हमने यहाँ से पहले थाइमस के बारे में बात की है।

इस छोटी संरचना का लिम्फैटिक सिस्टम में बहुत अहम उद्देश्य है। यह लिम्फोसाइट को बढ़ता है, जो आपके इम्यून सिस्टम में एक आवश्यक सफेद रक्त कोशिका है।

स्प्लीन

कुछ लोग अभी भी सोचते हैं कि स्प्लीन या तिल्ली का कोई उद्देश्य नहीं है। हालांकि यह एक मिथ है। आखिरकार इस अंग पर आपके खून को छानने और समस्याग्रस्त कोशिकाओं या अपशिष्ट को हटाने की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी है।

लिम्फ नोड्स (lymph nodes)

आप शायद पहले से ही लिम्फ नोड्स के बारे में जानते हैं कि वे कभी-कभी सूज जाते हैं। इसके अलावा वे हॉजकिन और गैर-हॉजकिन लिंफोमा (Hodgkin and non-Hodgkin lymphom) सहित कैंसर के लिए अतिसंवेदनशील हैं।

लेकिन आपको उनके बारे में आपको और क्या जाना चाहिए?

  • वे छोटे नोड्स हैं जो आपके शरीर के विभिन्न हिस्सों में समूह में पाए जाते हैं, जैसे आपकी बगल और कमर में। उनका उद्देश्य कीटाणुओं और संक्रमण से लड़ना है।

इसे भी पढ़ें: ख़राब लेग सर्कुलेशन की रोकथाम और उसका इलाज कैसे करें

3. बीमारी और लिम्फैटिक सिस्टम

लिम्फैटिक सिस्टम की बीमारी का पहला संकेत लिम्फ नोड्स है। यह सबसे अधिक ध्यान देने योग्य लक्षण हैं। हालाँकि दूसरे संकेत भी हैं।आइए उन पर कुछ जानकारी लें।

लिम्फेडेमा (lymphedema)

  • यह उन महिलाओं में एक आम समस्या है जो स्तन कैंसर के कारण एक मास्टेक्टॉमी से गुज़री हैं।
  • लसीका इकट्ठा होती है। इस तरह व्यक्ति अपनी बाहों या पैरों के मोटापे में वृद्धि और ध्यान देने योग्य सूजन को देखता है।

एडिनोपैथी (Adenopathy)

 

  • एडिनोपैथी लिम्फ नोड की सूजन है। यह हमेशा कैंसर के कारण नहीं होता है। दरअसल ज्यादातर समय यह कमजोर इम्यून सिस्टम का नतीजा होती है।
  • इसके अलावा एडिनोपैथी आमतौर पर खसरा या मोनोन्यूक्लिओसिस (mononucleosis) जैसे वायरस के कारण होती है।
  • जैसा कि हमने ऊपर जिक्र किया है, सूजन वाले लिम्फ नोड्स हॉजकिन या गैर-हॉजकिन लिंफोमा के साथ भी जुड़े हुए हैं। सौभाग्य से ये ऐसी बीमारियाँ हैं, जिन्हें अगर जल्दी पकड़ लिया जाए तो अच्छी डायग्नोसिस हो सकती है।

लिम्फेडेमा (lymphedema)

हम इसे एक लिम्फोडायनामिक और लिम्फोस्टेटिक एडिमा में तोड़ सकते हैं।

इसमें से पहला ब्लड सर्कुलेशन की समस्याओं के कारण होता है। हालांकि दूसरे की वजह प्रोटीन इकठ्ठा होने के कारण लिम्फैटिक फेल्योर है।

4. लिम्फैटिक तंत्र की बेहतर देखभाल के लिए कुछ सुझाव

अब आप जानते हैं कि लिम्फैटिक सिस्टम के दो मौलिक कार्य होते हैं:

  1. सबसे पहले, यह आपके शरीर को शुद्ध करता है।
  2. दूसरा, यह आपके इम्यून सिस्टम को मजबूत करके इसे वायरस और बैक्टीरिया से बचाने में मदद करता है।

इसलिए अपनी आदतों में सुधार करना महत्वपूर्ण है। इस तरह आप अंगों, लिम्फ नोड्स और लिम्फैटिक सिस्टम के इस नेटवर्क की देखभाल कर सकते हैं जो आपके लिए बहुत कुछ करते हैं।

यहाँ यह करने के लिए कुछ सरल सुझाव दिए गए हैं:

  • ताजा, ऑर्गनिक फ़ूड खाएं।
  • अपने स्ट्रेस लेवल को कम करने की कोशिश करें।
  • दिन में 7 से 9 घंटे सोएं।
  • हॉट रिलैक्सिंग बाथ से शुरू करके कोल्ड शावर में ख़त्म करें।
  • हल्का व्यायाम करें।
  • नींबू वाला पानी पिएं।
  • लिम्फैटिक सर्कुलेशन को सक्रिय करने वाली मालिश बहुत फायदेमंद होती है।
  • नेटल और एलोवेरा टी असाधारण हैं।
  • योग का अभ्यास करें।

निष्कर्ष के तौर पर आपका लिम्फैटिक सिस्टम आपकी देखभाल की मांग करता है।

इसके लिए जो चाहिए वह है आपकी थोड़ी देखभाल। ध्यान रखें कि बैलेंस डाइट खाने और अपनी भावनाओं को अच्छी तरह से मैनेज करने जैसी आसान चीजें आपकी सेहत और खुशी पर सीधा असर डालती हैं।

आज ही इन पर अमल करें।

 
  • Ferrandez, Jean-Claude. El sistema linfático. Ed. Médica Panamericana, 2006.
  • Rozman, C., and E. Montserrat. “Sistema linfático y síndromes adenopáticos.” Medicina Interna 2 (1995): 1491-3.
  • Tortora, Gerard J., and Bryan Derrickson. Principios de anatomía y fisiología. Médica Panamericana,, 2013.