7 खाद्य जो खून में प्लेटलेट बढ़ाने में मददगार हो सकते हैं

28 अप्रैल, 2020
डाइट में किसी भी किस्म का बदलाव करने से पहले आपको हमेशा अपने डॉक्टर से अपने लिए सर्वोत्तम खाद्य पदार्थों के की जनकारी ले लेनी चाहिए।
 

खून में प्लेटलेट छोटी कोशिकाएं होती हैं जो खून को प्रवाहित करती हैं। उनका काम घावों को भरने और ब्लीडिंग रोकने में मदद करने के लिए थक्के बनाना है।

प्लेटलेट्स अस्थि मज्जा (bone marrow) में पैदा होते हैं और क्षतिग्रस्त ब्लड कैपिलरी की मरम्मत करते हैं, घावों को भरने के लिए थक्के बनाते हैं और आपको अत्यधिक ब्लड लॉस से बचाते हैं। उन्हें “थ्रोम्बोसाइट्स” के नाम से भी जाना जाता है।

उनमें भीतर की ओर छोटी थैली होती है जिन्हें ग्रैन्यूल कहते हैं। ये उन रासायनिक पदार्थों को छोड़ते हैं जो चोट की जगह पर दूसरी प्लेटलेट को आकर्षित करती हैं और प्लेटलेट कैप बनाते हैं।

वे रक्त के थक्के और रक्तस्राव को नियंत्रित करने में बेहद महत्वपूर्ण हैं। इस वजह से खून में उन्की मौजूदगी महत्वपूर्ण है।

प्लेटलेट की गड़बड़ी क्या है?

जब प्लेटलेट का बनाना बढ़ें या कम हो जाने पर गंभीर समस्याएं पैदा हो सकती हैं क्योंकि ऐसे में प्लेटलेट्स नॉर्मल ढंग से काम करना बंद कर देते हैं। उनके स्तर में यह बदलाव खून से जुड़ी पुरानी समस्याओं का कारण बन सकता है और खून की क्षति का जोखिम बढ़ा सकता है।

किसी भी स्वास्थ्य समस्या के मामले में डॉक्टर से सलाह लेना महत्वपूर्ण है। सबसे पहले और सबसे ज़रूरी है कि एक डॉक्टर इसका विश्लेषण करे और इलाज करे क्योंकि वे अधिक गंभीर स्वास्थ्य जटिलताओं का कारण बन सकते हैं।

इसके अलावा डॉक्टर की सलहा लेने पर आपको भोजन में उन खाद्य पदार्थों को शामिल करने में मदद मिलेगी जो आपके खून में प्लेटलेट लेवल को रेगुलेट कर सकते हैं।

खाद्य जो खून में प्लेटलेट बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थ

1. कद्दू

खून में प्लेटलेट बढ़ाने के लिए कद्दू

कद्दू और कद्दू के बीज में एमिनो एसिड और विटामिन होते हैं जो प्लेटलेट बनने के लिए जरूरी हैं। नियमित इसे खाने से प्रोटीन और विटामिन A को अवशोषित करने की आपकी क्षमता में सुधार हो सकता है। ये वे पोषक तत्व हैं जो इन छोटी कोशिकाओं के उत्पादन में भूमिका निभाते हैं।

 

यहाँ और अधिक पढ़ें: कद्दू से बनी होम रेसिपी जो ब्लड शुगर और कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करती है

2. खट्टे फल

खट्टे फल कम मात्रा में खाए जाने अपर खून को स्वस्थ रखने में मदद कर सकते हैं। क्योंकि उनमें विटामिन C होता है जो एसेंशियल पोषक तत्व है और आपके रक्त में प्लेटलेट की गिनती बढ़ा सकता है।

बहुत से लोग मानते हैं कि खट्टे फल इम्यून सिस्टम के लिए अच्छे हैं, और एक मजबूत रोग प्रतिरोधी क्षमता वाली एंटीबॉडी को बढ़ाने में मदद कर सकते हैं।

3. आंवला

भारतीय आंवला (Indian gooseberry) उन खाद्य पदार्थों के ग्रुप का हिस्सा है जो कार्डियोवैस्कुलर सिस्मेंटम को सेहतमंद रखने में योगदान देता है और बदले में खून को भी।

आंवले में विटामिन A और C होते हैं जो प्लेटलेट बनाने में मदद कर सकते हैं और आमतौर पर आपके स्वास्थ्य के लिए अच्छे होते हैं।

4. एलोवेरा जूस

एलोवेरा में कैल्शियम, मैग्नीशियम, फास्फोरस, पोटेशियम, जिंक, सोडियम, कॉपर, विटामिन C, विटामिन E, और विटामिन B कॉम्प्लेक्स होते हैं।

यह बहुत ही पॉपुलर ड्रिंक है। बहुत से लोग मानते हैं कि यह हृदय की सेहत में मदद कर सकता है और प्लेटलेट काउंट भी बढा सकता है।

5. पालक

पालक सब्जियों की उस श्रेणी में आती है जो शरीर को कई तरह से फायदा पहुंचाती हैं। यह हरा पत्तेदार साग अपने उच्च प्रोटीन और विटामिन की मात्रा के लिए अलग ही स्थान रखता है। यह प्लेटलेट बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं और चोट लगने की स्थिति में ब्लीडिंग का जोखिम घटा सकती है।

 

डिस्कवर: पालक की 5 वेट लॉस स्मूदी रेसिपी

6. पपीता

वैज्ञानिक प्लेटलेट गडबडियों के पारंपरिक इलाज  के संभावित पूरक के रूप में पपीते के पत्ते के अर्क पर स्टडी चला रहे हैं।

7. चुकंदर

खून में प्लेटलेट बढ़ाने के लिए चुकंदर

चुकंदर एंटीऑक्सिडेंट से भरा है जो कम प्लेटलेट काउंट को रोकने में मदद कर सकता है। इसकी विटामिन A, C, Kऔर मिनरल की प्रचुर मात्रा आपके ब्लड वेसेल्स की सुरक्षा करने और सर्कुलेशन समस्याओं को रोकने में मदद कर सकती है। बहुत से लोग मानते हैं, चुकंदर का जूस आपकी रोग प्रतिरोधी प्रणाली को मजबूत करने में मदद कर सकता है।

याद रखें

बीमारियों के इलाज के लिए विशिष्ट खाद्य पदार्थ, द्रिन्न्क और प्राकृतिक इलाज अपने आपमें पर्याप्त नहीं हैं। हालांकि, स्वस्थ जीवनशैली और अपने डॉक्टर से नियमित अपॉइंटमेंट के साथ इन खाद्य पदार्थों का सेवन आपके स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद हो सकता है।

अंत में, अगर आपका कोई सवाल है, तो आपको हमेशा अपने डॉक्टर से अपनी डाइट के बारे में और उसमें इन खाद्य पदार्थों को शामिल करने के सर्वोत्तम तरीके के बारे में बात करनी चाहिए। क्योंकि वे आपकी दूसरी आदतों, दवाओं और इलाज को ध्यान में रखते हुए सही सलाह दे सकते हैं।