तनाव दिल पर कैसे असर डालता है

वैसे तो विशेषज्ञों को अभी भी बॉडी-माइंड के बीच आपसी सम्बन्ध को समझना है, लेकिन प्रमाण बताते हैं कि भावनात्मक तनाव कई प्रकार की बीमारियों को प्रभावित करता है। इस बात को ध्यान में रखते हुए हम इस बारे में बात करेंगे कि तनाव हृदय की सेहत पर कैसे असर डालता है।
तनाव दिल पर कैसे असर डालता है

आखिरी अपडेट: 14 दिसम्बर, 2020

मनोवैज्ञानिक फैक्टर इंसानी देह के कई अंगों पर नेगेटिव असर डालते हैं। आज हम बात करेंगे कि तनाव हृदय और संपूर्ण कार्डियोवैस्कुलर सिस्टम को कैसे प्रभावित करता है। व्यवहार में मानसिक सेहत लगभग सभी बीमारियों को प्रभावित करती है।

बॉडी और माइंड के बीच एक अंतरंग संबंध है और वे निरंतर संपर्क में होते हैं। कोई भी असंतुलन मृत्यु दर के रिस्क फैक्टर को बढ़ाता है।

स्ट्रेस (Stress) या तनाव क्या है?

स्ट्रेस वह तरीका है जिससे शरीर व्यक्ति को खतरे में डालने वाले या चुनौतीपूर्ण हालात में प्रतिक्रिया करता है। इस तरह की प्रतिक्रिया का उद्देश्य खतरनाक समस्याओं से बचाना होता है।

थोड़ी मात्रा में तनावपूर्ण हालात आपकी सेहत के लिए नुकसानदेह नहीं होनी चाहिए। हालांकि अगर वे स्थायी रूप से बने रहे या बहुत तेज हों तो वे नुकसानदेह हो सकते हैं।

जैसा कि हमने ऊपर कहा था, तनाव लगभग सभी सामान्य बीमारियों पर असर डाल सकता है, जिसमें वे भी आती हैं जिनके कारणों को अच्छी तरह से जाना गया है। उदाहरण के लिए कोरोनरी हार्ट डिजीज  या डायबिटीज, साथ ही साथ माइग्रेन, इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम और फाइब्रोमायेल्जिया।

वर्क प्लेस का स्ट्रेस  तनाव इस विकार के रूपों में से एक है जो हृदय जोखिम को बढ़ाता है।

हृदय और कार्डियोवैस्कुलर सिस्टम पर कैसे असर डालता है तनाव

करीब 20 साल पहले कोरोनरी रोग के रोगियों पर हुई स्टडी तनाव और इस्केमिक हृदय रोग (ischemic heart disease) के बीच नेगेटिव संबंध दिखाती थी। बाद में, कई दूसरी जांचों ने भी इसी बात की पुष्टि की। हालांकि, इनके बीच सम्बन्ध का सटीक रूप अभी भी अनिश्चित है।

कई हैपोथेसिस  मौजूद हैं कि कैसे इमोशनल स्ट्रेस तेज मायोकार्डियल इन्फ्रेक्शन (myocardial infarction) पैदा कर सकता है, जैसे कि ब्लडप्रेशर में बढ़ोतरी, हार्ट रेट, वैस्कुलर टोन और यहां तक ​​कि प्लेटलेट के इकट्ठे होने की क्षमता को भी। ये सभी न्यूरोट्रांसमीटर के रिलीज होने से जुड़े हैं।

हार्ट रेट में ज्यादा बढ़ोतरी और हाई ब्लड प्रेशर मायोकार्डियम से ऑक्सीजन की मांग को जन्म दे सकता है। कुछ मरीजों में जिनमें पहले से ही जोखिम ज्यादा हो उनमें दिल का तेज दौरा पड़ सकता है।

ये सभी फैक्टर ऑटोनोमस नर्वस सिस्टम में कुछ गड़बड़ियों को भी बताते हैं। क्योंकि यह वह न्यूरोनल हिस्सा है जो अनैच्छिक क्रियाओं जैसे श्वास या दिल की धड़कन के लिए जिम्मेदार होता है।

यदि व्यक्ति में रिस्क फैक्टर हैं, जैसे कि छोटी धमनियों में एथेरोस्क्लोरोटिक प्लेक (atherosclerotic plaques) की मौजूदगी, तो नर्वस सिस्टम से होने वाला डिस्चार्ज एक प्लेक एक्सीडेंट का कारण बन सकता है। यह वह स्थिति है जिसमें एथेरोमा (atheroma) टूट जाते हैं और ब्लड सर्कुलेशन में रुकावट डालते हैं, जिससे टिशू को ऑक्सीजन मिलना बंद हो सकता है।

यह स्पष्ट करना भी अहम है कि डेली लाइफ की तनावपूर्ण स्थिति लोगों में सिगरेट पीने की मात्रा कोा बढ़ा सकती है। इसी तरह कुछ लोगों में तनाव उनके भोजन में कमी का कारण बनता है, जिसके कारण खून में कोलेस्ट्रॉल बढ़ जाता है।

इसे भी पढ़ें : क्रोन्स रोग के इलाज के सिलसिले में आपको क्या मालूम होना चाहिए

हृदय को प्रभावित करने वाले स्ट्रेस के लक्षण

अपने व्यक्तित्व के कारण या उनके हालात के कारण कुछ लोगों को अन्यों के मुकाबले तनाव के संकेतों का खतरा ज्यादा होता है। उनके लिए ऐसे मेकेनिज़्म विकसित करना बहुत अहम होगा जो उन्हें अस्थिर करने वाले ट्रिगर का सामना करने की सहूलियत देते हैं।

दिल को प्रभावित करने वाले तनाव के क्लासिक लक्षणों में से एक है पैलपिटेशन (palpitation)। ये टैकीकार्डिया के साथ दिल की धड़कन की रेट हैं, जो छाती में धक-धक की तरह महसूस होता है।

सीने में दर्द भी समस्या का प्रकटन हो सकता है। हमेशा दिल के दौरे के साथ नहीं, बल्कि सुस्त और कपटपूर्ण दर्द की तरह, निरंतर उत्पीड़न की तरह जो तीव्र और शांत अवधि के बीच दोलन करता है।

यह भी देखें: हृदय रोगों के 7 सबसे आम लक्षण

दिल पर पड़ने वाले स्ट्रेस से लड़ने के टिप्स

तनावों और विभिन्न हृदय रोगों की बातचीत की मान्यता को रोकथाम रणनीतियों के विकास को प्रोत्साहित करना चाहिए। कुछ लोगों को उन स्थितियों के लिए खतरा बढ़ जाता है जो दिल का दौरा या स्ट्रोक का कारण बनेंगे।

हृदय संबंधी घटनाओं की रोकथाम संभव हो सकती है, यदि आहार और व्यायाम के साथ, व्यक्ति प्रभावी तनाव कम करने की तकनीक का भी अभ्यास करते हैं। गंभीर भावनात्मक समस्याओं के समय, लोग विश्राम रणनीतियों का उपयोग कर सकते हैं, उदाहरण के लिए। एक ही समय में, जितना संभव हो सके तनाव-ट्रिगर कारकों से बचना महत्वपूर्ण है।

सामान्य तौर पर, तनाव प्रबंधन कार्यक्रम का उद्देश्य रोगी पर प्रभाव को कम करना होगा। तनावों को पूरी तरह से समाप्त करना असंभव है, लेकिन उन्हें सीमित करना संभव है, जैसे कि उन्हें शामिल करना और उन्हें व्यक्तिगत सुधार के लिए उत्तेजनाओं में बदलना संभव है।

दिल पर पड़ने वाले स्ट्रेस से लड़ने के टिप्स

हृदय संबंधी जोखिमों को कम करने के लिए तनाव को प्रबंधित करना महत्वपूर्ण है।

डॉक्टर से कब सलाह लेनी चाहिए?

यह अनुमान लगाना असंभव है कि प्रत्येक व्यक्ति में हृदय पर कितना तनाव पड़ता है। इसके बावजूद, समस्यात्मक स्थितियों की पहचान, जैसे कि दु: ख, उदाहरण के लिए, हमें नकारात्मक परिणामों से बचने के लिए पेशेवर मदद लेने की आवश्यकता के बारे में सचेत करना चाहिए।

इसके अतिरिक्त, स्वस्थ आदतों को अपनाना महत्वपूर्ण है। उनमें से, एक स्वस्थ और संतुलित आहार, और धूम्रपान और अत्यधिक शराब से बचने के लिए। उसी समय, आपको नियमित रूप से शारीरिक गतिविधि का अभ्यास करना चाहिए, अधिमानतः एरोबिक। एक स्वस्थ नींद दिनचर्या एक और उपकरण है जो चिंता को कम करता है।

इसके अलावा, और जितना संभव हो, आपको उन स्थितियों से बचना या कम करना चाहिए जो आपको तनाव का कारण बनाते हैं। यह सब न केवल आपके दिल के स्वास्थ्य पर, बल्कि आपके समग्र स्वास्थ्य पर भी सकारात्मक प्रभाव डालेगा।

यह आपकी रुचि हो सकती है ...
8 वजहें : वाकिंग करना क्यों फायदेमंद है
स्वास्थ्य की ओरइसमें पढ़ें स्वास्थ्य की ओर
8 वजहें : वाकिंग करना क्यों फायदेमंद है

क्या आपको लगता है, एक्टिव लाइफस्टाइल बनाए रखने के लिए आपको जिम जाना होगा? वास्तव में ऐसा नहीं है! रोज वाकिंग करना बहुत फायदेमंद होता है।



  • Levenson J., Psychological factors affecting other medical conditions: Clinical features, assessment, and diagnosis, retrieved on 25 Sep 2020, Evidence-based Clinical Decision Support- UpToDate. https://www.uptodate.com/contents/psychological-factors-affecting-other-medical-conditions-clinical-features-assessment-and-diagnosis?search=stress%20psychological&source=search_result&selectedTitle=1~150&usage_type=default&display_rank=1
  • Krantz DS, Helmers KF, Bairey CN, Nebel LE, Hedges SM, Rozanski A. Cardiovascular reactivity and mental stress-induced myocardial ischemia in patients with coronary artery disease. Psychosom Med. 1991 Jan-Feb;53(1):1-12. doi: 10.1097/00006842-199101000-00001. PMID: 2011644.
  • Vieco Gómez, German Fernando. “Factores de riesgo psicosocial, estrés y enfermedad coronaria.” Psicología desde el Caribe 35.1 (2018): 49-59.
  • Kop WJ, Krantz DS, Howell RH, Ferguson MA, Papademetriou V, Lu D, Popma JJ, Quigley JF, Vernalis M, Gottdiener JS. Effects of mental stress on coronary epicardial vasomotion and flow velocity in coronary artery disease: relationship with hemodynamic stress responses. J Am Coll Cardiol. 2001 Apr;37(5):1359-66. doi: 10.1016/s0735-1097(01)01136-6. PMID: 11300447.
  • Toffer G., Psychosocial factors in acute myocardial infarction, retrieved on 25 Sep 2020, Evidence-based Clinical Decision Support- UpToDate. https://www.uptodate.com/contents/psychosocial-factors-in-acute-myocardial-infarction?search=stress%20psychological&source=search_result&selectedTitle=3~150&usage_type=default&display_rank=3
  • Estrés: el riesgo cardiovascular es mayor durante el primer año, extraído el 25 Septiembre 2020, de Sociedad Argentina de Cardiología. https://www.sac.org.ar/actualidad/estres-el-riesgo-cardiovascular/
  • Medina, Natalia Tobo, and Gladys Eugenia Canaval. “Las emociones y el estrés en personas con enfermedad coronaria.” Aquichan 10.1 (2010): 19-33.
  • Sánchez Segura, Miriam, et al. “Asociación entre el estrés y las enfermedades infecciosas, autoinmunes, neoplásicas y cardiovasculares.” Revista Cubana de Hematología, Inmunología y Hemoterapia 22.3 (2006): 0-0.
  • Brito Pons, Gonzalo. “Programa de reducción del estrés basado en la atención plena (mindfulness): sistematización de una experiencia de su aplicación en un hospital público semi-rural del sur de Chile.” Psicoperspectivas 10.1 (2011): 221-242.
  • García-Goméz, Ronald G., Patricio López-Jaramillo, and Carlos Tomaz. “Papel del sistema nervioso autónomo en la relación entre depresión y enfermedad cardiovascular.” Revista de neurología 44.4 (2007): 225-233.
  • El estrés provoca un incremento de la tensión arterial, importante factor de riesgo cardiovascular, extraído el 25 Septiembre 2020, de Sociedad Española de Cardiologia. https://secardiologia.es/185-clinica-extrahospitalaria/noticias/932-el-estres-provoca-un-incremento-de-la-tension-arterial-importante-factor-de-riesgo-cardiovascular