स्मोकिंग छोड़ना : हर स्टेज से कैसे निपटें

11 जून, 2020
नशे की रोकथाम के मामले में स्मोकिंग छोड़ना सबसे प्रासंगिक हेल्थ एक्शन है। यह वह पहला स्टेज है जो दर्शाता है कि धूम्रपान करने वाला व्यक्ति इसे छोड़ने की प्रक्रिया में है।
 

दुनिया भर में तंबाकू के उपयोग के रुझानों पर डब्ल्यूएचओ की ताजा रिपोर्ट के अनुसार 1.3 मिलियन से ज्यादा लोग स्मोकिंग के आदी हैं। इसलिए, धूम्रपान बंद करने का हेल्थ इंटरवेंशन निवारक उपायों का स्टैंडर्ड बन गया है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के आंकड़ों से पता चलता है कि, हर साल तम्बाकू के उपयोग से 8 मिलियन से ज्यादा लोग मर जाते हैं। यह आंकड़ा दुनिया भर में रोकी जाने योग्य मौत और बीमारी का प्रमुख कारण धूम्रपान को बनाता है। इस तरह धूम्रपान छोड़ने का स्वास्थ्य हस्तक्षेप महत्वपूर्ण है।

इस तरह के हस्तक्षेप को असरदार बनाने के लिए इसे तंबाकू पर भौतिक और मनोवैज्ञानिक निर्भरता से निपटने में सक्षम होना चाहिए, स्मोकिंग से जुड़े ऑटोमेटिज्म को तोड़ने में भी। ऐसा करने के लिए हर स्मोकर के स्मोकिंग छोड़ने की प्रक्रिया के पहले स्टेज को पहचानना है।

स्मोकिंग छोड़ना : अलग-अलग स्टेज

स्मोकिंग छोड़ना : अलग-अलग स्टेज

जब हम धूम्रपान बंद करने की बात करते हैं, तो हमें आवश्यक रूप से व्यवहार परिवर्तन के ट्रांसथियोरिटिकल मॉडल पर अमल करते हैं. यह मनोवैज्ञानिक प्रोचास्का और डिक्लेमेंट द्वारा 1977 में बनाया गया मॉडल है। इसका उद्देश्य विशिष्ट व्यवहार के बारे में परिवर्तन की प्रक्रिया को समझना और बढ़ावा देने था।

इसमें बहुत विशिष्ट विशेषताओं वाले छह चरण होते हैं, यह ध्यान में रखते हुए कि किसी एक व्यक्ति को उन सभी के माध्यम से नहीं गुजरना है। साथ ही, रिलैप्स को भी ध्यान में रखा जाता है, असफलता के रूप में नहीं बल्कि एक नए प्रयास में सफलता की संभावना को बढ़ाने के मौके के रूप में ।

ज्यादातर मामलों में मॉडल के प्रत्येक चरण से कई बार गुजर लेने के बाद अंतिम बदलाव आता है।

इस संबंध में, हेल्थ प्रोफेशनल का मिशन धूम्रपान करने वाले के विशेष परिवर्तन के स्टेज की पहचान करना और इस प्रक्रिया के भीतर व्यक्ति की प्रोग्रेस को उकसावा देने के लिए इन्टरवेंशन को एडजस्ट करना होगा। फिर वे धूम्रपान बंद करने के हर स्टेज में गहराई से उतरते हैं।

 

यहां और जानें: 4 विटामिन जो स्मोकिंग के बाद आपके फेफड़ों को स्वस्थ करने में आपकी मदद करते हैं

विचारपूर्व अवस्था (Precontemplation stage)

इस स्टेज में भले ही व्यक्ति यह जानता हो कि स्मोकिंग कोई स्वस्थ आदत नहीं है, फिर भी उसे उस समस्या के बारे में पता नहीं है जो इससे होती है। इसलिए वे धूम्रपान छोड़ने की ज़रूरत की पहचान नहीं करते। आम तौर पर जो लोग इस स्टेज  में होते हैं, वे किसी दूसरी वजह से कंसल्टेशन के लिए जाते हैं। हो सकता है वे इसलिए भी गए हैं क्योंकि उन पर उनके परिवार ने दबाव डाला था।

इस बिंदु पर हेल्थ प्रोफेशनल का लक्ष्य रोगी को समस्या से वाकिफ कराना और इसे छोड़ने के महत्व को समझना होगा। ऐसा करने के लिए यह आकलन करना उचित होगा कि वे तंबाकू के रिस्क के बारे में कितना जानते हैं। उनके अनुसार उन्हें अवगत कराना और उन फायदों की जानकारी देना होगा वे इसे छोड़ देने पर वे महसूस करेंगे।

विचारात्मक अवस्था (Contemplation stage)

इस अवस्था में रोगी को पता चल जाता है कि उसे कोई समस्या है और धूम्रपान छोड़ने की ज़रूरत है। हालाँकि ऐसा लगता है कि वे इसे छह महीने से कम समय में छोड़ देना चाहते हैं, लेकिन इसे लेकर उनमें मिश्रित भावनाएँ हैं या फिर उन्हें यह नहीं पता कि इस लक्ष्य को कैसे हासिल किया जाए। दूसरे शब्दों में, वे समस्या के बारे में जानते हैं, पर उन्हें इसे ठीक कर पाने की अपनी क्षमता पर शक है।

इस बिंदु पर धूम्रपान करने वाले को धूम्रपान बंद कराने की प्रक्रिया में आगे बढ़ने के लिए हेल्थ प्रोफेशनल को उन्हें अपने संदेहों से निपटने में मदद करनी होगी। ऐसा करने के लिए निम्नलिखित पहलुओं का विश्लेषण करना और उनके बारे में बातें करना ज़रूरी है:

  • स्मोकिंग छोड़ने का महत्व
  • इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए धूम्रपान करने वाले के भीतर मौजूद आत्मविश्वास। इस स्टेज में रोगी को उनकी दूसरी उपलब्धियों को याद कराकर उनके आत्म-विश्प्रवास को बढ़ाना ज़रूरी है।
  • तंबाकू के उपयोग से जुड़े जोखिम और वह कारण जिसके लिए व्यक्ति धूम्रपान जारी रखना चाहता है
  • छोड़ने के लाभ और इस लक्ष्य को हासिल करने में आने वाली मुश्किलें

स्मोकिंग छोड़ना : तैयारी का स्टेज

स्मोकिंग छोड़ना : तैयारी का स्टेज
 

तैयारी का चरण तब शुरू होता है जब व्यक्ति ने मजबूत फैसला लिया है कि उसे धूम्रपान छोड़ना है। व्यक्ति आश्वस्त है कि वह इसे छोड़ना चाहता है और एक महीने से भी कम समय में एक गंभीर कोशिश करने को तैयार है। इस समय प्रोफेशनल को यह करना चाहिए:

  • रोगी को बधाई दें और इस बात पर जोर डालें कि धूम्रपान छोड़ना उनका सबसे अच्छा निर्णय है जो उन्होंने अपनी सेहत और अपने आसपास के लोगों के स्वास्थ्य के लिए किया है।
  • ऐसी तारीख का चुनाव करें जब मरीज अब धूम्रपान (“D-Day”) नहीं करेगा। अगर रोगी ने धीरे-धीरे घटाने का विकल्प चुना है तो उसे इसे पहले ही शुरू कर देना चाहिए जिससे “डी-डे” पर पूरी तरह से स्मोकिंग छोड़ सके।
  • रोगी को अपने सभी दोस्तों और परिवार को अपने निर्णय के बारे में बताने के लिए प्रोत्साहित करें। जितना ज्यादा लोग जानते हैं, उतना अच्छा रहेगा।
  • संभावित कठिनाइयों (क्रेविंग, चिड़चिड़ापन, चिंता, घबराहट, थकान, नींद पैटर्न में बदलाव, भूख, कब्ज, सिरदर्द, ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई और सामाजिक वातावरण के नकारात्मक प्रभाव) की जानकारी दें और उपयोगी नुस्खों के बारे में बात करें।
इस स्टेज में प्राथमिकता होगी रोगी को धूम्रपान छोड़ने के लिए तैयार करना। यहां उन्हें प्रक्रिया पर सकारात्मक रूप से विचार करना आवश्यक है। साथ ही उन्हें यह समझने की ज़रूरत है कि वे धूम्रपान छोड़ सकते हैं क्योंकि उनके पास किसी भी स्थिति का कामयाबी से सामना करने के लिए ज़रूरी स्ट्रेट्जी है।

स्मोकिंग बंद करने का एक्शन स्टेज

इस बिंदु पर, रोगी ने पहले ही धूम्रपान बंद कर दिया है और अब उनका मुख्य लक्ष्य रिलैप्स से बचना है। ऐसा करने के लिए हेल्थ पेशेवर को उन कठिनाइयों का आकलन करना चाहिए जिसका सामना रोगी कर रहा है और उन रणनीतियों को अपनाएँ जो उन्हें प्रभावी ढंग से कम करने के लिए उपयोगी होंगे।

इसके अलावा, यह याद रखना अहम होगा कि सातवें दिन से ‘विथड्रॉल सिंड्रोम’ गायब होने लगता है। छोड़ने के बाद दसवें दिन के आसपास दिखाई देने वाले खालीपन की भावना के बारे में डॉक्टर बात करेंगे और छोड़ने के बाद वाले दिन और 15 दिन के बीच उभरने वाली असुरक्षा की झूठी भावना की चेतावनी देंगे।

इसे भी पढ़ें : इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट कितने सुरक्षित हैं

प्रयास जारी रखना : तंबाकू मुक्त छह महीने

 

इसके बाद का चरण तब शुरू होता है जब व्यक्ति ने छह महीने तक धूम्रपान नहीं किया है। हालाँकि, उन्हें तब तक धूम्रपान न करने वाला नहीं माना जाता, जब तक कि वे 12 महीने तक टोबैको फ्री न हो जाएँ। इस स्टेज में हेल्थ प्रोफेशनल को संभावित कठिनाइयों का पुनर्मूल्यांकन करना चाहिए और उनका सामना करने के लिए स्ट्रेट्जी को एडजस्ट करना चाहिए।

रोगी को यह याद रखने में मदद करना उपयोगी हो सकता है कि उन्होंने धूम्रपान क्यों छोड़ा है। साथ ही, उन्हें उन फायदों की समीक्षा करनी चाहिए जो पहले से ही दिखाई दे रहे हैं और जो अभी होने वाले हैं। इसी तरह, रोगी को तम्बाकू के उपयोग से जुड़े नुकसान को याद रखने में मदद करना ज़रूरी हो सकता है।

स्मोकिंग बंद करना: रिलैप्स

स्मोकिंग छोड़ने के बाद अगर रोगी ने फिर से धूम्रपान किया है तो रिलैप्स की बात होती है। इस बिंदु पर, यह अहम है कि हेल्थ पेशेवर सहानुभूति जताए, सहायता दे, किसी भी दंडात्मक व्यवहार से दूर रहे और रोगी को समझाए कि रिलैप्सिंग दरअसल सीखने और फिर से प्रयास करने का एक मौका  है।