6 नेचुरल सॉल्यूशन : इन्हें आजमाकर गर्दन की दर्द को अलविदा कहिये

गर्दन की दर्द से राहत देने में स्ट्रेचिंग और विशिष्ट अंगों वाले व्यायाम बहुत असरदार हो सकते हैं। फिर भी, इस मामले में ज्यादा जोर-आजमाइश न करें वरना आप अपनी तकलीफ बढ़ा लेंगे। गर्दन के दर्द को खत्म करने में मददगार 6 बेहतरीन नेचुरल सॉल्यूशन के बारे में यहाँ जान लीजिये।
6 नेचुरल सॉल्यूशन : इन्हें आजमाकर गर्दन की दर्द को अलविदा कहिये

आखिरी अपडेट: 14 जनवरी, 2019

गर्दन की दर्द एक आम समस्या है। यह गर्दन की मांसपेशियों के अकड़ने से पैदा होती है। इस कारण सिर को हिलाना मुश्किल हो जाता है।

ज्यादातर मामले अक्सर गलत पॉस्चर में सोने या गलत पॉस्चर बनाए रखने का नतीजा होते हैं। हालांकि रूमेटाइड आर्थराइटिस (rheumatoid arthritis) जैसी पुरानी बीमारियों या किसी चोट से भी यह हो सकता है।

गर्दन की दर्द से पीड़ित व्यक्ति कई दिनों के लिए बिस्तर पर भी गिर सकता है क्योंकि मांसपेशियों की यह संकुचन लंबे समय तक रहती है और गर्दन की दर्द अक्सर सिरदर्द और हिलने-डुलने में तकलीफ से जुड़ी रहती है।

यह बहुत गंभीर स्थिति नहीं है और आसानी से इसका इलाज किया जा सकता है। इसमें नेचुरल समाधान भी हैं जिनसे बहुत कम समय में आपको राहत मिल सकती है।

आप किसी भी सुबह गर्दन के दर्द के साथ जाग सकते हैं। इसलिए हम यहाँ 6 शानदार नुस्खों की जानकारी शेयर करना चाहते हैं। अगली बार अगर यह दर्द उभरे तो इन्हें ज़रूर आजमायें।

1. लैवेंडर एसेंशियल ऑयल (Lavender essential oil)

गर्दन की दर्द : लैवेंडर एसेंशियल ऑयल

लैवेंडर के एसेंशियल ऑयल में सुखद ज्वलनरोधी (anti-inflammatory) गुण होते हैं। यह गर्दन की अकड़न और दर्द में राहत दे सकता है।

इसकी आरामदायक खुशबू मांसपेशियों को आराम देते हुए इस स्थिति से जुड़े तनाव को कम करती है।

मुझे क्या करना चाहिए?

  • अपनी हथेलियों पर थोड़ा सा लैवेंडर एसेंशियल ऑयल रखें, उन्हें एकसाथ रगड़ें, और धीरे-धीरे अपनी गर्दन की मालिश करें।
  • 5 से 8 मिनट तक हल्के हिलाए-डुलायें और ज़रूरी लगे तो दिन में दो बार दोहराएं

2. एक्सरसाइज और स्ट्रेचिंग (Exercises and stretching)

गर्दन की अकड़न और दर्द में राहत पाने का एक शानदार तरीका अपनी मांसपेशियों की स्ट्रेचिंग और एक्सरसाइज है।

यह मांसपेशियों को अपने सक्रिया हाल में दोबारा बहाल करता है और ज्यादा दबाव और थकान के असर को कम करता है

मुझे क्या करना चाहिए?

  • अपनी गर्दन के लिए स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज में थोड़ा समय में:
  • अपने शोल्डर ब्लेड को सर्किल में घुमाएं।
  • अपनी गर्दन को आगे और पीछे तानें और फिर गोलाकार घुमाएं।
  • अपनी पेक्टोरल मांसपेशियों को स्ट्रेच करें।
  • कंधे की मांसपेशियों को मजबूती दें।
  • आइसोमेट्रिक व्यायाम करें।

3. संतरे के छिलके का टी कंप्रेस

गर्दन की दर्द : संतरे के छिलके

संतरे के छिलके की यह चाय आरामदायक और सूजनरोधी है। यह गर्दन में तनाव और दबाव का इलाज करने में मदद करती है।

इसे गर्म सिंकाई के लिए इस्तेमाल करने से दर्द में राहत मिलती है और मांसपेशियों की सिकुड़न का उपचार होता है, जो इस समस्या का कारण है।

मुझे क्या करना चाहिए?

  • संतरे के कुछ छिलकों को पानी में उबालें। एक बार अच्छी चाय बन जाने पर किसी साफ कपड़े को इसमें भिगोएँ।
  • यह देख लें कि इसका तापमान आपकी त्वचा के लिए सहने योग्य हो। फिर इसे इसे प्रभावित क्षेत्र में लगाएं।
  • इसे दिन में दो या तीन बार दोहराएं।

4. गुलमेंहदी का तेल (Rosemary oil)

रोजमेरी ऑयल में सूजन-रोधी और दर्द निवारक शक्तियाँ हैं। इसलिए इसके अवशोषित होने पर यह गर्दन की दर्द और मांसपेशियों को आराम देती हैं।

इससे मालिश करने पर खून के परिवहन में सुधार आता है, और आपको कुछ ही मिनटों में आराम दिखेगा।

मुझे क्या करना चाहिए?

  • थोड़ी रोज़मेरी तेल लें और नरमी से गोलाकार घुमाते हुए अपनी गर्दन और कंधों पर रगड़ें।
  • ज्यादा दबाव न डालें, क्योंकि यह वास्तव में आपकी स्थिति को बदतर बना सकता है।
  • दिन में दो बार इस मालिश को दोहराएं।

5. अर्निका (Arnica)

गर्दन की दर्द : अर्निका

अर्निका मांसपेशियों को आराम देने वाली एक शक्तिशाली दवा है जो बाहर से लगाने पर गर्दन के दर्द में आराम ला सकती है।

एक बार अवशोषित होने के बाद, यह सूजन को कम करती है। इसके साथ ही यह ब्लड सर्कुलेशन में सुधार लाते हुए प्रभावित मांसपेशियों के ऑक्सीकरण में भी तेजी लाती है।

मुझे क्या करना चाहिए?

  • एक कप गर्म पानी में अर्निका की कुछ बूंदें मिलाएं। फिर एक सूती कपड़े से तुरंत एक सेंक के रूप में इस्तेमाल करें
  • 10 मिनट बाद, आराम करें और दिन में दो बार इस ट्रीटमेंट को आजमायें।

6. ठंडी सिंकाई (Cold Compresses)

सीधे-सीधे ठंडी सिंकाई करने से सूजन में कमी आती है और प्रभावित अंग में रक्त का परिवहन तेज होता है

मुझे क्या करना चाहिए?

  • बर्फ के टुकड़ों को तोड़ लें, और कम्प्रेस बनाने के लिए किसी साफ कपड़े या प्लास्टिक बैग मवन में लपेटें।
  • दर्द वाले भाग पर इसे रखें और 5 से 10 मिनट तक वहीं रहने दें, जब तक कि सूजन कम न हो जाए।
  • इसके बाद ट्रीटमेंट के राहतकारी असर को बढ़ाने के लिए वहाँ एक गर्म कपड़ा लपेटें।
  • आराम करें और दिन में दो बार इसे दोहराएं।

इन प्राकृतिक उपायों को आजमाने के लिए क्या आप तैयार हैं? अगर गर्दन में दर्द आपको तंग कीय हुए है, तो जल्दी राहत के लिए ऊपर दिए गए उपायों में से किसी एक को आजमायें।

यह आपकी रुचि हो सकती है ...
सर्विकोब्रैकियल सिंड्रोम: दर्द आपकी गर्दन से होकर बाजुओं तक जाता है
स्वास्थ्य की ओरइसमें पढ़ें स्वास्थ्य की ओर
सर्विकोब्रैकियल सिंड्रोम: दर्द आपकी गर्दन से होकर बाजुओं तक जाता है

हम इस नाम से थोड़ा असमंजस में पड़ सकते हैं, लेकिन सर्विकोब्रैकियल सिंड्रोम (Cervicobrachial syndrome) हमारी सोच से कहीं ज्यादा आम है।



  • Gura, S. T. (2002). Yoga for stress reduction and injury prevention at work. A Journal of Prevention, Assessment and Rehabilitation – Volume 19, Number 1/2002 – IOS Press.
  • Rubinstein, S. M., Pool, J. J. M., Van Tulder, M. W., Riphagen, I. I., & De Vet, H. C. W. (2007). A systematic review of the diagnostic accuracy of provocative tests of the neck for diagnosing cervical radiculopathy. European Spine Journal. https://doi.org/10.1007/s00586-006-0225-6
  • Bryans, R., Descarreaux, M., Duranleau, M., Marcoux, H., Potter, B., Ruegg, R., … White, E. (2011). Evidence-based guidelines for the chiropractic treatment of adults with headache. Journal of Manipulative and Physiological Therapeutics. https://doi.org/10.1016/j.jmpt.2011.04.008