3 घरेलू इलाज जो रोक सकते हैं बालों का झड़ना

अक्टूबर 3, 2019
बहुत से लोग बाल झड़ने की समस्या झेलते हैं। पर क्या आप घरेलू इलाज से बाल झड़ने की समस्या को रोक सकते हैं? हम आपको तीन विकल्प दिखाएंगे। शायद ये आपको पसंद आएं।

बालों का झड़ना रोकने का तरीका ढूंढना एक आम चिंता है, खासकर जब उम्र बढ़ती है। ज्यादा तनाव बालों की मात्रा, उनकी डेंसिटी और चमक की नाटकीय क्षति का कारण बन सकता है।

कई बार बालों का झड़ना गलत प्रोडक्ट के उपयोग और दुरुपयोग से जुड़ा होता है जो आपके बालों के फाइबर को नुकसान पहुंचाते हैं। उदाहरण के लिए हर दिन अस्वास्थ्यकर तत्वों वाले स्ट्रेटनर या शैंपू का इस्तेमाल करना आपके बालों के लिए अच्छा नहीं है।

हालांकि शरद ऋतु की तरह साल में कुछ समय ऐसे होते हैं जब लोग ज्यादा हेयर फॉलिकल खोते हैं। फिर भी अगर यह लगातार हो तो यह जानना अहम है कि कौन से इलाज बालों का झड़ना असरदार ढंग से रोक सकते हैं।

बालों को झड़ने से रोकने के घरेलू इलाज

आपने ऐसे प्रोडक्ट का सहारा लिया होगा जो आपके बालों को ठीक करने का वादा करते हैं और आपको कामयाबी नहीं मिली। उनमें कोई भी अच्छी तरह काम नहीं करता है। इसलिए शायद अब घरेलू इलाज आजमाने का वक्त है। वे प्राकृतिक हैं, आपकी स्कैल्प के लिए खतरनाक नहीं हैं।

1. बालों का झड़ना रोकने के लिए मेंहदी (रोज़मेरी)

बालों का झड़ना रोकने के लिए मेंहदी

एथनोबोटानिकल स्टडी ऑफ़ मेडिसिनल प्लांट के अनुसार रोज़मेरी का पौधा बालों का झड़ना रोकने में मदद कर सकता है क्योंकि यह आपके स्कैल्प में ब्लड सर्कुलेशन को उत्तेजित करता है

बालों का गिरना रोकने के लिए आप नीचे बताये गए स्टेप पर अमल कर सकते हैं:

  • एक सॉसपेन में पानी में कुछ रोज़मेरी की पत्तियाँ डालकर चाय बनाएं।
  • चाय तैयार होने के बाद पानी जब तक गर्म है इसे छोड़ दें।
  • फिर रोज़मेरी को छान लें और इसे अपनी स्कैल्प पर मालिश करके टॉनिक की तरह लगाएं।
  • अंत में अपने बालों को धो लें। इसके अलावा परिणाम देखने के लिए हफ़्ते में कम से कम एक बार ऐसा करना अहम है।

इसमें आपकी दिलचस्पी हो सकती है: रोज़मेरी के इन 5 नुस्खों के साथ पायें सुंदर बाल

2. नेटल

हैबिटैट एंड ट्रेडिशनल यूेजेस ऑफ़ स्पीशीज युट्रिसिया 1 नाम की स्टडी की मानें तो नेटल बालों का झड़ना रोकने का एक उम्दा विकल्प है। इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो बालों को झड़ने से रोक सकते हैं।

कभी-कभी स्ट्रेस के कारण आपके स्कैल्प में सेबोरिक डर्मेटाइटिस (seborrheic dermatitis) हो सकती है। यह सूजन, खुजली और बालों के झड़ने ला कारण बनता है। इन मामलों में नेटल एक उम्दा विकल्प हो सकता है।

आइए देखें कि आप इसका इस्तेमाल कैसे कर सकते हैं:

  • सबसे पहले नेटल टी बनायें।
  • इसे कुछ देर ठंडा होने के लिए छोड़ देने के बाद नेटल को छान लें और इसे अपने स्कैल्प पर लगाएं।
  • फिर धीरे से मालिश करें और इसे कुछ देर छोड़ दें।
  • आप इस नुस्ख़े को हफ़्ते दो बार लगा सकती हैं।

नोट: नेटल की पत्तियों को पकड़ते हुए सावधान रहें। उनमें छोटे-छोटे बाल होते हैं जो हीव्स का कारण बन सकते हैं। उन्हें पानी में गर्म कर लेने पर इसका यह असर गायब हो जाता है।

इसे भी पढ़ें : बिना आयरन लिए आयरन की कमी से होने वाले एनीमिया से लड़ें

3. बालों का झड़ना रोकने के लिए एलोवेरा

एलोवेरा बालों के झड़ने को रोकने में मदद करने वाले आख़िरी नुस्खों में से एक है। यह आपके स्कैल्प को मॉइस्चराइज़ करता है, क्षतिग्रस्त बालों को दुरुस्त करता है, और हेयर फाइबर को मजबूत करता है। बेशक घर पर हमेशा एलोवेरा पौधे का होना ज़रूरी है क्योंकि आप इनका उपयोग कई अलग-अलग तरीकों से कर सकते हैं।

इस मामले में हम इसे इस तरह से इस्तेमाल करने की सलाह देते हैं:

  • एलोवेरा के पौधे से एक पत्ता काट लें।
  • फिर इसे आधे  से फाड़ लें इसके भीतर मौजूद जेल को स्कैल्प पर रगड़ें।
  • अंत में, इसे अपने स्कैल्प पर मालिश करें।
  • आप इसे हफ़्ते में एक बार आजमा सकते हैं।

अगर आप इस तरह से एलोवेरा नहीं लगाना चाहते हैं, तो जेल को चम्मच में निकाल कर कंटेनर में डालें और मिलायें। फिर ध्यान से इसे अपने स्कैल्प पर लगाएं।

बालों का झड़ना रोकने के लिए टिप्स

हालाँकि ये घरेलू इलाज बालों का झड़ना रोकने में मदद कर सकते हैं, पर आपको डॉक्टर के पास जाना ज़रूरी है। अगर आपको सेबोरिक डर्मेटाइटिस या एलोपेसिया है, तो आपका डॉक्टर आपकी विशेष समस्या के लिए सबसे अच्छा इलाज पाने में आपकी मदद करेगा

अपने डॉक्टर से इलाज कराने के अलावा आप उन नुस्खों का इस्तेमाल कर सकते हैं जो हमने आपको बताये हैं। हालाँकि अपने डॉक्टर की सलाह को प्राथमिकता देना ज़रूरी है। घरेलू इलाज के नतीजे बहुत धीरे-धीरे दिखाई दे सकते हैं। इसलिए इनका इस्तेमाल करते वक्त रेशनल होना बहुत अहम है

क्या आप बालों के झड़ने से पीड़ित हैं?

हमें उम्मीद है, इस आर्टिकल ने आपकी मदद की है और आपको कुछ नेचुरल विकल्प दिए हैं जिनका उपयोग आप अपने डॉक्टर से इलाज कराने के साथ-साथ कर सकते हैं।

  • Alejandro, M., Alberto, M., Gama Campillo, L. M., & Mariaca Méndez, R. (2010). El uso de las plantas medicinales en las comunidades Maya-Chontales de Nacajuca, Tabasco, México. Polibotánica, (29), 213-262.
  • Avila-Sosa, R., Navarro-Cruz, A. R., Vera-López, O., Dávila-Márquez, R. M., Melgoza-Palma, N., & Meza-Pluma, R. (2011). Romero (Rosmarinus officinalis L.): una revisión de sus usos no culinarios. Ciencia y mar, 15(43), 23-36.
  • García Bacallao, Lourdes, Rojo Domínguez, Delia Mercedes, García Gómez, Luis Vicente, & Hernández Ángel, Maureen. (2002). Plantas con propiedades antiinflamatorias. Revista Cubana de Investigaciones Biomédicas, 21(3), 214-216. Recuperado en 24 de abril de 2019, de http://scielo.sld.cu/scielo.php?script=sci_arttext&pid=S0864-03002002000300012&lng=es&tlng=es.
  • López Pupo, Natacha, Tablada Robinet, María Elena, Jacas García, Caridad, Jacas Portuondo, Ana Lucía, & Solano Pérez, Marhyan. (2018). Terapias tradicional y natural combinadas en pacientes con alopecia areata. MEDISAN, 22(6), 416-423. Recuperado en 24 de abril de 2019, de http://scielo.sld.cu/scielo.php?script=sci_arttext&pid=S1029-30192018000600005&lng=es&tlng=es.
  • Romeu, C. R., Botta Ferret, E., & Díaz Finalé, Y. (2007). Caracterización fitoquímica del aceite esencial de romero (Rosmarinus officinalis L.) y evaluación in vitro de su actividad acaricida. Fitosanidad, 11(2).