समय के साथ हमें अहसास होता है, थोड़ा ही पर्याप्त है

आम धारणा के विपरीत, यह ज़रूरी नहीं है कि समय हमें ज्ञान और परिपक्वता या मेच्योरिटी दे।
समय के साथ हमें अहसास होता है, थोड़ा ही पर्याप्त है

आखिरी अपडेट: 08 दिसम्बर, 2018

मेच्योर होने का मतलब, सबसे पहले, आपने जो कुछ भी किया है और अपने जीवन में अनुभव किया है उसके बारे में जागरूक होना है ताकि आप उससे सीख सकें। समय के साथ लोग सीखते हैं कि थोड़ा ही काफी है।

यह एक ऐसा काम है जो एक विनम्र व्यक्ति करता है क्योंकि वह बिना किसी पछतावे के अपनी हर गलती को मानता है।

क्योंकि जीवन में चीजों को संतुलित करने के लिए सब कुछ किसी कारण से होता है।

इसके अलावा, बहुत से लोग हैं जो एक बहुत अहम बात को समझने लगे हैं: हमें अपने पास चीजों के होने, भौतिक सामान को जमा करने या सफलता पाने से खुशी नहीं मिलती है।

खुशी प्यार करने और प्यार किये जाने जैसी सरल चीज है। इस तरह की चीज को एक बहुत सीमित ग्रुप के साथ करना उचित लगता है।

यह स्वार्थी होने से बहुत दूर है। दरअसल, हमें इसे भावनात्मक स्वास्थ्य के हिस्से के रूप में देखना चाहिए। केवल कुछ लोगों को अपना प्यार देना हमें निराश होने और झूठे भ्रम से बचायेगा। यह हमें वह व्यक्तिगत संतुलन देगा जो हम सब चाहते हैं।

इस पोस्ट में हम इस विषय के बारे में बात करेंगे।

समय के साथ आप सीखते और जानते हैं

हमारी किशोरावस्था या जवानी के शुरू के दिनों में चीजें और लोग सभी नाप और आकार में हमारे पास आते हैं, और हम इन सब को स्वीकार करते हैं।

  • हम चीजों को अनुभव करना चाहते हैं, हंसना, प्यार करना, पता करना और महसूस करना चाहते हैं। सीमाएं निर्धारित करने और बैरियर खड़े करने का अर्थ अक्सर स्वीकार नहीं किया जाना और ग्रुप में शामिल होने का अवसर खो देना होता है।
  • प्यार एक तूफान के जोश के साथ आता है। हम खुद को किसी ऐसे व्यक्ति की ज़रूरत के साथ बह जाने देते हैं जो प्यार और प्यार किये जाने को महसूस करने के लिए उत्सुक है। दोस्ती के बारे में भी यही सच है।

लेकिन समय के साथ हम अपनी उस आंतरिक दृष्टि को खोलते हैं जो ज्यादा साफ तरीके से, सूझ-बुझ और ज्ञान के साथ हमें घेरने वाली चीजों को देख सकती है।

अपना एक बढ़ता हुआ सोशल ग्रुप होने से आपको खुशी नहीं मिलती है

हम कई तरीकों से अकेलेपन को कम कर सकते हैं, लेकिन दोस्तों को जमा करना सबसे अच्छा तरीका नहीं है। ऐसा करने का मतलब है, सबसे पहले, लोगों को अपने जीवन में लाना जो हमेशा ईमानदार या हमारी पहचान के साथ संगत नहीं होंगे।

  • अकेलापन एक तरह का व्यक्तिगत खालीपन है जिसे हमें भरना चाहिए जैसे-जैसे हम मेच्योर होते हैं, ताकि दूसरों के साथ ज्यादा पूर्ण और प्रामाणिक संबंध स्थापित कर सकें।
  • समय के साथ हम कई दोस्तों को खो देते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि समय बुद्धिमान है और हमें बताता है कि हमारे लिए कौन सही है और कौन नहीं है।
  • केवल तभी हम महसूस करते हैं कि प्रामाणिकता और ईमानदारी से प्यार ही हमारी आत्मा और हमारे दिल को समृद्ध कर सकता है।
  • सम्मान, आपस में आदान-प्रदान या सहभागिता जैसे मूल्य, जो तब होते हैं जब हम दूसरे व्यक्ति की ज़रूरत को समझते हैं, मिलना आसान नहीं है।
  • एक बार जब हमें सच्चे दोस्त या पार्टनर मिल जाते हैं जिनके साथ हमारा पूरी तरह से तालमेल होता है, हम उन्हें जाने नहीं देते हैं क्योंकि वे हमारे अस्तित्व को उजागर करते हैं।

हमारे व्यक्तिगत संबंधों में थोड़ा ही काफी है

बहिर्मुख लोग जिन्हें सामाजिक उत्तेजना की ज़रूरत होती है, लोगों के बड़े ग्रुप में चलते रहने वाले इंटरैक्शन को पसंद करते हैं जहां वे अपने आस-पास के लोगों के साथ बात करते और हंसते हैं।

  • इन लोगों को जितना ज्यादा इंटरैक्ट करने को मिलता है वे उतने ज्यादा खुश होते हैं। उनके पास जितने ज्यादा दोस्त होते हैं, उन्हें बाहर जाने के, मस्ती करने के और नई परियोजनाएं शुरू करने के उतने ज्यादा मौके मिलते हैं।
  • लेकिन समय के साथ इस तरह के व्यक्तियों को भी पता चलता है कि दोस्ती का आनंद लेने के लिए अपने आस-पास एक छोटी संख्या में लोगों को रखना हमेशा बेहतर होता है।
  • यह संबंध तोड़ने, कुछ लोगों, पार्टनर और परिवार से दूर रहने के बारे में नहीं है। इसके बजाय, यह असल में कुछ लोगों से सम्मानपूर्वक अपने आप को दूर करके उस असहज बंधन को मजबूत न करने का सवाल है।

इसके अलावा जैसे-जैसे समय बीतता है, हमें इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि दूसरे लोग हमारे बारे में क्या सोचते हैं। हम जानते हैं कि “थोड़ा ही काफी होता है” और अगर छोटी चीजें हमें बहुत खुशी देती हैं तो हमें किसी और चीज की ज़रूरत नहीं है।

मैं कम को स्वीकार करता हूं क्योंकि मुझे पता है कि यह सबसे अच्छा है

यदि आपके दो दोस्त हैं, और यदि वे ईमानदार, अच्छे और सच्चे हैं तो आपको किसी और चीज की ज़रूरत नहीं है: वे एक खजाना हैं।

इसी तरह, यदि आपके पास एक पार्टनर है जिसके साथ आपका अच्छा तालमेल है, जिसके साथ आप बढ़ सकते हैं, और उसके साथ आपको लगता है कि आप जो हैं वैसे रह सकते हैं और हर पल का आनंद ले सकते हैं तो आपके पास सब कुछ है।

  • अपने पार्टनर, दोस्तों और अपने परिवार के कुछ सदस्यों जैसे लोगों को शामिल करने के लिए अपने सर्कल को छोटा बनाना एक ऐसा काम नहीं है जिसकी हम आलोचना कर सकते हैं।

क्योंकि एक व्यक्ति जो जानता है कि उसके पास क्या है, उसकी कदर और ख्याल करता है, को दोस्तों और परिवार के एक छोटे से सर्कल से ज्यादा कुछ नहीं चाहिए।

  • लेकिन यह एक ऐसी चीज है जिसे हर कोई नहीं देख सकता है। कभी-कभी, आपके जीवन में जो सबसे सुंदर चीज है वह आपके बहुत करीब होती है।

विनम्र रहें ताकि आप जान सकें कि सच्ची खुशी कहां है।

यह आपकी रुचि हो सकती है ...
आपको अपने लिए वक्त चाहिये: इसे साबित करते हैं ये 5 मनोवैज्ञानिक पहलू
स्वास्थ्य की ओरइसमें पढ़ें स्वास्थ्य की ओर
आपको अपने लिए वक्त चाहिये: इसे साबित करते हैं ये 5 मनोवैज्ञानिक पहलू

आपको अपने लिए वक्त चाहिये। लेकिन आप हमेशा अपना लगभग पूरा समय अपने आस-पास के लोगों पर खर्च कर देते हैं। या फिर, उसे ऐसे हालात से निपटने में बर्बाद कर देते हैं जो केवल थकान और एंग्जायटी बढ़ाते हैं।



  • Poulin F, Kiesner J, Pedersen S, Dishion TJ. A short-term longitudinal analysis of friendship selection on early adolescent substance use. J Adolesc. 2011;
  • Felmlee D, Muraco A. Gender and friendship norms among older adults. Res Aging. 2009;
  • Fuller-Iglesias HR, Webster NJ, Antonucci TC. Adult Family Relationships in the Context of Friendship. Res Hum Dev. 2013;