दमित भावनाएं शरीर पर खतरनाक असर डाल सकती हैं

07 नवम्बर, 2018
अगर आपको अपने शरीर के किसी खास स्थान पर दर्द का अनुभव हो रहा है, तो पहले आश्वस्त हो लें कि अपनी भावनाओं की आपने ठीक तरह से जांच-परख कर ली है और शारीरिक असुविधा को कम करने के लिए आप उनसे निपट रहे हैं। इसकी वजह यह है कि मनोवैज्ञानिक समस्याएं और दमित भावनाएं हमारे शरीर में ख़ास शारीरिक लक्षण पैदा कर सकती हैं।

हमारी सभी दमित भावनाएं शरीर में इकट्ठी होती हैं और इससे शारीरिक बीमारियां पैदा हो सकती हैं। हाँ, आप सही पढ़ रहे हैं।

“हम जिन्हें शब्दों में बयान नहीं कर सकते हैं वे शारीरिक तकलीफ के रूप में सामने आती हैं।” इस वाक्य को याद रखें क्योंकि जब आपको अपनी दमित भावनाएं और विचारों के बारे में बात करने की ज़रूरत होती है तो यह आपकी मदद करेगा।

इस पोस्ट में हम आपको बताएंगे, हमारी दमित भावनाएं हमें बीमार क्यों कर सकती हैं, और इससे कैसे बचा जाए।

भले ही हम ध्यान नहीं दे रहे हैं, तो भी शरीर हमें कई सिग्नल भेज सकता है। जब हम लंबे समय तक अपनी भावनाओं को जज्ब करके रखते हैं, वे एक-दूसरे के ऊपर जमा होती रहती हैं और इससे शारीरिक बीमारियां पैदा हो सकती हैं।

भय, ईर्ष्या, आलोचना … कुछ लोग इन भावनाओं को भावनात्मक संदूक के रूप में अपने भीतर जमाये रखते हैं, जो मानसिक और शारीरिक रूप से अस्वस्थ बनाने में मदद करता है।

बीमारी एक संदेश है जिसे हमारा शरीर हमें भेजता है ताकि हम जान लें कि हम इमोशनल ब्लॉक का अनुभव कर रहे हैं, या हमें अपने जीवन में कुछ पहलुओं को बदलने या उनसे छुटकारा पाने की जरूरत है।

जब हम गलत रास्ता पकड़ लेते हैं, जिसका अर्थ है हम बताना नहीं चाहते क्योंकि हम कोई ऐसा तर्क या बात नहीं करना चाहते हैं जो किसी के साथ हमारे सम्बन्ध को तोड़ दे, तो लक्षण और दर्द जमा होते जाते हैं।

कई बीमारियां भावनाओं को दबाये रखने से होती हैं। असंतुलित दमित भावनाएं बनी रहने पर उनसे जुड़ा शरीर का कोई एक अंग या दूसरा अंग पीड़ित होगा।

दर्द एक वार्निंग सिग्नल है और हम इसे नजरअंदाज नहीं कर सकते हैं।

जब ऐसे लक्षण सामने आते हैं, तो हमें अपनी गतिविधियों से ब्रेक लेना चाहिए और यह निर्धारित करना चाहिए कि हमारे जीवन में कौन से नेगेटिव विचार या विश्वास हैं जो हमें चोट पहुंचा रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: आपकी स्पाइन और दूसरे अंगों का आपसी सम्बन्ध

नेगेटिव इमोशन एक बीमारी है

एक प्रकार का मनोदैहिक (psychosomatic) कनेक्शन है जो लक्षणों के साथ विचारों को जोड़ता है।

हो सकता है, आप जांच और इलाज के लिए किसी डॉक्टर के पास न जाएँ। इसके बजाय, शायद बेहतर होगा कि अपने खयालों को सुधारने और बेहतर महसूस करने के लिए थोड़ा आत्मनिरीक्षण करें

उदाहरण के लिए, स्ट्रेस अल्सर या दिल के दौरे का कारण बन सकता है। इसके अलावा, डिप्रेशन से एनर्जी कम हो सकती है और आपको ज्यादा भूख लग सकती है। शारीरिक शब्दावली में बताएं तो, अक्सर होने वाले दर्द और समस्याएं हमारी भावनाओं से पैदा होती हैं:

सिर

यह तर्कसंगत रूप से हमारे शरीर का केंद्र है। आप रक्त की गति में बढ़ोतरी या धमनियों के कसने की वजह से सिरदर्द का अनुभव कर सकते हैं।

इसके अलावा यह प्यार जैसी बुनियादी भावनाओं को कम्युनिकेट या अभिव्यक्त करने में असमर्थता की ओर भी इशारा कर सकता है।

दमित भावनाएं कैसे

गर्दन

शरीर का यह अंग शरीर के साथ दिमाग को जोड़ता है। जब गर्दन को हिलाना-डुलाना मुश्किल होता है, तो यह रात की खराब नींद के अलावा अन्य कारणों से भी हो सकता है। वास्तव में, यह जीवन को लेकर तंग और कठोर दृष्टिकोण का संकेत भी हो सकता है।

मूढ़ता और एक संकीर्ण दिमाग भी गर्दन में दर्द पैदा कर सकता है। बहुत अधिक तनाव भी इसका कारण होता है।

पीठ

जब आप कोई समस्या हल करते हैं, तो ऐसा लगता है जैसे आपकी पीठ से एक भार टल गया है। यह भार जो आप ढोते हैं वह उन भावनाओं और अनुभवों से जुड़ा हो सकता है, जिसे आप पहले ढोते रहे थे। उन भावनाओं की वजह से जिन्हें आप अभी नहीं भूल पाए थे या अभी क्षमा नहीं किया था।

इसके अलावा, रीढ़ आपकी पीठ को सहारा देती है, और आपको अपनी सभी गतिविधियों को कर पाने की सहूलियत देती है। इस हिस्से में दर्द का होना यह चेतावनी दे रहा है कि कुछ ठीक नहीं है, और हो सकता है, शायद आपको अपनी कुछ दमित भावनाओं से पीछा छुड़ा लेना चाहिए।

दिल

दमित भावनाएं: दिल

यह अंग प्यार से जुड़ा हुआ है, लेकिन नफरत जैसी अन्य भावनाओं के साथ भी। यह हमारी भावनाओं का केंद्र है। यही कारण है कि जटिल या निराशाजनक परिस्थितियों में डूबे होने से हार्ट संबंधी समस्याएं उभर सकती हैं।

हो सकता है, आप किसी रिश्ते में बहुत दूर तक निकल गए हैं या उन चीज़ों पर ध्यान दे रहे हैं जो जीवन में कुछ भी अच्छा नहीं लाने वाली।

पैर

हमारा पैर हमें आगे बढ़ने की सहूलियत देता है, लेकिन वे हमें स्थिरता भी देते हैं। इसके अलावा, वे हमें सुरक्षा देते हैं। इसलिए पैर की समस्याएं दर्शाती हैं कि आप सुरक्षित महसूस नहीं कर रहे हैं, कि आप नहीं जानते हैं कि कौन सा रास्ता अपनाना है या भविष्य और अपने अगले प्रोजेक्ट के बारे में कैसे सोचना है।

क्या आप जानते हैं, एलर्जी बहुत ऊँचे स्तर का डर अनुभव करने की संकेत हैं, और हाई ब्लडप्रेशर बहुत लंबे समय तक सतर्क होने के कारण होता है? क्या आप यह भी जानते हैं कि यूटीआई हमारे व्यक्तिगत संबंधों के बारे में नेगेटिव भावनाओं से भी पैदा हो सकती हैं?

इसे भी पढ़ें: शोक वह आंतरिक प्रक्रिया है जिसके लिए कोई तैयार नहीं होता

बीमार न होने और भावनाओं को चैनल करने की टिप्स

शायद आपने सोचा था कि सिर्फ नेगेटिव भावनाएं हमें बीमार कर सकती हैं, लेकिन यह पूरा ठीक नहीं है। उदाहरण के लिए, बहुत अधिक खुशी अति उत्तेजना (hyperexcitation) का कारण बन सकती है, जो दिल को नुकसान पहुंचा सकती है।

कुछ सिफारिशें आपकी भावनाओं को चैनल करने में मदद करती हैं और इस तरह आपको बीमारियों से बचा सकती हैं:

असमान भावनाओं से अपने को मुक्त करें

इसकी शुरुआत करने का एक अच्छा तरीका यह पहचानना है कि आपको सबसे ज्यादा और अत्यधिक आने वाली भावनाएं कौन हैं। वे सकारात्मक हों या नकारात्मक, दमित भावनाओं के असर काफी नुकसानदेह हो सकते हैं।

उदाहरण के लिए, कड़वाहट और नाराजगी स्वस्थ भावनाएं नहीं हैं। हम उनसे दूर कैसे हो सकते हैं? क्षमा के माध्यम से।

यह बहुत वीरता भरी टेकनीक है, क्योंकि आपको जो बात तकलीफ देती है, उससे यह छुटकारा पाने की सहूलियत देती है। यह आपको उन भारी बोझों को पीछे छोड़ने में भी मदद करती है जिन्हें आप ढो रहे हैं।

असहज परिस्थितियों से खुद को दूर रखें

दमित भावनाएं: परिस्थितियां

एक बार जब जान लेते हैं कि कौन सी दमित भावनाएं आपको चोट पहुंचा रही हैं, और उनको ज़िन्दगी से निकाल फेंकने के लिए कड़ी मेहनत कर लेते हैं, तो अगला कदम उनके दोबारा आने से रोकना है।

उदाहरण के लिए, यदि आप मानते हैं कि सहिष्णुता की कमी आपके लिए एक बड़ी समस्या है, तो उन परिस्थितियों की ओर आगे न बढ़ें जो आपको असहिष्णु बनाती हैं।

जब तक आप आश्वस्त न हो जाएँ कि आप उस विशेष नेगेटिव भावना की जड़ को खोदकर फेंक चुके हैं, इसे ट्रिगर करने वाली परिस्थितियों से अपने को दूर रखें।

परिवार के सदस्यों और दोस्तों के साथ मिलें

जिन लोगों को हम प्यार करते हैं, उनके साथ समय बिताना आत्मा के दुख के लिए एक अच्छा नुस्खा है। हो सकता है, आप जो कुछ महसूस कर रहे हैं जिन्हें आपने अब तक अपने अन्दर दबा कर रखा था, यह उसके बारे में उन्हें सब कुछ बताने का क्षण है।

इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप सोचते हैं कि पुरानी यादों को छेड़ना नहीं चाहिए: क्षमा और घावों का भरना आपके और आस-पास के अन्य लोगों के लिए अच्छा है।

प्रकृति के संपर्क में रहें

पार्क में वाक पर जाना, पहाड़ों में छुट्टियाँ बिताना, बीच पर योग या मेडिटेशन करना, नदी में तैरना, और बाहर निकलकर एक्सरसाइज करना वे शानदार गतिविधियां हैं, जो नकारात्मक और मन में दबी हुई अस्वस्थ दमित भावनाएं बाहर निकाल देती हैं

  • Cano-Vindel, A., & Miguel-Tobal, J. J. (2001). Emociones y salud. Ansiedad y Estrés, 7(2–3), 111–121.
    https://doi.org/10.1007/978-0-387-77242-4

  • Garrido-Rojas, L. (2006). Apego, emoción y regulación emocional. Implicaciones para la salud. Revista Latinoamericana de Psicologia, 38(3), 493–507.
    https://doi.org/10.1017/CBO9781107415324.004

  • Vecina Jiménez, M. L. (2006). EMOCIONES POSITIVAS. Papeles Del Psicólogo, 27, 9–17. https://doi.org/10.1016/j.eswa.2014.09.043

  • Piqueras Rodriguez, J., Ramos Linares, V., Martínez, A., & Oblitas, L. (2009). Emociones negativas y su impacto en la salud mental y física. Suma Psicológica, 16(2), 85–112. https://doi.org/10.14349/SUMAPSI2009.136

  • Punset, E., Mora, F., García Navarro, E., López Cassá, É., Pérez González, J. C., Lantieri, L., … Planells, O. (2012). ¿Cómo educar las emociones? La inteligencia emocional en la infancia y la adolescencia. Observatorio de Salud de La Infancia y La Adolescencia, 24–35.
    https://doi.org/10.1080/02109395.2014.922263

  • Vázquez, Hervás, G., Rahona, J., & Gómez, D. (2009). Bienestar psicológico y salud : Aportaciones desde la Psicología Positiva. Anuario de Psicología Clínica y de La Salud, 5, 15–28.

  • Ortega, M. del C. (2010). La educación emocional y sus implicaciones en la salud. Revista Española de Orientación y Psicopedagogía, 21(2), 462–470.
    https://doi.org/10.5944/reop.vol.21.num.2.2010.11559