यह समझने में अभी भी देर नहीं हुई है, कि आप इससे बेहतर के काबिल हैं

10 दिसम्बर, 2018
कहते हैं, देर से आये दुरुस्त आये। जब अपनी खुशी और कल्याण खोजने की बात आती है तो समय का कोई अस्तित्व नहीं रह जाता है। आप हजारों बार गलती कर सकते हैं लेकिन अपने बारे में सोचना शुरू करने के लिए कभी भी ज्यादा देर नहीं होती है।

बदलाव करने के लिए कभी भी बहुत ज्यादा देर नहीं होती है। घड़ी हमेशा बिलकुल सही समय पर उस पल की ओर इशारा करेगी जब आपके दिल को यह एहसास होता है कि वह कुछ बेहतर के पाने के योग्य है।

यह एक आम बात है कि लोगों को अफसोस होता है कि यह बात उनके दिमाग में पहले क्यों नहीं खटकी कि उनकी स्थिति असहनीय थी। उन्हें यह समझ में नहीं आता कि वे प्रतिक्रिया करने के लिए इतने लंबे समय तक कैसे इंतजार कर सकते थे।

यह याद रखना जरुरी है कि हमारा दिमाग, खास तौर से उसका भावनाओं और प्रेम से संबंधित क्षेत्र, किसी भी तरह के बदलाव को पसंद नहीं करता है। आप अपने को बताते हैं कि आप “थोड़ी देर और बर्दाश्त करेंगे और खींचने की कोशिश करेंगे”, “चीजें बेहतर हो सकती हैं”।

लेकिन अगर समय के साथ कुछ भी नहीं बदलता है और आप उतना ही दुखी रहते हैं तो आप समझ सकते हैं कि अपने को यह बताने का समय आ गया है कि “मैं किसी बेहतर चीज के लायक हूं”। किसी भी चीज से ज्यादा आपका अपने चैन को फिर से हासिल करने का हक है।

आइये इस पर नज़र डालें।

फिर से खुश होने के लिए कभी भी ज्यादा देर नहीं होती है

आइये “देर” शब्द पर एक पल के लिए गौर करें। इसे उन मीटिंग्स के संदर्भ में इस्तेमाल किया जा सकता है जो एक घंटे में शुरू होती हैं और विभिन्न कारणों की वजह से आप पीछे रह जाते हैं और समय पर नहीं पहुंचते हैं।

तब देर हो जाती है जब आप समय पर स्टोव को बंद करना भूल जाते हैं और भोजन जल जाता है।

ये दो सरल उदाहरण हैं जो स्पष्ट रूप से एक जरुरी चीज दिखाते हैं: वापस जाना संभव नहीं है। चाहें आप कुछ भी करें आपका खाना जरुरत से ज्यादा पक गया है और आप मीटिंग के लिए लेट हो गए हैं।

लेकिन जब आपकी जिंदगी की कशमकश, इंसानों की खुशी की  जरुरी और बुनियादी अंतिम बिंदु की बात आती है तो “देर” शब्द का कोई अस्तित्व नहीं होता है, और इस सिलसिले में यह उचित भी नहीं है। अपने कल्याण के लिए लड़ने के लिए हमेशा अच्छा समय होता है।

तो इन बातों को ध्यान में रखें।

इसे भी पढ़ें: आपको अपने लिए वक्त चाहिये: इसे साबित करते हैं ये 5 मनोवैज्ञानिक पहलू

भय का कारक

  • डर एक बाधा है जो अक्सर आपको अपनी खुशी का निर्माण करने से रोकता है, या कम से कम आपको जबरदस्ती अपने आराम के क्षेत्र से बाहर निकलकर अपने सपनों तक पहुंचने से रोकता है।
  • बहुत से लोग ऐसा करते हैं, और जिसके बारे में वे पूरी तरह से जागरूक नहीं हैं, वह ये है: हम हार मानकर अपने डर को इस तरह के विचारों से छिपाते हैं, जैसे “यह जैसे है वैसे है, मुझे बस इसे स्वीकार करना है; अगर मैं इसे छोड़ देता हूं तो शायद मुझे कुछ इससे भी बदतर मिले”।
  • लोग डर को तर्कसंगत बनाते हैं। डर एक रोज का रवैया बन जाता है जो उनको पूरी तरह से नियंत्रित करता है क्योंकि उन्होंने पहले ही इसके सामने अपना सिर झुका दिया होता है।
  • वह व्यक्ति जो हार मान लेता है और लड़ना छोड़ देता है धीरे-धीरे दुःख की खाई में फंस जाता है जिसकी वजह से गुप्त डिप्रेशन हो सकता है।
  • आपको यह समझने की जरूरत है कि वास्तव में डर क्या है: एक भावना जो आपको खतरे के बारे में सतर्क करती है। इंसानों की इस नेचुरल वृत्ति को ध्यान न देना या छिपाना तो दूर रहा, हमें इसे समझना, इसके बारे में अच्छी तरह सोचना और फिर कार्य करना चाहिए।

आपको डर से डरने की जरुरत नहीं है। आपको इसे सुनने का तरीका मालूम होना चाहिए क्योंकि यह आपकी अपनी बेचैनी या आंतरिक असुविधा का स्पष्ट संकेतक है।

इसे भी पढ़ें: ऐसे व्यक्ति को खोने से न डरें जो आपके होने से खुद को भाग्यशाली नहीं समझता

सबसे अच्छा समय अभी ​​है

हम पहले ही यह बात समझ चुके हैं कि आप अपनी खुशी या कल्याण की कभी न खत्म होने वाली खोज के लिए “देर” शब्द का उपयोग नहीं कर सकते हैं। हम यह भी जानते हैं कि डर वास्तव में एक संकेतक है जो हमें चेतावनी देता है कि हम ठीक नहीं हैं, कि हमारी स्थिति अस्थिर है।

तो … हम इस पर कार्यवाही क्यों नहीं करते? अपने डर को तर्कसंगत बनाने, अपने सीमित और असुरक्षित दृष्टिकोण को दूर करने का सरल कार्य करके आप अपनी सब ढालों को छोड़ सकेंगे जो आपको एक व्यक्ति के रूप में विकसित होने से रोकती हैं।

  • हो सकता है कि इस समय आप एक जटिल जीवन जी रहे हैं। काम, परिवार, भावनाओं, व्यक्तिगत असंतोष से जुड़ी हुई समस्याएं …
  • कभी-कभी छोटे बदलावों का बहुत बढ़िया नतीजा होता है। इसलिए इन कठिनाइयों का सामना करते समय, ये अहम बाधाएं जिनकी वजह से आपका दम घुटता है और जो आपकी ऊर्जा और आशावादी दृष्टिकोण को लूटती हैं, आपको एक समाधान खोजना चाहिए।
  • कई मामलों में, मूवमेंट इसका समाधान होता है: डर की रेखा, अपने आराम के क्षेत्र, अपनी गतिहीनता के पार कदम रखें। “वह ट्रेन मुझे पहले ही पीछे छोड़ गई है”, या “मेरे लिए पहले ही बहुत देर हो चुकी है” जैसे विचारों से परे आगे बढ़ें।

आपके लिए सबसे अच्छा समय अभी ​​है। बीता हुआ कल मौजूद नहीं है और आने वाला कल अभी तक लिखा नहीं गया है तो … इसे क्यों न आजमायें?

कदम बढ़ाने में खुशी

आपको एक बात याद रखनी चाहिए। भय हमेशा आपके साथ रहेगा, खासकर जब आप वह पहला कदम बढ़ायेंगे, जब आप परिवर्तन करेंगे, और जब आप कुछ चीजों को पीछे छोड़ेंगे।

आप यह नहीं जानते कि आप इसे कैसे ढूंढ पाएंगे और न ही यह जानते हैं कि आप जो करने जा रहे हैं वह काम करेगा या नहीं। इसलिए डर एक ऐसा साथी होगा जो हमेशा साथ रहेगा।

लेकिन यह एक रोमांचक डर है, उम्मीद से भरा है क्योंकि सब कुछ नया है और आपके काबू में है और आप अपनी व्यक्तिगत पतवार के मालिक हैं।

उस कदम को बढ़ाने का आनंद संपन्न बनाने वाला है और इसे अनुभव करने के लिए कभी भी ज्यादा देर नहीं होती है।

हम सभी अपने जीवन के हर पल में हर समय सर्वश्रेष्ठ पाने के लायक हैं। इसे दूसरे लोगों से पाने की अपेक्षा करने के बजाय अपने भाग्य का निर्माता बनने के लिए कदम उठाने लायक है।

क्या आप यह करने के लिए इतने बहादुर हैं?