हेवी पीरियड के लिए 5 नेचुरल ट्रीटमेंट

अगर आप अपने हेवी पीरियड को नियंत्रित करने के लिए इलाज करा रही हैं तो इनमें से किसी भी नुस्खे को आजमाने से पहले अपने गाइनेकॉलोजिस्ट से बात करना जरूरी है, क्योंकि इससे नुकसान हो सकता है।
हेवी पीरियड के लिए 5 नेचुरल ट्रीटमेंट

आखिरी अपडेट: 17 फ़रवरी, 2021

हेवी पीरियड एक ऐसी स्थिति है जिसे मेनोरेजिया (menorrhagia) के रूप में जाना जाता है। इस स्थिति की विशेषता है मेंसट्रुअल ब्लड में बढ़ोतरी। यह महिलाओं की फिजिकल और इमोशनल क्वालिटी पर असर डालता है।

मेनोरेजिया गर्भाशय में एंडोमेट्रियल टिशू में बदलाव का कारण बनता है। इसका कारण हार्मोन असंतुलन, थायरॉयड रोग या लंबे समय तक कुछ दवाओं के इस्तेमाल भी हो सकते हैं।

यह कंडीशन एक गंभीर हेल्थ रिस्क पैदा नहीं करती है। हालांकि इससे पीड़ित व्यक्ति स्ट्रेस और असुरक्षा का शिकार होता है। हेवी फ्लो के कारण कपड़ों पर धब्बे पद सकते हैं। इसके अलावा अगर ब्लीडिंग बहुत समय तक हो तो थकान और एनीमिया से पीड़ित होने की संभावना भी बढ़ जाती है।

अच्छी खबर यह है कि कई नेचुरल ट्रीटमेंट उपलब्ध हैं जो मेंसट्रुएशन को असरदार तरीके से रेगुलेट करने में मदद करते हैं। और वे आपको ट्रेडिशनल दवा की तरह कोई साइड इफेक्ट नहीं देते। निम्नलिखित आर्टिकल में हम 5 अच्छे विकल्प की जानकारी शेयर करेंगे। अगर आप इस स्थिति से पीड़ित हैं, तो इन्हें आज़माने में संकोच न करें!

1. धनिया के बीज (Coriander seeds)


धनिया के बीज में एक्टिव तत्व होते हैं जो हेवी मेंसट्रुअल ब्लीडिंग को कम कर सकते हैं। इसे चाय के रूप में पीने से युटेरस की सूजन कम हो जाती है। यह स्त्री हार्मोन को संतुलित करने में भी मदद करता है।

सामग्री

  • धनिया के बीज का एक ½ बड़ा चमचा
  • 1 कप पानी
  • 1 बड़ा चम्मच शहद

निर्देश

  • एक कप उबलते पानी में धनिया के बीज डालें। फिर इसे छोड़ दें।
  • 5 से 10 मिनट बाद चाय को छान लें और इसे शहद से मीठा करें।

इसे कब पीना है

  • अपने मेंसट्रुएशन से पहले और उस दौरान दिन में 2 से 3 बार चाय पिएं।

इसे भी पढ़ें : मेन्सट्रुअल क्रैम्प और दूसरी मेन्सट्रुअल समस्याओं के लिए नेचुरल ट्रीटमेंट

2. दूध और सरसों के बीज (Milk and mustard seeds)

दूध और सरसों के बीज का मिश्रण एक प्राचीन ट्रेडिशनल नुस्खा है। इससे भारी और अनियमित पीरियड पर काबू करना आसान हो जाता है। इसके गुण टिशू की सूजन को कम करते हैं। ये तत्व दर्द और मेंसट्रुअल क्रैम्प को रोकने में भी मदद करते हैं।

सामग्री

  • 1 कप गर्म दूध
  • ½ छोटा चम्मच सरसों के बीज

निर्देश

  • दूध को गर्म करें और फिर सरसों के बीज के पाउडर को इसमें मिलाएं।

इसे कब पीना है

  • इस नुस्खे से एक कप सुबह और फिर रात को सोने से पहले पिएं।
  • इसे पीरियड के दौरान पिएं।

3.  हेवी पीरियड के इलाज के लिए मिल्क थीस्ल के बीज (Milk thistle seeds)

हेवी पीरियड के इलाज के लिए मिल्क थीस्ल के बीज (Milk thistle seeds)

हार्मोनल असंतुलन को नियंत्रित करने के लिए दूध थीस्ल सीड टी महान है। इसमें असंतुलन शामिल है जो भारी रक्तस्राव का कारण बनता है। अन्य बातों के अलावा, इसके मूत्रवर्धक गुण द्रव प्रतिधारण और मासिक धर्म की समस्याओं को कम करते हैं।

पर पढ़ें: दूध थीस्ल: अतुल्य लाभ के साथ एक पौधा

सामग्री

  • 1 बड़ा चम्मच दूध थीस्ल के बीज
  • 1 कप पानी

अनुदेश

  • पानी को गरम करें। जब यह उबलने लगे तो इसमें मिल्क थीस्ल के बीज डालें।
  • फिर फ्लेम से उतारें और रूम टेम्परेचर पर 10 मिनट के लिए छोड़ दें।

इसे कब पीना है

  • इस चाय के 2 से 3 कप रोज तब तक पियें जब तक आप बेहतर महसूस न करें।

4. एप्पल साइडर विनेगर और शहद

यह नेचुरल एप्पल साइडर और शहद का ड्रिंक ब्लीडिंग को कंट्रोल करने में मदद करता है। यह सूजन, वाटर रिटेंशन और दर्द को भी कम करता है।

सामग्री

  • एप्पल साइडर विनेगर के 2 बड़े चम्मच
  • 1 बड़ा चम्मच शहद
  • 1 कप गर्म पानी

निर्देश

  • गर्म पानी में एप्पल साइडर सिरका मिलाएं।
  • शहद से मीठा करें और फिर पियें।

इसे कब पीना है

  • अपने पीरियड के दौरान हर भोजन से पहले इसे पियें।

इसे भी पढ़ें : आपके शरीर में ऊँचे एस्ट्रोजेन लेवल के संकेत और लक्षण

5. लिकोरिस (Licorice)

इसके फाइटोएस्ट्रोजेन, एंटीऑक्सिडेंट और एंटी इन्फ्लेमेटरी कम्पाउंड के कारण लिकोरिस रूट हेवी पीरियड के लिए एक अच्छा प्राकृतिक इलाज है। ये गुण आपके शरीर के एस्ट्रोजन लेवल को बैलेंस करने में मदद करते हैं। वे हेवी ब्लीडिंग और बार-बार होने वाले दर्द को भी कम करते हैं।

सामग्री

  • 1 कप पानी
  • लिकोरिस रूट का एक बड़ा चमचा
  • 1 बड़ा चम्मच शहद (वैकल्पिक)

निर्देश

  • एक बर्तन में पानी डालें और गरम करें।
  • जब यह उबलना शुरू हो तो लिकोरिस रूट डालें। फिर फ्लेम को लो करें और 2 से 3 मिनट तक उबलने दें।
  • उसके बाद फ्लेम से हटा दें। इसे 10 मिनट के लिए कमरे के तापमान पर छोड़ दें।
  • मिश्रण को छान लें। आप चाहें तो इसे एक चम्मच शहद से मीठा कर सकते हैं।

इसे कब पीना है

  • पीरीअड की शुरुआत से 2 दिन पहले रोजाना 2 या 3 कप लिकोरिस रूट टी पियें।

नोट: अगर आप हाई ब्लड प्रेशर, किडनी फेल्योर या डायबिटीज से पीड़ित हैं तो इस नुस्खें का इस्तेमाल न करें।

क्या आप हेवी पीरियड से पीड़ित हैं? अगर आप इस स्थिति से पीड़ित हैं, तो हमारे द्वारा बताए गए नुस्खों में से एक को आजमायें। देखें कि वे प्राकृतिक रूप से पीरियड को मैनेज कैसे कर रहे हैं। यदि फिर भी समस्या बनी रहे तो अपने डॉक्टर से बात करें कि क्या एनीमिया या थकान का जोखिम है।

यह आपकी रुचि हो सकती है ...
हार्मोन असंतुलन के 9 लक्षण और इसका कारण
स्वास्थ्य की ओरइसमें पढ़ें स्वास्थ्य की ओर
हार्मोन असंतुलन के 9 लक्षण और इसका कारण

आपको कई तरह के हार्मोन असंतुलन के लक्षणों का अनुभव हो सकता है, भले ही आपको इसका एहसास न हो। आखिरकार हार्मोन असंतुलन बहुत आसानी से हो सकता है।



  • BADILLO LEON, I. (1990). LA MENSTRUACION, “MAL DE MUJER.” INFAD. Psicolog�a de La Infancia y La Adolescencia.
  • Ante, S. (2003). Menorragia. Sego.
  • Pérez, L. (2007). Hemorragia uterina anormal: enfoque basado en evidencias. Revisión Sistemática. Rev. Med.