आपके शरीर में ऊँचे एस्ट्रोजेन लेवल के संकेत और लक्षण

दिसम्बर 4, 2018
एस्ट्रोजेन का ऊँचा स्तर पुरुष और महिला दोनों में ही एक समस्या बन सकता है। रोग की डायग्नोसिस और ट्रीटमेंट के लिए जितनी जल्दी हो सके एक्सपर्ट से सलाह लेना ज़रूरी होता है।

एस्ट्रोजेन के बारे में बात करने से पहले बता दें कि, आपके शरीर के सभी हार्मोन का स्तर नियमित रूप से ऊपर और नीचे जाता रहता है। पूरी तरह से संतुलित होने पर आपका शरीर स्वाभाविक रूप में वैसे ही काम करता है जैसे उसे करना चाहिए। समस्या तब होती है जब वे अपने सही लेवल पर नहीं होते हैं। आपके शरीर को संबंधित समस्याओं का अनुभव होने लगता है।

आप जानते हैं, एस्ट्रोजेन (Estrogen) क्या है? इसे “स्त्री” हार्मोन के रूप में जाना जाता है। टेस्टोस्टेरोन (Testosterone) “मर्दाना” हार्मोन है। हालांकि इन दोनों हार्मोन को लैंगिक आधार पर पहचाना जाता है, फिर भी ये पुरुष और महिला दोनों के शरीर में पाए जाते हैं।

महिलाओं में एस्ट्रोजेन ज्यादा होता है और पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन ज्यादा होता है। एस्ट्रोजेन यौन विकास, मासिक धर्म चक्र और महिलाओं में प्रजनन प्रणाली को नियंत्रित करता है।

ऊँचे एस्ट्रोजेन लेवल का कारण क्या है?

एस्ट्रोजेन की बढ़ोतरी के कारण आकस्मिक दुर्घटना से लेकर गलत आदतें भी हो सकती हैं, जैसे कि;

  • शराब का सेवन
  • बहुत ज्यादा फ़ास्ट फ़ूड खाना 
  • कुछ ख़ास दवाइयाँ 
ऊँचे एस्ट्रोजेन लेवल का कारण: दवाइयां

एस्ट्रोजेन लेवल में बढ़ोतरी के दूसरे ख़ास कारण हैं:

  • हृदय रोग
  • बुढ़ापा (जो कम टेस्टोस्टेरोन की ओर ले जाता है)

  • मोटापा

  • फाइटोस्ट्रोजेन (phytoestrogen) या ज़ेनोेस्ट्रोजेन (xenoestrogen) का एक्सपोजर

  • प्रोजेस्टेरोन (progesterone) लेवल में असामान्य गिरावट

  • डायबिटीज जैसी इंसुलिन से जुड़ी समस्याएं

  • एस्ट्रोजेन युक्त दवाइयां

  • स्टेरॉयड

  • नशीली दवाओं का सेवन

  • गर्भनिरोधक गोलियाँ

  • पाचन तंत्र में समस्याएं

  • भोजन में कीटनाशक जैसे रासायनिक प्रोडक्ट का एक्सपोजर

बीमारियां जो उच्च एस्ट्रोजेन का कारण बन सकती हैं:

यह भी पढ़ें: 9 संकेत ओवेरियन सिस्ट के जिनकी महिलायें अनदेखी करती हैं 

ऊँचे एस्ट्रोजेन लेवल का कारण: बीमारियाँ

उच्च एस्ट्रोजेन लेवल के लक्षण क्या हैं?

जब आपके शरीर में एस्ट्रोजेन या टेस्टोस्टेरोन स्तर ज्यादा होता है, तो वे उचित ढंग से संतुलित नहीं होते हैं। इसके अलावा सबसे आम लक्षण हैं:

  • सूजन (Swelling)
  • स्तन में सूजन और दर्द (Breast swelling and soreness)
  • स्तनों में सिस्ट का विकास 
  • प्रीमेन्सट्रुल लक्षणों में वृद्धि और यौन इच्छा में कमी
  • अनियमित मेंस्ट्रुअल पीरियड 
  • सिरदर्द और याद रखने में कठिनाई
  • मनोदशा में बदलाव
  • वजन बढ़ना
  • बाल झड़ना
  • ठंडे हाथ या पैर
  • थकान या ऊर्जा में गिरावट
  • अंत में, नींद की समस्याएं

पुरुषों में ऊँचे एस्ट्रोजेन लेवल का असर

पुरुषों में ऊँचे एस्ट्रोजेन लेवल का असर

बाँझपन

स्वस्थ शुक्राणु के विकास के लिए एस्ट्रोजेन आंशिक रूप से जिम्मेदार है। जब एस्ट्रोजेन का स्तर ऊँचा हो तो वीर्य में शुक्राणु की संख्या कम हो सकती है। इससे प्रजनन की समस्याएं होती हैं। इसके अलावा, यदि आप और आपका साथी कुछ समय से गर्भधारण करने की नाकाम कोशिश कर रहे हैं, तो आपको यह देखने के लिए अपने डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए कि कहीं बढ़े हुए एस्ट्रोजेन की समस्या तो नहीं है।

गाइनीकोमास्टिया (Gynecomastia)

एस्ट्रोजेन स्तन के टिश्यू के विकास को उत्तेजित करता है। एस्ट्रोजेन की ज्यादा मात्रा पुरुषों में असामान्य स्तन वृद्धि का कारण बन सकता है। यह आत्म-सम्मान को भी प्रभावित करता है। सौभाग्य से अब प्लास्टिक सर्जरी का विकल्प है, जो ज्यादा आम होता जा रहा है।

स्तंभन दोष (Erectile dysfunction)

पुरुषों और महिलाओं में यौन विकास के लिए टेस्टोस्टेरोन और एस्ट्रोजेन के बीच संतुलन बहुत महत्वपूर्ण है। इनमें असंतुलन होने पर यौन कार्यों पर असर पड़ सकता है। उदाहरण के लिए, जब पुरुषों में एस्ट्रोजन का स्तर ऊँचा हो तो इरेक्शन को बनाए रखना मुश्किल होता है। 

यह भी पढ़ें: स्तन कैंसर के लक्षण जिन्हे सभी महिलाओं को जान लेना चाहिए

ऊँचे एस्ट्रोजेन लेवल का पता कैसे लगाया जाता है?

आपके शरीर में एस्ट्रोजेन स्तर की जांच करने के लिए डॉक्टर को आपके ब्लड सैंपल की आवश्यकता होगी। निश्चित रूप से यही इसका पता लगाने का सबसे अच्छा तरीका है कि आपका एस्ट्रोजेन लेवल ऊँचा, कम या स्वस्थ और संतुलित है।

नतीजे आते ही आपका डॉक्टर इस आधार पर दवा की सिफारिश करेंगे जो इसका संतुलित स्तर बनाए रखने में आपकी मदद करती है। इस बीच, वे यह भी कह सकते हैं कि आप इन लक्षणों के इलाज के लिए अपनी जीवनशैली के कुछ पक्षों को बदल लें।

बढ़ते एस्ट्रोजेन स्तर से बचें

आपके शरीर में एस्ट्रोजेन के सही लेवल को बनाए रखने के कई तरीके हैं। यदि आप सरल जीवन के साथ अपनी जीवनशैली में कुछ आदतों को बदलते हैं, तो आप अपने स्वास्थ्य के लिए बहुत कुछ अच्छा करेंगे।

ऊँचे एस्ट्रोजेन लेवल से बचें: शराब और सिगरेट

  • शराब के सेवन में कमी लायें

  • आहार में ज्यादा फल और सब्जियां शामिल करें  

  • फैटी फूड्स से बचें

  • तनाव कम करें

  • ज्यादा फाइबर खायें

  • सप्ताह में कम से कम तीन बार एक खेल खेलें या एक्सरसाइज करें

एस्ट्रोजेन का ऊँचा स्तर स्तन कैंसर जैसी अन्य गंभीर स्थितियों का खतरा बढ़ा सकता है। इसके अलावा, लम्बे समय के लिए उच्च एस्ट्रोजेन के स्तर से एंडोमेट्रियल कैंसर हो सकता है।

अपने डॉक्टर से पूछें

अगर आप असामान्य लक्षण का अनुभव कर रहे हैं, तो डॉक्टर से सलाह लेना सबसे अच्छा है। वही यह निर्धारित कर सकते हैं कि इसके पीछे कारण हाई एस्ट्रोजेन लेवल है या नहीं। इसी तरह हार्मोन असंतुलन और उनके अंतर्निहित कारणों का जल्दी से इलाज करना बहुत जरूरी होता है।

इसके अलावा, वक्त पर इलाज कराकर कुछ लक्षणों से बचा जा सकता है। लेकिन अगर आपकी लाइफस्टाइल गलत और अस्वास्थ्यकर है, तो उन सबका इलाज करना और उन्हें दूर करना मुश्किल होगा।