त्वचा के डार्क स्पॉट्स को कैसे चमकाएं

नवम्बर 21, 2019
क्या आपकी त्वचा धूप में काली पड़ गयी है और आप उन्हें हल्का करने के लिए उनकी रंगत को चमकाना चाहती हैं? यहां कुछ नेचुरल ट्रीटमेंट दिए गए हैं जो आपकी त्वचा पर मौजूद काले धब्बों को हल्के करने में आपकी मदद करेंगे। घर पर इन्हें तैयार करना भी बहुतआसान है!

कितनी बार आपकी त्वचा धूप में झुलसी है? आप सोच सकती हैं कि यह आपको जल्दी ही अच्छी टैन पाने की सहूलियत देगा, जबकि नतीजा डार्क स्पॉट्स के रूप में सामने आ सकता है। इस तरह नतीजा एक समान रंगों वाली त्वचा के बजाय बीच-बीच में गहरे रंगत वाले असमान टोन वाली त्वचा होती है। हालांकि, आप इन काले धब्बों को नेचुरल ट्रीटमेंट से चमकाकर उन्हें हल्का कर सकती हैं!

आप पसंद कर सकते हैं: आपकी त्वचा को स्वाभाविक रूप से कसने के लिए छह टिप्स

त्वचा के डार्क स्पॉट्स को कैसे चमकाएं

सबसे पहले, एक अच्छा सनब्लॉक लगाने पर जोर देना जरूरी है जो आपकी स्किन टाइप के लिए उपयुक्त हो। यह आपको किसी नए सनबर्न से बचने में मदद करेगा।

साथ ही, आपकी स्किन पर पहले से बने डार्क स्पॉट्स को हल्का कर उन्हें चमकाने की आपकी कोशिशों को तेज करेगा।

नीचे बताये गए उपाय भी मदद कर सकते हैं।

चीनी और शहद से अपनी त्वचा को एक्सफोलिएट करें

त्वचा को एक्सफोलिएट करना इसे उज्जवल बनाने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक है। हालाँकि इसे कारगर बनाने के लिए इसे रोजाना या हर दूसरे दिन करना जरूरी है।

एक्सफोलिएट करने का सबसे अच्छा तरीका दो बहुत ही आसान सामग्री हैं: चीनी और शहद।

  • एक्सफोलिएशन के लिए शहद का इस्तेमाल करना जरूरी है क्योंकि यह त्वचा को मॉइस्चराइज करता है, उसे टोन करता है और मुलायम बनाता है।
  • एक्सफोलिएटिंग स्क्रब बनाने की कुंजी  चीनी (सफेद या भूरी) है। चीनी के दाने आपकी त्वचा को एक्सफोलिएट करेंगे।
  • अगर शहद और चीनी का मिश्रण बहुत ठोस हो तो अपने पेस्ट में थोड़ा पानी मिलाएं।

इसे भी पढ़ें : 8 शानदार मॉइस्चराइजिंग हेयर मास्क बनाइये शहद से

त्वचा के डार्क स्पॉट्स
चीनी और शहद दो ऐसी चीजें हैं जो त्वचा की मृत कोशिकाओं से छुटकारा पाने में मदद करती हैं।

लेमन टॉनिक

नींबू हमेशा त्वचा को चमकाने के लिए एक पॉपुलर इंग्रेडिएंट रहा है। इसलिए यह धूप से होने वाले नुकसान के कारण दिखाई देने वाले काले धब्बों को भी उज्ज्वल बना सकता है।

हालाँकि, यह जरूरी है कि इस लेमन टॉनिक का उपयोग करने के बाद धूप में न निकलें। इससे सनबर्न और ज्यादा डार्क स्पॉट्स का खतरा बढ़ जाएगा।

  • लेमन टॉनिक लगाने का सबसे अच्छा वक्त रात होती है।
  • बस एक नींबू का रस निचोड़ें और थोड़ा पानी डालें।

एलोवेरा से हाइड्रेट करें

चीनी और शहद से एक्सफोलिएट करने और लेमन टॉनिक लनलगाने के बाद उसे मॉइस्चराइज करना होगा।

स्किन को ठीक से रिजेनरेट करने के लिए इसे बेहतरीन सामग्रियों से मॉइस्चराइज करना बहुत महत्वपूर्ण है। सबसे पॉपुलर और प्राकृतिक मॉइस्चराइज़र में एलोवेरा आता है।

एलोवेरा ऐसा पौधा है जो हर किसी के घर में होना चाहिए। यह किसी भी तरह के बर्न के लिए बहुत उपयोगी है।

बस इसकी एक पत्ती काट लें, इसे फाड़ें और जिलेटिन को सीधे प्रभावित अंग पर लगाए। यह त्वचा को हाइड्रेट करने के साथ तुरंत राहत देगा।

एक्सफोलिएट करने के बाद त्वचा के डार्क स्पॉट्स को जल्दी चमकाने के लिए एलोवेरा जेल लगाएं। सर्वोत्तम परिणाम के लिए इसे नियमित लगाएं।

एलोवेरा को रात भर स्किन पर सोखे जाने दें। दिन में एलोवेरा लगाना मुश्किल हो सकता है क्योंकि यह ठीक से अवशोषित नहीं भी हो सकता है।

एलोवेरा त्वचा को पुनर्जीवित करने, मॉइस्चराइजिंग और इसे शांत करने में मदद करता है। धूप से हुए नुकसान के तेजी से ठीक होने के लिए इसे नियमित लगाएं।

डार्क स्पॉट्स को बनने से कैसे रोकें

इन सभी नेचुरल इलाजों के बावजूद, यह दोहराना जरूरी है कि आपको अनावश्यक धूप में नहीं जानना चाहिए। कभी-कभी सनब्लॉक लगाना ही पर्याप्त नहीं होता है। धूप का जोखिम काम करें और सुनिश्चित करें कि बहुत लंबे समय तक बाहर न रहें।

हालांकि, सबसे अच्छा विकल्प धूप से दूर रहना या सेफ कपड़े पहनना है।

आपको खुद से पूछना चाहिए : क्या आप पर्याप्त सनब्लॉक लगाती हैं? क्या वह आपकी स्किन टाइप के लिए सही है?

इसी तरह, उन दूसरी चीजों के बारे में न भूलें जो आपको धूप से बचा सकती हैं। उदाहरण के लिए, सन ग्लास पहनें, कैप पहनें और अपने कंधों को ढंकने के लिए शॉल का इस्तेमाल करें। संक्षेप में ये सामान आपको धूप से झुलसी त्वचा और डार्क स्पॉट्स से बचने में मदद करेंगे।

सनबर्न होने से न केवल अनचाहे काले धब्बे होते हैं, बल्कि स्किन कैंसर का खतरा भी बढ़ जाता है। इसलिए खुद को धूप से बचाना बहुत जरूरी है। इन दिनों आपके आसपास बहुत सारे विकल्प हैं, तो उनका लाभ क्यों न उठाया जाए?

और अंत में, रोकथाम ही सबसे अच्छा उपाय है।

  • Castañeda Gameros, Paola, & Eljure Téllez, Juliana. (2016). El cáncer de piel, un problema actual. Revista de la Facultad de Medicina (México)59(2), 6-14. Recuperado en 28 de junio de 2019, de http://www.scielo.org.mx/scielo.php?script=sci_arttext&pid=S0026-17422016000200006&lng=es&tlng=es.
  • Rodríguez Domínguez, Ileana, Santana Gutiérrez, Odalis, Recio López, Orlando, & Fuentes Naranjo, Marilín. (2006). Beneficios del Aloe Vera l. (sábila) en las afecciones de la piel. Revista Cubana de Enfermería22(3) Recuperado en 28 de junio de 2019, de http://scielo.sld.cu/scielo.php?script=sci_arttext&pid=S0864-03192006000300004&lng=es&tlng=es.
  • Suárez, S., & Jazmín, D. (2015). Plan para elaboración y comercialización de una crema corporal aclaradora, que contenga dióxido de titanio y extracto de limón, para mujeres que presenten hiperpigmentación, en la ciudad de Guayaquil (Bachelor’s thesis, Universidad de Guayaquil. Facultad de Ciencias Químicas).