महिलाओं के बीच दोस्ती: स्ट्रेस का मुकाबला करने का शानदार तरीका

दोस्ती सभी के लिए फायदेमंद होती है। यह महिलाओं को स्ट्रेस से निपटने में भी मदद कर सकती है!
महिलाओं के बीच दोस्ती: स्ट्रेस का मुकाबला करने का शानदार तरीका

आखिरी अपडेट: 25 अक्टूबर, 2019

हम आपको हजार तर्क दे सकते हैं कि महिलाओं के बीच आपसी फ्रेंडशिप या दोस्ती लाभदायक, हेल्दी और ज़रूरी क्यों है, फिर भी यह कम है।

हालांकि सोशल साइकोलॉजी और हेल्थ के क्षेत्र में कई स्टडी और काम किए गए हैं जो हमें इस घटना के बारे में बहुत दिलचस्प बातें बताती हैं।

महिलाओं के बीच दोस्ती पुरुषों की दोस्ती के मुकाबले बहुत ज्यादा इंटेंस और पॉजिटिव असर वाली होती है। उसमें जुड़ाव और आपसी समझ की इतनी गहरी भावना होती है कि स्ट्रेस और एंग्जायटी को कम करने के लिए वह पर्याप्त है।

फिर भी, यह साफ़ कर देना अहम है कि हमारे हेल्थ और कल्याण पर पॉजिटिव असर कई “दोस्तों” के मौजूद होने के  कारण नहीं बल्कि उन महिलाओं के साथ प्रामाणिक और सार्थक फ्रेंडशिप में होता है जो हमें समझें और सपोर्ट करें।

इस आर्टिकल में आइये इस बारे में बात करते हैं।

इस वीरानी भरी दुनिया में गहरे संबंध महत्वपूर्ण हैं

महिलाओं के बीच दोस्ती: स्ट्रेस का मुकाबला करने का शानदार तरीका

आजकल हम पहले से कहीं ज्यादा कनेक्टेड हैं, लेकिन पहले से कहीं अधिक दूर।

हमारे सोशल नेटवर्क में दर्जनों फ्रेंड हैं। इसके अलावा हम इंस्टेंट मैसेज सिस्टम के जरिये कम्यूनिकेट करते हैं। हम इमोटिकॉन्स का इस्तेमाल उन भावनाओं का प्रतिनिधित्व करने के लिए करते हैं जिन्हें हम रियल लाइफ में आसानी से व्यक्त नहीं करते हैं।

हम व्हाट्सएप ग्रुप बनाते हैं और इस तरह के प्लेटफॉर्म के जरिये गुड मॉर्निंग और गुड नाइट कहते हैं। फिर भी जितना ज्यादा इंटरैक्शन है, उतना ही खालीपन भी है।

एक संतुष्टिजनक ऐसी पर्सनल लाइफ मिसिंग है, जहां हमारे इर्द-गिर्द स्पेशल लोग हों। ये वे लोग होते हैं जो हमें खुश करते हैं, हमें अपने संपर्क से सुरक्षित महसूस कराते हैं। ये वे विशेष लोग हैं जो बिना कुछ लिए दोस्ती और आपसी समझ की पेशकश कर सकते हैं।

इस जाने-पहचाने एक्जिस्टेंशियल क्राइसिस से लड़ने का एक सेंसेशनल तरीका अच्छे सोशल रिलेशन को बढ़ावा देना है। महिलाओं की बात करें तो दोस्ती विशेष रूप से अहम है।

महिलाएं स्ट्रेस में अलग प्रतिक्रिया करती हैं

यह समझने के लिए कि कैसे और किस तरह से पुरुष और महिलाएं दोनों तनाव से निपटते हैं, हमें न्यूरोपैथोलॉजी की आकर्षक दुनिया में जाना चाहिए।

  • जब एक महिला लंबे समय तक स्ट्रेस और एंग्जायटी से गुजरती है, तो न्यूरोट्रांसमीटर का एक “कॉकटेल” उसके ब्लड स्ट्रीम में बहता है। कोर्टिसोल और एपिनेफ्रिन इस कॉकटेल को बनाते हैं।
  • इससे उसका ब्लडप्रेशर और शुगर बढ़ जाता है।
  • एक हार्मोन है जो महिलाओं के लिए एक साथ एक न्यूरोट्रांसमीटर का भी काम करता है। यह ऊपर बताये गए माहौल के असर को कम करने में अहम भूमिका निभाता है। यह ऑक्सीटोसिन है।

ऑक्सीटोसिन, कोर्टिसोल और एपिनेफ्रिन के स्राव का मुकाबला करने के अलावा, महिलाओं को शांत करता है, उनके डर को कम करता है और उन्हें सुरक्षा का सुखद एहसास देता है।

हालांकि, तनाव पुरुषों को अधिक जटिल तरीके से प्रभावित करता है।

  • एक पहलू जो अपने आपमें दिलचस्प है, वह है, पुरुष कम मात्रा में ऑक्सीटोसिन का उत्पादन करते हैं।
  • भले ही उन्हें ऑक्सीटोसिन की मौजूदगी से उतना फायदा नहीं होता जितना महिलाओं को होता है, वे फाईट और फ्लाईट रिस्पांस का गहराई से अनुभव करते हैं।
  • वे भी, औसतन भावनात्मक संयम से ज्यादा जुड़े होते हैं। उदाहरण के लिए वे उस अंतरंग और व्यक्तिगत स्पेस के बारे में बात करने के लिए आसानी से नहीं खुलतीं जिनमें उनके इमोशन हैं।

यह सब पुरुषों के लिए तनाव को गहरा और क्रॉनिक बनाते हैं।

महिलाओं की आपसी दोस्ती, ऑक्सीटोसिन का शानदार आपूर्तिकर्ता

महिलाओं की आपसी दोस्ती, ऑक्सीटोसिन का शानदार आपूर्तिकर्ता

महिलाओं को दूसरों से “कनेक्ट” करने की बायोलोजिकल ज़रूरत होती  है, सहानुभूति और मान्यता के आधार पर लिंक बनाने के लिए।

इस सबकी व्याख्या निस्संदेह महिला मस्तिष्क में ऑक्सीटोसिन के हाई प्रेजेंस से हो जाती है। यह हार्मोन है जिसका उद्देश्य दूसरों की केयर और अटेंशन को बढ़ावा देना है।

  • इसलिए जब ज़िन्दगी स्ट्रेस और डर से एक रोलर कोस्टर बन जाए तो महिलाएं उन आशंकाओं पर काबू पाने और आपसी समझ को बढ़ाने के लिए दूसरी महिलाओं से दोस्ती की तलाश करती हैं, जो उन्हें शांत करने और उनकी समस्याओं का निष्पक्ष विश्लेषण करने में मदद करता है।
  • इसके अलावा, यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि दोस्ती एक आयाम है जो महिलाओं को अलग-अलग और एक ही समय में, पूरक, एक रोमांटिक रिश्ते के पहलुओं या एक रिश्तेदार के साथ एक रिश्ता देता है।
  • अगर आपकी ठोस और सार्थक फ्रेंडशिप है, तो आप जानती हैं कि आप अपने खयालों को बेझिझक रख पाएंगी जहाँ उन्हें कोई जज नहीं करेगा; यह वही चीज है जिसके कारण किसी फैमिली मेंबर के आगे आप आसानी से खुल जाती हैं।
  • आप यह भी जानते हैं कि आपके मित्र आपकी समस्याओं को हल करने के लिए बाध्य नहीं हैं। यह उनका काम नहीं है। आपको जिस चीज़ की ज़रूरत है वह यह कि आपको सुना और समझा जाए।

निष्कर्ष के तौर पर दोस्तों का एक पॉजिटिव, ठोस और सम्मानजनक सर्किल हम सभी के लिए एक हेल्दी और मुकम्मल ज़िन्दगी की कुंजी है।

हालांकि महिलाओं के लिए यह इमोशनल बॉन्डिंग ज्यादा गहन और ज़रूरी है। इसका कारण यह है, अपने पुराने दोस्तों के साथ एक कप कॉफी से बढ़कर इलाज कोई और नहीं है। आप तुरंत अपनी समस्याओं की बात भूल जायेंगी।

मुख्य इमेज सौजन्य © wikiHow.com

It might interest you...
कैसे बताएं कि यह हार्ट अटैक है या एंग्जायटी अटैक?
स्वास्थ्य की ओरइसमें पढ़ें स्वास्थ्य की ओर
कैसे बताएं कि यह हार्ट अटैक है या एंग्जायटी अटैक?

हम अक्सर हार्ट अटैक को एंग्जायटी अटैक समझकर भ्रम में पड़ सकते हैं। दरअसल पहली नज़र में उनके लक्षण एक तरह होते हैं।