4 स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज जो आपका पॉस्चर ठीक कर सकती हैं

मई 31, 2019
अपने शरीर के बारे में सजग रहने से आपको अपने पॉस्चर यानी मुद्रा से जुड़ी समस्याओं का पता लगाने और उन्हें ठीक करने में मदद मिलेगी। इससे पहले कि वे किसी किस्म का दर्द पैदा करें या अगर आपको पहले से दर्द है, तो इनसे बचाव होगा और राहत मिलेगी।

वयस्कों में पीठ दर्द, कमर दर्द या मांसपेशियों में दर्द बहुत आम बात है। आपकी रूटीन और स्ट्रेस आपकी मांसपेशियों पर दबाव डाल सकते हैं और आपके पॉस्चर पर असर डाल सकते हैं। इसलिए कुछ स्ट्रेचिंग करना एक अच्छा विचार होगा। ये आपकी मुद्रा को दुरुस्त कर सकते हैं।

मानव शरीर एक आदर्श मशीन की तरह है जिसके पुर्जे एक-दूसरे से जुड़कर काम करते हैं। इसलिए आपको इसकी देखभाल करने और इस बारे में ख़ास ध्यान देने की ज़रूरत होती है।

क्या आप कमर, पीठ, कूल्हे, कंधे या सिर के दर्द से पीड़ित हैं?

ये संकेत हो सकते हैं कि आपके पॉस्चर में कोई खामी है, और आपको इसे बेहतर बनाने पर काम करना चाहिए।

यह अविश्वसनीय लग सकता है, लेकिन आपका पॉस्चर शरीर के कुछ आंतरिक अंगों, आपकी साँस और पाचन को प्रभावित कर सकता है। यह उन मांसपेशियों में तनाव का कारण होता है जो आपके संतुलन को बनाए रखने के लिए जिम्मेदार होती हैं, जो आपको एक संतुलित स्थिति में रखती हैं और शरीर में मूवमेंट पैदा करती हैं।

इसके अलावा गलत पॉस्चर से स्कोलियोसिस, किफोसिस, गर्दन की अकड़न, पीठ के निचले हिस्से में दर्द या कंधे की सूजन जैसी बीमारियां हो सकती हैं। सौभाग्य से, स्ट्रेचिंग  एक्सरसाइज के जरिये इस बेचैनी से छुटकारा पाया जा सकता है, यहां तक ​​कि इन्हें रोका जा सकता है।

मांसपेशियां हड्डियों का ओरिएंटेशन बदल देती हैं। इसमें स्पाइनल कॉलम भी शामिल है, जो आपको सपोर्ट देता है। इस कारण आपको अपनी मांसपेशियों पर अलग से काम करना चाहिए। कई शानदार स्ट्रेचेज हैं जो आपकी मुद्रा को दुरुस्त कर सकती हैं।

अपनी मसल्स की स्ट्रेचिंग से शुरुआत कीजिये!

स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज जो आपका पॉस्चर ठीक कर सकती हैं

पॉस्चर : स्ट्रेचिंग

1. ठुड्डी पीछे की ओर रखते हुए गर्दन उठाना (Neck lift with your chin backward)

  • अपने कूल्हों की ऊंचाई के समानांतर अपने पैरों के साथ सीधे खड़े रहें और अपनी उंगलियों से ठोड़ी को पीछे धकेलें।
  • तीन तक गिनें, और फिर आराम करें।

गर्दन को किसी किस्म का चोट पहुंचाने या गर्दन के दर्द को और बदतर बनाने से बचने के लिए आपको इसे बहुत सावधानी से करना चाहिए।

लाभ

यह स्ट्रेचिंग :

  • गर्दन की मांसपेशियों को मजबूत करती है।
  • गर्दन दर्द को कम करता है।
  • पीठ और कमर की मुद्रा में सुधार करती है।

इस लेख को भी पढ़ें: फैट जलाने और अपना पॉस्चर सुधारने की शानदार एक्सरसाइज

2. पीठ के पीछे अपनी बाहों की स्ट्रेचिंग (Stretching your arms behind your back)

  • भुजाओं को पीछे की ओर रखकर और अपनी उंगलियों को जोड़कर शुरू करें।
  • फिर अपनी बाहों को धीरे-धीरे ऊपर उठाएं जब तक आपको महसूस न हो कि आपकी छाती में भरपूर खिंचाव आ गया है।

याद रखें, इस स्थिति में अपनी मांसपेशियों पर ज्यादा जोर-आजमाइश न करें। यदि दर्द महसूस हो तो धीरे-धीरे खुद को आराम दें।

लाभ

यह स्ट्रेचिंग :

  • कूबड़ वाले कंधों की मुद्रा को ठीक करता है।
  • छाती की मांसपेशियों से तनाव को दूर करता है।
  • कंधों के तनाव से राहत देता है।

3. दीवार के खिलाफ बाहों की स्ट्रेचिंग (Stretching your arms against the wall)

  • दीवार के करीब पहुंचें और अपनी एक बाँह को क्षैतिज रूप से फैलाएं। आपके हाथ की हथेली दीवार पर टिकी होनी चाहिए।
  • अब जिस हाथ को आपने फैलाया है उससे उल्टी ओर शरीर को मोड़ते हुए दीवार पर थोड़ा दबाव डालें।
  • दस सेकंड के लिए स्थिति में रहें और फिर दूसरे हाथ से इस व्यायाम को दोहराएं।

लाभ

यह स्ट्रेचिंग :

  • पेक्टोरल मसल्स की एक्सरसाइज कराती है।
  • कंधों में तनाव से राहत देती है।
  • कंधे के दर्द को कम करती है।

इस लेख को भी देखें: 5 आसान व्यायाम, शरीर को सही शेप में लाने के लिए इन्हें घर पर करें

4. हिप की स्ट्रेचिंग (Stretching the hip abductors)

पॉस्चर : हिप की स्ट्रेचिंग

  • सबसे पहले फर्श पर बैठें और पीरों को तितली की मुद्रा में रखें।
  • पैरों के तलवों को एक साथ जोड़ें और उन्हें जितना हो सके शरीर के करीब लायें।
  • फिर अपनी कोहनी से घुटनों पर थोड़ा नीचे दबाएं।
  • 20 सेकंड के लिए इस स्थिति में रहें।

लाभ

यह स्ट्रेचिंग :

  • पेल्विस के झुकाव को कम करती है।
  • पीठ के निचले हिस्से की वक्रता को कम करती है।
  • कमर और पीठ के निचले हिस्से के दर्द से राहत दिलाती है।

पॉस्चर को ठीक करने वाली इन स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज से आप मांसपेशियों और पीठ के निचले हिस्से के दर्द से राहत पा सकेंगे। इनसे तनाव और चोट के जोखिम को भी कम कर सकते हैं। कुल मिलाकर आपकी शारीरिक स्थिति में काफी सुधार होगा। पॉजिटिव परिणाम के लिए ये एक्सरसाइज रोज करें।

किसी किस्म की असुविधा का पता लगाने और उसे ठीक करने के लिए अपने शरीर के बारे में जागरूक रहना अहम है। अपने ढलके हुए कंधे और ढीले-ढाले पॉस्चर को ठीक करना सिर्फ इस बारे में सोचने से नहीं होगा। इसमें लगातार जुटे रहना होगा।

आपको सीधे बैठने और एक्सरसाइज करने के बारे में अलर्ट रहना चाहिए जो आपकी मुद्रा को ठीक कर सकते हैं।

हालाँकि, यदि आपको पॉस्चर की अधिक गंभीर समस्या है तो आप खुद इसमें सुधार नहीं कर पाएंगे। आपको किसी एक्सपर्ट की मदद लेनी होगी।

अपनी शारीरिक स्थिति में सुधार करने के साथ-साथ अपने आत्मविश्वास में सुधार करना महत्वपूर्ण होगा। पॉस्चर शानदार होने से आप अधिक आत्मविश्वास महसूस करेंगे और आपकी शारीरिक बनावट में भी सुधार आएगा।

Asher, M. A., & Burton, D. C. (2006). Adolescent idiopathic scoliosis: Natural history and long term treatment effects. Scoliosis. https://doi.org/10.1186/1748-7161-1-2

Kim, D., Cho, M., Park, Y., & Yang, Y. (2015). Effect of an exercise program for posture correction on musculoskeletal pain. Journal of Physical Therapy Science. https://doi.org/10.1589/jpts.27.1791

Hrysomallis, C. (2010). Effectiveness of strengthening and stretching exercises for the postural correction of abducted scapulae: A review. Journal of Strength and Conditioning Research. https://doi.org/10.1519/JSC.0b013e3181c069d8

Lee, M.-H., Park, S.-J., & Kim, J.-S. (2013). Effects of Neck Exercise on High-School Students’ Neck–Shoulder Posture. Journal of Physical Therapy Science. https://doi.org/10.1589/jpts.25.571

Mcgill, S. M., Karpowicz, A., Fenwick, C. M. J., & Brown, S. H. M. (2009). Exercises for the torso performed in a standing posture: Spine and hip motion and motor patterns and spine load. Journal of Strength and Conditioning Research. https://doi.org/10.1519/JSC.0b013e3181a0227e