पैरों के फंगस को जड़ से खत्म करने के 3 शानदार नुस्ख़े

15 जून, 2018
ट्रीटमेंट के साथ-साथ पैरों के फंगस को खत्म करने के लिए रोकथाम भी ज़रूरी है: सूती मोजे पहनें और अपने पैरों को धूप में सेंकें।
 
एक दिन अचानक आप महसूस करते हैं कि आपके पैरों में चुभन-सी हो रही है जिसे आपने पहले कभी नहीं महसूस किया था। कुछ दिनों से आप अपने पैर के उस हिस्से में अजीब सी असुविधा महसूस कर रहे हैं, लेकिन आपने यह सोचा ही नहीं  कि यह पैरों के फंगस  के कारण भी हो सकता है।
लेकिन इस दिन आपको यह इतना परेशान कर देता है, कि आप जल्दी से जल्दी घर लौटने की सोचते हैं जिससे आप अपने पांव को ठीक से देख सकें। आप आख़िरकार यही करते हैं और क्या पाते हैं?
आपकी स्किन ने अपना चिकनापन खो दिया है। अब यह सामान्य से ज्यादा खुरदुरी है और आपके नाखूनों में से एक का रंग अजीब है ।
मानिए या ना मानिए, यह दृश्य जितना आप सोच‌ रहे हैं, उससे कहीं ज्यादा आम है और निश्चय ही आप यह पहचान लेंगे कि आपके पैरों में फंगस का संक्रमण है जिसे ‘एथलीट्स फुट’ के नाम से भी जाना जाता है।
वैसे तो यह एक सामान्य स्थिति है, फिर भी पैरों के फंगस से पीड़ित व्यक्ति एक विशेष प्रकार की शर्म महसूस करता है क्योंकि रोजमर्रा के जीवन में इसे विशेष रूप से साफ-सफाई ना रखने से जोड़कर देखा जाता है। हालांकि हर बार इसका कारण यही हो, ऐसा जरूरी नही।
यहां हम एक ऐसे संक्रमण के बारे में बात कर रहे हैं जो अत्यधिक नमी के कारण होता है। इसलिए यह सफाई से जुड़ा ना होकर पसीने से जुड़ा है।
यही वह तथ्य है जिसको ध्यान में रखकर आपको अपने पैरों के फंगस के कारण को ढूंढना चाहिए। आपको ऐसे उपायों का उपयोग करना चाहिए जो इस समस्या का समाधान करें और एंटीसेप्टिक की तरह काम करें|
इस तरह आप पैरों के फंगस के कारण अौर उसके प्रभाव दोनों को रोक देते हैं।

 पैरों के फंगस को खत्म करने के लिए 3 उपचार

1. एप्पल साइडर विनेगर

पैरों के फंगस: सेब साइडर सिरका
एप्पल साइडर सिरका बहुत ही प्रभावशाली नेचुरल एंटीबायोटिक है। जब किसी संक्रमण की बात आती है, तो यह हमेशा एक अच्छा विकल्प है।
 
हालांकि, हमारे  बताए उपाय में ऐसे तत्व शामिल हैं जो किसी भी एंटीबायोटिक के लिए आदर्श पूरक हैं।

सामग्री

  • 2 नींबू
  • 3 लहसुन की कली
  • ½ गिलास पानी (100 मिलीलीटर)
  • रोजमेरी की एक शाखा
  • एक गिलास सिरका (200 मिलीलीटर)

बनाने की विधि

  • स्लाइस में नींबू काट लें और लहसुन से छिलका उतार दें।
  • पानी को नींबू, लहसुन और रोजमेरी के साथ उबालें और कुछ मिनट के लिए इसे पकने दें।
  • कुछ समय के बाद इसे आंच से हटा दें ताकि वह ठंडी हो जाए।
  • एक बार ठंडा होने पर इसमें सिरका डालें और अच्छी तरह से मिला लें

उपयोग

  • इसे अपने पैरों पर लगाने से पहले, पैर साफ कर लें।
  • ऐसा करने के लिए प्राकृतिक साबुन और पानी का उपयोग करें और फिर पैरों को सूखाएं। याद रखें कि आर्द्रता घातक सिद्ध हो सकती है।
  • फिर पैरों के फंगस के खत्म होने तक आपको जितनी बार आवश्यकता हो उतनी बार मिश्रण को पैरों पर लगाएं।

2) पैरों के फंगस के लिए टी ट्री ऑयल

पैरों के फंगस: टी ट्री ऑयल
जब पैरो पर फंगस लगे हों, तो यह जरूरी नहीं कि ये हमेशा त्वचा पर हों। वास्तव में इसका नाखूनों पर केंद्रित होना बहुत आम है। ऐसी अवस्था में नाखूनों का रंग  बैंगनी हो जाता है।
कभी-कभी नाखून धीरे-धीरे टूटते भी हैं। अगर आपको ऐसे लक्षण दिखते हैं तो टी ट्री ऑयल सर्वोत्तम विकल्प है।
इसकी सबसे बढ़िया बात यह है कि यह पैरों के फंगस के संक्रमण के कारणों पर सीधे वार करता है। यह ना सिर्फ संक्रमण का उपचार करता है बल्कि सीधे उसकी जड़ को ही खत्म कर देता है।
बहुत से लोगों का यह कहना है कि जब उन्हें एक बार फंगल इंफेक्शन हो जाता है तो वह बार-बार होता रहता है।
हालंकि, फंगस को जड़ से ख़त्म करने वाले अपने गुणों के कारण टी ट्री ऑयल भविष्य के संक्रमण से भी बचाता है।
आप इसे किसी भी हर्बल स्टोर से खरीद सकते हैं। यह बड़ी दुकानों में भी उपलब्ध होता है।

3) लैवेंडर का तेल

पैरों के फंगस: लैवेंडर का तेल
 
लैवेंडर ऑयल एक बहुत ही प्रभावशाली कवक संक्रमण-रोधी है, लेकिन अपने चिकित्सीय गुणों के साथ ही यह एक रक्षात्मक परत भी बनाता है।
इस तरह की समस्या के प्रति आपके ज्यादा संवेदनशील होने के के बावजूद आप इसे अपनी समस्या के खिलाफ एक अच्छे दोस्त के रूप में पायेंगे|
  • डिस्पेंसर की सहायता से इसे दिन में 3 बार लगाएं। प्रभावित जगह पर लगभग 3 बूंद डाले। इसे सूखने दें।
  • पैरों को पहले से धो लेना और सुखाना ना भूलें। इसके बिना ट्रीटमेंट प्रभावी नहीं होगा।
टी ट्री ऑयल की तरह इसे आप किसी भी बड़ी दुकान से, या हर्बल स्टोर से खरीद सकते हैं।

अंतिम सलाह

अंत में हम आपको याद दिलाना चाहते हैं कि पैरों के फंगस की समस्या में रोकथाम बहुत ज़रूरी है। हमने पहले ही बताया है, नमी से दूर रहें और पैरों को खुला रखें।
ऐसा करने के लिए हमेशा सूती मोजे पहनें और जब भी मौका मिले अपने पैरों को धूप दिखाएँ। ये दोनों आसान उपाय सूक्ष्मजीवों की बढ़त को बड़े प्रभावशाली ढंग से रोकते हैं।