7 खाद्य : इन्हें खाकर प्राकृतिक रूप से एनीमिया से लड़ें

नवम्बर 12, 2019
आज के आर्टिकल में हम 7 ऐसे अद्भुत खाद्यों की बात करेंगे जो एनीमिया का मुकाबला कर सकते हैं।

एनीमिया खून में हीमोग्लोबिन की कमी की स्थिति है। यह करीब-करीब हमेशा आयरन की कमी या फोलिक एसिड या विटामिन B 12 जैसे पोषक तत्वों की कमी के कारण होता है। अच्छी खबर यह है कि यह एक ऐसी समस्या है जिसे नेचुरल तरीके से संभाला जा सकता है। इसलिए यहां हम आपको 7 अद्भुत खाद्य पदार्थों के बारे में बताना चाहते हैं जो एनीमिया से लड़ने में आपकी मदद कर सकते हैं।

यह सबसे आम पोषण संबंधी स्वास्थ्य समस्याओं में से एक है और सभी प्रकार के लोगों में देखी जाती है। पर इससे सबसे ज्यादा बच्चे और महिलाएं प्रभावित होते हैं। यह स्थिति कई अहम अंगों के कामकाज में भी हस्तक्षेप कर सकती है।

प्रभावित व्यक्ति अक्सर थका हुआ और ज्यादा गंभीर मामलों में है ब्लड प्रेशर जैसी स्थितियों का शिकार हो सकता है। ऐसे में इंफेक्शन आसानी से हो सकता है, यहां तक ​​कि मेमोरी लॉस भी हो सकती है।

1. पालक खाकर एनीमिया से लड़ें

कम कैलोरी और जरूरी पोषक तत्वों से भरपूर पालक एनीमिया से लड़ने वाले खाद्यों की हमारी लिस्ट में पहली पोजीशन की हकदार है। इसमें विटामिन A और B कॉम्प्लेक्स होते हैं। ये दोनों विटामिन आपकी रोग प्रतिरोधी प्रणाली को मजबूत करने और थकान से लड़ने के लिए जरूरी हैं।

पालक में आयरन, जिंक और कैल्शियम की मात्रा हीमोग्लोबिन के बनने को प्रोत्साहित करती है और आपके ब्लड सर्कुलेशन को फिर से रेस्टोर करने में मदद करती है। इस तरह यह टिशू के ऑक्सीडेशन में सुधार करती है।

आदर्श बात यह है कि आपके आयरन की जरूरत का 20% पाने के लिए कम से कम 1/2 कप पालक होनी चाहिए।

इसे भी पढ़ें: विटामिन E से भरपूर खाद्य

2. ओट्स खाकर एनीमिया से लड़ें

आयरन का एक स्रोत होने के अलावा ओट्स में विटामिन और एंटीऑक्सिडेंट भी होते हैं जो इस स्थिति का इलाज करने में महत्वपूर्ण हैं।

ओट्स में पोषक तत्वों की भारी मात्रा ऑक्सीजन और पोषक तत्वों को आपके शरीर में बेहतर तरीके से पहुंचाने में मदद करती है। इससे शारीरिक और मानसिक थकान को रोका जा सकता है।

जब तक आपकी एनीमिया में सुधार नहीं होता है तब तक दिन में 2 या 3 बड़े चम्मच ओट्स लें।

3 अंडे

नियमित रूप से अंडे का सेवन आपके शरीर को ऊर्जावान बनाए रखने में मदद करता है। इनमें जरूरी एमिनो एसिड और मिनरल होते हैं जो हीमोग्लोबिन और एंटीबॉडी बनाने में मदद करते हैं।

उनकी न्यूट्रीशन प्रोफ़ाइल क्रोनिक एनीमिया में मदद करती है, साथ ही नाजुक बाल और नाखून जैसे लक्षणों को नियंत्रित करती है।

रेगुलर डाइट में अंडे को शामिल करें, खासकर नाश्ते में।

इन्हें संतरे के जूस में मिलाएं जिससे उनके पोषक तत्व ज्यादा असरदार ढंग से अवशोषित हो सकें।

4. दाल

एनीमिया वाले किसी भी व्यक्ति के लिए दाल सबसे अच्छी फलियों में से एक है। उनमें मौजूद आयरन लाल रक्त कोशिका के उत्पादन और किसी भी सर्कुलेशन की समस्या को ठीक करती है।

इनमें प्रोटीन और एंटीऑक्सिडेंट होते हैं जो पोषण संबंधी कमियों के कारण कोशिकाओं को टूटने से बचाने में मदद करते हैं।
हफ्ते में 3 बार दाल परोसें

5. हॉल व्हीट ब्रेड

संपूर्ण अनाज खाद्य पदार्थ एक बढ़िया विकल्प हैं यदि आप एनीमिया के कारण थकान और कमजोरी का मुकाबला करना चाहते हैं। कार्बोहाइड्रेट आपके ऊतकों और कोशिकाओं के लिए ईंधन का एक स्रोत हैं, जो आपके शारीरिक और मानसिक प्रदर्शन को बनाए रखने में मदद करता है।

साबुत अनाज में भी कम मात्रा में आयरन होता है। अन्य खाद्य पदार्थों के साथ मिलकर यह इस स्थिति से आपकी वसूली को गति देता है।

एनीमिया से लड़ने में मदद करने के लिए दुबले मांस, एवोकैडो या फल के साथ अपने नाश्ते में साबुत अनाज शामिल करें
इसे भी  पढ़ें: 5 नेचुरल तरीके: अपने खून में आयरन लेवल बढ़ाने के

6. लिवर

एनीमिया वाले लोगों के लिए उपचार योजनाओं में अक्सर बीफ़ यकृत के साथ एक आहार शामिल होता है। यह मांस आसानी से अवशोषित लोहा का एक प्रमुख स्रोत है और इसलिए एनीमिया के लिए सबसे अच्छा पोषण संबंधी उत्तरों में से एक है।

सप्ताह में कम से कम दो बार इसे खाएं।

7. अनार खाकर एनीमिया से लड़ें

जबकि अनार में लोहे के उच्च स्तर नहीं होते हैं, उन्हें अपने आहार में शामिल करने से एनीमिया के लक्षणों में मदद मिल सकती है। इनमें फाइबर, पोटेशियम और अन्य आवश्यक खनिज होते हैं, जो कि कमियों का मुकाबला करने के साथ-साथ आपके परिसंचरण और सेल ऑक्सीकरण की प्रक्रिया में सुधार करते हैं।

उन्हें मॉडरेशन में रखने से आपकी ऊर्जा का स्तर बढ़ता है और आपके हीमोग्लोबिन के उत्पादन को संतुलित रखने में मदद करता है।

एक दिन अनार का एक टुकड़ा लें, या रस के रूप में इसका आनंद लें।

क्या आपको एनीमिया का पता चला है? आपके डॉक्टर की सलाह का पालन करने के अलावा, हम आपको इन खाद्य पदार्थों की खपत बढ़ाने की सलाह देते हैं।

  • Luo, Y. W., & Xie, W. H. (2012). Effects of vegetables on iron and zinc availability in cereals and legumes. International Food Research Journal. https://doi.org/10.1007/BF02682610
  • DeLoughery, T. G. (2017). Iron Deficiency Anemia. Medical Clinics of North America. https://doi.org/10.1016/j.mcna.2016.09.004