जैसे-जैसे आप बड़े होते हैं, वजन घटाना मुश्किल होने लगता है

नवम्बर 4, 2019
उम्र के साथ ऊर्जा बचाने के लिए आपका शरीर हार्मोन के बदलावों से गुजरता है और आपकी डाइट आपके वजन पर ज्यादा असर डालती है। इन बदलावों के अनुकूल एडाप्ट करने के लिए मेटाबोलिज्म धीमा हो जाता है और आपका वजन बढ़ना शुरू हो जाता है। इसलिए आपको अपना फ़ूड हैबिट सुधारने की ज़रूरत पड़ती है।

ऐसा क्यों होता है कि जैसे-जैसे आप बड़े होते हैं, वजन घटाना मुश्किल होने लगता है (दूसरे शब्दों में वजन बढ़ाना आसान हो जाता है)? यह सामान्य प्रक्रिया जो लाखों लोगों पर असर डालती है, उसकी कम से कम एक व्याख्या है। यहां कुछ आम कारण बताए गए हैं कि जैसे-जैसे आप बड़े होते हैं, आपकी डाइट आपके वजन पर ज्यादा असर डालती है।

ज्यादा वर्ष = ज्यादा किलो?

आपका शरीर बदलता है, विकसित होता रहता है, जीवन भर। आपकी मसल्स, हड्डियां और मेटाबोलिज्म लगातार बदलते रहते हैं।

10 साल के बच्चे का शरीर उसी तरह से काम नहीं करता है जैसे वह उसके 25, 40 या 65 साल का होने पर करता है। वयस्क होने पर आप धीरे-धीरे मसल्स को खोएंगे और आपका मेटाबोलिज्म धीमा हो जाएगा।

इसलिए शरीर के वजन में बदलाव देखना और यह देखना आम है कि पहले के मुकाबले तमाम अंगों में फैट जमा हो रही है। इसके अलावा इस फैट से छुटकारा पाना बहुत मुश्किल हो सकता है।

आपकी बेसलाइन एनर्जी एक्सपेंडिचर भी ज़िन्दगी के हर स्टेज में बदलती है। जब आप छोटे होते हैं, तो आप ज्यादा खर्च करते हैं, लेकिन वक्त के साथ यह कम हो जाता है। क्योंकि आपका शरीर एनर्जी का इस्तेमाल करने में ज्यादा कुशल हो जाता है।

आपको पसंद आ सकता है: 7 शानदार बदलाव : डाइटिंग के बिना वजन घटाने के लिए

उम्र बढ़ने के साथ आपकी डाइट आपके वजन को ज्यादा क्यों प्रभावित करती है

1. आपका बॉडी कंपोजीशन बदलती है

जैसे-जैसे आप बड़े होते हैं, आप मसल्स को खोते हैं और फैट जमा कर लेते हैं।

20 से 30 साल के बीच के पुरुष शरीर में फैट 18% और 21% के बीच होता है। 41 और 50 की उम्र के बीच यह 25% तक पहुँच जाता है और 60 वर्ष की आयु से ऊपर यह 26% से ज्यादा होता है।

महिलाओं के मामले में भी यही सच है: उनमें 20 से 30 साल की उम्र में 22 से 24% फैट होता है, 41 और 50 की उम्र के बीच 27% से 30% तक पहुंच जाता है, और अंत में 60 वर्ष की आयु के बाद 31% से ज्यादा हो जाता है।

फैट प्राकृतिक रूप से बनता है, जबकि मांसपेशियों में कमी आती है। क्योंकि मसल्स में फैट के मुकाबले ज्यादा ऊर्जा जलती है।

2. हार्मोन बदलते हैं

आपकी डाइट आपके वजन को ज्यादा क्यों प्रभावित करती है

यह न सिर्फ मेनोपाज से गुजरने वाली महिलाओं के मामले में सच है, बल्कि वयस्क पुरुषों में भी होता है।

आपके हार्मोन पैटर्न का आपके वजन से बहुत गहरा सम्बन्ध होता है क्योंकि उदाहरण के लिए वे प्रभावित करते हैं कि आप क्या खाते हैं या सोते हैं।

जैसे-जैसे आप बड़े होते हैं, आपके हार्मोन एनर्जी बचाने का काम करते हैं। क्योंकि जब आप छोटे थे तो आपके पास उतनी क्षमताएं नहीं थीं। इसलिए आपमें फैट (विशेषकर कमर के आसपास) जमा होने की  संभावना ज्यादा होती है।

यह आपके शरीर को कम फिजिकल एक्टिविटी के लिए तैयार करता है।

30 साल की उम्र के बाद वजन बढ़ाना आसान होता है

इसका मतलब यह नहीं है कि आप अपने 30 के पहले जो कुछ भी चाहते हैं उसे खाने की अब आजादी है। इसी तरह, आपमें शारीरिक बदलाव सिर्फ बुढ़ापे में नहीं दिखाई देते हैं।

जैसे-जैसे आप बड़े होते हैं, आप अपने शरीर के मध्य भाग को बड़ा होते हुए देखेंगे और आपका पेट बाहर निकल सकता है। इसके अलावा आपके कपड़े शायद वैसे फिट नहीं होते जैसे वे होते थे।

आपके बर्थडे केक पर ज्यादा कैंडल रखने और वजन बढ़ने के बीच एक रिश्ता है। नतीजतन अगर आप खाने की आदतों को पहले की तरह ही बनाए रखते हैं, तो वजन बढ़ना निश्चित है। यह सच है कि उम्र के साथ आपकी डाइट आपके वजन पर ज्यादा असर डालती है। इसलिए यह अहम है कि आप 30 की उम्र से पहले ही एक हेल्दी लाइफस्टाइल अपना लें।

मोटापे और ज्यादा वजन के खिलाफ लड़ाई साल गुजरने के साथ ही कठिन हो जाती है। गलत डाइट, स्ट्रेस, हेरिडेटरी फैक्टर और एक सुस्त लाइफस्टाइल आपके बढ़ते हुए वजन पर असर डाल सकता है।

इसके अलावा, कुछ दवाओं और हार्मोनल इम्बैलेंस से वजन बढ़ सकता है। इनमें से दूसरा फैट जमा होने के मुख्य कारणों में से एक है।

30 वर्ष की उम्र के बाद हार्मोन एस्ट्रोजन (estrogen), प्रोजेस्टेरोन (progesterone), और एण्ड्रोजन (androgens) वैसे ही काम नहीं करते हैं जैसे वे पहले करते थे। बॉडी मास को बनाए रखने के लिए ये हार्मोन ज़रूरी हैं। नतीजतन आपके हिप्स, पेट या जांघों में कुछ बदलाव देखना आम है।

15 या 20 वर्ष की उम्र में जो ऊर्जा के अटूट स्रोत लगते थे, वे गायब हो जाते हैं और आप ज्यादा सुस्त जीवनशैली का शिकार होने लगते हैं।

अगर आप काम के बीच ज्यादा रिलैक्सिंग एक्टिविटी अपनाते हैं (बाहर खाना, फिल्म देखना), तो इससे आपकी उम्र के अनुसार वजन बढ़ता है। यह बहुत ही सरल धारणा है।

इसे भी पढ़ें : वजन घटाने के लिए तेज पत्ता और दालचीनी का शानदार नुस्खा

उम्र बढ़ने के साथ कई बदलाव होते हैं

उम्र बढ़ने के साथ वजन के अलावा कई बदलाव होते हैं

अगर आप एक हेल्दी लाइफस्टाइल अपनायें, एक्सरसाइज करें और अच्छा खाना खाएं तो क्या होगा? आपको उस कैलोरी का ध्यान रखना होगा जिसकी आपको ज़रूरत है।

  • उदाहरण के लिए एक 31 वर्षीय महिला जिसका वजन 56.5 किलो है, उसे अपना वजन बनाए रखने के लिए रोजाना 2000 कैलोरी चाहिए।
  • वही 45 वर्ष की आयु की महिला को सिर्फ 1850 कैलोरी की ज़रूरत होगी।

अगर आप रोजाना 2000 कैलोरी खाना जारी रखते हैं, तो आपके पास 150 कैलोरी एक्स्ट्रा होगी जो 6 महीनों में लगभग 4.5 किलो बढ़ा देगा। नतीजतन आपको यह समझने की ज़रूरत है कि जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती है डाइट आपके वजन को ज्यादा प्रभावित करती है।

आपको सिर्फ उन एक्स्ट्रा किलो के बारे में सोचने की ज़रूरत नहीं है बल्कि ऐसी कोई भी बीमारी या स्थिति जो आपको एक एडल्ट के रूप में प्रभावित करना शुरू करती है, उसके बारे में भी सोचना होगा।

यह ओस्टियोपोरोसिस के कारण  हड्डियों के घनत्व में कमी, या जॉइंट प्रॉब्लम के कारण क्रोनिक ऑस्टियोआर्थराइटिस का मामला हो सकता है।

उम्र बढ़ने के साथ मोटे होने से बचने के लिए इन नई वास्तविकताओं के अनुरूप भी आपको अपनी मौजूदा हैबिट को ढालने की ज़रूरत होगी। उदाहरण के लिए:

  • ज्यादा लो इम्पैक्ट एक्सरसाइज प्रैक्टिस करना (योग, पिलेट्स, स्विमिंग आदि) का अभ्यास करें
  • फैट, नमक और आटे सेवन घटाएं
  • धूम्रपान या शराब से बचें
  • पूरी नींद लें

अंत में, आपको यह समझने की ज़रूरत है कि 50 की उम्र में आपका शरीर वही नहीं होगा जो 25 साल की उम्मेंर में था। इसके अलावा दो दशक से आपकी आदतें बिलकुल अलग हैं और आपका शरीर बहुत बदल गया है। आपकी डाइट आपके वजन के लिए बड़ी फैक्टर है, इसलिए कम खाना और ज्यादा एक्सरसाइज ज़रूरी है।