मसूड़ों की सूजन से छुटकारा पाने के 7 प्राकृतिक उपाय

18 दिसम्बर, 2018
हालांकि मसूड़ों की सूजन को कम करने में नीचे दिए उपाय कारगर साबित हो सकते हैं, समस्या के गंभीर हो जाने पर डेंटिस्ट के पास जाने के ख्याल को भी खारिज नहीं किया जाना चाहिए।

मुंह की ख़राब आदतों, बैक्टीरियल संक्रमण या कुछ ओरल ट्रीटमेंट्स की वजह से होने वाली मसूड़ों की सूजन, मुंह की एक आम समस्या होती है

इन समस्याओं के लक्षण मसूड़ों की मोटाई और रंग में आए बदलावों के रूप में आसानी से देखे जा सकते हैं।

मसूड़ों की सूजन के साथ-साथ मसूड़ों से खून निकलने, उनमें दर्द होने, दांतों के अतिसंवेदनशील हो जाने और मुंह से दुर्गंध आने जैसे लक्षण भी सामने आ सकते हैं।

मुंह की इस समस्या का संबंध जिंजीवाइटिस नाम की अवस्था से होता है, जिसे पीरियडोंन्टल रोग का पहला चरण माना जाता है।

जिंजीवाइटिस के पीछे प्लाक के जमाव का हाथ होता है। ब्रश करने पर भी वह कई बार हमारे दांतों में ही रह जाता है।

खुशकिस्मती से, ऐसे कई प्राकृतिक इन्ग्रेडिएंट्स हैं, जो मसूड़ों की सूजन का मुकाबला करते हैं। वह इसलिए कि उनकी खूबियाँ हमारी परेशानी को और जटिल होने से तो रोकती ही हैं, हमारे मसूड़ों की सूजन को भी वे कम कर देती हैं

हालांकि इन प्राकृतिक इन्ग्रेडिएंट्स का इस्तेमाल मुंह की साफ़-सफाई की अन्य सामग्री के साथ ही किया जाना चाहिए, हमारे दर्द को कम कर मसूड़ों की सूजन से उभरने की हमारी प्रक्रिया को वे तेज़ ज़रूर कर सकते हैं।

उन्हें आज़माकर तो देखें!

मसूड़ों की सूजन के लिए प्राकृतिक उपाय

1. नमक वाला गर्म पानी

मसूड़ों की सूजन से राहत पाने के लिए नमक वाले पानी से गरारे करें

गर्म पानी और नमक से बने माउथवॉश की मदद से मसूड़ों की सूजन और उनसे बहते खून से आपको राहत मिल सकती है।

उसकी सूजनरोधी और एंटीबैक्टीरियल खूबियाँ प्रभावित जगहों में बैक्टीरिया की मौजूदगी को कम जो कर देती हैं।

सामग्री

  • एक चम्मच नमक (5 ग्राम)
  • आधा कप गर्म पानी (100 मिलीलीटर)

बनाने की विधि

  • गर्म पानी के गिलास में एक चम्मच नमक को डाईल्यूट कर उस लिक्विड से 30 सेकंड तक गरारे करें।
  • अनचाहे परिणामों से बचने के लिए उस मिश्रण को निगलने से बचें
  • दिन में दो से तीन बार उसका इस्तेमाल करें।

इसे भी आजमायें: 5 अचूक उपायों से करें साँसों की बदबू का सफाया

2. बेकिंग सोडा और हाइड्रोजन पेरोक्साइड

सोडियम बाइकार्बोनेट और हाइड्रोजन पेरोक्साइड में मौजूद एंटीबायोटिक और एंटीमाइक्रोबियल कंपाउंड कई तरह के संक्रमणों को पनपने से रोकते हैं।

आपके मसूड़ों की बात करें तो ये दोनों ही चीज़ें बैक्टीरिया के फैलाव को नियंत्रित कर जिंजीवाइटिस के लक्षणों में कमी ले आती हैं।

सामग्री

  • एक चम्मच बेकिंग सोडा (5 ग्राम)
  • छः बूँद हाइड्रोजन पेरोक्साइड

बनाने की विधि

  • बेकिंग सोडा को हाइड्रोजन पेरोक्साइड में मिलाकर उस पेस्ट से अपने दांत साफ़ करें।
  • उन दोनों के मिश्रण में थोड़ा-सा गर्म पानी डालकर आप उसे किसी माउथवॉश की तरह भी इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • उस पेस्ट का दिन में दो बार इस्तेमाल करें।

3. सेब साइडर सिरका

सेब साइडर सिरके की मदद से मसूड़ों की सूजन को कहें अलविदा

सेब साइडर सिरके के प्राकृतिक एसिड हमारे मुंह के पी.एच. को संतुलित कर संक्रमण पैदा करने वाले बैक्टीरिया के पनपने वाले माहौल को ही बदल देते हैं

किसी प्राकृतिक माउथवॉश के तौर पर सेब साइडर सिरके का इस्तेमाल मसूड़ों की सूजन और सांस की दुर्गंध से निजात पाने का एक कारगर उपाय होता है।

सामग्री

  • एक चम्मच सेब साइडर सिरका (10 मिलीलीटर)
  • आधा कप गर्म पानी (100 मिलीलीटर)

बनाने की विधि

  • सेब साइडर सिरके को गर्म पानी में मिला दें। उसे अच्छे से मिलाकर ब्रश करने के बाद उस मिश्रण से गरारे कर लें।
  • उसका इस्तेमाल दिन में दो बार करें।

4. नींबू

नींबू के रस के एसिडिक और एंटीबायोटिक गुण इस अवस्था से निपटने में मददगार साबित होते हैं।

उसके एसिडिक कंपाउंड हानिकारक बैक्टीरिया का खात्मा कर संक्रमण की वजह से होने वाली मसूड़ों की सूजन को कम जो कर देते हैं।

सामग्री

  • आधे नींबू का रस
  • आधा कप गर्म पानी (125 मिलीलीटर)

बनाने की विधि

  • नींबू को निचोड़कर उसके रस को आधे कप गर्म पानी में मिला लें।
  • 20 सेकंड तक उससे गरारे कर उसे थूक दें।
  • दिन में दो बार उससे गरारे करें।

5. ब्लूबेरी का रस

ब्लूबेरी का जूस मसूड़ों की सूजन का खात्मा कर देता है

ब्लूबेरी का रस एक ऐसी एंटीऑक्सीडेंट-युक्त ड्रिंक होती है, जो हमारे इम्यून सिस्टम को मज़बूत कर संक्रमणों के प्रति हमारी संवेदनशीलता को कम कर देती है

ब्लूबेरीज़ का सेवन करने से मसूड़ों की सूजन और उनसे बहने वाला खून तो नियंत्रित हो ही जाता है, साथ ही कीटाणुओं की संख्या भी कम हो जाती है।

सामग्री

  • आधा कप ताज़ा ब्लूबेरीज़ (100 ग्राम)
  • दो कप पानी (500 मिलीलीटर)
  • एक चम्मच शहद (25 ग्राम)

बनाने की विधि

  • ब्लूबेरीज़ को आधे लीटर पानी में ब्लेंड कर उसमें थोड़ी-सी शहद डाल लें और फिर उस जूस का लुत्फ़ उठाएं।
  • रोज़ाना दो से तीन गिलास पिएं।

इसे भी आजमायें: मुंह के छालों का इलाज करने के लिए 7 घरेलू उपचार

6. अजवायन

मसूड़ों की सूजन और संक्रमण से पैदा होने वाले दर्द को नियंत्रित करने वाला अजवायन का रस एक सूजनरोधी और आरामदेह नुस्खा होता है।

उसे किसी माउथवॉश के तौर पर इस्तेमाल कर आप बैक्टीरिया को पनपने व जिंजीवाइटिस और पीरियडोंन्टल रोग जैसी परेशानियों को विकसित होने से रोक देते हैं।

सामग्री

  • दो चम्मच अजवायन (20 ग्राम)
  • एक कप पानी (125 मिलीलीटर)

बनाने की विधि

  • पानी को उबलने रखकर उसमें अजवायन डाल दें व आंच को कम कर दें।
  • दो मिनट तक उबालकर सॉस पैन को गैस से हटाकर मिश्रण को बैठ जाने दें।
  • उस मिश्रण के पीने के लिए तैयार हो जाने पर उसे छानकर उससे 20 से 30 सेकंड तक गरारे करें। फिर हमेशा की तरह कुल्ला कर लें।

7. लिंडन के फूल की चाय

मसूड़ों की सूजन का लिंडन के फूल वाली चाय से बैर

लिंडन के फूल वाली चाय, मुंह की समस्याओं से पैदा होने वाली सूजन और दर्द को कम करने वाली एक आरामदेह ड्रिंक होती है।

सामग्री

  • एक चम्मच लिंडन के फूल (10 ग्राम)
  • एक कप पानी (250 मिलीलीटर)

बनाने की विधि

  • एक चम्मच लिंडन के फूलों को एक कप उबलते पानी में डालकर उन्हें 10 मिनट के लिए छोड़ दें
  • मिश्रण को छानकर उस तरल से दिन में तीन बार गरारे करें

ध्यान रहे कि अलग-अलग लोगों पर उपर बताए उपायों के प्रभाव भी अलग-अलग ही होते हैं। यह सूजन के कारण पर निर्भर करता है।

हालांकि इन नुस्खों की मदद से मसूड़ों की सूजन के लक्षणों को आप काबू में कर सकते हैं, ज़्यादा गंभीर समस्याओं से बचने के लिए अपने डेंटिस्ट की सलाह लेना ही बेहतर होता है

  • Ben Lagha, A., Dudonné, S., Desjardins, Y., & Grenier, D. (2015). Wild Blueberry (Vaccinium angustifolium Ait.) Polyphenols Target Fusobacterium nucleatum and the Host Inflammatory Response: Potential Innovative Molecules for Treating Periodontal Diseases. Journal of Agricultural and Food Chemistry. https://doi.org/10.1021/acs.jafc.5b01525
  • GARLOUGH, D. (2016). Ancient remedies. RDH.
  • Mihele, D., Gîrd, C. E., Pop, A., & Al Borsh, M. A. (2008). Study regarding the antimicrobian and antifungic activity of the volatile oils from the citrus species. Archives of the Balkan Medical Union.
  • Mota, A. C. L. G., de Castro, R. D., de Araújo Oliveira, J., & de Oliveira Lima, E. (2015). Antifungal Activity of Apple Cider Vinegar on Candida Species Involved in Denture Stomatitis. Journal of Prosthodontics. https://doi.org/10.1111/jopr.12207