रोज कोलेजन लेने के 7 लाभ

23 जुलाई, 2018
ऐसे तो हम कोलेजन के सप्लीमेंट ले सकते हैं लेकिन जिन खाद्य पदार्थों में यह स्वाभाविक रूप से मौजूद होता है उनके माध्यम से इसका पूरा फायदा उठाना, इसे ग्रहण करने का सबसे अच्छा तरीका है।
 

हर जगह हम कोलेजन (Collagen) की अहिमियत के बारे में सुनते हैं। हमें ऐसे कॉस्मेटिक उत्पाद और यहां तक ​​कि खाद्य पदार्थ भी मिल सकते हैं जो स्वाभाविक रूप से कोलेजन प्रदान करते हैं।

लेकिन क्या आप वास्तव में जानते हैं कि कोलेजन क्या है और यह आपकी मदद कैसे करता है?

इस पोस्ट में हम आपको इसके बारे में सब कुछ बताएंगे।

कोलेजन क्या है?

कोलेजन एक पदार्थ है जो हड्डियों, कार्टिलेज और त्वचा के गठन में भूमिका निभाता है। यह हमारी सेहत के लिए भी आवश्यक है क्योंकि यह हम सबके अंदर मौजूद है और हमें इसकी ज़रूरत होती है।

समय के साथ आपका कोलेजन स्तर कम हो जाता है। कभी-कभी इसके फलस्वरूप हड्डियों, झुर्रियों और कमजोर जोड़ों की समस्याएं पैदा होती हैं।

1. यह शरीर को व्यायाम का ज्यादा से ज्यादा फायदा उठाने में मदद करता है

इसे रोज लेने का पहला लाभ यह है कि कोलेजन की पर्याप्त मात्रा होने से मांसपेशी के गठन में मदद मिलती है।

इसका मतलब है:

  • आपको अपनी मांसपेशी को सुडौल बनाने और फैट को जलाने के लिए कम कसरत करनी पड़ेगी।
  • कड़ी एक्सरसाइज सेशन के बाद आपका शरीर जल्दी रिकवर करेगा
  • चोट लगने की कम संभावना होगी क्योंकि आपकी मांसपेशियां मजबूत और अधिक प्रतिरोधी होंगी।

बेशक, इसके साथ आपको लीन मीट और मछली जैसे उच्च गुणवत्ता वाले प्रोटीन लेने की भी आवश्यकता होगी। आपको पूरी तरह व्यायाम करना बंद नहीं करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें:  एंग्ज़ाइअटी और वजन घटाने के लिए सीखें मैग्नीशियम क्लोराइड बनाना

2. यह निशान बनने से रोकता है

हमें यकीन है कि आपने इस बात को नोट किया होगा कि शरीर से निशान को हटाने का वादा करने वाले कई कॉस्मेटिक उत्पाद अपनी उच्च कोलेजन मात्रा का दावा करते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि कोलेजन स्किन टिश्यू को नुकसान पहुंचाए बिना इसे स्वस्थ बनाने और नयी कोशिकाओं को बनाने में सहायता करता है।

यदि आपको अक्सर मुँहासे या इसी तरह की समस्याएं होती हैं तो आपको अपने रोजमर्रा के आहार में कोलेजन और कोलेजन से समृद्ध खाद्य शामिल करना चाहिये। आप दाग और त्वचा में खिंचाव के निशान की मौजूदगी को कम करने के लिए कुछ मास्क भी लगा सकते हैं।

 

3. यह जोड़ों का स्वास्थ्य सुधारता है

कोलेजन के सेवन का एक अन्य कारण यह है कि यह जोड़ों में लचीलापन और चिकनाहट बनाए रखता है। इसके अलावा, यह कार्टिलेज को अच्छी शेप में रखता है।

  • जब आपके जोड़ स्वस्थ होते हैं तो वे अधिक लोचदार और लचीले होते हैं। नतीजतन, आपको कम चोट लगती है।
  • यदि आप देखते हैं कि आपके जोड़ हमेशा चटकते रहते हैं, आपको दर्द होता है या अक्सर फ्रैक्चर के शिकार होते हैं तो नियमित रूप से कोलेजन का सप्लीमेंट लें।

कुछ स्थितियों में, डॉक्टर नए कार्टिलेज इंजेक्ट करने की सलाह देते हैं। यदि यह आपके साथ ऐसा है तो ट्रीटमेंट के साथ रोज पर्याप्त कोलेजन का सेवन भी करें।

4. यह त्वचा की लोच को बनाए रखता है

त्वचा की संरचना काफी हद तक कोलेजन पर निर्भर करती है। जैसे-जैसे आप बूढ़े होते हैं, आपकी त्वचा में क्षय होता है और झुर्रियों में दूसरी खामियां आने लगती हैं।

अपने आपको तंबाकू का धुआं, अल्ट्रावायलेट किरणों, प्रदूषण और खतरनाक केमिकल के प्रभाव से बचाने के लिए हमेशा आवश्यक सावधानी बरतना भी महत्वपूर्ण है।

5. यह कम खाने के बाद भी देर तक भूख का अहसास नहीं होने देता

अगर आप अपनी सेहत को खतरे में डाले बिना नेचुरल तरीके से वजन कम करने की कोशिश कर रहे हैं तो आपको पता होना चाहिए कि कोलेजन पाउडर हाई प्रोटीन कंटेंट लिए होता है।

 

जब आप इसे अपनी पसंदीदा स्मूदी या ड्रिंक में डालेंगे तो आपको पता चलेगा कि यह स्वाद को बिलकुल नहीं बदलता है। लेकिन यह लंबे समय तक पेट को भरा हुआ महसूस कराता है।

इस रेसिपी को नाश्ते के विकल्प के रूप में आजमायें।

सामग्री

  • 2 बड़े चम्मच कोलेजन पाउडर (30 ग्राम)
  • 1 बड़ा चम्मच जई (15 ग्राम)
  • 1 बड़ा चम्मच कोको पाउडर (15 ग्राम)
  • ½ प्याला छोटी पत्तियों वाला पालक (30 ग्राम)
  • 1 प्याला बादाम दूध (250 मिली.)
  • 1 बड़ा चम्मच शहद (25 ग्राम)

तैयारी

  • सभी सामग्रियों को एक साथ मिलाएं और उसी समय पियें।

यदि आप डाइटिंग करते समय मीठी चीजों को मिस करते हैं तो यह मिश्रण आपके लिए एक अच्छा विकल्प है।

अगर आपका बच्चा नाश्ते के लिए सब्जियां खाने या फिर चॉकलेट दूध के अलावा कोई भी और चीज लेने से इंकार करता है तो ऐसी स्थिति के लिए भी यह बहुत बढ़िया है।

यह भी पढ़ें: किडनी ख़राब होने के लक्षण: वक्त रहते जानिये ये 7 संकेत

6. यह कार्डियोवैस्कुलर बीमारियों को रोकता है

रोज कोलेजन लेने का एक और फायदा यह है कि यह रक्त और लिम्फैटिक वेसेल में वाल्व की लोच में मदद करता है। इसका मतलब है कि यह शरीर की सफ़ाई को आसान कर देता है और लो ब्लड प्रेशर का शिकार होने के खतरे को कम करता है।

याद रखें, अपने आहार में कोलेजन को शामिल करने के अलावा आपको इस बात का ध्यान रखना है कि आप कैसे खाते हैं और हानिकारक फैट से बचते हैं।

7. रोजाना कोलेजन लेना आँखों की रोशनी बढ़ाता है

जब आप कोलेजन ग्रहण करते हैं तो आपके कॉर्निया का स्वास्थ्य सुधर सकता है।

अगर आपको चश्मा लगाने की ज़रूरत है या आपके नेत्र रोग विशेषज्ञ को ग्लूकोमा के संकेत पता चला है तो हम आपको कोलेजन लेने की सलाह देते हैं।

साथ ही, दृष्टिशक्ति में सुधार करने वाले खाद्य पदार्थों (जैसे गाजर) को खाना और अल्ट्रावायलेट किरणों और प्रदूषण से अपनी दृष्टि को सुरक्षित रखना न भूलें।

 

आप रोज कोलेजन कैसे ले सकते हैं?

कोलेजन को अपने आहार के माध्यम से लेना सबसे अच्छा होता है। ध्यान रखें कि उन्हें यथासंभव प्राकृतिक होना चाहिए।

इस तरह के कुछ खाद्य पदार्थ हैं:

  • हरी सब्जियां (ब्रोकोली, गोभी, सलाद पत्ता)
  • पालक
  • सारडाइन्स
  • खीरा
  • स्ट्रॉबेरी
  • ऑयस्टर्स
  • चिकन
  • मछली

कोलेजन लेने के अन्य तरीकों में इसके पाउडर, कैप्सूल या गोली के रूप शामिल हैं। हालांकि वे सबसे अच्छे विकल्प नहीं हो सकते हैं। फिर भी यदि आपको पता चलता है कि आपके आहार में कोलेजन की कमी है या ऐसा किसी समय पर हुआ है तो वे मददगार हो सकते हैं।

आपको इसके सप्लीमेंट और खुराक के बारे में जानने के लिए अपने पोषण एक्सपर्ट या डॉक्टर से मुलाकात करनी चाहिए।

  • Lee, C. H., Singla, A., & Lee, Y. (2001). Biomedical applications of collagen. International Journal of Pharmaceutics. http://doi.org/10.1016/S0378-5173(01)00691-3
  • Eyre, D. (2002). Collagen of articular cartilage. Arthritis Research. http://doi.org/10.1186/ar380
  • Gomez-Guillen, M. C., Gimenez, B., Lopez-Caballero, M. E., & Montero, M. P. (2011). Functional and bioactive properties of collagen and gelatin from alternative sources: A review. Food Hydrocolloids. https://doi.org/10.1016/j.foodhyd.2011.02.007
  • Asserin, J., Lati, E., Shioya, T., & Prawitt, J. (2015). The effect of oral collagen peptide supplementation on skin moisture and the dermal collagen network: Eevidence from an ex vivo model and randomized, placebo-controlled clinical trials. Journal of Cosmetic Dermatology. https://doi.org/10.1111/jocd.12174