4 उपयोग एस्पिरिन के जिनके बारे में आपने शायद कभी नहीं सुना होगा

24 सितम्बर, 2019
क्या आप एस्पिरिन के वैकल्पिक उपयोगों के बारे में जानते हैं। मिसाल के लिए फेस मास्क में एक सामग्री के रूप में इसका उपयोग करना। इस बारे में और अधिक जानने के लिए पढ़ते रहें!

कुछ साल पहले एस्पिरिन एक सामान्य दवा थी जिसका उपयोग हम कई चीजों के लिए करते थे। वक्त के साथ एस्पिरिन के वैकल्पिक उपयोग सामने आए हैं। क्या आप इसके सभी फायदों का पूरा लाभ नहीं उठा रहे हैं? इस पोस्ट के टाइटल से आप शायद अनुमान लगा चुके हैं, हम वास्तव में इसकी क्षमता को कम आंक रहे हैं।

आम तौर पर हम एस्पिरिन का उपयोग दर्द और बुखार कम करने के लिए करते हैं। इसका मतलब है, इसमें एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण हैं और खून का प्रवाह बढ़ाने के लिए यह शानदार है। दूसरी ओर ब्लड सर्कुलेशन की समस्याओं वाले लोग इसे एंटी-कॉगुलेंट के रूप में इस्तेमाल करते हैं।

इन सभी अद्भुत गुणों के साथ एस्पिरिन का उपयोग उन मसलों में किया जा सकता है जो सामान्य सर्दी, फ्लू या हल्के दर्द से ज्यादा गंभीर होते हैं। यह स्थानीय उपयोग के लिए भी बहुत अच्छा है।

हालाँकि अगर आपको एस्पिरिन से एलर्जी है, तो आप इसे अपनी त्वचा पर नहीं लगा सकते। इसलिए याद रखें, अगर आपको एसिटाइलसैलिसिलिक एसिड से इनटॉलेरेंस या एलर्जी है, तो आप इनमें से किसी भी तरीके का उपयोग नहीं कर सकते।

एस्पिरिन के लिए चार आश्चर्यजनक इस्तेमाल

1. एस्पिरिन से करें फेस मास्क की मरम्मत

ब्चेलड सर्हकुलेशन की समस्रेया के कारण चेहरे पर फैट इकठ्ठा होता है, इसलिए इस मामले में एस्पिरिन बहुत उपयोगी है। इसके अलावा, थकान चेहरे के कुछ हिस्सों में काले घेरे और सूजन के रूप में दिखाई दे सकती है।

यह आसान उपाय चिकनी, उज्ज्वल और हाइड्रेटेड रंगत बनाए रखने में आपका सबसे अच्छा सहयोगी बन जाएगा।

सामग्री

  • 6 एस्पिरिन की गोलियां
  • 1 बड़ा चम्मच शहद (25 ग्राम)
  • 1 बड़ा चम्मच नेचुरल दही (18 ग्राम)

निर्देश

  • मोर्टार में एस्पिरिन की गोलियां रखें और अच्छी तरह से पीस लें।
  • दही में शहद मिलाएं और फिर एस्पिरिन पाउडर मिलाएं।

उपयोग

  • सभी सामग्रियों और उनके गुणों का पूरा लाभ उठाने के लिए अपने चेहरे पर समान रूप से मिश्रण लगाएं।
  • गर्म पानी से धोने से पहले 10 मिनट के लिए इसे छोड़ दें।
  • जैसे ही आप धोएंगी अपनी त्वचा की चिकनाई में सुधार देखेंगी।

इसे भी पढ़ें : क्या होता है जब आप ऐस्परिन हेयर ट्रीटमेंट का इस्तेमाल करते हैं

2. मुँहासे कम करें

पहले बताये गए फायदों के अलावा एस्पिरिन का एक और बढ़िया पहलू इसके उपचार गुण हैं। इस प्रकार, यह मुँहासे के खिलाफ लड़ाई में एक महान सहयोगी बनाता है।

इस ट्रीटमेंट का असर बढ़ाने के लिए हम आपको एंटीबायोटिक गुणों वाले नींबू को शामिल करने की सलाह देंगे। इस ट्रीटमेंट को सिर्फ रात में लगायें जिससे धूप के प्रतिकूल असर से बचा जा सकें।

सामग्री

  • 4 एस्पिरिन की गोलियां
  • ½ कप पानी (100 मिली)
  • 1 चम्मच नींबू का रस (5 मिली)

निर्देश

  • एस्पिरिन की गोलियों को एक मोर्टार में पीस दें और उन्हें पानी के गिलास में डालें। फिर नींबू का रस डालें।
  • सबकुछ एक साथ मिलाएं और हिलाएं जब तक कि गोलियां टूट न जाएं।

उपयोग

सोने से पहले एक कॉटन बॉल को तरल में गीला करें और इसे पिंपल्स पर रगड़ें।

इसे पढ़ें : चेहरे के दाग-धब्बों को खत्म करने के लिए खुद बनायें नेचुरल पार्सले साबुन

3. एस्पिरिन से पायें बग बाईट में राहत

आपको मच्छर ने काटा है? हम एस्पिरिन के एंटी इन्फ्लेमेटरी और जीवाणुरोधी विशेषताओं का लाभ उठा सकते हैं

एस्पिरिन को पानी में घोल कर मिश्रण को काटे पर लगाने से खुजली और जलन पारंपरिक क्रीम की तुलना में तेजी से दूर होती है। इसके अलावा निशान बनने का जोखिम बहुत कम हो जाएगा क्योंकि एस्पिरिन में बहुत शानदार चिकित्सा गुण हैं।

4. पसीने के धब्बे हटाना

पसीने के धब्बों के कारण हमें अपनी पसंदीदा शर्ट को कितनी बार बाहर फेंकना पड़ा है? कभी-कभी दाग ​​इतना जिद्दी होता है कि उसे हटाना असंभव सा लगता है। लेकिन हार मानने से पहले यह नुस्खा आजमायें।

सामग्री

  • 7 एस्पिरिन की गोलियां
  • पानी (आवश्यकतानुसार)

निर्देश

  • 7 एस्पिरिन की गोलियों को पीस लें और थोड़ी मात्रा में गर्म पानी के साथ हिलाएं जब तक कि एक पेस्ट न बन जाए।

उपयोग

  • पसीने के धब्बे पर मिश्रण को रगड़ें।
  • रात भर छोड़ दें बिना धोएं।
  • लगभग 12 घंटे के बाद कपड़ा सामान्य तरीके से धो लें।

क्या आपको अभी भी लगता है कि एस्पिरिन के सिर्फ चंद ही उपयोग हैं? इसके कई घरेलू इलाज हैं जिन्हें आप अपनी त्वचा और कपड़ों की सुरक्षा के लिए आजमा सकते हैं।

किसी भी स्थिति में यदि आप एस्पिरिन के दूसरे उपयोगों को जानते हैं या यदि आपका कोई सवाल है, तो हम आपके सवालों का जवाब देने और दूसरी जानकारी शेयर करने के लिए तैयार हैं।

  • Di Paola, A. (1990). Evaluación prospectiva del tratamiento de acne complicado con tetraciclina e ibuprofen. Dermatología Venezolana, 28(1).
  • López, E. V., & Romero, A. C. (2017). Plan de negocio para la creación de una Mipymes para elaboración de mascarillas faciales caseras. Visionario Digital, 1(1), 49-62.
  • Rivera, M. A. G. (2002). La Aspirina. Revista Médica de la Universidad Veracruzana, 2(2), 46-48.