अपने सेल फोन से डिस्कनेक्ट रहने के लिए 10 बुनियादी बातें

26 अक्टूबर, 2020
यदि यह  कोई एडिक्शन बन जाए तो सेलफोन का इस्तेमाल आपकी सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है। इस आर्टिकल में हम सेलफोन से डिस्कनेक्ट रहने के लिए दस बुनियादी बातें शेयर करेंगे।

अगर आप छुट्टी पर जाने का प्लान बना रहे हैं या आपको लगता है कि आप और ज्यादा स्ट्रेस नहीं ले सकते, तो सेल फोन से डिस्कनेक्ट रहने की ये 10 बुनियादी बातें उपयोगी होंगी। यह कोई संयोग नहीं है कि बहुत से लोगों ने मानसिक और भावनात्मक सेहत की बेहतर देखभाल के लिए कम से कम कुछ घंटों के लिए “सेल फोन डिटॉक्स” आजमाने का फैसला कर रहे हैं।

सच्चाई यह है कि सेल फोन आपके जेहन को इतना खपा सकते हैं कि वे लोगों को कुछ मिनटों की शांति का आनंद लेने से भी रोक सकते हैं, क्योंकि उनसे कई सोशल मीडिया सूचनाएं या वर्क ईमेल लगातार मिलते रहते हैं। भले ही आपका वर्क डे ख़त्म हो गया हो, फिर भी आपको मोबाइल अलर्ट मिलते रहते हैं जो आपको दूसरों के साथ अपने खाली वक्त का मजा लेने से रोकते हैं।

कई अध्ययनों में इस बात पर जोर दिया गया है कि कई अन्य तकनीकी उपकरणों के साथ-साथ सेल फोन का उपयोग एक ऑब्सेसिव रूटीन बन गया है, जिसमें हर मिनट उन्हें देखते रहना एक कम्पल्सिव हैबिट बन जाता है। इस आर्टिकल में जानिये, आप इसका मुकाबला करने के लिए क्या कर सकते हैं।

सेल फोन से डिस्कनेक्ट रहना क्यों है जरूरी?

प्रौद्योगिकी जो भारी मात्रा में सूचना प्रदान करती है इसका उपयोग नई चुनौतियाँ भी लाता है कि कहीं इसमें हेल्थ रिस्क न हो। प्रौद्योगिकी के उपयोग के साथ आने वाले नए व्यवहार हमेशा हेल्दी नहीं होते हैं।

रिसर्च इसका समर्थन करती है। आखिरकार जैसे-जैसे टेक्नोलॉजी बेहतर होती हैं, उसकी नई शर्तें भी होती हैं। उदाहरण के लिए नोमोफोबिया (nomophobia) यानी सेल फोन के बिना घर छोड़ने का निरर्थक डर जो इससे पीड़ित लोगों में एंग्जायटी का कारण बनता है। इसके अलावा यह जानने की निरंतर तलब कि आपके कांटेक्ट इस वक्त क्या कर रहे हैं, जिसे फोमो FOMO या ‘फीयर ऑफ़ मिसिंग आउट’ कहते हैं।

इसलिए तकनीकी उपकरणों के सभी फायदों के बावजूद इनसे डिस्कनेक्ट रहना सीखना अक्सर जरूरी होता है। नीचे हम आपके सेल फोन से डिस्कनेक्ट रहने के लिए 10 बुनियादी विचार शेयर करेंगे जो आपको स्ट्रेस फ्री जीवन जीने में मदद करेंगे।

डिस्कवर: अपनी नेगेटिव सोच को ऐसे खत्म करें, पायें स्वस्थ नज़रिया

इससे डिस्कनेक्ट रहने के लिए 10 बुनियादी बातें

बिना इससे अवगत हुए आप अपने सेल फोन पर निर्भर रहने का हैबिट बना सकते हैं। इसलिए आपको डिस्कनेक्ट रहने के लिए कुछ स्ट्रेटजी अपनाना चाहिए।

1. सिर्फ सबसे उपयोगी एप्प ही रखें

उदाहरण के लिए इसमें कैलेंडर शामिल है। फिर उनको हटायें जो अपने प्रचुर नोटिफिकेशन के जरियें आपके और आपके सेल फोन की बैटरी दोनों को खपा देते हैं। यह चुनने के लिए कि कौन सा एप्लिकेशन छोड़ना या हटाना है, इस बारे में सोचें कि आप उनमें से हर किसी का कितना उपयोग करते हैं।

2. अपने चैलेन्ज को किसी अन्य के साथ शेयर करें

यह आपका पार्टनर, फ्रेंड, या फैमिली मेंबर हो सकता है। यदि आपका कोई नजदीकी व्यक्ति भी डिस्कनेक्ट रहने की कोशिश कर रहा है, तो आप और ज्यादा प्रेरणा महसूस कर सकते हैं। इस तरह अपने सेल फोन पर ध्यान देने के बजाय आप एक साथ घूमने का प्लान बना सकते हैं या मनोरंजक एक्टिविटी का मजा ले सकते हैं।

दरअसल यह नियम बनाना उपयोगी होगा कि घर के बाहर इकट्ठे वक्त बिताते वक्त आपको अपने सेल फोन को साइलेंट रखना चाहिए। इस तरह आप आप अपने रिश्ते को मजबूत करते हुए सुखद क्षणों का मजा ले सकते हैं।

हर वक्त नोटिफिकेशन पर ध्यान देना एंग्जायटी का एक रूप है जो आपके रोजमर्रा के जीवन में होने वाली दिलचस्प चीजों को याद करने का कारण बन सकता है।

3. अपने अकाउंट को सिंक्रनाइज़ करने से बचें

इसके बजाय एक शिड्यूल अपनाएं। यदि आप अपने वर्क ईमेल को सिंक करते हैं, तो आपके लिए डिस्कनेक्ट रहना कठिन होगा, क्योंकि ग्राहक को हमेशा आपकी जरूरत होगी या आपको किसी भी समस्या को दुरुस्त करने की जरूरत होगी। खुद को व्यवस्थित करने के लिए एक शेड्यूल का उपयोग करें और ऑफिस न होने पर अपने सभी काम को पीछे छोड़ दें। इससे आप ज्यादा घंटे रेस्ट लेने का मजा भी ले पाएंगे।

आप पढ़ना चाह सकते हैं: अपनी भावनात्मक सेहत कैसे सुधारें

4. सेल फोन को दूर रखें

सेल फोन को दूर रखें

अपने सेल फोन को कुछ समय के लिए अलग रखना ठीक है। आप उस समय का उपयोग दूसरी मजेदार ऐक्टिविटी को करने के लिए कर सकते हैं।

डिनर के दौरान इसका टेबल पर होना जरूरी नहीं है। साथ ही आपको घर पर इसे हर जगह ले जाने की जरूरत नहीं है। इसे एक तरफ सेट करें और अपने भोजन का आनंद लें, पढ़ें, चाय पीएं, और कुछ समय अपने लिए डेडीकेट करें। इस बात का ध्यान रखें कि अगर कुछ अर्जेंट हो तो आप इसे वैसे भी जाने बिना नहीं रह सकते क्योंकि हम इस दुनिया से कभी पूरी तरह से कट ऑफ नहीं होते।

5. सेल फोन का उपयोग करने के लिए एक निर्दिष्ट वक्त निर्धारित करें

जाहिर है आपके पास हमेशा कुछ काम पेंडिंग रहेगा। हालाँकि कुछ समय के लिए अपने सेल फ़ोन का उपयोग करने का प्रयास करें और फिर इसे अलग रख दें। इस तरह आपको कई घंटों तक आराम करना है, आप अपने सेल फोन का उपयोग करने के लिए एक विशिष्ट समय भी समर्पित कर सकते हैं और फिर दूसरी ऐक्टिविटी कर सकते हैं।

6. अपने सेल फोन को साइलेंट मोड पर सेट करें

अगर आपका फोन वाइब्रैट या बीप नहीं करता है, तो आप खुद को दूसरी ऐक्टिविटी से डिस्टरैक्ट कर सकते हैं। आपका जेहन वहाँ केंद्रित रहेगा। इस तरह आपको अक्सर इस आप्शन को चुनना चाहिए, खासकर बेडटाइम में।

7. ट्रेडिशनल घड़ी का उपयोग करें

अपने सेल फोन को अलार्म घड़ी के रूप में उपयोग करने से बचें। यह आपके सभी पेंडिंग सूचनाओं के बोझ को महसूस किए बिना, आपको पूरी तरह से आराम से जगाने और कुछ मिनट बिताने की सहूलियत देगा।

8. कुछ अलग करें

एक नई भाषा सीखें, एक किताब लिखने की कोशिश करें, पेंट करें या उन चीजों के लिए खुद को समर्पित करें जिसके लिए आप हमेशा सपना देखते हैं। इसे पाने के लिए आपको अपने सेल फोन से कुछ समय के लिए डिस्कनेक्ट करना होगा। कुछ लोग चुटकुले या न्यूज़ शेयर करने में घंटों बिताते हैं।

9. इसे एरोप्लेन मोड पर रखें

जब आप अन्य महत्वपूर्ण एक्टिविटी पर ध्यान केंद्रित करना चाहते हैं तो अपने सेल फोन को एरोप्लेन मोड पर छोड़ना सीखें।

यह एक अच्छा विकल्प है जब आप स्पोर्ट्स में हैं या अपने आपको किसी दूसरी चीज़ के लिए डेडिकेट कर रहे हैं। एक्टिविटी ख़त्म करने के बाद आप एरोप्लेन मोड को बंद कर सकते हैं और सब कुछ जांच सकते हैं।

10. इसे बंद कर दें

यदि सब कुछ के बावजूद आपको अपने सेल फोन से डिस्कनेक्ट करने में मुश्किल हो तो बस इसे बंद कर दें।

निष्कर्ष

यदि आपके सेल फोन से डिस्कनेक्ट करने के लिए इन 10 बुनियादी बातों को करने के बाद आपको लगता है कि आप ऐसा नहीं कर पा रहे हैं, तो शायद मनोवैज्ञानिक से मदद मांगने का समय है। इसलिए कि आप इसकी लत से पीड़ित हो सकते हैं।

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि शांत रहें। शुरुआत में, शायद आपके पास अपने सेल फोन से डिस्कनेक्ट करने का कठिन समय होगा। हालाँकि, आप धीरे-धीरे महसूस करेंगे कि आप इसके बिना रह सकते हैं। मन में शांति या योग का अभ्यास करें ताकि आपके जीवन में शांति बनी रहे। याद रखें कि सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि शांति बनाए रखें।

अंत में, यदि आपको लगता है कि आपको कुछ अतिरिक्त सहायता की आवश्यकता हो सकती है, तो किसी प्रोफेशनल से इसे पाने में संकोच न करें।

  • Carbonell, X., Fúster, H., Chamarro, A., & Oberst, U. (2012). Adicción a internet y móvil: Una revisión de estudios empíricos Españoles. Papeles Del Psicologo.
  • Chóliz Montañés, M., & Villanueva Silvestre, V. (2011). Evaluación de la adicción al móvil en la adolescencia. Chóliz Montañés, Mariano ; Villanueva Silvestre, Verónica. Evaluación de La Adicción Al Móvil En La Adolescencia. En: Revista Española de Drogodependencias, 2011, Vol. 36, No. 2: 165.
  • PEDRERO PÉREZ, E. J., RODRÍGUEZ MONJE, M. T., & RUIZ SÁNCHEZ DE LEÓN, J. M. (2012). Adicción o abuso del teléfono móvil . Revisión de la literatura . Mobile phone abuse or addiction . A review of the literature . Adicciones.
  • Sánchez-Carbonell, X., Beranuy, M., Castellana, M., Chamarro, A., & Oberst, U. (2008). La adicción a Internet y al móvil: ¿moda o trastorno? Adicciones. https://doi.org/10.20882/adicciones.279
  • Sanchez-Carbonell, Xavier;Beranuy, Marta; Castellana, MOntserrat; Chamarro, Ander; Oberst, U. (2008). La Adiccion a Internet y al móvil. Adicciones.