अपनी भावनात्मक सेहत कैसे सुधारें

18 अगस्त, 2020
भावनात्मक सेहत तंदरुस्त होने से हमें हर दिन आने वाली चुनौतियों का सामना करने में सहूलियत होती है। हम अपनी भावनाओं को बेहतर तरीके से मैनेज कैसे कर सकते हैं? पढ़ते रहिये!

भानात्मक सेहत अच्छी होने से स्ट्रेस वाली स्थितियों में आपका रिएक्शन बेहतर हो सकता है। अक्सर लोग अपने शारीरिक स्वास्थ्य पर ध्यान देते हैं। वे यह नहीं देखते कि चुनौतीपूर्ण स्थितियों में रियेक्ट करने के लिए भावनात्मक संतुलन बनाए रखना कितना अहम है।

कुछ लेखकों के अनुसार अच्छा इमोशनल हेल्थ “भावनाओं, विचारों और व्यवहारों के मैनेजमेंट” के लिए जिमेदार होता है। इस परिभाषा का अर्थ है कि हम जो कुछ भी महसूस करते हैं और सोचते हैं उसे पहचानने में सक्षम हैं। इसके अलावा इसका अर्थ यह भी है कि इसे एक नाम देना, इसे स्वीकार करना और इसे हमारे जीवन में इन्टीग्रेट करना जरूरी है।

अच्छे मानसिक स्वास्थ्य वाले लोग अपनी भावनाओं को असरदार ढंग से नियंत्रित कर सकते हैं। साथ ही उनमें उम्दा आत्मविश्वास और अच्छे व्यक्तिगत संबंध होते हैं। हालांकि अपने मानसिक सेहत की केयर नहीं करने से एंग्जायटी डिसऑर्डर या मेजर डिप्रेशन जैसी गड़बडी हो सकती है, जैसा कि कुछ स्टडी से पता चलता है।

क्योंकि उदासी, एंग्जायटी, क्रोध या डिप्रेशन धीरे-धीरे बहुत बढ़ जाते हैं, जिससे व्यवहार में बदलाव होता है। फिर यह लोगों को स्वस्थ आदतों को भूलने की ओर ले जाता है, जिससे एडिक्टिव बिहेवियर पैदा होने का खतरा बढ़ जाता है। इसके अलावा यह आपकी सेहत को खतरे में भी डाल सकता है।

हम अपनी भावनात्मक सेहत में सुधार कैसे कर सकते हैं?

इंस्टीट्यूटो सुपीरियर डे एस्टुडिओस साइकोलॉजिकोस (स्पैनिश हायर इंस्टीट्यूट फॉर साइकोलॉजिकल स्टडीज, या ISEP) के अनुसार अच्छी भावनात्मक सेहत के कारण अच्छी सेहत की भावना बढ़ती है। यह समझना महत्वपूर्ण है कि सभी भावनाएं मान्य हैं क्योंकि वे सभी हमारे जीवन में एक भूमिका निभाती हैं।

हालांकि हम सोच सकते हैं कि कुछ भावनाएं नेगेटिव या अवांछनीय हैं, उन्हें ठीक से मैनेज करने के लिए उन्हें ठीक से नियंत्रित करना सीखना महत्वपूर्ण है। फिर यह बेहतर भावनात्मक स्वास्थ्य में तब्दील हो जाता है और दूसरी समस्याओं के अलावा स्ट्रेस, एंग्जायटी और डिप्रेशन ग्रस्त होने की संभावना कम होती है।

हम अपनी मानसिक सेहत को बेहतर बनाने के लिए क्या कर सकते हैं?

दरअसल छोटे एडजस्टमेंट हमारी भावनाओं को बेहतर ढंग से प्रबंधित करने के लिए हमारे दिमाग को प्रशिक्षित करने में मदद करते हैं। इसके बाद हम आपको कुछ आम सुझाव देंगे।

अपनी भावनाओं को पहचानें

भावनात्मक सेहत

अपनी भावनाओं को पहचानना सीखें और यह पता लगाएँ कि कौन सी बातें आपको निराश, क्रोधित या दुखी महसूस कराती हैं। जैसा कि हमने बताया है, आपको उन्हें दबाने की कोशिश नहीं करनी चाहिए और यह स्वीकार करना चाहिए कि वे आपका ही हिस्सा हैं। आप उन्हें किसे वजह से ही महसूस कर रहे हैं।

अपनी भावनाओं को बताएं

अपनी भावनाओं को व्यक्त करना अच्छे भावनात्मक स्वास्थ्य के लिए जरूरी है। अगर आप असहज महसूस करते हैं और यह स्ट्रेस का कारण बनता है, तो यह समस्या पैदा कर सकता है। काम पर हों या घर पर यह सीखना जरूरी है कि अपनी भावनाओं को उचित रूप से कैसे व्यक्त किया जाए।

पहले सोचें फिर प्रतिक्रिया करें

यह जरूरी है, क्योंकि तीव्र भावनाएं काम कर सकती हैं और आपको बाद में पछतावा हो सकता है। इससे बचने के लिए कुछ भी करने से पहले नतीजों के बारे में सोचना सबसे अच्छा है।

ऐसा करने का एक तरीका अपनी भावनाओं को लिखना है। यह आपको उन्हें बेहतर एनालिसिस करने के लिए पर्याप्त समय और स्पेस देता है।

अपनी भावनात्मक सेहत में मदद करने के लिए रिलैक्सिंग टेकनीक का उपयोग करें

मेडिटेशन टेक्नीक स्ट्रेस मैनेजमेंट में पॉजिटिव असर वाले संसाधन हैं। इसलिए माइंडफुलनेस, मेडिटेशन, योग या दूसरी स्ट्रेटजी का उपयोग करना एक अच्छा आईडिया है।

इसे देखें: ज्ञान के अनुसार डीप ब्रीदिंग के 7 आश्चर्यजनक फायदे

ब्रेक लें

तेज भागती जिंदगी जीना लगातार स्ट्रेस और एंग्जायटी की स्थिति में डालता है। इसलिए अपने लिए वक्त निकालना, शांति से रहना और सहज चीजों का आनंद लेना अच्छा होता है।

ऐसी चीजें करें जो आपको शांत, संपन्न और खुश महसूस कराएं।

भावनात्मक सेहत की मदद करने के लिए पर्याप्त आराम करें

नींद की खराब गुणवत्ता एक बिजी लाइफस्टाइल से जुड़कर आपके मूड को काफी प्रभावित करता है। इसलिए बिना किसी रुकावट के कम से कम 7 घंटे अच्छी नींद लेना महत्वपूर्ण है। इसके अलावा आराम करने के लिए दिन में ब्रेक लें।

इसे भी पढ़ें : एक्सरसाइज और रिलैक्सेशन के लिए वाकिंग मेडिटेशन सीखिए

दूसरों से पॉजिटिव कनेक्शन बनाएं

टॉक्सिक रिलेशन से दूर होने की पूरी कोशिश करें। यदि आप अपने आप को ऐसे लोगों के साथ घेर लेते हैं जो आपका निर्माण करते हैं, तो आपका इमोशनल हेल्थ नाटकीय रूप से बेहतर होता है। इसके अलावा आपको सकारात्मक बातों पर ध्यान केंद्रित करने और बहुत अधिक शिकायत न करने की कोशिश करनी चाहिए (या  उनसे दूर रहें जो बहुत ज्यादा शिकायत करते हैं)।

जब आप वास्तविक इच्छा से दूसरों की मदद करने के लिए अच्छे काम करते हैं तो पॉजिटिव रिश्ते भी पैदा होते हैं।

नई चीज़ें सीखें

अपने आसपास की दुनिया के बारे में उत्सुक रहें। आप नई भाषाएँ सीख सकते हैं, नई किताब शुरू कर सकते हैं, एक कोर्स के लिए साइन अप कर सकते हैं, और कई दूसरे विकल्प हैं।

हर इंसान अलग होता है, और हम सभी की ज़रूरतें अलग हैं। हालांकि, स्वस्थ होने के लिए, हमारे भावनात्मक स्वास्थ्य पर भी काम करना बहुत महत्वपूर्ण है।

  • Bisquerra Alzina, R., & Pérez Escoda, N. (2007). Las competencias emocionales. Educación XX1.
  • Bisquerra Alzina, R. (2003). Educación emocional y competencias básicas para la vida. Revista de Investigación Educativa, RIE.
  • Cano-Vindel, A., & Miguel-Tobal, J. (2001). Emociones y salud. Ansiedad Estrés.
  • Velázquez, S. (2013). Salud Física y emocional. Programa Institucional Actividades De Educacion Para Una Vida Saludable.
  • Gardiner P, Sadikova E, Filippelli AC, et al. Stress Management and Relaxation Techniques use among underserved inpatients in an inner city hospital. Complement Ther Med. 2015;23(3):405–412. doi:10.1016/j.ctim.2015.03.006