महत्वहीन हो जाने वाले शब्द अगर उनपर अमल नहीं किया जाता

नवम्बर 12, 2018
आपके काम आपकी बातों से मिलते-जुलते होने चाहिए जिससे पता चलता है कि आप सच में वही महसूस करते हैं जो आप कहते हैं या वे बेकार की बातें हैं और इससे अच्छा यह है कि आप चुप ही रहें।

अगर आपकी बातें आपके काम से अलग हैं तो उनकी कोई कीमत नहीं है, वे कोई मायने नहीं रखती हैं, और वे सिर्फ फालतू बातें हैं। इसमें कोई शक नहीं है कि आपके नजदीकी दोस्तों में भी कोई न कोई आदमी ऐसा जरुर होता है जो अक्सर इस तरह की हरकतें करता है।

इंसान होने का मतलब ही है कि समय-समय पर हमारा व्यवहार ऐसा होता है। हम वादे करते हैं, हम प्रोजेक्ट की प्लानिंग करते हैं, और हमारी बातें बड़ी-बड़ी उम्मीदों और खूबसूरत सपनों से सज जाती हैं।

लेकिन जब सही वक्त आता है या जरुरत पड़ती है, वहां पर ऐसा कुछ नहीं होता है। हर वो बातें जो कही गयी थीं और जो वादे किये गये थे सब धुंएँ की तरह गायब हो जाते हैं।

वह धुआं किसी खुली खिड़की से बाहर निकल जाता है। इसमें कोई शक नहीं है, कि उसके बाद, निराशा, खालीपन, और भरोसे की कमी पैदा होती है।

क्योंकि हम लगातार दूसरे लोगों से स्थिरता, सम्मान और जिम्मेदारी की उम्मीद रखते हैं, इसलिए, यह जरुरी है कि हम भी दूसरों को भी उसी तरह का व्यवहार दिखाएं।

अगर आप एक वादा करते हैं, तो इसे पूरा करें; अगर आप प्यार करते हैं, तो साबित करें; अगर आप प्यार नहीं करते हैं, झूठ न बोलें।

आज हम आपको सुझाव देते हैं कि आप इस बारे में और सोचें।

फालतू बातें और व्यक्तिगत जवाबदेही

अच्छी परवरिश, अच्छा आत्म-सम्मान, और अपने साथ वाले लोंगों के लिए सम्मान जैसी कुछ चीजें अक्सर बिना ज्यादा सोचे-समझे ही की जाती हैं क्योंकि यह आपकी निजी जवाबदेही होती है।

जब आप एक बच्चे थे, तभी से, आपने शब्दों की शक्ति को देखना शुरू कर दिया था। ऐसी कई बातें हैं जो आपको चोट पहुंचाती हैं और ऐसी बातें भी होती हैं जो मिच्योरिटी और कॉन्फिडेंस को बढ़ाने में आपकी मदद कर सकती हैं।

लेकिन एक पहलू जो आपके बच्चों को शिक्षा देने के दौरान एक बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, वो यह है कि आप जो भी बातें कहते हैं उन्हें साबित भी करें।

अगर आप अपने बच्चे से प्यार करते हैं, तो उन्हें सपोर्ट करके उन्हें बतायें और उन्हें भरोसा दिलाएं कि वे जो कुछ भी करना चाहते हैं वे उसे कर सकते हैं।

इसके अलावा, अगर आप अपने बच्चे से कोई वादा करते हैं, तो आपको इसे पूरा करना होगा। अगर आप नहीं करते हैं, तो आप जो कुछ करते हैं वह सब केवल एक धुयें की तरह है और आपका बच्चा आखिरकार आप पर भरोसा करना बंद कर देगा।

आपके शब्द न केवल आपके संदेश को पहुँचाने के काम आते हैं। बल्कि, आप जो कहते हैं और जो करते हैं उसके बीच एक तालमेल बनाने के काम भी आते हैं। इसीलिये,  यह जरुरी है कि आप उनमें एक उचित संतुलन बनाए रखें।

2-लव रॉक्स

अगर आप मुझसे प्यार करते हैं, तो साबित करें

प्यार शब्दों से कहीं बढ़कर होते हैं। निजी रिश्ते केवल वादों या प्यार भरी बातों से कामयाब नहीं हो सकते हैं।

  • सबसे पहली और जरुरी बात, रिश्ता, रोजाना के कामों की एक श्रृंखला से बना है जो आपस में जुड़कर एक पूरा व्यवहार बनाते हैं।
  • यह एक ऐसी दुनिया है जहां शब्दों को काम में बदला जाता है, जहां दो लोग बहादुर होते हैं और एक-दूसरे के लिए जोखिम लेते हैं।
  • अगर आप प्यार करते हैं, कर के दिखायें। अगर आप प्यार करते हैं, बचाव करें।
  • इसके साथ ही: अगर आप किसी इंसान से वास्ता रखते हैं जिसे आप किसी भी तरह से प्यार करते हैं, चाहे दोस्ती हो या परिवारिक बंधन हो, आपको विश्वास और बिना शर्त समर्थन देकर अपने प्यार को साबित करना चाहिए।

“वादा तोड़ने वालों” से कैसे निपटें

जैसा कि सभी जानते हैं, कई प्रोफेशनल “वादे तोड़ने वाले” होते हैं। यह वे लोग होते हैं जो बेईमानी, झूठ और फालतू बातें बनाने की कला में माहिर होते हैं।

  • हो सकता है कि आप अपने परिवार में इस तरह के किसी इंसान को जानते हों, या हो सकता है कि आपका खुद का साथी इस प्रोफाइल में फिट होता है।
  • वे आपको उन चीज़ों पर यकीन दिलाते हैं जो कभी भी सच नहीं होती हैं। इतना ही नहीं, थोड़ी देर के लिए, तो आप भी धीरे-धीरे उनके बहानों पर भी यकीन करने लगते हैं, फिर एक दिन आपको महसूस होता है कि यह सब फालतू बातें हैं और उन्हें केवल अपने आप से मतलब है

ऐसे रिश्ते बहुत खतरनाक होते हैं।

वे बस आपको एक लंबा इंतजार और एक झूठी उम्मीद देते हैं। आप उन्हें थोड़ा ज्यादा अहमियत देते हैं क्योंकि आप उन्हें प्यार करते हैं। हालांकि, आख़िर में, यही फालतू की बातें भारी-भरकम भावनाओं को पैदा करती हैं जो आपके खालीपन और अकेलेपन की वजह होती हैं।

3-बच्चों का धागा

ऐसी परिस्थितियों में आपको कैसे बर्ताव करना चाहिए?

  • कोई आदमी आपको एक बार, दो बार, या तीन बार मायूस कर सकता है। लेकिन जब यह मायूसी एक रूटीन बनने लगे, तो समझ लीजिये कि जवाब देने का समय आ गया है।
  • स्थिरता की मांग कीजिये। अगर कोई आपको हर दिन कहता है कि वे आपका कितना सम्मान करते हैं, आपकी कद्र करते हैं, और आपसे प्यार करते हैं – लेकिन आपको पता है कि जब आपको उनकी जरूरत होती है तो वे कभी आपका साथ नहीं देते हैं – उन पर भरोसा न करें।

जो आपके साथ रहना चाहता है वह “अच्छे और बुरे” दोनों समय में आपके साथ होगा।

आप दूसरों से जो उम्मीद करते हैं उन्हें खुद के व्यवहार में भी शामिल करें, इसके लिये ऊपर बतायी सारी चीजों को आज़माएं। आप जिन लोगों से प्यार करते हैं, बिना खास पलों का इंतजार किये, हमेशा उनका साथ दीजिये, उनका सम्मान कीजये,और उन्हें अपना प्यार दिखाइये।

अगर आपके आस-पास के लोग प्रोफेशनल “वादे तोड़ने वाले” और फालतू बातें बनाने वाले कलाकार हैं, तो उनसे थोड़ी दूरी बनाकर रखिये।

4-टूटा हुआ चित्र

इस तरह के घातक रिश्तों के लिए आप जो कीमत अदा करते हैं वह बहुत ज्यादा और नुकसानदायक होती है।

जैसा कि हम सभी अच्छी तरह से जानते हैं, इस तरह के लोग बहुत ही डायनामिक होते हैं, और वे आपको अपनी रोजाना की जिंदगी में हमेशा दिखाई देंगे

वे इतने पहुंचे हुए होते हैं कि आपके अन्दर आख़िरकार एक प्रकार का “इन्टूइटिव रडार” विकसित हो जाता है जिसका इस्तेमाल आप इन फैन्टसी प्लेयर्स, धुआँ और आइना बेचने वालों, फालतू बातें बनाने वाले चालाक लोगों को तुरंत पहचानने के लिए कर सकते हैं।

कोई बात मायने नहीं रखती, इन लोगों के लिये अपना रुख साफ़ रखें।

  • Extremera, N., & Fernández-Berrocal, P. (2004). Inteligencia emocional, calidad de las relaciones interpersonales y empatía en estudiantes universitarios. Clínica y Salud: Revista de Psicología Clínica y Salud15(4), 117–137. https://doi.org/10.1007/s10888-011-9204-1
  • Gorostiaga, A., Balluerka, N., & Soroa, G. (2012). Evaluación de la empatía en el ámbito educativo y su relación con la inteligencia emocional. Revista de Educacion, (364), 12–38. https://doi.org/10.4438/1988-592X-RE-2014-364-253
  • Fernández Poncela, A. M. (2002). Estereotipos y roles de género en el refranero popular : charlatanas, mentirosas, malvadas y peligrosas. Proveedores, maltratadores, machos y cornudos. Biblioteca A46, 157.