WISC टेस्ट क्या है और यह किन बच्चों के लिए है?

जुलाई 22, 2019
6 से 16 साल की उम्र वाले किसी भी बच्चे का WISC टेस्ट किया जा सकता है। लेकिन यह ऊँची क्षमता, सीखने की गड़बड़ियों या बौद्धिक अक्षमता का पता लगाने के लिए विशेष रूप से उपयुक्त है।

दि वेच्स्लर इंटेलिजेंस स्केल फॉर चिल्ड्रेन या WISC टेस्ट 16 साल से कम उम्र के बच्चों में IQ का पता लगाने वाला पावरफुल टूल है।

इस टेस्ट का पहला वर्जन 1949 में प्रकाशित हुआ था। बाद में विशेषज्ञों ने इसे अपडेट किया है। सबसे अपडेटेड संस्करण WISC-V 2014 में प्रकाशित हुआ था।

इस आर्टिकल में हम WISC टेस्ट की सबसे अहम विशेषताओं के बारे में बात करेंगे।

WISC टेस्ट वास्तव में क्या है?

WISC टेस्ट वास्तव में क्या है?

WISC टेस्ट का लक्ष्य स्कूल के वर्षों में बच्चे के सीखने की प्रक्रिया का आकलन करना है

वेचस्लर इंटेलिजेंस स्केल फॉर चिल्ड्रन (Wechsler Intelligence Scale for Children) 6 से 16 वर्ष के बीच की उम्र वाले बच्चों और किशोरों के लिए एक इंटेलिजेंस टेस्ट है। यह मुख्य रूप से प्राइमरी और सेकेंडरी लेवल को शामिल करता है।

जब यह पहली बार 1949 में प्रकाशित हुआ तो यह टेस्ट वेचस्लर-बेलव्यू इंटेलिजेंस स्केल का एक वर्जन था। इसके कई संस्करणों, अपडेट और अपग्रेड के बाद यह टेस्ट बच्चों की बुद्धिमता मापने का बेहतरीन उपकरण बन गया है।

स्कूलों और दुनिया भर के स्पेशलिस्ट केंद्रों में अक्सर इसे मनोवैज्ञानिकों और शिक्षा विशेषज्ञों द्वारा उपयोग किया जाता है

इसका लेटेस्ट वर्जन WISC-V है, जो 2014 में प्रकाशित हुआ था।

यह क्या मूल्यांकन करता है?

आम तौर पर WISC टेस्ट इंटेलिजेंस के पाँच पहलुओं या लेवल का आकलन करता है:

  • मौखिक समझ सूचकांक (Verbal comprehension index) : जैसा कि नाम से पता चलता है, यह बच्चे की मौखिक क्षमता को बताता है। इस मामले में यह पहलू बच्चे के शब्द-अर्थ ज्ञान से घनिष्ठता से जुड़ा है।
  • दृश्य स्थानिक सूचकांक (Visual spatial index) : यह पहेली सुलझाने और ज्यामितीय डिजाइनों के निर्माण के लिए विजुअल ब्यौरों और उनके संबंधों को समझने की क्षमता को दर्शाता है।
  • द्रव तर्क सूचकांक (Fluid reasoning index) : यह दृश्यमान वस्तुओं के बीच आपसी संबंधों का पता लगाने की क्षमता को दर्शाता है।
  • वर्किंग स्मृति सूचकांक (Working memory index) : यह सुनी या देखी गई सूचना को बनाए रखने और उनमें फेरबदल करने की क्षमता को दर्शाता है।
  • प्रोसेसिंग स्पीड इंडेक्स (Processing speed index) : यह सटीक निर्णय लेने की बच्चे की क्षमता को दर्शाता है।

विभिन्न पहलुओं को मापने के बाद बच्चे के स्कोर की तुलना उनकी उम्र के औसत से की जाती है। इस तरह आख़िरी परिणाम में उम्र एक निर्धारक कारक है।

हालांकि यह किसी भी बच्चे पर लागू किया जा सकता है, पर WISC टेस्ट आमतौर पर उन व्यक्तियों पर लागू किया जाता है जिनका IQ निर्धारित करने की ज़रूरत होती है। उदाहरण के लिए टेस्ट का इस्तेमाल अक्सर ऊँची क्षमता, सीखने की गड़बड़ियों या बौद्धिक अक्षमता का पता लगाने के लिए किया जाता है।

इसे भी पढ़ें : बच्चों में टेम्पर टैंट्रम रोकने के लिए पाँच सुझाव

WISC में किस तरह के टेस्ट शामिल हैं?

WISC में किस तरह के टेस्ट शामिल हैं?

WISC में निम्नलिखित टेस्ट शामिल हैं:

  • वर्बल कॉम्प्रिहेंशन इंडेक्स के मूल्यांकन के लिए समानताएं और शब्दावली।
  • विजुअल स्पेसियल इंडेक्स के मूल्यांकन के लिए ब्लॉक और विजुअल पजल।
  • फ्लूइड रीजनिंग इंडेक्स के मूल्यांकन के लिए मैट्रिक्स, स्केल्स और अंकगणित।
  • वर्किंग मेमोरी इंडेक्स के मूल्यांकन के लिए संख्याएं  और चित्र।
  • प्रोसेसिंग स्पीड इंडेक्स के मूल्यांकन के लिए कोडिंग, सिम्बल सर्च।

इसके अलावा, प्रतिक्रियाओं और स्टीमुलस के अनुसार वे कई किस्म के अलग-अलग क्लासिफिकेशन के अंतर्गत आते हैं। यहाँ कुछ उदाहरण हैं:

  • फ्री रिस्पांस आइटम (Free response items) : ऐसा टेस्ट जिसमें बच्चे को दो चीजों के बीच समानताओं को बताना है, अवधारणाओं या पहेलियों की व्याख्या करनी है।
  • सिम्बल सर्च (Symbol search) : बच्चे को यह बताना होगा कि दिए गए सिम्बल किसी मॉडल से मेल खाते हैं या नहीं।
  • ब्लॉक डिजाइन (Block design) : बच्चों को ब्लॉकों के साथ एक प्रदर्शित मॉडल को दोबारा पेश करना होगा। इसके अलावा, अन्य रीक्षणों में एक मैट्रिक्स को पूरा करना या यह बताना कि कौन सा विकल्प अधूरे आंकड़े को पूरा करता है।
  • अंकगणित की समस्याएं (Arithmetic problems) : बच्चों को मानसिक रूप से सरल गणित की समस्याओं को हल करना होगा।
  • अक्षर- संख्या अनुक्रमण (Letter-number sequencing): बच्चे को अक्षरों, संख्याओं या अव्यवस्थित अंकों की एक श्रृंखला को उच्चतम से निम्नतम या वर्णानुक्रम व्यवस्थित करना होगा।
  • पिक्चर स्पैन (Picture span) : बच्चे को संख्याओं, कुंजियों, प्रतीकों आदि के साथ पिक्चर को जोड़ना आना चाहिए। उदाहरण के लिए एक ख़ास टेस्ट में जानवरों या दूसरी चीजों के चित्र से भरे पेज पर एक विशेष जानवर को खोजना शामिल है।

इनमें से कुछ मौखिक हैं, कुछ को कलम और कागज के साथ किया जाना चाहिए, और बाकी मैनुअल हैं।

इसे भी पढ़ें : अंतर्ज्ञान की बुद्धिमत्ता के 5 बड़े संकेत

WISC टेस्ट कैसे करते हैं?

एक योग्य प्रोफेशनल पब्लिक या प्राइवेट स्कूलों में या व्यक्तिगत और सामूहिक, दोनों रूप से WISC टेस्ट कर सकता है

इस अर्थ में, पैरेंट को पता होना चाहिए कि यह टेस्ट काफी महंगा है। इसकी वजह ज़रूरी सामग्री की कीमत और वह खर्चीली विशेष ट्रेनिंग है जो प्रोफेशनल को लेना चाहिए।

इसके अलावा, टेस्ट की अवधि बच्चे की रिस्पांस स्पीड पर निर्भर करती है। आमतौर पर इसमें एक से डेढ़ घंटे लगते हैं। हालांकि, परिणाम अक्सर तत्काल होते हैं, सिवाय इसके कि जब एक बार में कई बच्चों को लिया जाए।

परिणाम

जैसा कि हमने ऊपर बताया, स्पेशलिस्ट बच्चे के स्कोर की तुलना मानक स्कोर के औसत से करते हैं। एक बच्चे का स्कोर इनमें से कुछ भी हो सकता है :

  • औसत से कम
  • कम औसत
  • औसत
  • हाई एवरेज
  • सुपीरियर
  • हाई
  • सुपीरियर
  • Consejo General de Psicología, España (s.f.), Evaluación de la Escala de Inteligencia de Wechsler V para niños (WISC-V), https://www.cop.es/uploads/PDF/2016/WISC-V.pdf
  • Anaya, D. (2002). Diagnóstico en educación. Madrid. 
  • Kaufman, A. S., Raiford, S. E., & Coalson, D. L. (2016). Intelligent Testing with the WISC-V. Nueva York.