कैंडिडिऑसिस : यह क्या है?

07 दिसम्बर, 2019
कैंडिडिऑसिस एक ऐसी स्थिति है जो कैंडिडा नाम के फंगस के कारण होती है। यह कई तरीकों से उभर सकता है; नीचे इस लेख में और अधिक जानकारी लें।

कैंडिडिऑसिस एक संक्रमण है जो कैंडिडा प्रजाति से जुड़े एक फंगस से होता है। इससे कई तरह के संक्रमण हो सकते हैं। वे त्वचा, म्यूकस मेम्ब्रेन और गहराई वाले टिशू को प्रभावित करते हैं।

इसके लक्षण बहुत परिवर्तनशील हैं और इन्हें पहचानना मुश्किल हो सकता है। इसकी डायग्नोसिस भी बहुत परिवर्तनशील है। यह हल्के इंफेक्शन से लेकर बहुत कमजोर इम्यून सिस्टम होने पर जीवन के लिए घातक भी हो सकता है। इस वजह से यह जानना बहुत जरूरी है कि कैंडिडिऑसिस के संभावित मामलों की पहचान कैसे करें।

कैंडिडा एसपीपी

यह एक ऐसा टाइप है जो यीस्ट जैसे फंगस द्वारा बनता है। हमारी दिलचस्पी इसके तीन टाइप में हैं:

  • कैंडिडा एल्बीकंस : यह सबसे आक्रामक टाइप है और आधे से अधिक लक्षणों के लिए जिम्मेदार है।
  • कैंडिडा ग्लाब्रेटा
  • सी. पैराप्सिलोसिस : कैथेटर और सुई के उपयोग से जुड़ा हुआ है।
  • सी. क्रुस्सी : फ्लुकोनाज़ोल (एक एंटिफंगल) खाने से जुड़ा हुआ है।

* एसपीपी का उपयोग उन सभी प्रजातियों को बताने के लिए किया जाता है जो कि इसका हिस्सा हैं।

अवसरवादी रोगजनक क्या हैं?

अपरच्युनिस्टिक पैथोजेन वे हैं जो नॉर्मल स्थिति में एक स्वस्थ व्यक्ति को इन्फेक्ट नहीं करते हैं। इसके फैलने के लिए आपकी रोग प्रतिरोधी प्रणाली का कमजोर होना चाहिए।

कैंडिडा ज्यादातर फंगस और कुछ बैक्टीरिया की तरह ऐसे ही पैथोजेन ग्रुप से जुड़ा है। दरसल ज्यादातर लोगों की त्वचा और म्यूकस मेम्ब्रेन पर मौजूद नॉर्मल वनस्पतियों का हिस्सा है। हालांकि जब आपका डिफेंन्स सिस्टम असंतुलित हो तो कैंडिडा स्वाभाविक से ज्यादा फैलता है जिससे कई बीमारियां हो सकती हैं।

कैंडिडिऑसिस (Candidiasis) कैसे विकसित होता है?

यह बीमारी तब फैलते है जब आपके नेचुरल इम्यून में कमजोरी आती है। इससे हमारा मतलब आपकी स्किन और दूसरे मेम्ब्रेन से है जो आपको बाहरी दुनिया से बचाती हैं। इस वजह से कैथेटर या डायलिसिस वाले लोगों के साथ कुछ दवाओं का इस्तेमाल करने वाले लोगों को इसका ज्यादा जोखिम हो सकता है।

त्वचा या मेम्ब्रेन में किसी किस्म की क्षति उन्हें एक बैरियर के रूप में अपनी भूमिका निभाने से रोकती है, जिससे फंगस के ग्रोथ को बढ़ावा मिल जाता है। इसलिए सीरिंज, पियर्सिंग आदि से किसी व्यक्ति को यह संक्रमण होने का खतरा ज्यादा हो सकता है। इसका मतलब यह नहीं है कि अगर आपने पियर्सिंग की है या एक सिरिंज का इस्तेमाल किया है, तो आपको निश्चित रूप से यह होगा, लेकिन यह आपको थोड़ा ज्यादा असुरक्षित बना सकता है।

बैक्टीरियल फ्लोरा में बदलाव के कारण

ब्रॉड-स्पेक्ट्रम एंटीबायोटिक्स लेने से अक्सर आपके शरीर में स्वस्थ बैक्टीरिया को नुकसान हो सकता है। यह सच है, क्योंकि वे अच्छे और बुरे दोनों तरह के बैक्टीरिया पर “हमला” करते हैं, और आपको फंगस के खिलाफ बहुत कम बचाव के विकल्प होते हैं।

उदाहरण के लिए एंटीबायोटिक्स लेने के बाद युवा महिलाओं में वेजाइनल कैंडिडिआसिस के मामलों की डायग्नोसिस अपेक्षाकृत आम है।

इम्यूनोसप्रेशन

भले ही वह किसी बीमारी से हो, जैसे कि एचआईवी के रोगियों में, या दवा से जैसे कि ट्रांसप्लांट रोगियों में एंटी-रिजेक्शन दवा लेने से। इम्युनोसप्रेस्ड होने का मतलब है कि आपके शरीर में नार्मल डिफेन्स नहीं है। ये स्थितियाँ उसी वातावरण का कारण बनती हैं जिसकी हमने पहले बात की थी।

सतही कैंडिडिऑसिस

सतही कैंडिडिऑसिस

मयुगेट (Muguet)

इसकी विशेषता जीभ और मुंह को कवर करने वाले सफेद कणों का उभरना है। इसे हटाने पर आपको लाल, घिसी हुईसतह दिखेगी। यह बहुत दर्दनाक हो सकता है। इससे निगलने और सांस लेने में मुश्किल हो सकती है।

ये अक्सर एचआईवी (90% मामलों में) वाले लोगों में दीखते हैं, यह इस बीमारी के पहले लक्षणों में से एक है। हालांकि अधिकांश मामले एचआईवी वालों में होते हैं, लेकिन यह पिछले कुछ वर्षों में कम और नार्मल हो गया है।

यह कमजोर इम्यून सिस्टम वाले कैंसर से प्रभावित लोगों और नवजात शिशुओं को भी प्रभावित करता है क्योंकि वे अभी भी विकसित हो रहे हैं। यह इन दोनों तरह के रोगियों को फंगस के संक्रमण के लिए संवेदनशील बनाता है।

जो भी हो अगर मुंह में एक सफेदम्यूकस की पहचान करे तो यह निश्चित करने के लिए कि यह कैंडिडा है या नहीं डॉक्टर से जांच कराएं। समस्या को नजरअंदाज करने या इसे दूर जाने का इंतज़ार न करें, क्योंकि यह फैल सकता है और बदतर हो सकता है।

वैजिनाइटिस और वल्वोवैजिनाइटिस कैंडिडा

  • यह किस्म भी अपेक्षाकृत सामान्य है। इसकी विशेषता है:
  • योनी और योनि क्षेत्र में बहुत तेज जलन महसूस करना, विशेष रूप से पेशाब करते समय।
  • जननांग क्षेत्र में गंभीर लाली होना।
  • लाली लिए म्यूकस मेम्ब्रेन पर सफेद धब्बे।
  • सफेद, गाढ़ा वेजाइनल सेक्रेशन, लम्प के साथ। अक्सर इसका वर्णन देखने में “कॉटेज पनीर” बताकर किया जाता है।

इस तरह के कैंडिडिऑसिस से निपटने के लिए अपने ऑब/ गाइनो के पास जाना अहम है, क्योंकि इसके कुछ लक्षण दूसरी बीमारियों के समान हैं। हालांकि फंगस और संक्रमण के लिए इलाज बहुत अलग है, इसलिए एक सटीक डायग्नोसिस जरूरी है।

बैलेनाइटिस कैंडिडा (Balanitis Candida)

यह टाइप वैजेनाइटिस से कम आम है। यह शुगर वाले रोगियों में या कैंडिडिऑसिस की हिस्ट्री वाले लोगों के सेक्स पार्टनर में हो सकता है

लाल, कच्चे-दिखने वाले घाव और त्वचा पर छाले या दाने सहित ग्लैन्ज़ और फोरस्किन पर दिखाई देते हैं। वे आमतौर पर दर्दनाक होते हैं। वे जलन के साथ उभर सकते हैं जो पेशाब के दौरान ज्यादा तकलीफ देते हैं।

यह उल्लेख करना अहम है कि यौन संपर्क संक्रमण फैलने के सबसे आसान तरीकों में से एक है क्योंकि मेम्ब्रेन उन क्षेत्रों में ज्यादा एक्सपोज हो जाता है। इस वजह से अगर आपको संदेह है कि आपको इंफेक्शन हैं, तो कृपया अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

त्वचा की कैंडिडिऑसिस

यह आमतौर पर त्वचा की परतों और उन क्षेत्रों में बनता है जहां आप टाइट कपड़े पहनते हैं। दोनों ही जगहों पर आपका शरीर एक गर्म, नम वातावरण बनाता है।

यह वातावरण बदतर खुजली के साथ लाल दाने पैदा करता है। यह सामान्य रूप से स्तनों के नीचे, जननांग क्षेत्र में, साथ ही दूसरे अंगों में होता है। इसके अलावा, कभी-कभी यह त्वचा के रोम को संक्रमित करता है और पिंपल्स की तरह दिखता है।

डायपर रैश वाले नर्सिंग शिशुओं के लिए यह अपेक्षाकृत आम है, जो कैंडिडा से संक्रमित होते हैं, जिससे लक्षण और भी बदतर हो जाते हैं। इस मामले में, शिशु के लिए एक असरदार इलाज खोजने के लिए, तुरंत अपने डॉक्टर से मिलना तय करें।

APECED

AIRE जीन में एक म्यूटेशन से होने वाला एक दुर्लभ जेनेटिक रोग। यह बीमारी एक बार बचपन में नाखूनों और मुंह पर कैंडिडिऑसिस के रूप में उभरने के बाद बार-बार आती है, जिसके कोई स्पष्ट कारण नहीं है।

फिर बाद में ऑटोइम्यून डिसफंक्शन विभिन्न ग्रंथियों में दिखाई देते हैं। यह मामला बहुत दुर्लभ है, फिर भी यह कैंडिडा से जुड़ता है और यह एक कमजोर शरीर को प्रभावित करता है।

डीप कैंडिडिऑसिस

एसोफैगल कैंडिडा (Esophageal Candida)

आमतौर पर कमजोर इम्यून सिस्टम वाले लोगों में पाया जाता है। यह एचआईवी या लिंफोमा वाले लोगों में बहुत आम है। इसके अलावा, यह उन लोगों को हो सकता है जो कॉर्टिकोइड्स को दवा के रूप में लेते हैं। इसके लक्षणों में शामिल हैं:

  • स्टर्नम के नीचे जलन की भावना।
  • निगलने में कठिनाई
  • हार्ट बार्न

इसके अलावा, आपके थ्रोट मेम्ब्रेन में सफेद रंग का बलगम दिखाई देता है। कृपया ध्यान रखें कि ये लक्षण कैंडिडिऑसिस से जुड़े नहीं भी हो सकते हैं। इसलिए डॉक्टर से सलाह लेना महत्वपूर्ण है।

इसे भी पढ़ें : वेजाइनल यीस्ट इंफेक्शन के बारे में आप क्या जानती हैं?

इंवेसिस कैंडिडिऑसिस

इस मामले में फंगस ब्लड स्ट्रीम में चला जाता है, जो शरीर के किसी भी अंग को प्रभावित करने में सक्षम होता है। यह बहुत गंभीर रूप से दबी हुई इम्यून सिस्टम वाले रोगियों में भी दिखाई देता है। उदाहरण के लिए गंभीर एचआईवी या ल्यूकेमिया से पीड़ित लोगों को इसका खतरा ज्यादा हो सकता है।

यह एक बहुत ही गंभीर लक्षण है, ज्यादातर समय खराब रोग का कारण होता है। रोगी की कमजोरी के कारण, कवक बहुत जल्दी फैलता है और घातक हो सकता है। इसलिए शुरुआती लक्षणों के दीखते ही सतर्क होना चाहिए। इसके अलावा इन रोगियों के साथ अतिरिक्त सावधानी बरतने और हमेशा डॉक्टर की राय लेने की जरूरत होती है।

डायग्नोसिस

डायग्नोसिस कल्चर करने और उसका विश्लेषण करने से होती है। यह सबसे आसान तरीका है, जिसमें डॉक्टर यह जान सकेंगे कि यह फंगस आप पर हमला कर रहा है, या यह कुछ और है।

डॉक्टर इसे प्रभावित क्षेत्र से एक स्वैब पर लेता है और फिर इसे कल्चर कर देता है। उसके बाद डॉक्टर इसे एक माइक्रोस्कोप से देख सकते हैं कि कौन सा वायरस, इंफेक्शन या फंगस फ़ैल रहा है। इसके अलावा ध्यान रखें कि, प्रभावित क्षेत्र के आधार पर डॉक्टर इसकी डायग्नोसिस करने में सक्षम हो सकते हैं।

यह भी पढ़ें: एप्पल साइडर विनेगर और बेकिंग सोडा से नाखूनों के फंगस का इलाज करें

रोकथाम और ट्रीटमेंट

रोकथाम के लिए अच्छी हाइजीन जरूरी है। नहाने के बाद आपको अपनी त्वचा की परतों को अच्छी तरह से सूखाना चाहिए। जननांग क्षेत्र की सही केयर करनी चाहिए। गर्भवती महिलाओं के लिए उचित वेजाइनल एसिडिटी बनाए रखने के लिए बायोएक्टिव दही अपनई डाइट में शामिल करनई चाहिए।

शरीर के उन क्षेत्रों में अतिरिक्त सफाई रखने की कोशिश करें जो आमतौर पर नम होते हैं। इसका मतलब है, हमेशा अपने दांतों को एक साफ ब्रश से ब्रश करना और ब्रश को अक्सर बदलना।

दूसरी ओर, वेजाइनल एरिया के मामले में, इसमें रोज़ाना स्नान करना और वर्कआउट करने या सेक्स करने के बाद अपने अंडरवियर को बदलना शामिल है। याद रखें, दुःख झेलने से सुरक्षित होना बेहतर है।

अंत में, उन टिप्स का पालन करना निश्चित करें जो आपका डॉक्टर आपको दे सकता है, जैसे कि पैंटी से पहले अपने मोज़े को उतारना (फंगस को फैलने से बचने के लिए)।


ट्रीटमेंट समस्या की प्रकृति पर निर्भर करता है। एक ख़ास इलाज क्लोट्रिमेज़ोल है। पर कभी भी अपने डॉक्टर की सलाह के बिना कोई दवा न लें। आपको कैंडिडा है या नहीं यह सिर्फ टेस्ट से ही पता चल सकता है।

इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद घबराएं नहीं। कैंडिडिआसिस के अधिकांश मामलों का इलाज बहुत आसान होता है और बहुत से लोग अपने जीवन में कम से कम एक बार जरूर इसका शिकार होते हैं। चूंकि कैंडिडा हमारे शरीर का एक हिस्सा है, यह हमेशा ही फैलने का इंतज़ार करेगा। सिर्फ एक चीज जो हम कर सकते हैं वह है, सा होने से रोकना और होने पर उससे निपटना।

  • McCarty, T. P., & Pappas, P. G. (2016). Invasive Candidiasis. Infectious Disease Clinics of North America. https://doi.org/10.1016/j.idc.2015.10.013
  • Millsop, J. W., & Fazel, N. (2016). Oral candidiasis. Clinics in Dermatology. https://doi.org/10.1016/j.clindermatol.2016.02.022
  • Maurissen, W., Van Meensel, B., Verguts, J., Donders, G., & Lagrou, K. (2009). Vulvovaginal candidiasis. Tijdschrift Voor Geneeskunde. https://doi.org/10.2143/TVG.65.23.2000660
  • Arendrup, M. C. (2010). Epidemiology of invasive candidiasis. Current Opinion in Critical Care. https://doi.org/10.1097/MCC.0b013e32833e84d2
  • Arroyo-Fajardo, A., San Juan-Delgado, M. F., & García-Rodríguez, J. (2017). Vaginitis por candida glabrata: ¿la gran olvidada? Revista Iberoamericana De Micología, 34(4), 246. doi:10.1016/j.riam.2017.01.001
  • Prieto Santa Anna, Luz Marina, Illnait Zaragozí, María Teresa, Ramos Rodallegas, Edna G., Lazcano Herrero, Bonfilio, Márquez Sánchez, Norma, Cantelar de Francisco, Nereyda, Manzur Katriba, Julián, & Martínez Machín, Gerardo. (2006). Candidiasis oral en pacientes seropositivos al VIH y casos SIDA: Aspectos clínicos, micológicos y terapéuticos. Revista Cubana de Medicina Tropical, 58(3) Recuperado en 11 de junio de 2020, de http://scielo.sld.cu/scielo.php?script=sci_arttext&pid=S0375-07602006000300001&lng=es&tlng=es.
  • Estrada Pereira, Gladys Aída, Márquez Filiu, Maricel, Díaz Fernández, José Manuel, & Sánchez Cuza, Odalis. (2015). Candidiasis bucal en pacientes con tratamiento antineoplásico. MEDISAN, 19(9), 1080-1087. Recuperado en 11 de junio de 2020, de http://scielo.sld.cu/scielo.php?script=sci_arttext&pid=S1029-30192015000900002&lng=es&tlng=es.
  • Palacios Martínez D, Díaz Alonso RA, Gutiérrez López M, Gordillo López FJ, Arranz Martínez E, Ruiz García A. Esofagitis candidiásica en una paciente inmunocompetente: a propósito de un caso. An Sist Sanit Navar. 2013;