अपनी याददाश्त में सुधार लाने के लिए टिप्स

21 जुलाई, 2020
मन बहुत उत्सुक होता है और यह चुनौतियां पसंद करता है। यह हम सभी के भीतर है कि जिन सामग्रियों से यह चुस्त-दुरुस्त रहे, वे चीजें इसे प्रदान करेंऔर चीजों को भूलना बंद करें।
 

टेक्नोलॉजी हमारी बहुत मदद करती है, लेकिन इसने हमारे दिमाग को बहुत आलसी भी बना दिया है। आखिरकार हम अब कुछ याददाश्त में रखने की कोशिश नहीं करते: हम बस इसे इंटरनेट पर देख लेते हैं। अगर हम सभी मीडिया और एजेंडा के मामले में दायित्वों से भरी सूचना की अधिकता को जोड़ लें, तो यह समझना आसान होगा कि हम चीजों को क्यों भूल जाते हैं।

मौजूदा लेख में हम आपको बताएंगे, एक्सरसाइज और नई हेल्दी हैबिट के जरिये हम अपनी याददाश्त में सुधार कैसे कर सकते हैं।

याददाश्त सुधारने की प्रक्रिया

जिस तरह दिमाग कई चीजों को भूल जाता है, वहीं उन्हें बहुत कम वक्त में याद भी कर सकता है। इसका मतलब है, याददाश्त को बेहतर बनाने वाली कुछ टेकनीक या ट्रिक्स को आजमाकर आप ज्यादा मानसिक क्षमता हासिल कर सकते हैं।

दरअसल हम सभी में चीजों को याद रखने की क्षमता होती है, लेकिन समस्या यह है कि हमारा ब्रेन कम कोशिश करने का अभ्यस्त हो गया है।

ध्यान नहीं देना, सिर्फ सरसरी रूप से पढ़ना, दूसरी चीज के बारे में सोचना, सोच-विचार नहीं करना … ये सभी अच्छी स्मृति के दुश्मन हैं।

हमें यह भी बताना है कि जब हम कुछ याद रखना चाहते हैं, और हम मैनेज नहीं करते हैं, तो हम तनाव में आ जाते हैं। इसलिए हमारे लिए उस शब्द, तथ्य या तारीख को खोज पाना मुश्किल होता है, जिसे हमने अपनी याददाश्त के सबसे गहरे हिस्से में जमा किया है।

दूसरी ओर हमें यह भी मानना होगा कि हम अक्सर अपने ब्रेन को सोचने, तर्क करने या याद रखने की अनुमति नहीं देते। हम इसे ठीक से रिलैक्स करने की अनुमति नहीं देते और न ही अहम जानकारी लेने के लिए पर्याप्त समय देते हैं।

इसे भी पढ़ें : 5 बेहतरीन मेमोरी एक्सरसाइज से तेज़ करें याददाश्त

मेमोरी को कैसे बेहतर बनाएं

चमकदार पोस्टर, टीवी ऐड, सोशल नेटवर्क, इंटरनेट सर्च … ये सभी मस्तिष्क की पावर पर हमला करते हैं। इसलिए अगर आप एक शानदार याददाश्त रखना चाहते हैं, तो आपको निम्नलिखित टेकनीक को व्यवहार में लाना होगा:

1. तथ्यों का पुनर्निर्माण

याददाश्त सुधारने की प्रक्रिया
 

निश्चित रूप से यह संभवतः कई बार हुआ है कि आप भूल गए कि आपने चाबियाँ कहाँ छोड़ी थी। आपने बिना किसी नतीजे के चीजों को ढूँढने में घंटों बिता दिए।

न भूलने का एक अच्छा तरीका यह है कि चीजों को रखने के लिए एक फिक्स जगह चुन लें, लेकिन यदि ऐसा न हो, तो आप फैक्ट रिकंस्ट्रक्शन यानी “तथ्यों के पुनर्निर्माण” की टेकनीक का उपयोग कर सकते हैं।

इसका मतलब है, आपको यह याद रखने में कुछ मिनट लगने चाहिए कि आपने घर लौटकर क्या-क्या किया (आपके हाथों में क्या था, कहाँ आपने दूसरी वस्तुओं को छोड़ा, अंतिम बार जब आपने चाबी देखा तो क्या किया था)। अचानक आपके जेहन में उस जगह की तस्वीर आ जायेगी जहाँ आपने उन्हें छोड़ा था।

2. मेमोरी बढ़ाने के उपकरणों का उपयोग करें

जब आप स्कूल में थे तो टीचर आपको सिखाते थे कि तथाकथित नेमोनिक डिवाइस का उपयोग करके फ़ार्मुलों, तथ्यों या तारीखों को कैसे याद किया जाए। ये हमें छोटे वाक्यों या शब्दों से जुडी जानकारी देते हैं। इस तरह बहुत सारी जानकारी कॉम्प्रेस की जाती है और इसे आसानी से एक्सेस किया जा सकता है।

दरअसल वे इस जानकारी को बिना तोते की तरह रटे सहेज कर रखने की सर्विस देते हैं। सबसे अच्छी बात यह है की इन अवधारणाओं को आसानी से नहीं भुलाया जा सकता है, भले ही सालों बीत गए हों।

सबसे प्रसिद्ध उदाहरणों में से एक है “वह मेरा बहुत आसान तरीका जो ग्रहों के नाम याद रखने की प्रोसेस को तेज कर देगा”। हर शब्द का पहला अक्षर सौर मंडल के एक ग्रह और सूर्य से उसकी दूरी के क्रम को दर्शाता है: बुध, शुक्र, पृथ्वी, मंगल, बृहस्पति, शनि, यूरेनस, नेपच्यून और प्लूटो।

बेशक आप शब्दों या अलग-अलग वाक्यों के साथ अपनी पसंदीदा नेमोनिक नियमों का उपयोग कर सकते हैं। इसमें परिवार के सदस्य के नाम, एनीवर्सरी, या एक कैरेक्टर जो आपको बचपन में पसंद था।

3. जोर से पढ़ें

अक्सर जब आप किसी दूसरे इंसान को कुछ समझाते हैं तो कांसेप्ट बेहतर तरीके से याद होते हैं। आपके द्वारा पढ़े गए शब्दों से समझ को  सुधारने के साथ-साथ मस्तिष्क सुनता है, ओसे इसे याद रखने की कोशिश करता है।

इसलिए जब आप पढ़ते हैं या जब आप चाहते हैं कि चीजें आपकी मेमोरी में छप जाएँ तो जोर से पढ़ना अहम होता है।

इतना ही नहीं, छपी पुस्तकों या कागजात को पढ़ना भी अच्छा होगा “पुराने दिनों की तरह।” स्क्रीन समझ को रोकता है और उनसे पैदा रेडिएशन सिरदर्द का कारण बनता है।

इसे भी पढ़ें : LATE डिमेंशिया एक नए तरह की डिमेंशिया

4. आराम करें

शानदार मेमोरी के लिए यह टेकनीक इस तथ्य पर आधारित है कि दिमाग को उस वक्त कांसेप्ट को ठोस बनाने की जरूरत होती है जब यह कुछ अन्य काम न कर रहा हो।

 

अगर आप सुबह स्टडी करने के बाद सिनेमा देखने जाते हैं, न्यूज देखते हैं या फेसबुक पर ब्राउज़ करते हैं, तो आपको शायद वह जानकारी याद नहीं रहेगी जो आपने अभी सीखी है।

इसलिए हम “सूचना की बमबारी” के बाद एक अच्छी झपकी लेने की सिफारिश करते हैं (यदि आप इसे भूलने से बचना चाहते हैं, तो निश्चित रूप से)। इसके अलावा, आप पार्क में सैर कर सकते हैं, एक्सरसाइज कर सकते हैं, हॉट बाथ ले सकते हैं या क्लासिकल म्यूजिक सुन सकते हैं। इस तरह आपके मन के पास खुद को विचलित करने के लिए कुछ भी नहीं होगा।

5. मेमोरी बढ़ाने के लिए  रूटीन बदलें


मस्तिष्क को नई हैबिट और एडवेंचर चाहिए। एकरसता इसे और भी आलसी और बेचैन बना देती है। यदि आप कुछ याद रखना चाहते हैं और एक शानदार मेमोरी चाहते हैं, तो आपको अपनी डेली एक्टिविटी में से कुछ को बदलना चाहिए या कम से कम उन्हें एक अलग क्रम में करना चाहिए।

नए बदलाव आपकी मानसिक क्षमता को बढ़ाते हैं, क्योंकि मन को किसी ऐसी चीज़ पर ध्यान देना पड़ता है, जिसके बारे में उसे पता नहीं है या उसका उपयोग नहीं किया जाता है।

मन बहुत उत्सुक होता है और यह चुनौतियां पसंद करता है। यह हम सभी के भीतर है कि जिन सामग्रियों से यह चुस्त-दुरुस्त रहे, वे चीजें इसे प्रदान करेंऔर चीजों को भूलना बंद करें।