उन अंधेरे दिनों में कैसे जीवित रहें जब कुछ भी वैसे नहीं होता है जैसा आप चाहते हैं 

17 नवम्बर, 2018
अंधेरे दिनों से डरने की कोई जरूरत नहीं है। आपको उनका फायदा उठाना चाहिए। वे आपको रीसेट करने में मदद करते हैं और यह याद दिलाते हैं कि आगे एक उज्ज्वल, रोशनी भरा दिन है।
 

हर कोई उन सूने, अंधेरे दिनों से गुजरता है जब ऐसा लगता है, कुछ भी वैसे नहीं हो रहा है जैसा आप चाहते हैं। जो कुछ भी गलत होता है वह आपको कड़वाहट में डुबा देता है, आपके विचार अस्त-व्यस्त हो जाते हैं।

यह अजीब लग सकता है, लेकिन असल में ऐसे दिनों का होना न केवल अच्छा है बल्कि उनसे गुजरना भी मददगार होता है।

कारण सरल है: वे रीसेट के रूप में कार्य करते हैं। एक पल के लिए आपको अपने राक्षसों को गले लगाना और उनसे आमने-सामने मिलना चाहिए, और फिर दोबारा उठ खड़ा होना चाहिए।

फिर भी, इन प्रक्रियाओं को सिर्फ थोड़े समय के लिए होना चाहिए। अवसर आते हैं और फिर चले जाते हैं। आपके अंधेरे दिनों को सप्ताहों या महीनों तक नहीं रहना चाहिए।

असुविधा, निराशा, क्रोध, कुंठा या मायूसी सभी प्रकट हो सकते हैं। ऐसे समय को पार करने के लिए आपको कुछ सहायक आंतरिक तंत्रों का लाभ उठाने की जरूरत है जिसे हम नीचे समझाएंगे।

अंधेरे दिन, अस्तित्व के कोष्ठक

लोग अपनी निजी जगहों की बहुत अच्छी तरह से रक्षा करते हैं। ज्यादातर अपनी लोकप्रियता बरकरार रखने के लिए हम एक मोटा कवच पहनते हैं और कभी-कभी झूठी खुशी के मास्क के पीछे भी छिप जाते हैं।

जैसे-तैसे हम सबको सिखाया गया है कि अंधेरे दिन नहीं होते हैं। उन्हें अनुभव करने के बजाय, छिपाना और आगे बढ़ना बेहतर है मानो कुछ भी नहीं हुआ है।

दरअसल इसके लिए समय न होना एक आम बात है।

मैं खुद को रुकने और समझने की अनुमति कैसे दे सकता हूं कि मुझे क्या क्या हो रहा है? मेरे पास इतना सारा काम होने के बावजूद!

  • अगर मुझे सिरदर्द होता है तो मैं एस्पिरिन लेता हूं; अगर मैं थक जाता हूं तो बैठता हूं … लेकिन यदि आप बुरी चीजों, निराशा और उदासी में फंस जाते हैं तो क्या करते हैं?
  • उन भावनाओं को कैसे चैनल करना है, किसी ने आपको यह नहीं सिखाया है। इसलिए इससे पहले कि आप उनका सामना करें। आप एक समय से गुजरते हैं, जब ऐसा बनना जैसे कि कुछ नहीं हुआ है, ज्यादा आसान होता है।
 

फिर भी, हमें स्पष्ट होना है। जो चीजें चोट पहुंचाती हैं वे ज्यादा समय तक साथ रहती हैं। आप जिसका सामना नहीं करते हैं वह एक निशान छोड़ देता है। जिसको हल नहीं किया जाता है वह तब तक कायम रहता है जब तक आप शारीरिक और भावनात्मक रूप से बीमार नहीं हो जाते।

इसे भी पढ़ें: डिप्रेशन के लक्षण: कैसे जानें कि आपका प्रिय व्यक्ति इसका शिकार है

जब आपको जरूरत हो तब रोने की अहमियत

यदि बायोलॉजी ने मनुष्यों को इस तरह का व्यवहार दिया है तो इसकी एक बहुत ही खास वजह है। रोना एक शारीरिक तंत्र है जो इमोशनल रिलीफ देने का काम करता है।

  • अपनी भावनाओं को चैनल कर पाने से राहत मिलती है।
  • सबसे बड़ी बात है कि यह व्यवहार इंसानों की एक विशेषता है (अभी तक कोई स्पष्ट निष्कर्ष नहीं है कि हाथियों जैसे जानवर भी क्यों रोते हैं)।
  • रोना तनाव को कम करने, ऑक्सीजन प्राप्त करने और अपने ब्रेन को चीजों को और ज्यादा स्पष्ट रूप से प्रोसेस करने की सहूलियत देने का सबसे स्वस्थ तरीका है।
  • अच्छी तरह से रोने से जो चीज कम नहीं हो सकती है उसके बारे में कुछ भी नहीं किया जा सकता।

यदि आप इस इच्छा को दबायेंगे तो भावनात्मक तनाव बढ़ जाएगा। आपकी बुरी भावनाएं सिरदर्द, थकान, सामान्य अस्वस्थता और बदतर रूपों में दिखाई देंगी।

इसे भी जानें: उदासी और डिप्रेशन में आज़मायें ये 8 असरदार प्राकृतिक नुस्खे

अंधेरे दिनों में जब आपको जरूरत हो तो रुकने की अहमियत

जब आप महसूस करते हैं कि आप उन अंधेरे दिनों से गुजर रहे हैं और रुकते हैं, तो इसका मतलब यह नहीं है कि आप अपने को सब चीजों और लोगों से अलग करते हैं।

  • उन अंधेरे दिनों के दौरान आपको सबसे ज्यादा खड़े होने और जागरूक होने की जरूरत है।
  • आपको अपने अंधेरे के बारे में सोचने के लिए उस नाजुक आंतरिक यात्रा पर जाना चाहिए। यह पता करें कि क्या चीज चोट पहुंचा रही है, आपको क्या परेशान कर रहा है, और आपको क्या ब्लॉक कर रहा है।
 
  • जागरूक होने का मतलब है, अपनी कमजोरियों का पर्दाफाश करने और उन्हें सुधारने के लिए खुद को खोलना। सच में, आपका कवच जितना ज्यादा मोटा होता है अंदर रहने वाला जीव उतना ही नाजुक होता है।

हर किसी को अपने राक्षसों को काबू में करने, छोटा बनाने और नियंत्रित करने के लिए उन्हें गले लगाने की जरूरत है।

आपको जो चाहिए वह कहने में न डरें

आपको जो चाहिए, उसे कहने से डरने की कोई जरूरत नहीं है। असल में निश्चयात्मक बनना सीखने से आपको दूसरे लोगों और उनके रिएक्शन को बेहतर जानने में मदद मिलेगी।

इसलिए यह कहने में न डरें कि आपको अपने लिए कुछ घंटों की जरूरत है। सोचने, टहलने, अपने विचारों के साथ अकेले रहने और बस अपने को दिलासा देने के लिए समय निकालें।

  • साथ ही मदद मांगने से न डरें। एक दोस्त के साथ बढ़िया कॉफी पीते समय सिर्फ अपने विचारों को शेयर करने से वे अंधेरे दिन ग्रे से नीले में बदल सकते हैं।
  • अंधेरे दिन उन गर्मियों के तूफानों की तरह हैं जिन्हें खोल देना चाहिए। सब तनाव दूर होने के बाद उनके पीछे आने वाली ताजी और साफ हवा का आनंद लेने के लिए उनसे गुजरना जरूरी है।

अपनी जरूरतों की ओर से जागरूकता, भावनात्मक राहत और किसी प्रियजन का सपोर्ट इन हालातों से निपटने के लिए अहम हो सकता है।