याद रखें, आपने किसी को नहीं खोया, उन्होंने आपको खो दिया है

01 जनवरी, 2019
ब्रेकअप और खोना ज़िन्दगी का दुखद यथार्थ है। तकलीफ का सामना करना सीखें। हमेशा याद रखें, अपने को महज इसलिए नहीं खोना है कि आपने किसी और को खो दिया है। अपने नजरिये को बदलना और यह समझना सीखें कि ब्रेकअप के बाद आपने जो खोया है, वह कोई ऐसा व्यक्ति था जो यह नहीं जानता था कि उसके पास क्या है।
 

इसमें कोई शक नहीं कि जीवन के किसी मोड़ पर आपने किसी ऐसे व्यक्ति को खोया है जो आपके लिए बहुत मायने रखता था। एक प्रेमी, दोस्त, परिवार का कोई सदस्य या कोई और।

हम यहाँ भावनात्मक रूप से खोने की बात कर रहे हैं, शारीरिक रूप से नहीं। यह उन ब्रेकअप के बारे में है जो किसी तरह से हमारे जीवन को उखाड़कर ख़त्म होते हैं। ये वे रिश्ते हैं जो हमें ज़ख्मी और सवालों से भरे हुए छोड़ जाते हैं।

किसी रिश्ते के अंत के बारे में, भले ही वह किसी भी किस्म का रिश्ता क्यों न हो, सबसे कठिन पहलू यह है कि कभी भी इसका सामना ऐसे सकारात्मक रूप से करना आसान नहीं होता, जिससे वह हमारे पर्सनल ग्रोथ में मदद कर सके।

ब्रेकअप के बाद, हमारे आत्मविश्वास का पाताल में लुढ़क जाना आम है।

कई लोग इस परिणति के लिए खुद को दोषी मानते हैं। इस तरह वे एक आत्मघाती सोच और अपराधबोध के सर्पिल भंवर की शुरुआत कर देते हैं। वे कमोबेश ऐसा सोचते हैं, “मैं इससे अलग कुछ कर सकता था,” “मैं प्यार किये जाने लायक नहीं हूं,” “मैं उसके लिए बहुत अच्छा नहीं था।”

सबसे पहले इस बारे में बिलकुल स्पष्ट हो लीजिये: एक इमोशनल लॉस के दर्द से उबरने का अर्थ है, हमारे दिमाग में चलने वाले विचारों की प्रकृति पर काबू पाना।

हमसे बुरा कोई दूसरा दुश्मन हमारा नहीं होता। ब्रेकअप जैसे भावनात्मक नुकसान में हम कभी-कभी अपने ही उत्पीड़क बन जाते हैं।

इससे काम नहीं चलेगा। अपनी भावनाओं का सही प्रबंध करने के लिए यहां कुछ आसान और प्रभावी स्ट्रेट्जी का हम जिक्र करेंगे।

आपने जो खोया है, जो छोड़ा है और जो चीज आपको आगे बढ़ाएगी

लोग हमारे ख़यालों से कहीं ज्यादा नाजुक होते हैं।

रोज की ज़िन्दगी में, हम यह सब एक साथ देखते हैं। इससे हमें लगता है कि हम यह सब इकट्ठे कर सकते हैं, और कुछ भी हमें चोट नहीं पहुंचा सकता।

जीवन के कुछ मोड़ों पर  हम वास्तव में यह मानते हैं क्योंकि हम उन लोगों के साथ मजबूत बांड में बंधे रहते हैं जिनसे हम प्यार करते हैं।

गहरी मित्रता, अच्छे पारिवारिक रिश्ते और खुशहाल प्रेम संबंध हमें पंख, शक्ति और आशावादिता देते हैं।

लेकिन कभी-कभी इस पूरे चेन में सिर्फ एक ढीली कड़ी ही पूरी व्यवस्था को भरभरा कर गिरा देती है।

अचानक हम नकारात्मक भावनाओं से इतना ज्यादा घिर जाते हैं कि अपना दरवाजा बिलकुल बंद कर लेते हैं। हम नहीं जानते, हमें क्या करना है, क्या सोचना है या कैसे रिएक्शन देनी है।

हमारे अस्तित्व की बुनियाद ही हमारे पैरों से नीचे गिर गई लगती है। हम उस नुकसान, ब्रेकअप या उस व्यक्ति के बारे में सोचना रोक नहीं पाते जो हमें पीछे छोड़ गया है। और क्यों, यह भी हमें पता नहीं होता।

 

इस बारे में भी जानें: डिप्रेशन के बारे में 4 ज़रूरी बातें जिन्हें हर महिला को जानना चाहिये

प्यार की भीख न मांगें

उन्होंने आपको खो दिया है

सबसे पहले हमें यह समझना चाहिए कि सभी नेगेटिव इमोशन, वे चाहे क्रोध, निराशा, उदासी या भय हों, हमारे मस्तिष्क में उनका एक उद्देश्य होता है। वे हमें हकीकत दिखाती हैं, जिससे हम “खतरे” का जवाब देने के लिए प्रतिक्रया कर सकें:

  • नकारात्मक भावनाएं सहज इंस्टिंक्ट से पैदा होती हैं, और हमें किसी चीज़ की तलाश में रखती हैं: कि एक प्रतिक्रिया होनी चाहिए।
  • अगर यह साफ़ है कि वे अब हमें प्यार नहीं करते, तो इसके लिए एक और चांस की भीख मांगने से ज्यादा विनाशक कुछ भी नहीं है।
  • ब्रेकअप से दर्द होता है। दुख को महसूस करना, उस पर रोना और अपने विचारों के साथ कुछ वक्त बिताना ज़रूरी होता है।
  • बाद में, जो हो चुका है, हम उसे स्वीकार कर लेने तक पहुँचते हैं और आगे बढ़ना शुरू करते हैं।

‘अतीत में डूबे रहना और ‘क्या होगा अगर’ जैसी बातें आपकी निराशा को क्रोनिक बनाने के अलावा कुछ नहीं करती हैं।

इसे भी पढ़ें: अपनी नेगेटिव सोच को ऐसे खत्म करें, पायें स्वस्थ नज़रिया

उन्होंने आपको खो दिया है, आपने उन्हें नहीं

आपने किसी को नहीं खोया, उन्होंने आपको खोया है। इस तरह की सोच पर ध्यान देना आत्मकेंद्रित होने का संकेत नहीं है, बल्कि आपकी भावनात्मक मजबूती को बताता है। याद रखें:

  • अगर कोई इंसान आपकी आशाओं और सपनों में फिट नहीं होता है, अगर वह आपकी कीमत को नहीं समझता, यदि वह आपके प्यार, आपके स्नेह, आपकी दयालुता से मेल नहीं खाता है, तो जिसको नुकसान हुआ है, वह वही है, आप नहीं।
  • इस नुकसान के लिए आप खुद को दोषी नहीं ठहरा सकते।
  • खुद को शर्मिंदा न करें या खुद को सजा न दें; ऐसा न सोचें कि आपको उनके प्लान में फिट होने के लिए बदलने की ज़रूरत है।
  • अपनी पहचान को या जो आपको बड़ा बनाता ही उसे कभी न खोएं। अगर कोई इसे पसंद नहीं करता है, तो यह उसकी समस्या है, आपकी नहीं। अगर वे नहीं समझ पाते हैं, तो इसके लिए अपने आपको यातना देने का कोई कारण नहीं।
 

अपने आत्म-प्रेम को सींचें, अपने आत्मविश्वास का ख्याल रखें, और अपने उन खूबसूरत गुणों को नष्ट न करें जिनके लिए आपने कड़ी मेहनत की थी, महज इसलिए कि कोई उन्हें देख नहीं पाता है या आप उनके दिल के आकार में फिट नहीं हो पाते हैं।

अपने आप को सिर्फ इसलिए न खोएं क्योंकि आपने किसी को खो दिया है

आपने किसी को नहीं खोया

अपने आपको खोने का कोई अर्थ नहीं है। खुद को प्यार करना बंद कर देना कोई स्वस्थ बात नहीं है, बस इसलिए कि जब आप निकटता की उम्मीद कर रहे थे तो किसी ने दूर होने का चुनाव किया।

  • अगर आप खुद की केयर करना बंद कर देते हैं या आप खुद को अपने दिल से दूरी बना लेते हैं, तो आप एक दुखी कैदी ही हो जायेंगे।
  • आप उस इंसान के कैदी बन जाएंगे जिसने आपको ना कहा, आप पर दरवाजा बंद कर लिया और आपके मन में दुख का बीज बोया।
  • इस अध्याय को बंद करें और दुख के चक्र को ख़त्म कर दें
  • वहाँ से बाहर निकलें और दोबारा खुद को जानें
  • कुछ बेहतर महसूस करने और खुद को भूलने के लिए किसी दूसरे प्रेम की तलाश बिलकुल न करें

इन मामलों में करने लायक जो सबसे सही चीज है, वह है जख्मों को भरने में कुछ समय लगाना और एक बार फिर याद करना कि कौन सी चीजें आपको खुश रखती हैं। जानें कि आप कैसे सपने देखते हैं और आपके लिए क्या कुछ मायने रखता है।

जो आपने खोया है उसका अब कोई अस्तित्व ही नहीं है। वह अब अतीत की गर्त में है। आपके लिए अब जो आनेवाल है, वे हैं नई खुशियाँ और नई उम्मीदें।

अगर आप इसे चाहते हैं, तो यह आपकी पहुंच के दायरे में है।

तस्वीरें : स्टेसिया बर्टिंगटन के सौजन्य से

मुख्य तस्वीर: wikiHow.com के सौजन्य से

 
  • VV.AA.(2017).Incidencia del duelo en la ruptura amorosa en estudiantes universitarios en un Centro de Crisis, Emergencias y Atención al Suicidio (CREAS). https://www.sciencedirect.com/science/article/pii/S2007078018300026