ब्लैडर इन्फेक्शन से मुकाबले के लिए 5 प्राकृतिक इलाज

मूत्र बनने के लिए ज्यादा पानी पीना जरूरी है। ब्लैडर में बैक्टीरिया जमा होने से बचाने का एक तरीका पेशाब करना है।
ब्लैडर इन्फेक्शन से मुकाबले के लिए 5 प्राकृतिक इलाज

आखिरी अपडेट: 10 फ़रवरी, 2021

क्या आपको ब्लैडर इन्फेक्शन की डायग्नोसिस की गयी है और यह जानना चाहते हैं कि डॉक्टर की बतायी दवा के बेहतर असर के लिए सप्लीमेंट के रूप में घर पर क्या खाना चाहिए। यह जानने के लिए आगे पढ़ते रहें।

ब्लैडर इन्फेक्शन का एक रूप सिस्टाइटिस (cystitis) है, जिसका आमतौर पर कारण बैक्टीरिया होता है, हालांकि यह इस अंग में पत्थरी बनने से भी हो सकता है। इसके सबसे आम लक्षण हैं बार-बार पेशाब करने की चाहत और पेशाब करते समय असुविधा (दर्द या जलन) का होना।

इसके अलावा गलत हाइजीन इन बैक्टीरिया के उभरने का कारण भी हो सकता है। इसके अलावा वे गीले या टाइट-फिट अंडरवियर और यहां तक ​​कि असुरक्षित सेक्स करने से पैदा हो सकते हैं।

डॉ. तल्हा एच. इमाम के मुताबिक़, “सिस्टाइटिस महिलाओं में आम है, खासकर फर्टाइल पीरियड के दौरान। महिलाओं के इसका शिकार होने के कई कारण हैं, जिनमें सबसे महत्वपूर्ण उरेथ्रा यानी मूत्रमार्ग की कम लंबाई और योनि और गुदा से इसकी निकटता है, जहां आमतौर पर बैक्टीरिया जमा होते हैं।”

सिस्टाइटिस का इलाज

इस संक्रमण के इलाज में आमतौर पर थोड़े समय के लिए एंटीबायोटिक्स और एनाल्जेसिक (आवश्यकतानुसार) दिए जाते हैं। सर्जरी बस दुर्लभ मामलों में की जाती है।

फार्माकोलॉजिकल ट्रीटमेंट के साथ रोगियों को खूब पानी पीने की सिफारिश की जाती है, क्योंकि यह लक्षणों से राहत देने और इलाज में योगदान देता है।

हालांकि सिस्टाइटिस आमतौर पर बहुत गंभीर स्वास्थ्य समस्या नहीं है, पर इस पर ध्यान दिया जाना चाहिए और जटिलताओं और लॉन्ग टर्म नतीजों से बचने के लिए अपने डॉक्टर के निर्देशों पर अमल करें।

ब्लैडर इन्फेक्शन के लिए पाँच प्राकृतिक नुस्ख़े

नीचे बताये गए ड्रिंक पेशाब बढ़ाते हैं, उसे उत्तेजित करते हैं, जो कि राहत देने में मदद करता है। मूत्र को बाहर निकाल कर आप उन पैथोजेन को भी निष्कासित कर सकते हैं जो संक्रमण का कारण बनते हैं।

1. क्रैनबेरी, तरबूज और चेरी

यह माना जाता है कि एंटीऑक्सिडेंट, न्यूट्रिएंट और दूसरे बायोएक्टिव तत्वों की भरपूर खुराक ब्लैडर इन्फेक्शन के इलाज में काफी मदद कर सकती है। इसलिए आमतौर पर एंटीऑक्सिडेंट से समृद्ध चेरी और ब्लूबेरी के जूस का सेवन करने की सिफारिश की जाती है, खासकर लाइकोपीन  जैसे तत्व वाले तरबूज जैसे फल।

सामग्री

  • ½ कप ताजी क्रैनबेरी
  • ½ कप कटा हुआ तरबूज
  • ताजा मिंट (वैकल्पिक)
  • ½ कप चेरी
  • 1 कप पानी

निर्देश

  • चेरी और क्रैनबेरी को धोकर सुखा लें
  • अलग से तरबूज से गूदा निकालें और छिलका और बीज फेंक दें
  • उन्हें 2 से 3 मिनट के लिए पानी के साथ ब्लेंडर में डालें जब तक आपको एक स्मूद जूस न मिल जाए
  • थोड़ी मात्रा में परोसें और पियें
  • स्वाद बढ़ाने के लिए ताज़े पुदीने के कुछ पत्ते भी डाल सकते हैं

इसे भी पढ़ें: ओवर एक्टिव ब्लैडर से परेशान हैं तो ये 6 युक्तियाँ आजमाएँ

2. ब्लैडर इन्फेक्शन में उपयोगी है कैमोमाइल टी

लोक चिकित्सा में हमेशा क्लासिक कैमोमाइल टी पर ध्यान दिया गया है क्योंकि इस हर्ब में सिडेटिव, एनाल्जेसिक, और एंटी इन्फ्लेमेटरी  गुण होते हैं जो ब्लैडर इन्फेक्शन जैसे मसलों से राहत देने में उपयोगी हैं।

इसके अलावा यह एक नेचुरल ड्रिंक है जिसे घर पर बनाना बहुत आसान है, और यह डेली हाइड्रेशन को बनाए रखने और शरीर से पानी को बाहर निकालने में भी योगदान दे सकता है।

सामग्री

  • 1 सैशे कैमोमाइल चाय
  • 1 कप पानी

निर्देश

  • एक कप में पानी डालें और एक दो मिनट के लिए माइक्रोवेव में गर्म करें
  • पानी उबलने लगे तो बैग को अंदर रख दें
  • कप को ढकें और लगभग 5 से 6 मिनट के लिए छोड़ दें
  • पियें

3. नारियल पानी और नींबू

ब्लैडर इन्फेक्शन में उपयोगी है कैमोमाइल टी

सामग्री

निर्देश

  • एक हरे नारियल से निकले पानी को आधे नींबू के रस के साथ मिलाएं

4. सेलरी सीड्स के साथ ब्लैडर इन्फेक्शन से निजात

जी तरह प्रचुर पानी और फाइबर मौजूद होने के कारण कुछ लोग पूरी सेलरी से कई तरह से बने डिटॉक्स ड्रिंक का फायदा उठाते हैं, वहीं कुछ ऐसे भी हैं जो इस सब्जी के बीजों का लाभ उठाते हैं क्योंकि इसमें कई मेडिसिनल असर छिपे हैं।

सामग्री

  • 1 चम्मच सेलरी सीड्स
  • 1 कप पानी

निर्देश

  • सबसे पहले एक कप को पानी से भरें और इसे ढाई मिनट के लिए माइक्रोवेव में गर्म करें
  • उबलते पानी में सेलरी सीड्स  डालें
  • फिर पानी को ढंक दें और इसे 10 मिनट के लिए छोड़ दें
  • अंत में छान लें और पियें

पढ़ें: ओवर एक्टिव ब्लैडर की समस्या से हैं परेशान तो क्या करें उपाय

5. बर्च (Birch)

मूत्राशय के संक्रमण में भोज वृक्ष की चाय भी बहुत मदद करती है।

अंत में लोकप्रिय धारणाओं के अनुसार मूत्राशय के संक्रमण की तकलीफ दूर करने के लिए भोज वृक्ष की चाय भी एक महत्वपूर्ण नेचुरल ड्रिंक है।

सामग्री

  • 1 चम्मच बर्च
  • 1 कप पानी

निर्देश

  • सबसे पहले, बर्च को पानी में डालें और उबाल लें
  • यह उबलने लगे तो आंच को धीमा कर दें और इसे 2 से 3 मिनट तक उबलने दें
  • इसे 10 मिनट के लिए छोड़ दें और फिर छान लें

ध्यान दें: यदि आपको हाई ब्लड प्रेशर या कोई हार्ट प्रॉब्लम है तो इस नुस्खे को न आजमायें। ज्यादा जानकारी के लिए डॉक्टर की सलाह लें।

ब्लैडर इन्फेक्शन होने पर अधिक चीजें आप कर सकते हैं

यह जरूर ध्यान रखें कि बेहतर साफ़-सफाई की आदतें महत्वपूर्ण होती हैं और सामान्य रूप से बेहतर लाइफ स्टाइल देती हैं।

यदि स्थिति में सुधार नहीं हो रहा है या जटिलताएं ज्यादा हैं, तो जल्द से जल्द डॉक्टर से बात करें। याद रखें कि आप जितनी जल्दी शुरू करेंगी, उतनी ही जल्दी ठीक हो जाएंगी, इसलिए सेहत को नजरअंदाज बिलकुल न करें!



  • Ritchie, T., & Eltahawy, E. (2014). Diagnosis and Management of Fungal Urinary Tract Infections. Current Bladder Dysfunction Reports. https://doi.org/10.1007/s11884-014-0238-7
  • Guay, D. R. P. (2009). Cranberry and urinary tract infections. Drugs. https://doi.org/10.1109/ICCA.2011.6138086
  • Bond, P., & Goldblatt, P. (1984). Plants of the Cape Flora. A Descriptive Catalogue. Journal of South African Botany / Supplementary Volume.