आलिंगन के मनोवैज्ञानिक लाभ

27 अक्टूबर, 2018
किसी को गले लगाने का मतलब सिर्फ़ दो शरीरों का मिलन नहीं होता। अपने प्रियजनों को गले लगाने से हमें अच्छा महसूस होता है, हमारा इम्यून सिस्टम ताकतवर हो जाता है और यहाँ तक कि हमारे ब्लड प्रेशर में सुधार भी आ सकता है।

जब आप मायूस होते हैं, जश्न मनाना चाहते हैं या किसी से अपने प्यार का इज़हार करना चाहते हैं तो आलिंगन से अच्छा तोहफा और कोई नहीं हो सकता

क्या आप जानते हैं, किसी को गले लगाने से या फ़िर किसी की बाहों में भरे जाने से शरीर को क्या-क्या लाभ होते हैं? यहाँ हम सिर्फ़ शारीरिक फायदों की ही नहीं, बल्कि भावनात्मक और मनोवैज्ञानिक फायदों की भी बात कर रहे हैं।

आइए इस लेख में किसी के गले लगाने के भावनात्मक और मनोवैज्ञानिक फायदों पर एक नज़र डालते हैं।

भरपूर खुशी के लिए आलिंगन की ज़रूरत

आलिंगन की ज़रूरत

दो लोगों के बीच की शारीरिक नज़दीकी केवल प्रेमी जोड़ों तक ही सीमित नहीं होती। आप अपने दोस्तों, अपने माता-पिता, भाई-बहन, दादा-दादी, नाना-नानी या अनजान लोगों को भी अपने गले लगा सकते हैं।

आलिंगन के फायदे जब आपकी समझ में आ जाते हैं तब आसपास वाले लोगों से आपके संबंधों में भी सुधार आ जाता है।

आपको अपनी आदतें बदलनी होंगी, क्योंकि हमारे समाज में अपने प्यार का खुलेआम इज़हार करने को अच्छा नहीं माना जाता। लेकिन अपने दिल की बात जताने का यह एक बेहद खूबसूरत तरीका होता है! अपने सच्चे जज़्बातों को किसी और के सामने बयान करना एक कमाल का एहसास होता है!

किसी बच्चे के लिए माँ की बाहों में होना जीने-मरने के सवाल जैसा होता है।

ऐसे बहुत से मामले देखने में आए हैं जब किसी नर्स या डॉक्टर द्वारा इनक्यूबेटर से निकालकर प्यार से गले लगाए जाने पर किसी शिशु के वाइटल संकेतों में सुधार आ जाता है।

किसी के आलिंगन में होने से हम शांत, सुरक्षित और तनावमुक्त महसूस करते हैं, जिससे हमारा स्वास्थ्य बेहतर हो जाता है।

इसके विपरीत, पर्याप्त प्यार न मिलने और बाकी लोगों के साथ संपर्क में न आने पर शिशु को अपनी ज़िन्दगी की उस जंग में हार का मुंह भी देखना पड़ सकता है, फिर भले ही उसे कितना भी अच्छा खाना और दवाएं क्यों न मिल जाएँ।

इसे भी पढ़ें: किसी दोस्त को खो देना ब्रेकअप जितना दुखदायी हो सकता है

आलिंगन के क्या-क्या फायदे होते हैं?

आलिंगन के फायदे

आलिंगन का हर व्यक्ति पर अलग-अलग असर तो होता है, मगर कुछ चीज़ें ऐसी भी हैं जो साफ़ मन से गले लगाए जाने पर हर किसी को महसूस हो ही जाती हैं।

आपको शांति और सुकून का एक खूबसूरत एहसास होगा। आप खुद को सुरक्षित और सामने वाले व्यक्ति के दिल के करीब भी महसूस कर पाएंगे।

वैज्ञानिकों की मानें तो किसी और व्यक्ति के शारीरिक संपर्क (कोई प्रेम-स्पर्श, उसके द्वारा अपना हाथ दबाए जाना या फ़िर गले लगाए जाना) से हमारे शरीर में ऑक्सीटोसिन नाम का हॉर्मोन निकलता है, जिसे हैप्पी हॉर्मोन'” के नाम से भी जाना जाता है।

यह सब अपने आप ही हो जाता है। एक-दूसरे के साथ अपने कनेक्शन की बदौलत आप कमाल का महसूस करने लगते हैं।

खुद को किसी की बाँहों में पाकर तनाव भी कम हो जाता है, आपके मन को अधिक शांति भी मिलती है। हमें अपने दर्द, डिप्रेशन और बेचैनी से भी छुटकारा मिल जाता है।

मुश्किल वक़्त में अपने प्रेमी या प्रियजन की बाँहों में होना एक बेहद सुखद एहसास होता है। ऐसे में, अपना मूड अच्छा करने का अक्सर वही सबसे अच्छा तरीका भी होता है।

जब कोई आपको गले लगाता है तो ऐसा लगता है, आपकी सारी परेशानियाँ छूमंतर हो गई हैं, या फ़िर वे पहले जितनी बड़ी नहीं रहीं। धीरे-धीरे आपकी बीमारी या असहजता के लक्षण गायब होने लगते हैं।

द मार्वलस माइंड  नाम की वेबसाइट के अनुसार किसी को अपने गले से लगाने के प्रमुख फायदे ये होते हैं:

आत्मविश्वास और सुरक्षा की भावना में बढ़ोतरी

इसके पीछे कारण यह है कि आप समर्थित व सुरक्षित महसूस करते हैं। मंच पर कोई प्रेजेंटेशन देने या फ़िर किसी एग्जाम में बैठने से पहले किसी को गले लगा लेने से आपके दिल की धड़कनें धीमी हो जाएंगी और आपकी घबराहट कम हो जाएगी

इसे ज़रूर आज़माकर देखें!

गुस्से में कमी

आलिंगन से गुस्से को कम करें

जब हमारा मूड खराब होता है, तब सुलह करने और बिगड़ी बातों को “बनाने” के लिए किसी को गले लगाना कमाल का विकल्प होता है।

किसी अनजान इंसान या फ़िर आपकी आँखों में खटकते किसी व्यक्ति को अपने गले लगाने से उसमें सहानुभूति का संचार हो जाता है।

मूड में सुधार

जब कभी भी दफ्तर में आपका दिन खराब जाता है या आपको लगता है, आपकी परेशानियां आपकी बर्दाश्त से बाहर जा रही हैं तो झट से किसी को गले लगा लें!

आप अच्छा और सुरक्षित महसूस करेंगे, आपके आत्मविश्वास में वृद्धि होगी और आप किसी भी समस्या का हल ढूंढ सकेंगे

अगर आपको बुरा महसूस हो रहा है तो आपको इस प्राकृतिक औषधि को भी आज़माकर देख लेना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: सब्मिसिव व्यक्ति के 5 मनोवैज्ञानिक लक्षण

आलिंगन के अन्य फायदे

आलिंगन के अन्य फायदे

अगर ये सब बातें भी काफ़ी नहीं थी तो किसी को गले लगाने और किसी और द्वारा गले लगाए जाने के और भी कई फायदे होते हैं:

  • बच्चों के व्यवहार पैटर्न में सुधार आ जाता है।
  • आपको अच्छी नींद आती है।
  • आप अधिक एकाग्र और प्रेरित महसूस करने लगते हैं।
  • मन को शांति मिलती है (याददाश्त या एकाग्रता संबंधी समस्याओं से बचे रहने के लिए यह आवश्यक होता है)।

बात जहाँ तक आलिंगन के शारीरिक फायदों की है तो वे ये हैं:

  • सफ़ेद रक्त कोशिकाओं के बनने की वजह से हमारा इम्यून सिस्टम मज़बूत हो जाता है।
  • हमारा नर्वस सिस्टम संतुलित होकर पागलपन के जोखिम को कम कर देता है।
  • ब्लड प्रेशर कम हो जाता है। हमेशा नमक से परहेज़ करने से तो यह बेहतर ही होता है।

किसी को गले लगाना इतना मुश्किल क्यों है?

आलिंगन में मुश्किल

बढ़े होते-होते बहुत से लोग किसी तरह के कवच या खोल की आड़ में चले जाते हैं। इससे किसी से संबंध बनाना तो दूर, वे अपनी भावनाओं को खुलकर व्यक्त भी नहीं कर पाते।

गले लगाने और किसी और के द्वारा गले लगाए जाने की आदत हर किसी की नहीं होती। इस आदत को अपनाने में भी आपको काफ़ी वक़्त लग सकता है।

आलिंगन से हमारा मतलब किसी और इंसान की बाहों में बिताए पलों से है। इस हरकत से आपके शरीर का तापमान बढ़ जाता है, आपके हृदय की गति और सांसें धीमी हो जाती हैं, आप सामने वाले व्यक्ति के प्यार और परवाह को महसूस कर पाते हैं।

शुरुआत में किसी को हल्का-सा प्यारभरा स्पर्श करने की कोशिश करें। धीरे-धीरे इसे बढ़ाकर लंबे-लंबे आलिंगन में तब्दील कर दें।

शुरू-शुरू में अगर आपका शरीर थोड़ा सख्त रहता है और आप ऐसे ही किसी को भी अपने गले से लगा लेना नहीं चाहते, या फ़िर अपनी छाती से उसकी छाती को स्पर्श नहीं होने देना चाहते तो फ़िक्र न करें। उन फायदों के बारे में सोचें, जो किसी को गले लगाने से आपको मिलेंगे भी और आप किसी को देंगे भी।

“हग थेरेपी” हर मर्ज़ की दवा होती है। इसे आज़माकर देखने के लिए आपको और भी किसी कारण की ज़रूरत है क्या?

  • Light, K. C., Grewen, K. M., & Amico, J. A. (2005). More frequent partner hugs and higher oxytocin levels are linked to lower blood pressure and heart rate in premenopausal women. Biological Psychology. https://doi.org/10.1016/j.biopsycho.2004.11.002
  • Cohen, S., Janicki-Deverts, D., Turner, R. B., & Doyle, W. J. (2015). Does Hugging Provide Stress-Buffering Social Support? A Study of Susceptibility to Upper Respiratory Infection and Illness. Psychological Science. https://doi.org/10.1177/0956797614559284
  • Alspach, G. (2004). Hugs and healthy hearts. Critical Care Nurse.