8 अनूठे फ़ायदे जो आप पा सकते हैं केले के छिलके में

01 जुलाई, 2018
केले के छिलके में कई ऐसे पोषक तत्व होते हैं जो विभिन्न बीमारियों से छुटकारा दिलाने में हमारी मदद कर सकते हैं। हम दो तरीकों से इसे उपयोग में ला सकते हैं। हम इसे त्वचा की ऊपरी सतह पर लगा सकते हैं, या फिर इसके अर्क का सेवन भी कर सकते हैं।

हममें से अधिकतर लोग केले के छिलके को कूड़ा समझ कर हटा देते हैं।

पर यकीन मानिए, जब आपको इसके अनोखे फ़ायदों के बारे में पता चलेगा तो आप हैरान रह जाएँगे!

केला खाने के बाद हम छिलका फेंक देते हैं, लेकिन इसमें कई पौष्टिक तत्व मौजूद होते हैं। ये हमें कई तरह से फ़ायदा पहुंचा सकते हैं।

केले के छिलके इसके गूदे की तरह स्वादिष्ट तो नहीं होते हैं, लेकिन इसमें पाए जाने वाले फाइबर, एंटी-ऑक्सीडेंट और खनिज पदार्थ यानी मिनरल इसे बेहद उपयोगी बना देते हैं।

  • केले का छिलका एक तरह का प्राकृतिक उपचार है और कई बीमारियों और उनके लक्षणों से जूझने में हमारी सहायता करता है।
  • यह जलन को रोकने में सक्षम है।
  • इसके एंटी-माइक्रोबियल गुण बीमारी को बढ़ाने वाले सूक्ष्म जीवों को नष्ट करने में सहायक होते हैं।

हममें से कई लोग इन अनूठे फ़ायदों से अनजान हैं। आज हम आपको इनके बारे में जानकारी देंगे।

तो चलिए, हम आपके साथ केले के छिलके के आठ रोचक उपयोग शेयर करते हैं!

1. केले के छिलके कब्ज़ से लड़ने में मदद करते हैं

कब्ज़ की परेशानी से राहत दिलाते हैं केले के छिलके

हालाँकि केला फाइबर से भरपूर होता है, लेकिन यह याद रखना बहुत ज़रूरी है कि अधिकांश फाइबर छिलकों में पाया जाता है।

  • इसके सेवन से आंतें सुचारू रूप से अपना काम करती हैं।
  • यह पाचन प्रक्रिया में भी मदद करता है।
  • इस प्रकार कब्ज़ की परेशानी से छुटकारा मिल सकता है।

आप इसे केले के गूदे में घोट लें और इस मिश्रण का सेवन करें।

2. मस्से को हटा सकते हैं केले के छिलके 

  • केले के छिलके का अंदरूनी सफ़ेद हिस्सा फाइबर, एंटी-ऑक्सीडेंट और एसिडिक पदार्थों से समृद्ध होता है।
  • ये सभी पदार्थ त्वचा का pH लेवल नियंत्रित रखते हैं।
  • इनसे शरीर पर दिखने वाला भद्दा मस्सा भी हटाया जा सकता है।

मस्सा हटाने के लिए केले के छिलके को मस्से के ऊपर रखें और फिर किसी टेप की सहायता से उसे वहां चिपका दें।

ऐसा रोज़ रात को तब तक करते रहें जब तक मस्सा पूरी तरह से हट न जाए।

3. कीड़ों के काटने पर होने वाले दर्द से छुटकारा

कीड़े के काटे ज़ख्म पर असर करते हैं

  • जलन की रोकथाम करने में सक्षम और ठंडक पहुँचाने वाले गुणों से भरपूर यह प्राकृतिक उपचार कीड़े के काटे घावों पर भी अपना असर दिखाता है।
  • इसे घाव पर लगाने से तकलीफ में राहत मिलती है और खुजली और लाली में भी कमी आती है।

जिस जगह पर कीड़े ने काटा हो वहाँ इसे लगाएँ। आपको जल्द ही आराम मिलेगा।

4. शरीर में पानी जमा होने से रोकता है

केले के छिलके के अन्दर पोटैशियम पाया जाता है।

  • पोटैशियम से शरीर का तापमान सही रहता है और शरीर में पानी जमा होने की समस्या से छुटकारा मिलता है।
  • इससे शरीर में इलेक्ट्रोलाइट लेवल नियंत्रित रहता है।
  • साथ ही, में मांसपेशियों और जोड़ों में सूजन कम होती है।

केले के छिलके से तैयार किये गए मिश्रण को नियमित रूप से दिन में 2-3 बार पियें।

5. स्वस्थ कार्डियोवैस्कुलर सिस्टम

केले के छिलके से दिल की देखभाल

यकीन करना थोड़ा मुश्किल है, लेकिन यह आपके ह्रदय के स्वास्थ्य की देखभाल करने में भी सक्षम है।

  • इसमें मौजूद प्राकृतिक फाइबर धमनियों में कोलेस्ट्रॉल को जमा होने से रोकते हैं।
  • इसमें मौजूद फॉस्फोरस रक्तचाप को भी नियंत्रित करता है।

इसके छिलके से तैयार की गई चाय का हफ्ते में कम से कम 3 बार सेवन करना चाहिए।

6. मुहाँसो की रोकथाम करता है

  • केले के छिलके में पाए जाने वाले ऑर्गेनिक एसिड शरीर के pH लेवल को नियंत्रित रखते हैं और मुहाँसों को उभरने से रोकते हैं।
  • यह छिद्रों में बनने वाले अतिरिक्त सेबम को हटाता है। इसके एंटी-इंफ्लेमेटरी प्रभाव के कारण दाग-धब्बों के आकार में कमी आती है।

केले के छिलके का अंदरूनी सफ़ेद हिस्सा लें और चेहरे पर हर प्रभावित जगह पर लगा लें।

इसे 15 मिनट तक लगे रहने दें। इस प्रक्रिया को रोज़ दोहराएँ।

7. चोट से छुटकारा दिलाता है

चोट में आराम देते हैं केले के छिलके

अगर चोट लग गई है और आपकी त्वचा पर उसके निशान हैं, तो केले के छिलके से आपको आराम मिल सकता है।

  • केले के छिलके उस प्रभावित जगह के रक्त प्रवाह में सुधार लाते हैं, और कोशिकाओं में ऑक्सीजन की आपूर्ति बढ़ाकर चोट को ठीक करने में मदद करते है।

जहां पर चोट लगी है वहां केले के छिलके को रगड़ कर उसे ऐसे ही छोड़ दें।

एक अन्य विकल्प के रूप में आप इनके छिलकों से बनी चाय का सेवन करके भी अपनी चोट को ठीक कर सकते हैं।

8. सिरदर्द में आराम दिलाता है

अगर आपके सिर में दर्द है तो केले के छिलके से बहुत आराम मिल सकता है।

  • इसमें मौजूद सभी ज़रूरी मिनरल, फाइबर और एंटी-ऑक्सीडेंट शरीर में रक्त के प्रवाह को ठीक करते हैं।
  • ये सिरदर्द से जुड़े ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को कम करते हैं।

केले के छिलके के अंदरूनी सफ़ेद हिस्से को अपने सिर और गरदन पर लगाएँ।

इसे 15 मिनट के लिए ऐसे ही छोड़ दें।

यह तो निश्चित है कि केले के छिलकों के इतने सारे फायदों के बारे में जानने के बाद आप इन्हें प्राकृतिक उपचार के तौर पर उपयोग में लाना शुरू कर देंगे।

कोशिश करके इन्हें ताज़ा ही इस्तेमाल करें। फ्रिज में रखे छिलके अपने प्राकृतिक गुण खो सकते हैं।

उम्मीद है, आप इस ट्रीटमेंट का भरपूर लाभ उठाएँगे।

  • Melo Sabogal, D. V., Torres Grisales, Y., Serna jiménez, J. A., & Torres Valenzuela, L. S. (2015). APROVECHAMIENTO DE PULPA Y CÁSCARA DE PLÁTANO (Musa paradisiaca spp) PARA LA OBTENCIÓN DE MALTODEXTRINA. Biotecnoloía En El Sector Agropecuario y Agroindustrial. (13)76-85
  • Blasco López, G., & Gómez Montaño, F. J. (2014). Propiedades funcionales del plátano (Musa sp). Revista Médica de La Universidad Veracruzana.
  • Ehiowemwenguan, G. et al. “Antibacterial and phytochemical analysis of Banana fruit peel”, IOSR Journal Of Pharmacy, (e)-ISSN: 2250-3013, (p)-ISSN: 2319-4219. www.iosrphr.org Volume 4, Issue 8 (August 2014), PP. 18-25 18
  • Sundaram, Shanthy, et al. “Antioxidant activity and protective effect of banana peel against oxidative hemolysis of human erythrocyte at different stages of ripening.” Applied biochemistry and biotechnology164.7 (2011): 1192-1206.