5 शानदार ब्रेकफ़ास्ट टेकनीक हाइपोथायरॉइडिज्म के लिये

03 दिसम्बर, 2018
हाइपोथायरॉइडिज्म से जुड़े लक्षणों को ठीक करने के लिए ब्लूबेरी और ओटमील जैसे प्राकृतिक स्रोतों के माध्यम से आयोडीन की अच्छी खुराक के साथ अपना दिन शुरू करने से ज्यादा बेहतर कुछ और नहीं हो सकता।
 

हाइपोथायरॉइडिज्म के साथ जीवन गुजारना आसान नहीं है। आमतौर पर यह बीमारी सही मेडिकल ट्रीटमेंट पर अच्छी प्रतिक्रिया देती है। फिर भी ऐसी भी कुछ बातें हैं जिनकी जानकारी सभी मरीजों को नहीं भी हो सकती है। वह है, आपको अपने डाइट हैबिट में बदलाव लाने की जरूरत है।

थायरॉइड ग्रंथि में जो भी बदलाव होते हैं, वे हमारे शरीर में बदलावों की पूरी एक चेन को ट्रिगर कर देते हैं, जो हमसे नई दिनचर्या और स्वस्थ खानपान की मांग करते हैं।

हाइपोथायरॉइडिज्म का मतलब है शरीर में थायरॉइड हार्मोन की कमी हो जाना। धीरे-धीरे यह मेटाबॉलिज़्म, न्यूरोनल, कार्डियो-सर्कुलेटरी और पाचन क्रियाओं के पीछे की शारीरिक गतिविधि के बदलने का कारण बनता है।

वजन बढ़ना, बालों का पतला होना, थकान और शरीर के तापमान में परिवर्तन ऐसे बदलाव हैं जो कई लोगों के जीवन को तुरंत प्रभावित करते हैं।

हालांकि मेडिकल ट्रीटमेंट आम तौर पर प्रभावी होता है और रोगी थायरॉइड ग्रंथि की गतिविधि को स्टेबल करने में सक्षम होते हैं

दवा लेने के दौरान डाइट संबंधी किन दिशानिर्देशों का पालन किया जाना चाहिए? नीचे नाश्ता करने के संबंध में 5 नियम बताये गए हैं।

1. हाइपोथायरॉइडिज्म के इलाज के लिए नेचुरल ड्रिंक को हाँ कहें

हाइपोथायरॉइडिज्म के लिये गाजर

न्युट्रीशनिस्ट बताते हैं, हाइपोथायरॉइडिज्म के साथ ध्यान में रखने वाली पहली बात यह है कि हमें संतुलित भोजन करने की आवश्यकता है।

उदाहरण के लिए, हम जानते हैं, आयोडीन सेवन बढ़ाने से निचले स्तर पर काम कर रहे थायरॉइड ग्लैंड को नियंत्रित किया जा सकेगा

लेकिन यह सिर्फ इस मिनरल से भरे खाद्य पदार्थ खाने का मामला नहीं है। ज्यादा चरम पर जाने की जरूरत नहीं है।

  • हमें याद रखना होगा कि कॉफी, साथ ही चाय या सोया, हाइपोथायरॉइडिज्म के लिए अच्छे नहीं है। लेकिन हमें उन्हें अपने आहार से हमेशा के लिए बाहर करने की ज़रूरत भी नहीं है। कभी-कभी उनका आनंद ले सकते हैं, लेकिन दिन में कई बार नहीं।
  • रोजाना एक बड़ी कप कॉफी के बिना दिन शुरू करना आपके लिए दुखी करने वाला हो सकता है, लेकिन आप सप्ताह में तीन बार एक कप कॉफी से काम चला सकते हैं।

हमारे आहार में यह ध्यान देने की जरूरत है कि वास्तव में ताजा फल और सब्जियों के क्या लाभ हैं। नाश्ते में लिए जाने योग्य इन नेचुरल ड्रिंक पर ज़रा ध्यान दें।

 
  • गाजर का नेचुरल जूस
  • सेब का नेचुरल जूस
  • ककड़ी, नींबू और स्पिरुलिना (spirulina) शेक ।

यह भी पढ़ें : 9 टिप्स धीमे मेटाबॉलिज़्म को बूस्ट करने के लिए 

2. लहसुन (Garlic)

लहसुन थायरॉइड को रेगुलेट करने और हाइपोथायरॉइडिज्म का इलाज करने में बहुत असरदार है क्योंकि यह आयोडीन और सेलेनियम से समृद्ध है। ये दोनों तत्व ऐसी बीमारियों को ठीक करने के लिए दो ज़रूरी मिनरल हैं

कई अन्य बुनियादी कार्यों के साथ-साथ यह मेटाबोलिज़्म को तेज करने में मददगार है। हम ये सलाह भी देंगे:

  • होल व्हीट टोस्ट पर दो लहसुन की कलियाँ फैलायें।
  • लहसुन के साथ एक आमलेट भी बना सकते हैं, अंडे भी हाइपोथायरॉइडिज्म के लिए अच्छे हैं।

3. ओटमील (Oatmeal)

हाइपोथायरॉइडिज्म के लिये ओटमील

आप कटे हुए सेब, कीवी, स्ट्रॉबेरी या आड़ू ( peach) के साथ ओटमील खा सकते हैं।

  • यह पाचन प्रक्रिया को उत्तेजित करता है, और आंतों की मूवमेंट को नियंत्रित करने में मदद करता है, जो हाइपोथायरॉइडिज्म के साथ एक आम समस्या है
  • आयोडीन की मात्रा मेटाबोलिज़्म और हार्मोन दोनों के काम में मदद करेगी।
  • हम यह नहीं भूल सकते कि ओटमील हमें बेहतर महसूस कराता है, खराब कोलेस्ट्रॉल (एलडीएल) को नियंत्रित करता है और पेट भरा होने का आभास देता है।

निश्चित रूप से अपने नाश्ते में ओटमील शामिल करें!

इसे भी आजमायें : 7 दिन शहद और लहसुन सेवन के फायदे 

4. साबुत अनाज के साथ नट्स आदि

साबुत अनाज पोषक तत्व, फाइबर और मिनरल प्रदान करते हैं और हाइपोथायरॉइडिज्म के लिए बहुत फायदेमंद हैं।

  • ये ब्लड शुगर का स्तर भी नियंत्रित करते हैं और भूख को भी।
  • आयोडीन के स्तर को बढ़ाने में साबुत अनाज सक्षम हैं। यदि आप एक चम्मच नट्स और थोड़ा फल डालते हैं, तो आपके पास एक पूरा स्वादिष्ट नाश्ता होगा।

4. नेचुरल ऑर्गेनिक दही

हाइपोथायरॉइडिज्म के लिये: प्राकृतिक दही
 

अगर आप लैक्टोज इन्टॉलरेंट हैं, तो नाश्ते में प्राकृतिक दही का उपयोग एक अच्छा विचार है। क्योंकि यह प्राकृतिक, आयोडीन से समृद्ध प्रोबायोटिक फ़ूड है

अगर आपको ऑर्गेनिक वैरायटी मिलती है या अगर आप जानते हैं कि इसे खुद कैसे बनाना है, तो आप ज्यादा फायदा उठाएंगे।

5. ब्लूबेरी (Blueberries)

क्या आप जानते हैं, ब्लूबेरी एंटीऑक्सीडेंट से समृद्ध प्राकृतिक खजाने की तरह हैं और आयोडीन का एक शक्तिशाली स्रोत है?

  • इन्हें मिलने वाले सीजन में इन्हे खाने की कोशिश करें। इन्हें दही में मिलायें या एक चम्मच ओटमील में मिलायें, और आपके पास नाश्ते के लिए एक शानदार विकल्प होगा।

संक्षेप में कहें तो, दिन की सही शुरूआत करने का एक तरीका है, एक उम्दा नाश्ते के साथ थायरॉराइड ग्लैंड का ख्याल रखना। हमारे ये सुझाए गए विकल्प हाइपोथायरॉइडिज्म के लिए बहुत फायदेमंद हैं।

ध्यान रखें, फिजिकल एक्टिविटी भी हमारे मेटाबोलिज़्म को उत्तेजित करती है।

इसलिए अगर आपके पास समय है, तो बढ़िया नाश्ते के बाद चलने या योग का अभ्यास करने से बेहतर कुछ भी नहीं है। कुछ योग मुद्रायें उस क्षेत्र को कंप्रेस, स्ट्रेच और उत्तेजित करके थायरॉइड को सक्रिय करती हैं जहां यह ग्लैंड स्थित होती है।

यह आपके ध्यान में रखने लायक है!