कोलन को डिटॉक्स करने वाली 5 लाजवाब चाय कैसे बनायें

अगस्त 18, 2018
अपनी पाचक सेहत की देखभाल और अपने समग्र स्वास्थ्य को खतरे में डालने से बचने के लिए आपको साल में कम से कम दो बार अपने कोलन को डिटॉक्स करना चाहिए।

कोलन या बड़ी आंत आपके पाचन तंत्र का हिस्सा है। यह आपके पाचन तंत्र के अंत में एक लंबा खोखला ट्यूब है जहां शरीर मल उत्पन्न और संचय करता है।

आपका कोलन, जैसा कि अधिकांश कशेरुकी प्राणियों (vertebrates ) में होता है, आंतों का अंतिम भाग है। यह ठोस अपशिष्ट को शरीर से बाहर निकालने से पहले उसमें से पानी और नमक खींच लेता है।

कोलन को डिटॉक्स करने की जरूरत के साथ जुड़े आम लक्षण

कोलन के गंदे होने के लक्षण आमतौर पर नज़र में आ जाते हैं। ये उनमें से कुछ है:

आपको अपने कोलन को क्यों डिटॉक्स करना चाहिए?

अपने शरीर को साफ रखना एक विकल्प नहीं है। यह एक प्राथमिकता है क्योंकि जहरीले पदार्थों, फर्मेंटेशन , सैचुरेटेड फैट, वायरस, पैरासाइट और फंगस को खत्म करना जरूरी है। इसलिए यदि आप चाहते हैं कि आपका शरीर ठीक से काम करे तो आपको साल में कम से कम दो बार डिटॉक्स करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: अदरक और हल्दी वाली स्वादिष्ट चाय पीकर अपना वज़न घटाएं

कोलन को डिटॉक्स करने के लिए 5 जायकेदार चाय

1. सौंफ की चाय (Fennel Seed Tea)

सौंफ के दानों की चाय में जोरदार पाचन गुण होते हैं जो आपके पाचन तंत्र की रक्षा करने में मदद करते हैं। डॉक्टर पेट की तकलीफ या सूजन के मामलों में इसकी सिफारिश करते हैं।

सामग्री

  • 1 चम्मच सौंफ के दानें (5 ग्राम)
  • 2 कप पानी (500 मिलीलीटर)
  • 1 छोटा चम्मच शहद (5 ग्राम)

तैयारी

  • सबसे पहले पानी गर्म करें, उसमें सौंफ के दानें डालें और उबालें।
  • फिर इसे एक ग्लास में निकालें और शहद डालें।
  • 7 मिनट के लिए यूंही रहने दें, फिर पियें।
  • हम इसे रोज दोपहर को भोजन के बाद पीने की सलाह देते हैं क्योंकि यह पाचन में सहायता करती है।

2. थाइम की चाय (Thyme Tea)

थाइम में सफाई करने के गुण होते हैं जो आपको अपनी आंतों में फंसने वाले अपशिष्ट को हटाने में मदद करेंगे।

इसके अलावा, यह पौधा पाचन में सहायता करता है, गैस्ट्रिक ऐंठन को रोकता है, गैसों को रोकता है, और आंतों में सड़े हुए पदार्थों के प्रतिधारण को रोकता है। यह इर्रिटेबल बॉवेल सिंड्रोम के लक्षणों को कम करने में मदद करता है।

सामग्री

  • 1 बड़ा चम्मच थाइम (15 ग्राम)
  • एक कप पानी (250 मिलीलीटर)

तैयारी

  • थाइम को पानी के साथ उबालें।
  • फिर करीब 7 मिनट के लिए यूंही रहने दें, उसके बाद पियें।

इसे भी पढ़े:

पुदीने की चाय में हैं सेहत के चमत्कारी गुण

3. कैमोमाइल के फूलों की चाय (Chamomile Flower Tea)

कैमोमाइल के फूल की चाय में सूजनरोधी और सफाई करने के अद्भुत गुण होते हैं। यह कोलन की तकलीफ, गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल तनाव, गैसों और अपच से छुटकारा पाने में बहुत ही असरदार प्राकृतिक उपाय है।

कैमोमाइल में आक्षेपनाशक गुण होते हैं और यह हल्का शामक होता है जो कोलन की मांसपेशियों को शांत करने में मदद करता है। यह गैस्ट्रिक जलन और ऐंठन को भी कम करता है। इसके अलावा, इसमें एंटीसेप्टिक, सूजनरोधी, एंटी-फंगल, और जीवाणुरोधी खूबियां भी हैं।

सामग्री

  • एक मुट्ठी भर कैमोमाइल की पत्तियां (10 ग्राम)
  • 1 कप पानी (250 मिलीलीटर)

तैयारी

  • कैमोमाइल की पत्तियों के साथ पानी उबालें।
  • फिर आंच बंद करें और 5 मिनट के लिए यूंही रहने दें।
  • हम सोने से पहले इस कैमोमाइल चाय को पीने की सलाह देते हैं।

4. पुदीने की चाय (Mint Tea)

पुदीने की चाय आरामदायक और पाचक होती है। यह आंतों को स्वस्थ रखती है और पोषक तत्वों को ठीक से अवशोषित करने में इनकी मदद करती है।

पुदीने की पत्तियां मेन्थॉल और मिथाइल सैलिसिलेट में समृद्ध हैं। ये दो सक्रिय यौगिक हैं जिनमें गजब के आक्षेपनाशक और शांत करने के गुण होते हैं जो पेट और आंतों की मांसपेशियों पर कार्य करते हैं। ये इरिटेबल बाउल सिंड्रोम से जुड़े लक्षणों से छुटकारा पाने में मदद करते हैं।

सामग्री

  • 1 बड़ा चम्मच पुदीने की पत्तियां (15 ग्राम)
  • 2 कप पानी (250 मिलीलीटर)

तैयारी

  • सबसे पहले पानी को गर्म करें जब तक वह उबलने लगे।
  • फिर पुदीने की पत्तियों को डालें और 5 मिनट के लिए अंदर छोड़ दें।
  • उसके बाद आंच बंद करें और 5 मिनट के लिए यूंही रहने दें।
  • हम खाली पेट पर एक कप पीने और सोने के पहले एक और कप पीने की सलाह देते हैं।

5. कस्करा सैगराडा की चाय (Cascara Sagrada Tea)

कस्करा सैगराडा (रैमनस पर्शियाना) रेचक गुण वाला पौधा है। यह कोलन की दीवार की मांसपेशियों को मजबूत करने में मदद करता है, इस तरह यह कब्ज को रोकता है।

सामग्री

  • 1 बड़ा चम्मच कस्करा सैगराडा की छाल (7 ग्राम)
  • एक कप पानी (250 मिलीलीटर)

तैयारी