हार्ट को तंदरुस्त रखने के लिए स्वस्थ भोजन खाएं

25 सितम्बर, 2020
ओमेगा 3 फैटी एसिड आपके लिपिड प्रदान करने और कार्डियोवैस्कुलर बीमारी के रिस्क को कम करने में मदद करते हैं। दूसरे खाद्य पदार्थ भी हैं जो आपके दिल को स्वस्थ रखने में मदद करते हैं। हम आपके लिए इस लेख में विस्तार से  बताएंगे।

यह कोई सीक्रेट नहीं है कि स्वस्थ भोजन आपके दिल को स्वस्थ रखने में मदद करता है। दरअसल कार्डियोवैस्कुलर रोगों को रोकने और उनका इलाज करने की बात आने पर अपनी डाइट में कुछ एडजस्टमेंट करना बुनियादी बात है … खासकर अगर आप इस समय ज्यादा अनहेल्दी खाना खा रहे हैं।

इन दिनों बात जब कार्डियोवैस्कुलर रोगों के खतरे का अनुमान लगाने की बात आती है तो डॉक्टर टोटल कोलेस्ट्रॉल के महत्व पर सवाल उठाते हैं। हालांकि वे इस तथ्य के बारे में निश्चित हैं कि फ्रेस फ़ूड का प्रचुर मात्रा में सेवन करने से कार्डियक फेल्योर की संभावनायें कम हो सकती हैं।

तो अपने दिल को स्वस्थ रखने के लिए आपको क्या खाना चाहिए?

हम यहाँ वह सब कुछ बताएंगे जो आपको जानना चाहिए।

स्वस्थ भोजन खाने से आपका दिल स्वस्थ क्यों रहता है?

ऐसे ढेर सारे अध्ययन हैं जो कार्डियक हेल्थ से स्वस्थ खाद्य पदार्थों को जोड़ते हैं। उदाहरण के लिए करंट कार्डियोलॉजी रिपोर्ट में एक अध्ययन में पाया गया कि हृदय रोग के जोखिम को कम करने में स्वस्थ आहार की अहम भूमिका है। विशेष रूप से शोधकर्ताओं ने निम्न पोषक तत्वों के उचित मात्रा में सेवन के महत्व पर जोर दिया है:

  • फाइबर
  • काम्प्लेक्स कार्बोहाइड्रेट्स
  • विटामिन
  • मिनरल
  • पॉलीअनसेचुरेटेड फैटी एसिड
  • फाइटोकेमिकल्स

ये पदार्थ हम सब्जियों, लीन मीट, साबुत अनाज, फल और अन्य स्वस्थ स्रोतों में पा सकते हैं, और ये कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड्स को बढ़ने से रोकने में मददगार हैं। हाइपरटेंशन, सेरेब्रल वैस्कुलर एक्सीडेंट, हार्ट अटैक और अन्य हृदय रोगों की रोकथाम के मामले में इन्होंने पॉजिटिव असर दिखाया है।

ताजे खाद्य पदार्थों से भरपूर आहार दिल की सेहत के लिए फायदेमंद साबित हुआ है।

हार्ट की केयर करने के लिए सेहतमंद खाना खाएं

हृदय रोग से संबंधित कई रिस्क फैक्टर हैं। इनमें से कुछ में बदलाव नहीं किया जा सकता जैसे कि उम्र और जेनेटिक।पर दूसरे फैक्टर हम कण्ट्रोल कर सकते हैं। उदाहरण के लिए हम जो खाते हैं।

इसे ध्यान में रखते हुए हम दिल को पोषण के माध्यम से स्वस्थ रखने के लिए कुछ स्ट्रेटजी अपनाने का सुझाव देंगे।

दिल की सुरक्षा के लिए ओमेगा 3 का सेवन बढ़ाएं

फैटी एसिड का वन आवश्यक है। यह कार्डियोवैस्कुलर रिस्क को कम करने और आपके लिपिड प्रोफाइल में सुधार करता है। हालांकि उनके सबसे उल्लेखनीय प्रभाव सूजन की स्थिति में सुधार करने से संबंधित हैं। बायोकेमिकल सोसाइटी ट्रांजेक्शन  की रिपोर्ट  के मुताबिक़ इस प्रकार के लिपिड ओमेगा 6 फैटी एसिड की सूजनकारी एक्टिविटी का मुकाबला करते हैं।

इस प्रकार के पोषक तत्वों के अपने सेवन को बढ़ाने के लिए आपको पर्याप्त ऑयली फिश, वेजिटेबल ऑयल,और ड्राई फ्रूट खाने की ज़रूरत है। हालांकि याद रखें, ड्राई फ्रूट में हाई कैलोरी होती है। इसलिए वे आपके एनर्जी बैलेंस को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

और अधिक जानें: 7 खाद्य जो खून में प्लेटलेट बढ़ाने में मददगार हो सकते हैं

शराब का सेवन कम करें

कुछ साल पहले तक यह आम धारणा थी कि भोजन के साथ एक गिलास वाइन कार्डियोवैस्कुलर सेहत को बढ़ावा देता है। हालाँकि मॉडर्न साइंस ने इस मिथ को खत्म कर दिया है। अब हम जानते हैं, शराब आम तौर पर किसी भी रूप में हृदय की सेहत के लिए नकारात्मक है।

अल्कोहल रिसर्च जर्नल की एक स्टडी के अनुसार यह पदार्थ सूजन बढ़ाने में योगदान देता है। यह आंतों के माइक्रोबायोटा की कंडीशन को बदल देता है और मेटाबोलिक बीमारी का जोखिम बढ़ाता है।

मादक पेय पदार्थों का सेवन लीवर के लिए नुकसानदेह है और इस अंग में फैट को बढ़ाता है। इंटेसटिनल एडिपोस टिशू व्यक्ति के लिपिड प्रोफाइल में बदलाव और लिपोप्रोटीन एलडीएल के ऑक्सीडेशन रेट में वृद्धि से जुड़ा हुआ है।

बीच-बीच में उपवास करें

आजकल  एक पॉपुलर डाइटरी प्रोटोकॉल है इंटरमिटेंट फास्टिंग है। वास्तव में यह सूजन को कम कर सकता है और ऑटोफैगी को उत्तेजित कर सकता है। ये प्रक्रियाएं स्वास्थ्य में सुधार के लिए एक समग्र सुधार में योगदान करती हैं।

इंटरमिटेंट फास्टिंग भी शरीर की लिपिड प्रोफाइल को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है और यह कार्डियोवैस्कुलर जोखिम को कम करने से भी जुड़ा हुआ है। क्योंकि इसने LDL लिपोप्रोटीन के ऑक्सीकरण को कम कर दिया है। इसके अलावा कैलोरिक रेस्ट्रिक्शन के साथ यह ऑक्सीकरण के मॉड्यूलेशन के लिए पॉजिटिव असर पैदा करता है।

हाल के अध्ययनों ने दिखाया है कि इंटरमिटेंट फास्टिंग हृदय स्वास्थ्य में सुधार करने में मदद कर सकते हैं।

हमारे और अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए: घरेलू नुस्ख़े जो कोलेस्ट्रॉल घटाने में आपकी मदद कर सकते हैं

फलों और सब्जियों का सेवन बढ़ाएं

जब आपके दिल को स्वस्थ रखने की बात आती है, तो एंटीऑक्सिडेंट एसेंशियल पोषक तत्व होते हैं, और हम फलों और सब्जियों में उन्हें प्रचुर मात्रा में पाते हैं। इन खाद्यों के चमकीले रंग और कड़वे स्वाद के लिए ये पोषक तत्व जिम्मेदार होते हैं। ध्यान रखें कि नियमित रूप से एंटीऑक्सिडेंट के स्रोतों को ग्रहण करना आवश्यक है।

जब कार्डियोवैस्कुलर सेहत की बात आती है, तो टमाटर में मिलने वाला लाइकोपीन और अंगूर में मौजूद रिजर्वेट्रोल दोनों महत्वपूर्ण हैं। इसलिए अल्ट्रा-प्रोसेस्ड फूड के बजाय ताजे खाद्य पदार्थों के सेवन को प्राथमिकता देना सबसे अच्छा है, जिनमें इस प्रकार के पोषक तत्वों की कमी होती है।

स्वस्थ दिल के लिए स्वस्थ खाएं

यदि आप अपने हृदय स्वास्थ्य में सुधार करना चाहते हैं, तो आपको एक स्वस्थ आहार बनाए रखने की आवश्यकता है जो ताजा और पौष्टिक खाद्य पदार्थों पर बेस्ड हों। इसलिए आपको विविधता पूर्ण डाइट अपनाना चाहिए जिसमें प्लांट बेस्ड तत्व और लीन मीट शामिल हैं।

फैट के सेवन से उन मापदंडों में सुधार होता है जो अतीत में हृदय जोखिम से जुड़े थे। हालांकि आपको ओमेगा 3 फैटी एसिड जैसे गुणवत्ता वाले वसा का चयन करना चाहिए। ट्रांस फैट के अपने सेवन को सीमित करें।

अंत में, पोषण में नवीनतम प्रोटोकॉल पर ध्यान देना महत्वपूर्ण है, जैसे कि इंटरमिटेंट फास्टिंग। अन्य लाभों के अलावा इस प्रकार की डाइट पैटर्न सिस्टेमिक सूजन को कम करने के साथ-साथ ऑक्सीडेशन में भी मदद करता है।

  • Peters SA, Singhateh Y, Mackay D, Huxley RR, Woodward M. Total cholesterol as a risk factor for coronary heart disease and stroke in women compared with men: A systematic review and meta-analysis. Atherosclerosis. 2016;248:123‐131. doi:10.1016/j.atherosclerosis.2016.03.016
  • Casas R, Castro-Barquero S, Estruch R, Sacanella E. Nutrition and Cardiovascular Health. Int J Mol Sci. 2018;19(12):3988. Published 2018 Dec 11. doi:10.3390/ijms19123988
  • Anand SS, Hawkes C, de Souza RJ, et al. Food Consumption and its Impact on Cardiovascular Disease: Importance of Solutions Focused on the Globalized Food System: A Report From the Workshop Convened by the World Heart Federation. J Am Coll Cardiol. 2015;66(14):1590‐1614. doi:10.1016/j.jacc.2015.07.050
  • Ruan Y, Guo Y, Zheng Y, et al. Cardiovascular disease (CVD) and associated risk factors among older adults in six low-and middle-income countries: results from SAGE Wave 1. BMC Public Health. 2018;18(1):778. Published 2018 Jun 20. doi:10.1186/s12889-018-5653-9
  • Rasineni K, Casey CA. Molecular mechanism of alcoholic fatty liver. Indian J Pharmacol. 2012;44(3):299‐303. doi:10.4103/0253-7613.96297
  • Malinowski B, Zalewska K, Węsierska A, et al. Intermittent Fasting in Cardiovascular Disorders-An Overview. Nutrients. 2019;11(3):673. Published 2019 Mar 20. doi:10.3390/nu11030673
  • Calder PC., Omega 3 fatty acids and inflammatory processes: from molecules to man. Biochem Soc Trans, 2017. 45 (5): 1105-1115.
  • Bishehsari F., Magno E., Swanson G., Desai V., et al., Alcohol and gut derived inflammation. Alcohol Res, 2017. 38 (2): 163-171.
  • Pellegrino D. Antioxidants and Cardiovascular Risk Factors. Diseases. 2016;4(1):11. Published 2016 Feb 17. doi:10.3390/diseases4010011