जानिये क्या है फेटा चीज़

03 दिसम्बर, 2020
क्या आपने फेटा चीज़ के बारे में सुना है? ग्रीस का यह डेयरी प्रोडक्ट इस खाने वालों के लिए ढेर सारे फायदे देता है। इसके फायदों और इसे कैसे खाना हैं, इस बारे में जानिये।

फेटा चीज़ ग्रीक संस्कृति का एक डेयरी प्रोडक्ट है जो धीरे-धीरे अपने बहुमुखी फायदों के कारण दूसरे देशों में भी फैल गया है। यह ब्राइन यानी नमकीन समुद्री पानी में बेचा जाता है जिससे इसकी शेल्फ लाइफ बढ़ जाती है।

यह प्रोडक्ट भेड़ के दूध से बनाया जाता है, हालांकि ऐसी वरायटी भी मिलती हैं जो घोड़ी के दूध से बनी हों। इसमें एक विशिष्ट एसिडिक स्वाद होता है और इसमें कुल कैलोरी से जुड़े फैट की मात्रा ऊँची होती है। यह आमतौर पर लकड़ी के बक्से या टिन या एल्यूमीनियम के कंटेनरों में कमर्शियल रूप से उपलब्ध होता है जो इसके स्वाद, गंध और स्थिरता को सुरक्षित रखते हैं।

फेटा चीज़ के पोषक गुण

किसी भी दूसरे डेयरी प्रोडक्ट की तरह फेटा चीज़ अपनी प्रोटीन कंटेंट के वजह से अलग दिखती है, जैसा कि उपलब्ध साइंटिफिक लिटरेचर बताता है। ये हाई वैल्यू वाले बायोलॉजिकल पोषक तत्व हैं, जिनमें सभी आवश्यक अमीनो एसिड हैं और यह बहुत सुपाच्य भी है।

उम्र बढ़ने और मांसपेशियों के टिशू के क्षय से जुड़ी बीमारियों और स्थितियों को रोकने के लिए प्रोटीन मौलिक अहमियत रखता है। जर्नल न्यूट्रिएंट्स में प्रकाशित एक रिव्यू हमें दिखाती है कि प्रोटीन सेवन लीन टिशू के नाश और इसकी कार्यक्षमता में कमी को रोकने में मदद करता है।

फेटा चीज़ में इसकी संरचना में सेचुरेटेड फैटी एसिड का ऊँचा अनुपात है। हाल तक यह बुरी खबर के रूप में लिया जाता था। हालांकि, विज्ञान ने हाल ही में इस मामले में अपनी पोजीशन बदल दी है।

सेचुरेटेड लिपिड अब नुकसानदेह नहीं माने जाते हैं। आज वैज्ञानिक उनके फायदों को पहचानते हैं, क्योंकि यह पुष्टि करने के लिए पर्याप्त सबूत हैं कि ये फैटी एसिड कार्डियोवैस्कुलर स्थितियों के जोखिम को कम करने में मदद करते हैं, साथ ही साथ दूसरी जटिल बीमारियों को भी।

फेटा चीज़ ग्रीस से आता है और हाई प्रोटीन डेयरी प्रोडक्ट है।

और जानें: पनीर काटने की टॉप टिप्स

 फेटा चीज़ में मौजूद माइक्रोन्यूट्रिएंट

फेटा चीज़ में बहुत अहम मात्रा में मैक्रोन्यूट्रिएंट होते हैं लेकिन इसमें मिनरल और विटामिन भी शामिल हैं जो सेहत के लिए फायदेमंद हैं। यहाँ एक उदाहरण कैल्शियम है।

वैज्ञानिकों ने साबित कर दिया है कि डेयरी प्रोडक्ट अपने कैल्शियम के कारण ऑस्टियोपोरोसिस का जोखिम कम करने में मदद करते हैं। फ़ेटा चीज़ इसका अपवाद नहीं है।

फिर इसमें विटामिन D बड़ी मात्रा में होता है। यह पोषक तत्व अच्छी सेहत बनाए रखने और साथ ही साथ जटिल कार्डियोवैस्कुलर और मेटाबोलिक बीमारियों की रोकथाम के लिए महत्वपूर्ण है। दरअसल जब शरीर में विटामिन D की प्रयाप्त मात्रा हो तो कुछ प्रकार के कैंसर की भी बेहतर ट्रीटमेंट होता है। ऐसे भी सबूत हैं कि यह त्वचा के कैंसर से बचाने में मदद कर सकता है।

समस्या यह है है कि आम तौर पर सामान्य आबादी में इस पोषक तत्व की मात्रा काफी कम होती है। इसे रोज खाने के लिए डेयरी उत्पादों (जैसे फ़ेटा चीज़), ब्लूफ़िश और अंडों का सेवन करनया एक अच्छा विचार है। इसके अतिरिक्त एक्सपर्ट शरीर में इसके बनने को बढ़ावा देने के लिए धूप में लगातार सुरक्षित रूप से रहने की सलाह देते हैं।

इसे भी पढ़ें : विटामिन D की कमी के 12 लक्षण

फेटा चीज रेसिपी

इसके बाद, हम आपको फेटा चीज़ की दो आसान रेसिपी बताने जा रहे हैं जिससे आप इसे अपनी डाइटरी रूटीन में शामिल करना शुरू कर सकें।

ओवन में

इटालियन चीज़ प्रोवोलोन (provolone) की तरह ओवन में फेटा चीज़ तैयार किया जा सकता है। ऑरेगेनो, थाइम, और काली मिर्च जैसे मसालों के मेल और ओलिव ऑयल की ड्रेसिंग से आपके पास बहुत जायकेदार रेसिपी हो सकती है!

ऊपर और नीचे से हीट देते हुए 200 डिग्री सेंटीग्रेड (400 डिग्री फ़ारेनहाइट) के टेम्परेचर पर इसे 8 मिनट के लिए ओवन में रखें। जब आप प्रोडक्ट को बाहर निकालेंगे तो हम इसे ऑलिव ऑयल के छींटे के साथ फिर से पकाने की सलाह देते हैं।

सलाद

सलाद फेटा चीज खाने का एक बड़ा बहाना है। बस पनीर को छोटे क्यूब्स में काट लें और इसे सलाद के अपने पसंदीदा संयोजन में डालें।

उसके बाद स्वादिष्ट और पौष्टिक सलाद पाने के लिए इसे ऑलिव ऑयल और विनेगर के साथ तैयार करें। यदि आप इसकी प्रोटीन कंटेंट को और बढ़ाना चाहते हैं तो कुछ डिब्बाबंद टूना भी डालें।

फेटा चीज़ के फायदे

जैसा कि आपने देखा है, नियमित रूप से सेवन करने पर हमारे स्वास्थ्य के लिए फेटा पनीर एक बहुत ही फायदेमंद डेयरी उत्पाद है। इसकी प्रोटीन, वसा और सूक्ष्म पोषक तत्व इसे हमारे दैनिक पोषण संबंधी आवश्यकताओं को पूरा करने और विभिन्न बीमारियों को रोकने में मदद करने वाला भोजन बनाते हैं।

यह एक बहुत ही बहुमुखी उत्पाद है और इसे विभिन्न तरीकों से तैयार किया जा सकता है। एक ओर, आप इसे मुख्य घटक बना सकते हैं। वैकल्पिक रूप से, आप इसे एक व्यंजन के रूप में अम्लता और अन्य व्यंजनों के विपरीत प्रदान करने के लिए उपयोग कर सकते हैं।

जो भी मामला है, इसे अभी से अपने आहार में शामिल करना सुनिश्चित करें। आप इसे पछतावा नहीं करेंगे!

  • Tessier AJ., Chevalier S., An update on protein, leucine, omega 3 fatty acids, and vitamin D in the prevention and treatment of sarcopenia and fucntional decline. Nutrients, 2018.
  • Szajewska H., Szajewski T., Saturated fat controversy: importance os systematic reviews and meta analyses. Crit Rev Food Sci Nutr, 2016. 56 (12): 1947-51.
  • Thorning TK., Raben A., Tholstrup T., Soedamah Muthu SS., et al., Milk and dairy products: good or bad for human health? An assessment of the totality of scientific evidence. Food Nutr Res, 2016.
  • Anagnostopoulos AK., Tsangaris G., Feta cheese proteins: manifesting the identity of Greece’s national treasure. Data Brief, 2018. 19: 2037-2040.
  • Gilaberte, Y., et al. “La vitamina D: evidencias y controversias.” Actas dermo-sifiliográficas 102.8 (2011): 572-588.
  • Álvarez, A. Alonso, V. Martínez Suárez, and J. Dalmau Serra. “Profilaxis con vitamina D.” Acta Pediátrica Española 69.3 (2011).