एपिगैस्ट्रेल्जिया : पेट में होने वाला वह तेज दर्द

17 जुलाई, 2020
एपिगैस्ट्रेल्जिया दूसरी जटिलताओं की चेतावनी हो सकती है। इसलिए आपको कभी भी पेट और नाभि क्षेत्र में लगातार होने वाले दर्द को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए।

एपिगैस्ट्रेल्जिया (Epigastralgia) पेट का महज सामान्य दर्द नहीं है। आखिरकार यह स्थिति पेट के कई हिस्सों पर असर डालती है।

इस तरह की पाचन समस्या का अनुभव करने वाले मरीजों को पेट के ऊपरी क्षेत्र में स्थित एपिगास्ट्रिअम (epigastrium) में दर्द होता है, जैसा कि मेक्सिको में ग्वाडलाजारा यूनिवर्सिटी अस्पताल की इस स्टडी ने दिखाया है।

मरीज अक्सर महसूस करेगा जैसे कि एक रस्सी उसके पूरे पेट को जकड़ रही है, और एक तेज जलन होती है जिससे नॉजिया या मतली के साथ बहुत ज्यादा असुविधा महसूस होती है।

दर्द इतना तेज होता है कि इस मामले में लोगों का डरना और इमरजेंसी रूम में जाना आम है क्योंकि वे नहीं जानते कि पेट में क्या हो रहा है।

हालांकि, अधिकांश मामलों में इस दर्द का कारण बस अपच होती है, एपिगैस्ट्रेल्जिया को दूसरी समस्याओं या रोगों के साथ जोड़ा जा सकता है जिनके लिए सही डायग्नोसिस की जरूरत होती है।

ज्यादा जानने के लिए इस बारे में पढ़ना जारी रखें।

एपिगैस्ट्रेल्जिया क्या है?

एपिगैस्ट्रेल्जिया क्या है?

एपिगैस्ट्रेल्जिया मूल रूप से एपिगास्ट्रिअम में होने वाला स्थानीय दर्द है, यह वह हिस्सा है जो पेट के ऊपरी हिस्से से बेली बटन तक जाता है।

जैसा कि हम पहले से ही जानते हैं, इस क्षेत्र में कई अंग और संरचनाएं हैं, जिससे यह जानना मुश्किल हो जाता है कि इस दर्द का कारण क्या है।

साथ ही, रोगी को रोजाना दर्द हो सकता है या दर्द अचानक उभर सकता है।

लक्षण इस प्रकार हैं:

  • एपिगास्ट्रिअम में तेज दर्द
  • नॉजिया जैसा कि चिली में लास कोंडेस क्लिनिक द्वारा की गई इस जांच में कहा गया है।
  • पेट में जलन
  • पेट में ऐंठन
  • ठंडा पसीना आना
  • टोलेडो में वर्जिन हेल्थ हॉस्पिटल के इस अध्ययन के अनुसार गैस।
  • दस्त या कब्ज के एपिसोड

एपिगैस्ट्रेल्जिया का कारण क्या है?

एपिगैस्ट्रेल्जिया का कारण क्या है?

एसोफैगस में समस्याओं के कारण एपिगैस्ट्रेल्जिया होती है

  • एसोफैजाइटिस और हायेटल हर्निया जैसा कि नवरा अस्पताल की इस जांच में बताया गया है।
  • एसोफैजाइटिस एसोफैगल रिफ्लक्स से होता जिसका तुरंत इलाज किया जाना चाहिए।
  • वालेंसिया के डॉक्टर पेसेट अस्पताल के इस अध्ययन के अनुसार  यह हर्निया 50 साल की उम्र के बाद बहुत आम है। इससे हार्ट बर्न होता है और निगलने, पाचन, सांस लेने में तकलीफ आदि की समस्या होती है।

इसे भी पढ़ें : आंतों की गैस और सूजन से लड़ने के लिए एलो वेरा और पपीता रेसिपी

पेट में समस्या

  • एपिगैस्ट्रेल्जिया पेट में विशेष रूप से पैदा हो सकती है।
  • संभावित कारणों में से एक अल्सर है, विशेष रूप से पेप्टिक अल्सर। रात में दर्द ज्यादा तेज हो जाता है और जब हम भोजन करते हैं तो आमतौर पर राहत महसूस करते हैं।
  • दूसरी ओर जैसा कि हमने बताया है, बड़ी संख्या में एपिगैस्ट्रैल्जिया तेज गैस्ट्र्रिटिस के कारण होती है, जैसा कि पेरू में आर्कबिशप लोयजा नेशनल अस्पताल द्वारा इस जांच में दिखाया गया है। यह संक्रामक, टॉक्सिक या एलिमेंट्री हो सकता है।
  • इस मामले में दर्द बहुत तेज होता है और आमतौर पर उल्टी और ज्यादा असुविधा के साथ होता है।

आंतों की समस्याओं के कारण एपिगैस्ट्रेल्जिया

यह तथ्य महत्वपूर्ण है। कई बार ऊपरी पेट में यह दर्द एपेंडिसाइटिस से पैदा होता है।

  • इस वजह से यदि आप अपर एब्डोमेन में तेज दर्द महसूस करते हैं, तो यह महत्वपूर्ण है कि आप डॉक्टर से सलाह लेने में संकोच न करें, या पीड़ित का दर्द तेज होने पर इमरजेंसी रूम में जाएं।
  • इसके अलावा, क्रोहन रोग (Crohn’s disease) अपने शुरुआती चरण में आमतौर पर एपिगैस्ट्रिक क्षेत्र में दर्द के साथ होता है।
  • यदि एपिगैस्ट्रैल्जिया पेट के बाईं ओर तक पहुंचता है, तो आपको कोलन में कोई समस्या है, जैसे कि डाइवर्टिकुला (रामोन वाई काजल विश्वविद्यालय अस्पताल द्वारा इस अध्ययन के अनुसार)।
  • रामोन वाई काजल विश्वविद्यालय अस्पताल के ही अध्ययन में जानकारी दी गयी है कि अस्थिर कोलन भी एपिगैस्ट्रैल्जिया का एक कारण है। इस मामले में शूल (colic) और गैस के रूप में दर्द का अनुभव करना आम है।

पैंक्रियाज में समस्याएं

तेज पंक्रियाटाइटिस आमतौर पर एपिगैस्ट्रिक दर्द से शुरू होती है, जैसा कि मेयो क्लिनिक द्वारा प्रकाशित जानकारी में कहा गया है। ऊपरी पेट में स्थित इस प्रकार के लक्षणों से अवगत होना महत्वपूर्ण है, खासकर अगर यह उल्टी या पेट की गड़बड़ी के साथ हो।

इसे भी पढ़ें : गैस्ट्राइटिस का मुकाबला करें इन प्राकृतिक नुस्खों के साथ

सावधान, यह हृदय रोग की चेतावनी भी हो सकती है

  • तेज मायो कार्डिअल इनफ्रैक्शन (दिल का दौरा) एपिगैस्ट्रैल्जिया पैदा कर सकता है, जिसका अर्थ है कि आप ऊपरी पेट में दर्द का अनुभव करेंगे, स्वास्थ्य सूचना और सलाह के लिए एक आधिकारिक ऑनलाइन चिकित्सा प्लेटफार्म कैम्पस मेडिनेट द्वारा दी गयी इस जानकारी के अनुसार
  • दर्द अचानक और उल्टी के साथ हो सकता है। किसी भी मामले में इसे नियमबद्ध करना महत्वपूर्ण है और किसी भी असुविधा को नोटिस करते ही डायग्नोसिस करने के लिए अस्पताल जाना चाहिए।

एपिगैस्ट्राल्जिया से जुड़ी समस्या रोकने के लिए क्या करें?

जैसा कि आपने देखा है, एपिगैस्ट्रैल्जिया एक लक्षण है जो कई अलग-अलग मेडिकल कंडीशन से जुड़ा होता है।

कई विकल्पों (अपच, अल्सर, चिढ़ बृहदान्त्र, हृदय की समस्याओं …) के बावजूद, इन सभी में एक बात कॉमन है जो हमें इस प्रकार की बीमारियों से पीड़ित होने की संभावना को कम करने में मदद कर सकता है।

वह है भोजन। यदि आप अपने खानपान पर ध्यान रखें तो इन बीमारियों से पीड़ित या स्थिति बिगड़ने की संभावना को कम कर सकते हैं, जैसा कि क्यूबा में प्रांतीय केंद्र स्वच्छता और महामारी विज्ञान केंद्र द्वारा किए गए इस अध्ययन से साबित होता है।

निम्नलिखित सलाह पर ध्यान दें:

  • वसा की अपनी खपत को कम करें।
  • क्षारीय खाद्य पदार्थ चुनें।
  • पूरे दिन में अधिक बार छोटे भोजन खाएं।
  • ताजे फल और सब्जियां खाएं, और संरक्षक या अन्य रसायनों वाले खाद्य पदार्थों से बचें।
  • चीनी और नमक का सेवन कम करें।
  • इबुप्रोफेन और अन्य गैर-स्टेरायडल विरोधी भड़काऊ दवाओं जैसे दवाओं से सावधान रहें।
  • एपिगास्ट्राल्जिया से जुड़ी इस प्रकार की समस्या को रोकने के लिए मैं क्या कर सकता हूं?

अंत में, अपने पाचन तंत्र में किसी भी समस्या, दर्द या परिवर्तन के साथ डॉक्टर से परामर्श करने में संकोच न करें।

रोकथाम और खुद की देखभाल करना स्वास्थ्य और कल्याण का पर्याय है।

  • Latarjet, Michel (2013). «Músculos, fascias y aponeurosis del abdomen». Anatomía humana. Buenos Aires: Médica Panamericana. p. 1328. ISBN 978-950-06-1369-9.
  • Rodríguez-Lago, I., & Cabriada, J. L. (2016). Protocolo diagnóstico de la epigastralgia aguda. Medicine (Spain). https://doi.org/10.1016/j.med.2016.01.014
  • Boscá, A. (2014). Epigastralgia. Medicina Interna.