क्या आप जानते हैं, आपको कब और क्यों स्नान करना चाहिए?

हमारी दिनचर्या और रीति-रिवाजों को ध्यान में रखते हुए, हम स्नान सुबह या रात में करें, यह उसके प्रभावों पर निर्भर करेगा।
क्या आप जानते हैं, आपको कब और क्यों स्नान करना चाहिए?

आखिरी अपडेट: 03 जनवरी, 2019

शावर यानी स्नान सबसे आम प्रथाओं में से एक है जो सभी मनुष्य शेयर करते हैं। इसे एक और नियम माना जाता है जो हम दिन-प्रतिदिन नियमित करते हैं।

ऐसा इसलिए है क्योंकि 18 वीं शताब्दी के बाद, स्वच्छता की आदत समाज का हिस्सा बन गई। उससे पहले स्नान करना शरीर के लिए हानिकारक माना जाता था।

इसमें कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि क्यों यह बच्चों के लिए सख्ती से प्रतिबंधित था।

शावर: नहाना

भले ही यह सरल लगता हो लेकिन, स्नान करना शरीर गीला करने, साबुन के झाग निकालने और धोने से कहीं ज्यादा कुछ है

अपनी देह की सफाई के अलावा शावर लेने के कई कारण हैं जैसे कि आराम महसूस करना, तरोताज़ा होना, बेहतर महसूस करना और कुछ बीमारियों के इलाज के लिए।

एक विवादास्पद विषय

यह दुनिया की अधिकांश आबादी द्वारा किया जाता है। फिर भी स्वाभाविक रूप से इस पर अलग-अलग नजरिया है

सबसे लोकप्रिय आदतों में से एक है, दिनचर्या शुरू करने से पहले सुबह में स्नान करना है, फिर रात में काम खत्म हो जाने के बाद और सोने से पहले (दिन में दो बार)। यह ध्यान देने योग्य है कि इसके समय के बारे में कोई ऐसी सत्यापित बात नहीं है कि आखिर इसे कब किया जाना चाहिए।

इस मामले में विवाद को हवा देते हुए दूसरे मान्य तर्क भी हैं। हालांकि यह बहुत कुछ व्यक्तिगत बात भी है और प्रत्येक व्यक्ति के ऊपर भी निर्भर करता है।

1. जब आप गंदे और मैले हो जाते हैं

यह तर्क शायद सबसे अधिक दिया जाता है। गंदे हो जाने पर लोगों को स्नान की आवश्यकता होती है। यह सबसे तर्कसंगत बात है, यह देखते हुए कि स्नान वास्तव में एंटीसेप्टिक है

2. खुशी और आनंद के लिए

यह कई लोगों के लिए अजीब सा लग सकता है, लेकिन बहुत से लोग शारीरिक आनंद महसूस करने के लिए स्नान करते हैं। इसमें विश्राम भी शामिल है जो मांसपेशियों के लिए बहुत जरूरी हो सकता है।

लेकिन अपनी त्वचा के बारे में सोचें 

शावर: त्वचा की देखभाल

इन तर्कों से स्नान करने के बारे में बुनियादी विवाद स्पष्ट है। लेकिन एक मौलिक तत्व है जिसे कुछ ही लोग या शायद कोई भी ध्यान नहीं देता है, यह है त्वचा

जब स्नान करने की बात आती है तो यह सबसे प्रासंगिक कारकों में से एक है।

त्वचा पर बैक्टीरिया की एक सुरक्षात्मक परत होती है। यह अत्यधिक स्नान या स्नान उत्पादों (साबुन, लोशन और अन्य) के उपयोग से व्यापक रूप से प्रभावित हो सकता है।

इस सुरक्षात्मक परत को खतरे में डालकर जरूरत से ज्यादा स्नान को रोकने के लिए मेडिकल समुदाय प्रतिदिन एक स्नान की सिफारिश करता है

इसे ध्यान में रखा जाना चाहिए कि हम जो शावर लेते हैं, उनकी संख्या के कारण क्यूटेनियस टिश्यू के रोग या एलर्जी जैसी समस्या पैदा हो सकते हैं।

तो, हमें शावर कब लेना चाहिए?

शावर: स्नान

यह बताये बिना यह कहना पर्याप्त है कि रात और सुबह में स्नान करने के लिए कई वैध तर्क हैं

यहां कुछ ऐसे तर्क हैं जो दोनों पक्ष का समर्थन करते हैं:

सुबह में स्नान

सुबह में ही स्नान करने की सलाह दी जाती है जब इनमें से कुछ कारण आपकी दिनचर्या का हिस्सा बनते हैं।

  • आप जल्दी उठने वाले इंसान हैं।
  • शुरुआती घंटों में शेविंग करने की समस्याएं।
  • उठने पर उनींदापन।
  • रात को जरूरत से ज्यादा पसीना आना।
  • दिन में हल्के काम
  • रात में शावर नींद को प्रभावित करता है।
  • तैलीय त्वचा।

रात में स्नान

रात में खासकर बिस्तर पर सोने जाने से पहले शावर लेने के कारण ऊपर बताये गए कारणों के विपरीत हैं।

  • सुबह में वक्त की कमी
  • आप मेकअप करती हैं।
  • जरूरत से ज्यादा थकान
  • दिन में ज्यादा काम
  • व्यापक शारीरिक गतिविधि (खेल या चलना)।
  • दिन के दौरान अत्यधिक पसीना।
  • साइकिल से घूमना
  • आपको अच्छी तरह सोने के लिए आराम करने की जरूरत है।

शावर के लिए किस तरह का पानी सबसे अच्छा है?

शावर: बाथ

इस चर्चा करने के बाद कि स्नान करने के लिए सबसे अच्छा समय क्या है, यह भी हल करने लायक प्रश्न है कि हमें किस प्रकार के पानी का उपयोग करना चाहिए।

आम तौर पर दो विकल्प होते हैं: गर्म और ठंडा। इनमें हम एक तीसरा प्रकार जोड़ सकते हैं, जो गुनगुना है।

चरम पर जाना कभी अच्छा नहीं होता है। शरीर के लिए सबसे ज्यादा सलाह दिए जाने वाला पानी गुनगुना होता है (गर्म से थोड़ा ठंडा)।

यह आपकी रुचि हो सकती है ...

अंडरआर्म डीटॉक्स की मदद से ब्रैस्ट कैंसर से बचें
स्वास्थ्य की ओरइसमें पढ़ें स्वास्थ्य की ओर
अंडरआर्म डीटॉक्स की मदद से ब्रैस्ट कैंसर से बचें

बात जब कैंसर की आती है तो रोकथाम बेहद ज़रूरी हो जाती है। ऐसे में, हर छोटी-बड़ी बात बहुत मायने रखने लगती है। अंडरआर्म डीटॉक्स के बारे में आगे पढ़ें।