क्यों आपको प्लास्टिक की बोतलों को रीयुज नहीं करना चाहिए

नवम्बर 7, 2019
बोतल बनाने के लिए इस्तेमाल की जाने वाले मटेरियल के आधार पर इस्तेमालशुदा बोतल पर दी गयी एक्सपायरी डेट के बाद इसका इस्तेमाल आपकी सेहत लिए नुकसानदेह हो सकता है।

अगर आप रीसाइक्लिंग के लिए प्लास्टिक की बोतलों का दोबारा इस्तेमाल करना पसंद करते हैं, तो यह आर्टिकल आपको उपयोगी जानकारी देगा।

पर्यावरण की हिफाजत के लिए रीसाइक्लिंग की आदत डालना बहुत महत्वपूर्ण है। वहीं आपको निश्चित रूप से प्लास्टिक की बोतलों को रियुज नहीं करना चाहिए, जो कि हममें से कई लोग लंबे समय से करते आ रहे हैं।

अगर यह जानना चाहते हैं कि आपको ऐसा क्यों नहीं करना चाहिए, तो हम आपको यह आर्टिकल पढ़ने के लिए आमंत्रित करते हैं।

सबसे पहले आपको प्लास्टिक की बोतलों के बारे में नेशनल इंस्टिट्यूट फॉर एनवायर्नमेंटल हेल्थ साइंस द्वारा की गई कई अहम स्टडी में मिले डेटा को ध्यान में रखना चाहिए। एक सैम्पल से पता चला कि प्लास्टिक बोतलों की एक तिहाई ब्रांडों में बैक्टीरिया या कैंसरकारी रासायनिक तत्व थे। इतनी बड़ी मात्रा में कि कार्सिनोजेन लेवल इंडस्ट्री स्टैण्डर्ड को पार कर गया।

प्लास्टिक की बोतलें खतरनाक केमिकल छोड़ सकती हैं

प्लास्टिक की बोतलें उतनी अच्छी नहीं होतीं, जितना आप सोच सकते हैं। उन्हें बनाने में इस्तेमाल के जाने वाली चीजों के आधार पर वे खतरनाक केमिकल छोड़ सकती है। इसलिए बोतलों की पेंदी में बने विशेष सिम्बल पर ध्यान देना ज़रूरी होता है।

इनमें से एक है ट्रायंगल यानी त्रिकोण जिसके भीतर एक संख्या होती है, जो इसे बनाने के लिए इस्तेमाल किये गए प्लास्टिक के अनुसार होती है।

  • “1” (पीईटी) संख्या से मार्क की गयी बोतलें सिर्फ एक बार उपयोग किए जाने पर सेफ हैं।
    अगर आप उन्हें गर्मी या धूप में रखते हैं, तो वे जहरीले रसायन छोड़ सकती हैं।
  • अगर आप “3″ या “7” मार्क किया हुआ या दूसरे शब्दों में PVC या PC पीवीसी या पीसी के साथ चिह्नित देखें तो सावधान हो जाएँ क्योंकि इस किस्म का प्लास्टिक जहरीले पदार्थों को छोड़ता है जो भोजन और पानी में मिलकर खतरनाक हो जाता है।
  • ये बोतलें खतरनाक बीमारियों का कारण बन सकती हैं।
  • वे बोतलें जो रियुज के योग्य नहीं होती वे पॉलीइथाइलीन से बनी होती हैं और उन पर “2” या “4” का मार्क होता है। इसी तरह, जो पॉलीप्रोपाइलीन से बनी होती हैं और एक “5” और PP अक्षर से मार्क की गयी होती हैं।

अगर ठंडा पानी रखने के लिए इस्तेमाल किया जाए और अगर ठीक से उन्हें डिसइन्फेक्ट किया गया हो, तो ये बोतलें अपेक्षाकृत सुरक्षित हैं।।

इसे भी पढ़ें : 12 दिलचस्प तरीके : प्लास्टिक की बोतलों को दोबारा इस्तेमाल करें

बैक्टीरिया

बात जब प्लास्टिक की बोतलों की हो तो एक और पहलू है, वे बैक्टीरिया का घर बन सकते हैं।

इन बोतलों में बैक्टीरिया का लेवल अक्सर आपके शरीर के लिए सेफ लेवल से ज्यादा हो जाता है।

दरअसल हम खुद ही इनके बैक्टीरिया की सही जगह बनाते हैं, जब गंदे हाथों से इन बोतलों को लेते हैं और उन्हें रूम टेम्प रेचार पर पानी से भर देते हैं।

और यह बोतल धोने के लिए भी पर्याप्त नहीं है। यहां तक ​​कि इस प्रक्रिया को ठीक से किया जाना चाहिए, लेकिन लगभग हमेशा नहीं।

बोतल धोने के बाद आप खुद को बीमार कर सकते हैं या हेपेटाइटिस ए भी प्राप्त कर सकते हैं।

हम बोतलों में पाए जाने वाले जीवाणुओं की संख्या पर पर्याप्त बल नहीं दे सकते, और उन्हें हमेशा अच्छी तरह धोना संभव नहीं है।

टोपियां रोगाणुओं से भरी होती हैं जो तब आपके मुंह में प्रवेश करती हैं। एक स्ट्रॉ का उपयोग करके अपने आप को बचाने की कोशिश करने का एक अच्छा तरीका है।

सावधानी से कि आप बोतलों को कैसे स्टोर करते हैं


बहुत अधिक तापमान में बोतलों को स्टोर न करें।
उच्च तापमान प्लास्टिक का कारण रसायनों का रिसाव हो सकता है जो आपके शरीर के लिए हानिकारक हो सकता है।
इसी तरह, गैरेज में पानी को स्टोर करना भी खतरनाक हो सकता है, जो निकास, कीटनाशकों और अन्य रसायनों के संपर्क में होता है जो पानी के स्वाद और गंध को प्रभावित कर सकता है।

इस लेख को पढ़ने में भी दिलचस्पी हो सकती है:  अपने टॉवल के लिए होममेड फैब्रिक सॉफ्टनर कैसे बनायें

वे सुरमा पैदा कर सकते हैं


सुरमा एक जहरीली सामग्री है जिसका उपयोग अक्सर पानी की बोतल बनाने में किया जाता है। तो, आप जितनी देर पानी की बोतल रखेंगे, उतनी ही अधिक मात्रा में इसका उत्पादन होगा।

सुरमा उल्टी, उल्टी और दस्त का कारण बन सकता है। इससे पानी खरीदना महत्वपूर्ण है जैसे ही आप इसे खरीदते हैं और इसे लंबे समय तक संग्रहीत नहीं करते हैं।

  • “Qué significan los símbolos de reciclaje en los embases de plástico”, artículo en web ue2002
  • Comisión Europea, Comunicado de Prensa, “Plásticos de un solo uso: nuevas normas de la UE para reducir la basura marina”, 28 de mayo de 2018
  • “Envases de plástico” en web consumadrid
  • Jennifer A Honeycutt et al. “Effects of Water Bottle Materials and Filtration on Bisphenol A Content in Laboratory Animal Drinking Water”, J Am Assoc Lab Anim Sci. 2017 May; 56(3): 269–272.
  • Westerhoff P et al. “Antimony leaching from polyethylene terephthalate (PET) plastic used for bottled drinking water”, Water Res. 2008 Feb;42(3):551-6. Epub 2007 Aug 6.