बच्चे जो अपने माता-पिता के साथ एक ही बिस्तर में सोते हैं

मई 28, 2019
ऐसे कई कारण हैं जिनकी वजह से बच्चे अपने माता-पिता के साथ एक ही बिस्तर पर सोना चाहते हैं। कुछ ऐसा इसलिए करते हैं क्योंकि वे डरते हैं और दूसरे अपने माता-पिता से चिपक कर रहना चाहते हैं।

कई बच्चे अपने माता-पिता के साथ एक ही बिस्तर पर सोना चाहते हैं। यह बहुत ही आम बात है और इसके अपने फायदे और नुकसान दोनों हैं। उनके ऐसा करने के कुछ कारण हैं क्योंकि वे अंधेरे से डरते हैं, उन्हें अकेला हो जाने का डर सताता है, और इससे वे अपने माता-पिता से जुड़ा हुआ महसूस करते हैं।

बच्चे कई चीजें चाहते हैं। उनमें से कुछ खिलौने, कैंडी और पूरे दिन माँ और पिताजी का साथ चाहते हैं। इसमें कुछ भी अजीब नहीं है! जब बच्चों को प्यार और सुरक्षा प्रदान करने की बात हो तो आखिर माता-पिता से बेहतर कौन है ?

परिवारों में ऐसे बच्चे अक्सर मिलेंगे जो अपने माता-पिता के साथ एक ही बिस्तर में सोना चाहते हैं। वास्तव में, इस व्यवहार के लिए कई स्पष्टीकरण हैं। हालांकि, सबसे महत्वपूर्ण व्याख्या जैविक है। मनुष्य स्वाभाविक रूप से अपने साथियों के साथ संपर्क करना पसंद करते हैं। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि यह दिन है या रात।

बच्चों को अपने माता-पिता के साथ एक ही बिस्तर पर सोने की अनुमति देना एक ऐसा मामला है जिसके बारे में कई राय हो सकती है। ऐसे माता-पिता हैं जो अपने बच्चों के साथ सोना पसंद करते हैं। उनका तर्क है कि इससे उन्हें आपसी बंधन कायम करने में मदद मिलती है।

वहीं दूसरे माता-पिता बच्चों को अपने साथ एक ही बिस्तर पर सोने की अनुमति देने के बारे में बहुत अधिक चिंतित नहीं होते हैं। उनका मानना ​​है कि इस तरह से सोने से हर किसी को आराम मिलेगा।

कई लोगों के लिए उनका साथ सोना समस्या बन जता है। क्या आपका बच्चा रात में जागता है? यदि वे आपके बिस्तर पर नहीं हैं तो क्या उन्हें सोते समय परेशानी होती है?

अगर ऐसा है, तो इसे अपनी नसों पर न चढ़ने दें! आज के लेख में, आप सीख सकते हैं कि क्या करना है। यहां आप उन बच्चों के बारे में कुछ जानकारी पा सकते हैं जो अपने माता-पिता के साथ एक ही बिस्तर में सोना चाहते हैं।

बच्चे माता-पिता के साथ ही क्यों सोना चाहते हैं?

ऐसे बच्चे हैं जो कई कारणों से अपने माता-पिता के साथ एक ही बिस्तर पर सोना चाहते हैं। ये कारण उनकी उम्र और व्यक्तित्व के अनुसार अलग-अलग हो सकते हैं। यह परिवार के गतिशील और माता-पिता और बच्चे के बीच के आपसी संबंधों से बहुत प्रभावित है।

उदाहरण के लिए 0 से 2 वर्ष की आयु वाले शिशु आमतौर पर अपने माता-पिता के साथ सोना चाहते हैं। उस उम्र में शिशु का अकेले सोना मुश्किल है। क्योंकि वे मौखिक रूप से संवाद करने में असमर्थ होते हैं। यह समझने के लिए कुछ प्रयास करना होगा कि वे अपने बिस्तर पर अकेले रहने का विरोध क्यों करते हैं।

इसके अलावा, वे अपने माता-पिता से अधिक जुड़ाव महसूस करते हैं। इससे कई माता-पिता उनके साथ सोने के लिए तैयार होते हैं।

इस तथ्य के बावजूद, ऐसे लोग हैं जो सलाह देते हैं कि बच्चे को जन्म के चौथे या पांचवें महीने से अपने बेडरूम में सोना चाहिए। हालाँकि, यह आपेक्षिक है। ऐसी संस्कृतियाँ जिनमें साथ-साथ सोना बहुत आम है, 6 या 7 वर्ष की आयु तक बच्चे अपने माता-पिता के साथ सोते हैं। उदाहरण के लिए, जापान इन देशों में से एक है।

जब बड़े बच्चों की बात आती है, तो यह समझना आसान हो जाता है कि उन्हें अपने बिस्तर पर सोना चाहिए। कुछ बच्चे धीरे-धीरे अपने बेडरूम के साथ एक लगाव बनाने में सक्षम होते हैं।

आइए कुछ सामान्य कारणों पर ध्यान दें कि बच्चे अपने माता-पिता के साथ क्यों सोना चाहते हैं।

इसे भी पढ़ें: अपने बच्चे को प्यार से सिखायें, डर और पाबंदियों के जरिये नहीं

अँधेरे से डरने वाले बच्चे

अंधेरे से डरना सबसे आम कारणों में से एक है जिससे बच्चे अपने माता-पिता के साथ एक ही बिस्तर में सोना चाहते हैं। बच्चा केवल रात के समय या अंधेरा होने से डरता है। इसलिए वे अपने बेडरूम के अंदर अपने माता-पिता से सपोर्ट चाहते हैं।

सामान्य तौर पर, अंधेरे से डरने वाले बच्चे अपने डर को व्यक्त करते हैं। इसलिए आप एक समाधान खोजने में ज़रूर सक्षम होंगे। आप उनकी समस्या को आसानी से देख सकते हैं और उसका ध्यान रख पाएंगे। इस प्रकार आपको यह अनुमान लगाने की आवश्यकता नहीं है कि आपका बच्चा अपने बेडरूम में क्यों नहीं सोना चाहता है।

आपको अपने बच्चे के अंधेरे के संभावित डर पर ध्यान देना चाहिए। यह भय इतना तीव्र हो सकता है कि कुछ मामलों में बच्चा नेक्टोफोबिया से पीड़ित हो सकता है। यह संभव है कि आप इस फोबिया के बारे में न जानते हों, या यह मानें कि यह व्यवहार आपके बच्चे के लिए सामान्य और अस्थायी है।

हालांकि अगर इससे उसे एक गहरा भय होता है, तो किसी डॉक्टर की मदद ले सकते हैं।

अकेले होने का डर

बच्चे : अकेले होने का डर

बच्चों में डर महसूस करना या किसी चीज़ से डरना सामान्य बात है। आपको यह समझना चाहिए क्योंकि बच्चे छोटे होते हैं और किसी डिफेन्स सिस्टम से अवगत नहीं होते हैं। इसलिए बेडरूम में अकेला हो जाने के डर से वे आपके साथ सोना चाहते हैं।

हालाँकि, माता-पिता के रूप में आपका काम केवल इसे समझने का नहीं। आपको इस डर का सामना करने में उनकी मदद करनी चाहिए। इस तरह आपका बच्चा डरना बंद कर देगा और अपने बिस्तर में सोना शुरू कर देगा। इसके अलावा यह एक बच्चे की अपनी आंतरिक शक्ति बनाने की क्षमता के लिए अच्छा रहेगा।

माता-पिता से लगाव

हर कोई जानता है कि बच्चे अपने माता-पिता के साथ एक विशेष जुड़ाव महसूस करते हैं। वे उनके साथ समय बिताना चाहते हैं और उनके साथ अपने सभी क्षणों को साझा करते हैं।

भले ही यह दूसरों की तुलना में कुछ बच्चों में ज्यादा हो, सभी बच्चे आमतौर पर अपने माता-पिता से जुड़े होते हैं।

यही कारण है कि जब एक बच्चे को अपने माता-पिता की अनुपस्थिति महसूस होती है, तो यह उन्हें अपने स्वयं के बिस्तर में सोने के लिए इच्छुक नहीं बना सकता है।

बच्चे वयस्कों को संरक्षक के रूप में देखते हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि वे जीवन के एक ऐसे चरण में होते हैं जब बुरे सपने और अजीब मान्यताएँ उन पर हावी होने लगती हैं।

एक अभिभावक के रूप में आपका मिशन अपनी औलाद को अपनी जगह बनाने के लिए प्रोत्साहित करना है। अन्यथा उनका लगाव एक निर्भरता बन सकता है जो गिरने से बहुत आगे निकल जाता है।

इसे भी पढ़ें : दुनिया को सम्मान भरे बच्चे देने के लिए, उनकी परवरिश सम्मान के साथ करें

अपने बच्चों के साथ सोने के फायदे

बच्चे : साथ सोने के फायदे

माता-पिता के साथ सोने वाले बच्चों के लिए होने वाले फायदों के बारे में कोई सामान्य नियम नहीं है। वास्तव में, कुछ लोगों के लिए यह अभ्यास बच्चे और माता-पिता दोनों के लिए फायदेमंद होता है। बच्चों को अपने माता-पिता के साथ एक ही बिस्तर पर सोने की अनुमति देने के कुछ फायदे हैं।

  • बच्चे और माता-पिता को सुकून मिलता है।
  • बच्चे की ज़रूरतों को पूरा करना बहुत आसान होता है।
  • बच्चे की नींद पर नज़र रहती है
  • मां के लिए रात को बच्चे को स्तनपान कराना आसान होता है।
  • बच्चे के स्लीप एपनिया एपिसोड को ठीक किया जा सकता है।
  • माता-पिता और बच्चे के बीच एक भावनात्मक बंधन स्थापित किया जा सकता है।
  • यह माता-पिता और बच्चे के नींद के पैटर्न को सिंक्रोनाइज़ करने में मदद कर सकता है।

बच्चों के साथ सोने के नुकसान

बच्चों को अपने माता-पिता के साथ एक ही बिस्तर पर सोने की अनुमति देना एक हानिरहित अभ्यास माना जा सकता है। हालाँकि, अपने बच्चों के साथ सोने के कई नुकसान भी हैं। नीचे कुछ उदाहरण दिए गए हैं:

  • माता-पिता को उतना आराम नहीं मिलता।
  • बच्चे में माता-पिता पर निर्भरता पैदा हो सकती है।
  • माता-पिता के लिए गोपनीयता नहीं रहती।
  • बच्चों में नींद की बीमारी विकसित होने की संभावना है।
  • नींद में माता-पिता अपने बच्चे के दबने-कुचलने का कारण बन सकते हैं, यह विशेष रूप से शिशुओं के लिए आम है।
  • भविष्य में बच्चों के लिए अपने दम पर सोना मुश्किल हो जाता है।

निष्कर्ष

बच्चों के साथ सोना एक निजी निर्णय है जिसे हर माता-पिता को करना पड़ता है। शायद आपको इसे प्रबंधित करने में मुश्किल हो सकती है, लेकिन अपने बच्चे के साथ सोने के सभी प्लस और नेगेटिव पछों पर विचार विचार करना होगा।

यदि आप उन माता-पिता में से एक हैं जो आपके बच्चे के अकेले सोने के पक्ष में हैं, तो इसकी कई युक्तियां हैं। आप अपने बच्चे को कम उम्र से ही अपने बेडरूम में सोने की आदत बनाने में सक्षम हो सकते हैं।

बिस्तर पर जाने से पहले अपने बच्चे के साथ दिनचर्या भी बना सकते हैं। यह बच्चे को यह समझने में मदद कर सकता है कि अब बिस्तर पर जाने का समय हो चुका है।

हालाँकि, यदि आप उन माता-पिता में से एक हैं जो अपने बच्चे के साथ एक ही बिस्तर में सोना पसंद करते हैं, तो इसे जारी रखें। बच्चे की परवरिश हर माता-पिता की जिम्मेदारी है। इसलिए आपके लिए पूरी स्थिति का विश्लेषण करना और अपने बच्चे के लिए क्या ठीक रहेगा, यह सुनिश्चित करना उचित होगा।

Levos, J., & Zacchilli, T. L. (2015). Nyctophobia: From Imagined to Realistic Fears of the Dark. Psi Chi Journal of Psychological Research.

McKenna, J. J., & McDade, T. (2005). Why babies should never sleep alone: A review of the co-sleeping controversy in relation to SIDS, bedsharing and breast feeding. Paediatric Respiratory Reviews. https://doi.org/10.1016/j.prrv.2005.03.006

Gertner, S., Rivkees, S. A., Ball, H., Blumberg, M. S., Middlemis-Brown, J. E., Johnson, E. D., … Mark, H. (2007). Bed-sharing and co-sleeping. Pediatrics. https://doi.org/10.1007/BF00212417

Mace, S. (2006). Where should babies sleep? Community Practitioner : The Journal of the Community Practitioners’ & Health Visitors’ Association.